इस्लाम के गढ़ सऊदी अरब में मिला 8000 साल पुराना मंदिर, हिन्दू सभ्यता पर लगी मुहर

इस्लाम के गढ़ में सऊदी अरब की राजधानी रियाद में हुई खुदाई में कई चौंकाने वाली चीजें सामने आई हैं. पुरातत्व विभाग को दक्षिण-पश्चिम इलाके के अल-फॉ की साइट पर खुदाई में 8 हजार साल पुराना मंदिर मिला है. यहां इतनी ही पुरानी यज्ञ वेदी मिली है. खुदाई के नतीजे बताते हैं कि सऊदी अरब में एक समय में यहां हिन्दू सभ्यता का अस्तित्व रहा है. चौंकाने वाली बात है कि यज्ञ वेदी उसी दिशा में है जिस तरफ आमतौर पर भारतीय मंदिरों में होती है. अनेक ऐसे अवशेष मिले हैं जिन पर देवी-देवताओं के चित्र उकेरे गए हैं.

यह खुदाई सऊदी अरब और फ्रांस के पुरातत्वविदों के संगठन सऊदी अरब हेरिटेज कमीशन ने की है. कमीशन की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि यहां मानव बस्ती के अवशेष और 1,807 कब्र मिली हैं. ये अवशेष बताते हैं कि यहां एक समय इंसान रहा करते थे. मंदिर और यज्ञ वेदी हिन्दू सभ्यता की पुष्टि करते हैं.

हिन्दू सभ्यता की पुष्टि ऐसे हुई
सऊदी अरब हेरिटेज कमीशन ने मल्टी नेशनल टीम से सर्वे कराया. सर्वे के लिए एरियल इंवेस्टिगेशन से लेकर जमीन में गहराई तक खुदाई की. कहा जा रहा है कि अल-फॉ में रहने वाले लोग यहां पर पूजा करते हैं और यज्ञ अनुष्ठान उनके जीवन का हिस्सा हुआ करता था.

अल-फॉ में मिले सिर्फ अवशेष ही नहीं, यहां सामने आए धार्मिक शिलालेख बताते हैं कि उस दौर के लोगों को धर्म की कितनी समझ थी. रिपोर्ट के मुताबिक, उस दौर की सभ्यता में जटिल सिंचाई व्यवस्था थी. नहरें, पानी के तालाब के अलावा सैकड़ों गड्ढे खोदे गए थे. यहां से बारिश के पानी को खेतों तक पहुंचाया जाता था.

सिर्फ रहन-सहन ही नहीं, जंग भी होती थी
रिपोर्ट कहती है, उस दौर के मनुष्य रेगिस्तान में भी पानी को बचाने के लिए कठिन परिश्रम करते थे. काफी जद्दोजहद के बाद इस पानी को खेतों तक पहुंचाया जाता था. पत्थरों पर शिलालेख में माधेकर बिन मुनैम नाम के शख्स का जिक्र किया गया है.

उस दौर के लोग सिर्फ खेती किसानी ही नहीं, उनमें आपनी टकराव भी होता था. झगड़े और जंग भी होती थी अवशेष में कम्युनिटी के बीच जंग होने के भी संकेत मिले हैं. हेरिटेज कमीशन ने इसलिए सर्वे और खुदाई शुरू कराई है ताकि देश के लोगों को उनकी विरासत की जानकारी मिल सके. इसी दौरान जो अवशेष मिले वो अब दुनियाभर में सुर्खियां बन रहे हैं.

कमीशन का कहना है, अभी यहां पर खुदाई और रिसर्च वर्क जारी रहेगा ताकि इतिहास से जुड़ी नई-नई जानकारियां सामने आ सकें. यहां के लोगों को इस तरह विरासत की जानकारी मिल सकेगी.

सऊदी अरब को इस्लाम का सबसे बड़ा गढ़ कहा जाता है क्योंकि यहां मुसलमानों का सबसे पवित्र मक्का मदीना है. इस धर्म से जुड़े दुनियाभर के लोग यहां हज करने पहुंचते हैं. सऊदी अरब सरकार धर्म के साथ अब विज्ञान और रिसर्च से जुड़े मुद्दों को महत्व दे रही है.

http://thenewslight.com/TNL53122
Connect with us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!