किसान खाद के लिए भटक रहे हैं, व्यापारी 1200 रुपए की DAP की बोरी 1400 में बेच रहा था, FIR कर किया गिरफ्तार

ग्वालियर में खाद संकट पर पहली गिरफ्तारी मंगलवार रात को पुलिस ने की है। व्यापारी मनोज जैन को खाद की बोरी ब्लैक में बेचे जाने पर FIR दर्ज कर गिरफ्तार किया गया है। व्यापारी के यहां से दो दिन पहले कृषि विभाग की टीम ने 84 बोरी खाद मुरैना भेजते समय पकड़ी थीं, जबकि हर जिले का खाद का कोटा निर्धारित होता है। एक जिले की खाद दूसरे जिले में बेचना भी गैरकानूनी है। अभी वह DAP खाद का बैग 1200 रुपए की जगह 1400 से 1500 रुपए में बेच रहा था। खाद में ग्वालियर की यह पहली बड़ी कार्रवाई की है। आरोपी व्यापारी पर रासुका के लिए कार्रवाई भी की जाएगी। फिलहाल उससे पूछताछ की जा रही है।
दरसअल पुरानी छावनी क्षेत्र के रायरू चौराहा स्थित रोहित-मोहित कुमार जैन नाम की फर्म से खाद का कारोबार किया जाता है। खाद का कारोबार व्यापारी मनोज कुमार जैन करते हैं। सोमवार की रात कृषि विभाग के अधिकारियों ने इस दुकान से ट्रैक्टर ट्रॉली पर लादकर जिले से बाहर भेजी जा रही 84 बोरी खाद को पकड़ा था, जिसमें 42 बोरी DAP खाद और 42 बोरी यूरिया को अधिकारियों के द्वारा जब्त किया गया था। वहां मौजूद किसानों ने अधिकारियों को बताया कि DAP खाद की एक बोरी की रेट 1200 रुपये है, जबकि व्यापारी 1400 रुपए बेच रहा है। वहीं यूरिया की एक बोरी की रेट 270 रुपये है और जिसे 300 रुपये से अधिक रेट पर दिया जा रहा है। इस पर उप संचालक किसान कल्याण एवं कृषि विकास एम के शर्मा ने तत्काल कृषि विभाग के निरीक्षक विकासखंड घाटीगांव सुघर सिंह को दुकानदार मनोज कुमार जैन के खिलाफ FIR दर्ज कराने के आदेश दिए। आदेशों का पालन कर इसकी लिखित शिकायत पुलिस थाने में की गई थी। कृषि विभाग के निरीक्षक की शिकायत पर आरोपी व्यापारी मनोज जैन पर जिले की खाद को बाहर भेजकर बेचने और ब्लैक में बेचने की FIR दर्ज की गई थी। इस मामले में मंगलवार रात पुलिस ने रोहित-मोहित कुमार जैन एंड संस फर्म के व्यापारी मनोज कुमार जैन को गिरफ्तार कर लिया है।

हो सकती है रासुका की कार्रवाई

खाद संकट पर कलेक्टर ग्वालियर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने पहले ही चेतावनी दी थी कि खाद की कालाबाजारी करने पकड़े जाने पर रासुका की कार्रवाई की जाएगी। इस मामले में भी कलेक्टर ग्वालियर ने अफसरों को रासुका की कार्रवाई के लिए कहा है। कलेक्टर सिंह का कहना था कि हर जिले का खाद का अपना कोटा होता है। ऐसे में एक जिले का खाद दूसरे जिले में बेचना गैर कानूनी है।
मामला दर्ज हुआ है
– इस मामले में एसपी ग्वालियर अमित सांघी ने बताया कि खाद को निर्धारित रेट से अधिक कीमत पर किसानों को ब्लैक में बेचने के मामले में एक दुकानदार के खिलाफ मामला दर्ज हुआ था। वहीं पुलिस ने दुकानदार को गिरफ्तार भी कर लिया है। इसकी शिकायत कृषि विभाग के निरीक्षक ने पुलिस थाने में की थी। इसी व्यापारी की दुकान से कृषि विभाग के अधिकारियों ने खाद की 84 बोरियां पकड़ी थीं जिन्हें दूसरे जिले में बेचने भेजा जा रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!