इमरान खान की हरकतों से काफी नाराज हैं जो बाइडेन, पाकिस्तान भुगत रहा खामियाजा

पाकिस्तान और अमेरिका के संबंध इन दिनों काफी खराब चल रहे हैं। कहा गया कि अफगानिस्तान के मुद्दे पर इमरान खान के रुख से अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन नाराज है। हालांकि यह सच्चाई नहीं है। नई रिपोर्ट जो सामने आई है, वह दोनों देशों के बीच बिगड़ते संबंधों की कुछ और ही कहानी बयां कर रही है।

पाकिस्तान के पूर्व आंतरिक मंत्री अब्दुल रहमान मलिक ने कहा कि 2020 के अमेरिकी चुनाव अभियान के दौरान पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के पक्ष में पाकिस्तान की पक्षपातपूर्ण भूमिका से जो बाइडेन काफी नाराज चल रहे हैं। 

मलिक ने द न्यूज इंटरनेशनल को बताया, “अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के दौरान, एक पाकिस्तानी व्यवसायी ने वाशिंगटन में पाकिस्तानी दूतावास को ट्रम्प के चुनाव कार्यालय के रूप में इस्तेमाल किया। जब राष्ट्रपति जो बाइडेन को इसके बारे में पता चला, तो वह काफी नाराज हो गए।”

मलिक ने इमरान खान को अमेरिकी राष्ट्रपति को पत्र लिखने और पाकिस्तान की स्थिति स्पष्ट करने की सलाह दी। पाकिस्तान के पूर्व मंत्री ने कहा कि दोनों देशों के बीच संबंधों में खटास आज भी जारी है। अगर ऐसा नहीं होता तो बाइडेन, इमरान खान से जरूर बात करते।

अमेरिकी उप विदेश मंत्री वेंडी शेरमेन ने हाल की पाकिस्तान की यात्रा की है। उनकी यह यात्रा अफगानिस्तान की वर्तमान स्थिति पर केंद्रित थी। शेरमेन की व्यस्तताओं पर अमेरिकी विदेश विभाग के बयान ने अमेरिका-पाकिस्तान वार्ता में अफगान मुद्दे की प्रमुखता का संकेत दिया। ये घटनाक्रम इस बात की पुष्टि करते हैं कि शेरमेन ने पिछले गुरुवार को मुंबई में एक कार्यक्रम में क्या कहा। उन्होंने घोषणा की कि वाशिंगटन अब खुद को पाकिस्तान के साथ “व्यापक-आधारित संबंध” बनाने के लिए नहीं देखता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अफगानिस्तान और अन्य मुद्दों पर मतभेदों के बावजूद, बाइडेन प्रशासन पाकिस्तान के साथ अपनी भागीदारी जारी रखेगा। डॉन अखबार ने बताया कि संयुक्त राज्य अमेरिका चार प्रमुख बिंदुओं पर ध्यान केंद्रित करेगा। काबुल में तालिबान सरकार की मान्यता, अफगानिस्तान पर अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध, भूमि-बंद देश तक पहुंच और आतंकवाद विरोधी सहयोग।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!