दरवाजे पर बारात, मंडप से भागी दुल्हन:बॉयफ्रेंड का हाथ थामे हुए SP के पास पहुंच गई; बोले- प्यार के दुश्मनों से हमारी जान को खतरा है

ग्वालियर। शादी की रस्म से ठीक पहले एक दुल्हन अपने बॉयफ्रेंड के साथ भाग गई। दरवाजे पर बारात खड़ी थी और दुल्हन के भागने से हंगामा खड़ा हो गया। दुल्हन के परिजन तलाशते हुए उसके बॉयफ्रेंड के घर पहुंचे। वहां लड़की के नहीं मिलने पर जान से मारने की धमकी दे आए। जब यह पता लगा तो दुल्हन अपने प्रेमी का हाथ थामे SP ग्वालियर के पास पहुंच गई। दोनों ने अपनी जान को खतरा बताया है। साथ ही सुरक्षा की मांग की है। घटना हस्तिनापुर गांव की है। शनिवार को युवती की शादी थी। SP ने दोनों को महिला थाना पहुंचाया है। दोनों के परिवार वालों को बुलाकर काउंसिलिंग कराई जा रही है।

शहर के देहात हस्तिनापुर की रहने वाली 20 वर्षीय युवती का बिजौली निवासी राधेश्याम से लंबे समय से प्रेम प्रसंग चल रहा था। दोनों एक-दूसरे के साथ जीने मरने की कसम तक खा चुके हैं। युवती के घरवालों को यह रिश्ता मंजूर नहीं था। उन्होंने युवती की शादी भी तय कर दी थी। शनिवार हस्तिनापुर गांव से युवती की शादी होना थी। घर में मंडप गढ़ा हुआ था, बारात दरवाजे पर खड़ी थी। किसी और की होती उससे पहले ही दुल्हन वहां से भाग गई। बाहर उसे प्रेमी राधेश्याम मिल गया। इसके बाद दोनों अपने घर पहुंचे। दुल्हन के परिजन को पता चला तो उसे तलाश करने में जुट गए। वह तलाश करते हुए राधेश्याम के घर भी पहुंचे। उसके घरवालों को धमकी देकर आए है। जब प्रेमी का जोड़े को यह पता लगा तो वह हाथ थामकर शनिवार शाम SP ऑफिस पहुंच गए। यहां SP ग्वालियर अमित सांघी से मुलाकात कर बताया कि वह बालिग हैं और एक दूसरे से शादी करना चाहते हैं। पर उनके परिवार दुश्मन बने हुए हैं। उनसे उन दोनों की जान को खतरा है। SP ने दोनों को महिला थाना भेजा है। दोनों के परिवार को बुलाकर समझाया जा रहा है।

दुल्हन का कहना

मेरी शनिवार को शादी थी लेकिन मैं वो शादी करना नहीं चाहती हूं। मैं अपने प्रेमी का हाथ पकड़कर घर से भाग आई हूं। मैं इनके साथ रहना चाहती हूं पुलिस के पास मदद के लिए आए हैं।

8 दिन जेल भेज दो नहीं तो वो मार डालेंगे

युवती के प्रेमी राधेश्याम का कहना है कि प्रेमिका के घरवाले उसकी और उसके घरवालों की जान के पीछे पड़े हुए हैं। अगर वो उन्हें मिल गया तो उसे मार डालेंगे, लेकिन वह प्रेमिका बिना नहीं रह सकता है, पुलिस चाहे तो उसे 8 दिन के लिए जेल भेज दे, जिससे उसकी जान तो बच जाएगी। नहीं तो हम अपनी जान देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *