ममता के ऐतराज के बाद भी बंगाल पहुंचे SC आयोग के मुखिया, पुलिस को दिए ये निर्देश

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद हुई हिंसा से प्रभावित परिवारों से मिलने और हालात का जायजा लेने के लिए राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष  विजय सांपला राज्य के दौरे पर हैं। NCSC ने पश्चिम बंगाल पुलिस को अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। विजय सांपला पश्चिम बंगाल में पूर्वी बर्धवान और 24 परगना जिलों के दो दिवसीय यात्रा पर हैं जहां उन्हें दलितों पर अत्याचार की शिकायत मिली थी।

हालांकि पश्चिम बंगाल सरकार ने पहले एनसीएससी से कोरोना महामारी के मद्देनजर उनकी यात्रा को रद्द करने के लिए कहा लेकिन पैनल ने हिंसा के मामलों में अपनी जांच को आगे बढ़ाने का विकल्प चुना। अपने दौरे के दौरान विजय सांपला ने कहा, “हमने पूर्वी बर्धमान जिले के नबाग्राम गाँव में प्रभावित परिवारों से बात की। बहुत से लोग शुरू में अपनी शिकायत दर्ज कराने से डरते थे।” सांपला ने कहा कि कई इलाकों में लोग डर के मारे अपने घर छोड़कर भाग गए हैं।

एनसीएससी नाभाग्राम में एक शिकायतकर्ता आशीष खेत्रपाल के घर गया और देखा कि वह घर बंद था। बाद में उन्हें बताया गया कि खेत्रपाल घायल हो गया है और उसका इलाज नर्सिंग होम में चल रहा है। उनका बयान दर्ज किया गया था जिसमें उन्होंने उस हमले का ब्योरा दिया था। हमले में उनके परिवार के दो सदस्य मारे गए थे।

आयोग ने बाद में कोलकाता के विश्राम गृह में हमले से प्रभावित लोगों से मुलाकात की। सांपला ने कहा, “वहां, जिला आयुक्त और एसएसपी की उपस्थिति में 25 से अधिक शिकायतकर्ताओं की सुनवाई हुई, उन्हें एससी और एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम के अनुसार कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया था।”

शिकायतकर्ताओं ने आयोग को बताया कि पूर्वी बर्धमान के मिलिकपारा गांव में अनुसूचित जाति की 12 दुकानों को चुनकर कर तोड़फोड़ की गई. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि उन्हें पुलिस से मदद नहीं मिली। सांपला ने जिला आयुक्त को पीड़ितों को एससी/एसटी एक्ट के तहत मुआवजा देकर उनके पुनर्वास करने का निर्देश दिया है. आयोग 14 मई को दक्षिण 24 परगना के सरिसा गांव का दौरा करेगा, जहां वह पीड़ितों का प्रत्यक्ष लेखा-जोखा सुनेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *