सीने में जलन और दर्द को को कुछ ही देर में करें दूर, जानिए कारण और निवारण के उपाय –

हेल्थ कार्नर :-   अक्सर कई लोगो को सीने में दर्द और जलन की शिकायत रहती हैं जिसका कारण अनियमित खानपान, धूम्रपान, तम्बाकू सेवन और वायु प्रदूषण हो सकते हैं। सीने में जलन होना या दर्द होना हमेशा हार्ट से सम्बंधित नहीं होता इसके कई असाधारण कारण भी हो सकते हैं, तो आइए जानते हैं।अधिक धूम्रपान और तम्बाकू सेवन करने पर फेफड़े का आकार सिकुड़ने लगता हैं और इनमें गंदगी जमा होने लग जाती हैं। बीड़ी-सिगरेट का धुआं कार्बनडाई ऑक्साइड होता हैं जिसमें भरपूर मात्रा में कार्बन होता हैं ये कार्बन के कण फेफड़ो पर जमने लगते हैं ऐसे ही अधिक तम्बाकू का सेवन करने पर इनसे निकलने वाले चुने और कत्थे का रंग फेफड़ो पर जमा होने लग जाता हैं जो बाद में सांस लेने में परेशानी उत्पन्न करते हैं और इसके कारण सीने में जलन और दर्द होने लगता हैं। इसका एक कारण वायु प्रदूषण भी हैं जिसमें कार्बनडाई ऑक्साइड गैस फेफड़ो को सिकोड़ने का काम करती हैं।

सर्दी-जुकाम के कारण भी सीने में जलन और दर्द की शिकायत हो सकती हैं। सीने में जमा कफ बाहर न निकलने पर सीने में दर्द हो सकता हैं और सांस लेने में कठिनाई हो सकती हैं। इसके साथ ही लम्बे समय से खट्टी डकारें आना, एसिडिटी का होना, और कब्ज बने रहना भी सीने में जलन और दर्द उत्पन्न कर सकते हैं।अनियमित खानपान जैसे चाय, कॉफी, कोल्डड्रिंक, एल्कोहल खट्टे फलों का सेवन करना या जूस पीना, मसालेदार भोजन और नमकीन का सेवन करने पर भी ये सीने में जलन और दर्द को उत्पन्न कर सकते हैं।

सीने के जलन और दर्द को ऐसे करें दूर (बचने का उपाय)किसी भी कारणवश सीने में जलन हो या दर्द महसूस हो तो एक चम्मच अदरक का रस और दो चम्मच शहद मिलाकर पिएं। इससे जलन और दर्द में कुछ ही देर में लाभ होगा।

इसके अलावा एक कप गुनगुने पानी में एक चम्मच सौंफ और एक चम्मच मिश्री मिलाकर पिएं। इससे दर्द और जलन में शीघ्र ही राहत मिलेगी।

अगर सीने में जलन रोजाना रहती हैं या दर्द महसूस हो तो प्रतिदिन एक कप गुनगुने पानी में दो चम्मच शहद में एक नींबू का रस मिलाकर दिन में दो बार पिएं। इससे फेफड़ो की और आहार नाल दोनों की अच्छी तरह सफाई हो जाती हैं जिसके बाद सीने में जलन और दर्द नहीं होता हैं और किसी प्रकार की हार्ट की कोई प्रॉब्लम नहीं होती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *