आयुष मंत्रालय ने जारी किए दिशानिर्देश, बताया होम आइसोलेशन के दौरान कैसे करें अपनी देखभाल.

कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बीच आयुष मंत्रालय ने मामूली लक्षण वाले मरीजों को कुछ आयुर्वेदिक नुस्खे सुझाए हैं। साथ ही लोगों को स्वास्थ्य देखभाल, खानपान, दिनचर्या, इलाज, बचाव आदि से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां भी दी है। आयुष मंत्रालय ने होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना के मरीजों की देखभाल के लिए जारी दिशानिर्देश में बताया है कि कैसे घर में रह कर आप अपना इलाज खुद कर सकते हैं। आइए जानते है कि क्या है ये दिशानिर्देश। 
 
बिना लक्षण वाले कोरोना संक्रमितों के लिए:गुडुची घना वटी 500 एमजी (दिन में दो बार) गर्म पानी के साथ 15 दिन तक लें।

अश्वगंधा 500 एमजी (दिन में दो बार) गर्म पानी के साथ 30 दिन तक लें।

दो गोली आयुष-64 (दिन में दो बार) गर्म पानी के साथ 30 दिन तक लें।

हल्के लक्षण वाले कोरोना संक्रमितों के लिए:अश्वगंधा 250 एमजी + सौंठ चूर्ण 500 एमजी (दिन में दो बार) गर्म पानी के साथ 15 दिन तक

गुडुची घना वटी 500 एमजी (दिन में दो बार) गर्म पानी के साथ 15 दिन तक 

गुडुची 100 एमएल + पीपली चूर्ण 2 ग्राम भोजन से पहले 15 दिन तक

(बुखार, सिर दर्द, सूखी खांसी) :सुदर्शन घन वटी 500 एमजी (दिन में दो बार) गर्म पानी के साथ 15 दिन तक

नागरादि कषाय 20 एमएल (दिन में दो बार) 15 दिन तक

खांसी आने पर शहद के साथ 3 ग्राम सितोपलादि चूर्ण (दिन में तीन बार) 15 दिन तक

स्वाद न आने पर 1-2 गोली व्योषादि की चबाएं। 

ये सामान्य उपाय भी जरूरी :हल्का गरम पानी पीते रहे।

खाने में हल्दी जीरा, धनिया, सौंठ और लहसुन का इस्तेमाल करें।

आंवला या उससे बने सामानों का इस्तेमाल करें।

गुनगुने पानी में हल्दी और नमक मिलाकर गरारा करें।

रोजाना 30 मिनट तक योगासन, प्रणायाम और ध्यान करें।

दिन में दो बार 150 एमएल दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर पीएं ।

ये तरीके भी अपना सकते हैं :सुबह-शाम नाक में तिल का तेल या नारियल का तेल या गाय का घी डालें।

पानी का भाप लें, इसमें पुदिना, अजवाइन, कपूर मिलाकर भी दिन में एक बार भाप ले सकते हैं।

गले में खराश हो तो लौंग, मुलैठी का पाउडर शक्कर या शहद के साथ मिलाकर ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *