कोरोना कुप्रबंध के खिलाफ गुस्साई भाजपा भी सड़क पर उतरी

ग्वालियर । ग्वालियर में बढ़ते कोरोना संक्रमण और उपचार के अभाव में मची हाय तौबा और लगातार उपजते जा रहे जन आक्रोश के खिलाफ अब भाजपा नेताओं के सब्र का बांध टूटने लगा । अब भाजपा के नेताओ ने ही अपनी सरकार और प्रशासन के कुप्रबंध के खिलाफ एक साथ मोर्चा खोल दिया । भाजपा के दो बार जिला अध्यक्ष रहे और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर के खास माने जाने वाले भाजपा नेता इसके खिलाफ देर रात ऊर्जा मंत्री के बंगले के सामने सड़क पर विस्तर बिछाकर लेट गए ।

ग्वालियर में बीते तीन दिनों से ऑक्सीजन और जीवनरक्षक माने जाने वाले रेमेडेसबर इंजेक्शन की आपाधापी मची है । प्रशासन ने तमाम व्यवस्थाएं बनाई लेकिन आरोप लग रहे है कि व्यवस्थाओं से जुड़े लोग ही इनका बन्दरवाँट कर रहे है । जिन अस्पतालों को जिन गंभीर मरीजो के नाम पर इंजेक्शन भेजे जा रहे है वे वह उन्हें न लगाकर बेच रहे है । हर तरफ अफरा तफरी का माहौल है । कांग्रेस नेता लगातार इन समस्याओं के खिलाफ आबाजें उठाते ही आ रहे थे कि बीते रोज स्वयं सत्तारुण भाजपा के नेताओ का भी गुस्सा फूट पड़ा।

गुरु का गुस्सा

देवेश शर्मा गुरु भाजपा के दो बार जिला अध्यक्ष रह चुके है और पार्टी के वरिष्ठ नेता है । वे केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर के नजदीक माने जाते है । रविवार रात अचानक वे अपना गद्दा ,तकिया और चद्दर लेकर ऊर्जा मंत्री और कोविड मामले में ग्वालियर जिले के प्रभारी बनाये गए प्रद्युम्न तोमर के रेसकोर्स रोड स्थित बंगले के बाहर सड़क पर पहुंच गए और लेट गए । इस बीच श्री तोमर के कुछ समर्थको से उनका मुंहवाद भी हुआ लेकिन जैसे ही शर्मा की शक्ल पहचानी वे मांफी मांगते वहां से खिसक लिए । श्री शर्मा का खुला आरोप था कि लोग इंजेक्शन आदि के लिए परेशान है कोई सुन रहा । भाजपा के कई कार्यकर्ताओ के परिजन इनके अभावमे दम तोड़ चुके हैं । अब नौटंकी बन्द करनी चाहिए ।

कांग्रेस विधायक पहुंचे 

जैसे ही देवेश शर्मा के धरने की खबर मिली कांग्रेस विधायक सतीश सिकरवार तत्काल मौके पर पहुंच गए । उन्होंने उनका समर्थन किया और कहाकि यहां इंजेक्शन और ऑक्सीजन का बंदरबांट हो रहा है । लोग इसके अभाव में दम तोड़ रहे हैं यह दुखद और निंदनीय है । शर्मा भी आखिर नेता है  वे लोगो की तकलीफों से कब तक मुंह मोड़ सकते है । उम्मीद है बाकी भाजपा नेता भी हमारी और देवेश शर्मा की तरह सरकार की कुब्यवस्थाओ के खिलाफ सड़को पर आकर जनता की बात कहेंगे ।

देर रात ही ऊर्जा मंत्री मौके पर पहुंचे और श्री शर्मा से बातचीत की । देर रात बहस मुबाहिसा और शिकवा।शिकायत चलता रहा ।

जय सिंह का बयान

इस बीच एक और वरिष्ठ भाजपा नेता और साडा के अध्यक्ष रह चुके जय सिंह कुशवाह का बयान आ गया । उन्होंने कहा कोरोना का कहर बढ़ रहा है लोग परेशान है। उन्होंने परोक्ष रूप से सिंधिया समर्थको पर निशाना साधा । उन्होंने कहाकि दिखावे के शौकीन कुछ जन प्रतिनिधि और उनके समर्थको की मनमानी मरीजो के जीवन पर भारी पड़ रही है लोग आवश्यक दवाओं को तरस रहे हैं लेकिन वे अपनो को उपकृत कर रहे है । दबाव के चकते प्रशासन ठीक से काम नही कर पा रहा।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी बाजपेयी के भांजे ,अनेक बार मंत्री और सांसद रह चुके अनूप मिश्रा भी चुप नही रह सके । उन्होंने भी एक ट्वीट कर साफ किया कि व्यवस्था दलालों के हाथ चली गई । सीएम शिवराज सिंह को संबोधित ट्वीट में श्री मिश्रा ने लिखा है – अपने प्रदेश में साँसों का संघर्ष अति दुखदाई स्थिति में पहुंच गया है । रेमेडेसीबर/ ऑक्सीजन की मारामारी / कालाबाज़ारी ने पूरी व्यवस्था पर प्रश्नचिन्ह लगा दिया है। आम आदमी की पहुंच से दूर लेकिन दलालों/ कुछ नेताओं के पास उपलब्ध है ।

भाजपा नेताओ के इस हमले से प्रशासन में भी असमंजस की स्थिति पैदा हो गई है । माना जा रहा हक़ी कि अभी जिले की कमान पूरी तरह से सिंधिया समर्थको के हाथ है इससे भाजपा वाले अपने को असहाय से महसूस कर रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *