ग्वालियर में नहीं बढेगा लाॅकडाउन: टाईम मैनेजमेंट से किया जाएगा कोरोना पर कंट्रोल: क्राईसिस मैनेजमेंट की बैठक में शाम छह बजे बाजार बंद करने पर बनी सहमति

ग्वालियर। कोरोना संक्रमण की चैन तोड़ने के लिए लॉकडाउन बढ़ाना एक मात्र विकल्प नहीं है। बाजारों में टाइम मैनेजमेंट करके भी यह किया जा सकता है। इसलिए सामान्य दिनों में शाम 6 बजे बाजार बंद करा दिए जाएं। ग्वालियर में क्राईसिस मैनेजमेंट की बैठक में यह निर्णय हुआ है और इस निर्णय का का प्रस्ताव कलेक्टर ने राज्य सरकार को भेजा है जिसपर राज्य सरकार द्वारा देर शाम तक अपनी मंजूरी दी जाएगी। बैठक में सांसद ग्वालियर विवेक नारायण शेजवलकर, कलेक्टर ग्वालियर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, भाजपा जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी, कांग्रेस जिलाध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा, अन्य व्यापारीगण व अफसर मौजूद रहे।

अभी प्रदेश के सभी शहरों में 60 घंटे का लॉकडाउन जारी है। जो शुक्रवार शाम 6 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक जारी रहेगा, लेकिन शनिवार दोपहर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक ली है। इसमें कलेक्टर को अपने-अपने क्षेत्र में परिस्थितियों को देखते हुए लॉकडाउन को बढ़ाने का निर्णय लेने के लिए कहा है। इंदौर में स्थिति पर नियंत्रण के लिए लॉकडाउन बढ़ाया गया था।अब उज्जैन ने भी 19 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ा दिया है। ऐसी अटकलें थीं, ग्वालियर में भी लॉकडाउन कुछ आगे बढ़ाया जा सकता है, लेकिन क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में कई अहम फैसलों पर सहमति बनी है। सांसद विवेक नारायण शेजवलकर, व्यापारीगण व अन्य सदस्यों का कहना था कि लॉकडाउन बढ़ाने से व्यापार चैपट हो जाएगा, इसलिए लॉकडाउन बढ़ाने की अपेक्षा बाजार बंद होने का समय रोज शाम 6 बजे कर दिया जाए। इससे यह होगा कि बजारों में शाम के समय अनावश्यक रूप से जुटने वाली भीड़ नहीं पहुंचेगी। साथ ही, आने जाने के साधन सीमित कर दिए जाएं। इसी प्रस्ताव पर सभी की सहमति भी बन गई है। अभी कलेक्टर ने प्रस्ताव भेजा है। शाम तक यह घोषणा हो सकती है। खुद कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह का मानना है कि इन सभी प्रयासों से कोरोना संक्रमण की चैन को रोकने में सफलता मिलेगी। इस प्रस्ताव से व्यापारी भी सहमत हैं। शाम को जल्दी बाजार बंद होने के बाद बाजारों में टूटने वाली भीड़ पर अंकुश लगेगा। फिलहाल लॉकडाउन बढ़ाने के बारे में नहीं सोचा जा रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *