वरिष्ठ पत्रकार रोहित सरदाना का हुआ निधन, कुछ दिन पहले हुए थे कोरोना संक्रमित पीएम मोदी ने भी जताया शोक

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। कोरोना वायरस संक्रमण दिल्ली-एनसीआर में कहर बरपा रहा है। बृहस्पतिवार को जाने-माने कवि और गीतकर कुंअर बेचैन की जान ली थी और एक दिन बाद शुक्रवार को चर्चित टेलीविजन पत्रकार रोहित सरदाना को क्रूर कोरोना ने ली लील लिया। जैसे ही यह खबर आई कि टेलीविजन जगत के बड़े पत्रकार रोहित सरदाना अब इस दुनिया में नहीं रहे, साथ पत्रकारों में शोक की लहर दौड़ गई। मिली जानकारी के मुताबिक वरिष्ठ पत्रकार रोहित सरदाना कोरोना से संक्रमित थे। हालात गंभीर होने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया, इलाज के दौरान डॉक्टरों ने अंतिम सांस तक कोशिश की, लेकिन रोहित सरदाना को नहीं बचा सके। बताया जा रहा है कि अस्पताल में भर्ती रोहित सरदाना को शुक्रवार सुबह हार्टअटैक आने की वजह से उनका निधन हो गया। हालांकि, यह भी सच है कि वह कोरोना वायरस से संक्रमित थे। कुछ दिन पहले ही रोहित कोरोना संक्रमित हुए थे, लेकिन बाद में उनकी रिपोर्ट भी निगेटिव आई थी। रोहित सरदाना के निधन पर पत्रकारिता जगत से जुड़े काफी लोगों ने शोक जाहिर किया है।

पीएम मोदी ने भी ट्वीट कर रोहित सरदाना के निधन पर शोक जताया है- ‘रोहित सरदाना ने हमें बहुत जल्द छोड़ दिया। ऊर्जा से भरपूर…। उनके असामयिक निधन ने मीडिया जगत में एक बहुत बड़ा शून्य छोड़ दिया है। उनके परिवार, दोस्तों और प्रशंसकों के प्रति संवेदना। शांति।’ 

रोहित के निधन पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने शोक जताया है। उन्होंने लिखा है-‘रोहित सरदाना के असामयिक निधन के बारे में जानकर बहुत दुख हुआ। देश ने एक बहादुर पत्रकार खो दिया है, जो हमेशा निष्पक्ष और निष्पक्ष रिपोर्टिंग करता था। भगवान उनके परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति दे। उनके परिवार और चाहने वालों के प्रति मेरी गहरी संवेदना।’

इसके अलावा, रोहित सरदाना के निधन पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी शोक जताया है। सीएम योगी ने अपने शोक संदेश में लिखा है- ‘वरिष्ठ पत्रकार रोहित सरदाना जी का निधन अत्यंत दुःखद है। वह जनपक्षीय पत्रकारिता के अप्रतिम हस्ताक्षर थे। प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि वह दिवंगत आत्मा को शान्ति व शोकाकुल परिजनों को यह अथाह दुःख सहने की शक्ति प्रदान करें। ॐ शांति।’

रोहित सरदाना के निधन को लेकर टीवी के जाने-माने पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्वीट किया है- ‘बहुत ही भयानक समाचार है। जाने-माने टीवी न्यूज एंकर रोहित सरदाना का निधन हो गया है। आज सुबह दिल का दौरा पड़ा। उनके परिवार के प्रति गहरी संवेदना।’

नामी टेलीविजन न्यूज चैनल प्रधान संपादक सुधीर चौधरी ने एक ट्वीट के जरिए रोहित सरदाना के असामयिक निधन की जानकारी दी। सुधीर चौधरी ने ट्वीट किया- ‘अब से थोड़ी पहले जितेंद्र शर्मा का फोन आया। उसने जो कहा सुनकर मेरे हाथ कांपने लगे। हमारे मित्र और सहयोगी रोहित सरदाना की मृत्यु की खबर थी। ये वायरस हमारे इतने करीब से किसी को उठा ले जाएगा, ये कल्पना नहीं की थी। इसके लिए मैं तैयार नहीं था। यह भगवान की नाइंसाफी है… ॐ शान्ति।’

रोहित सरदाना ने कई  टेलीविजन चैनलों में काम किया और कई कार्यक्रमों का संचालन करते थे। बेहतरीन पत्रकारिता के लिए वर्ष 2018 में रोहित सरदाना को गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार से नवाजा गया था।

रोहित सरदाना के निधन पर हरियाणा में भी शोक की लहर है। महिला पहलवान बबीता फोगाट ने भी ट्वीट किया है- ‘मशहूर एंकर और हरियाणा की मिट्टी का लाल, रोहित सरदाना जी के निधन का दुखद समाचार प्राप्त हुआ।ईश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दे एवं परिजनों को यह दुःख सहने का संबल प्रदान करे।ॐ शान्ति।’ बता दें कि रोहित मूलरूप से हरियाणा के रहने वाले थे और उन्होंने कुरुक्षेत्र की गुरु जंबेश्वर विश्वविद्यालय से पत्रकारिता की पढ़ाई की थी।

हरियाणा में जन्मे रोहित ने अपनी शिक्षा गुरु जम्भेश्वर विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से पूरी की। बताया जाता है कि रोहित ने तकरीबन 15 साल के अपने लंबे पत्रकारिता करियर में ऑल इंडिया रेडियो में बतौर एंकर पहले अपनी आवाज को घर-घर पहुंचाया। इसके बाद टेलीविजन पत्रकारिता के क्षेत्र आए और देश के नामी न्यूज चैनलों में काम किया।

BJP विधायक नारायण त्रिपाठी ने शिवराज को लिखा पत्र; कहा- वर्चुअल मीटिंग के तमाशे से कुछ नहीं होने वाला, बेड, ऑक्सीजन और दवाइयों का इंतजाम करें

मैहर से बीजेपी विधायक नारायण त्रिपाठी ने सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए हैं। विधायक ने कोरोना महामारी को लेकर सरकार को नसीहत दी है। उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखा है। इसमें कहा है कि वर्चुअल मीटिंग के तमाशे से कुछ होने वाला नहीं है। लोगों के लिए दवाई, वेंटिलेटर, बेड और आक्सीजन की व्यवस्था की जाए। अस्पतालों की हालत यह है कि डॉक्टरों व पैरामेडिकल स्टाफ के लिए पीपीई किट का इंतजाम तक नहीं है।

नारायण त्रिपाठी ने कहा है कि काेरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए एक माह के लिए टोटल लॉकडाउन कर दिया जाए। इस दौरान कोरोना टेस्टिंग, जांच और वैक्सीनेशन का काम घर-घर स्वास्थ्य कर्मियों को भेजकर कराया जाए ताकि प्रदेश के लोगों की जान बचाई जा सके।

हालांकि उन्होंने मुख्यमंत्री को संवेदशनशील बताया है। विधायक ने लिखा- सीएम चौहान संवेदनशील मुखिया हैं और प्रदेश की जनता से उनका सीधा रिश्ता है। महिलाओं को बहन, बच्चों को भांजे-भांजी बनाकर एक रिश्ता बनाया है तो बुजुर्गों को तीर्थयात्रा कराकर पुत्रधर्म का निर्वाह भी किया है। उन्होंने अपने क्षेत्र मैहर के हालातों को जिक्र करते हुए कहा कि यहां के मरीजों को न तो रीवा मेडिकल कालेज और न ही जबलपुर में लोगों को बेहतर उपचार मिल पा रहा है। इस संबंध में सख्त निर्णय लेने की जरूरत है।

कोरोना के बढ़ते संक्रमण को लेकर कल भोपाल के हुजूर विधायक ने भी कलेक्टर को पत्र लिखकर बैरागढ़ सिविल अस्पताल में कोरोना मरीजों का उपचार नहीं होने पर नाराजगी जताई थी और 10 मई तक व्यवस्था न होने पर 11 मई को सिविल अस्पताल में धरना देने की बात कही है।

PM मोदी की केंद्रीय कैबिनेट के साथ बैठक , ले सकते हैं कुछ कड़े फैसले

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में शुक्रवार को केंद्रीय मंत्रिपरिषद की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक होने वाली है। इस बैठक में देश में गहराते कोरोना संकट पर चर्चा होने की संभावना है। कोरोना की दूसरी लहर आने के बाद पहली बार केंद्रीय मंत्रिपरिषद की बैठक हो रही है। गौरतलब है कि इससे पहले भी प्रधानमंत्री ने महामारी के मद्देनजर मुख्यमंत्रियों के साथ कई बार बैठकें की है। प्रधानमंत्री कोरोना महामारी के संबंध में सरकारी अधिकारियों, दवा उद्योग के प्रमुखों, आक्सीजन आपूर्तिकर्ताओं, तीनों सेनाओं के प्रमुखों आदि से भी कोविड-19 महामारी से निपटने के तौर तरीकों के बारे में चर्चा कर चुके हैं।

सेना प्रमुख से भी चर्चा कर चुके प्रधानमंत्री मोदी

आज होने वाली कैबिनेट बैठक से पहले गुरुवार को प्रधानमंत्री मोदी ने महामारी को लेकर ही सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे के साथ बैठक की थी और सेना की तैयारियों का जायजा लिया। बैठक के दौरान सेना प्रमुख ने प्रधानमंत्री को बताया कि सेना ने अपने चिकित्‍सा कर्मचारियों को राज्‍य सरकारों की सेवा में तैनात कर दिया है और देश के विभिन्‍न भागों में अस्‍थायी अस्‍पताल बनाना शुरू कर दिया है। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘कोविड-19 के खिलाफ जंग में भारतीय सेना द्वारा किए जा रहे प्रयासों की समीक्षा की।’

रोज तीन लाख से ज्यादा निकल रहे संक्रमित

फिलहाल देश में कोरोना संक्रमित मरीजों को आंकड़ा रोज तीन लाख रुपए के ऊपर निकल रहा है। वहीं अब भारत को भी दुनिया के अन्य देशों से ऑक्सीजन सिलेंटर, कंसंट्रेटर व अन्य मेडिकल सहायता मिलने की शुरुआत हो गई है।

फिर टूटा रिकार्ड, देश में 3.86 लाख नए मामले

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच देश में हर अगले दिन नए मामलों की संख्या में ब़़ढोतरी हो रही है। गुरुवार रात 12 बजे तक देश में 3.86 लाख से अधिक मामले सामने आ चुके थे। गौरतलब है कि देश में कोरोना संक्रमण के आंकड़े रोज ही नए रिकॉर्ड बना रहे हैं। बीते 24 घंटों के दौरान 3498 लोगों की मौत भी हुई, जिनमें सबसे ज्यादा मौतें महाराष्ट्र में हुई है।

फल खरीद रही महिला पर बाइक सवार झपट्‌टा मारकर लूट ले गए चेन, CCTV कैमरे में दिखी लूट

ग्वालियर / कोरोना कर्फ्यू की सख्ती के बीच बाइक सवार दो बदमाश एक महिला के गले पर झपट्‌टा मारकर सोने की चेन लूट ले गए। वारदात शुक्रवार सुबह आनंद नगर बहोड़ापुर में उस समय हुई जब महिला एक हाथ ठेला वाले से फल खरीद रही थी। पूरी घटना पास ही लगे एक CCTV कैमरे में रिकॉर्ड हुई है। वारदात के बाद बदमाश शहर की सड़कों पर बाइक दौड़ाते हुए फरार हो गए, जबकि पुलिस चेकिंग करती ही रह गई। पर इस वारदात से बदमाशों ने पुलिस को एक बार फिर खुली चुनौती दी है।

बहोड़ापुर थानाक्षेत्र के आनंद नगर B-925 निवासी महेन्द्र कुमार ट्रांसपोर्टर हैं। शुक्रवार की सुबह दरवाजे पर फल बेचने आए एक ठेले वाले से उनकी 45 वर्षीय पत्नी वंदना फल खरीद रही थीं। तभी बाइक पर सवार दो बदमाश उनके पास आए और गले पर झपट्‌टा मारकर सोने की चेन खींच ले गए। बदमाशों ने इतनी तेजी से झपट्‌टा मारा कि महिला गिरते-गिरते बची।

वारदात के बाद फल बेचने वाले व पास ही एक दुकानदार ने बाइक सवारों के पीछे दौड़ लगा दी, लेकिन बदमाश बाइक की गति बढ़ाकर भाग गए। पीड़ित महिला ने बताया कि बाइक पर नंबर प्लेट नहीं थी। लूटी गई चेन की कीमत लगभग एक लाख रुपए बताई गई है।

पीड़ित महिला ने पुलिस को बताया कि एक बार उसके पास से निकलने के बाद लुटेरे कुछ दूर गए और फिर वापस आए हैं। वापस आने पर उन्होंने पास में बाइक रोकी। मुझे लगा कि वह फल लेने आए होंगे, लेकिन तभी उन्होंने झपट्‌टा मारा और चेन खींच ले गए।

वारदात का पता चलते ही बहोड़ा़पुर थाना TI अमर सिंह सिकरवर अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे और हुलिए के आधार पर शहर भर में नाकाबंदी कराई, लेकिन बदमाश हाथ नहीं आए हैं। पुलिस ने जब पास ही लगे CCTV कैमरे खंगाले तो बदमाशों के फुटेज मिले हैं। पुलिस ने फुटेज के आधार पर बदमाशों की तलाश शुरू कर दी है।

बुजुर्ग दंपती हुए संक्रमित, वह हॉस्पिटल में थे इधर चोरों ने संक्रमण से लैस घर से लाखों के गहने कर दिए पार

ग्वालियर/ सिटी सेंटर के शारदा विहार में एक संक्रमित दंपती के घर में दाखिल हुए चोर लाखों के गहने पार कर ले गए हैं। गुरुवार को दिन दहाड़े चोरी की वारदात हुई है। जिस समय चोरों ने वारदात को अंजाम दिया दंपती एक निजी हॉस्पिटल में भर्ती थे। चोरी का पता गुरुवार शाम उस समय लगा जब संक्रमित का बेटा घर को सैनिटाइज कराने पहुंचा।

पुलिस भी मौके पर पहुंची, लेकिन स्पॉट पर बाहर से निरीक्षण कर लौट आई। अब डर है कि संक्रमण से लैस घर से चोर गहनों के साथ संक्रमण भी नहीं ले गए हो। पुलिस ने चोरी का मामला दर्ज कर लिया है।

विश्वविद्यालय थानाक्षेत्र के शारदा विहार निवासी 48 वर्षीय राजेश (बदला हुआ नाम) यूपी जालौन में जॉब करते हैं। यहां उनके बुजुर्ग मां-पिता रहते हैं। दो दिन पहले बीमार होने पर उन्होंने कोरोना टेस्ट कराया था। उनके पॉजिटिव आने पर बेटा जालौन से आया और उनको पड़ाव स्थित एक हॉस्पिटल में भर्ती कराया था।

रात को अस्पताल में ठहरने के बाद जब बेटा राजेश गुरुवार शाम को अपने घर को सैनिटाइज कराने के लिए शारदा विहार पहुंचा तो देखा कि मुख्य दरवाजे पर लगे ताले टूटे पड़े हुए थे। अंदर जाकर देखा तो वहां सामान बिखरा पड़ा था। अलमीरा खुली पड़ी थी। इसके बाद उन्होंने मामले की सूचना पुलिस को दी। पुलिस भी मौके पर पहुंची, लेकिन स्पॉट पर बाहर से ही निरीक्षण किया। सूने घर से चोर चेन, मंगलसूत्र, कान के बाले, अंगूठियां, आधा किलो चांदी, 30 हजार रुपए नकद सहित करीब 4 लाख रुपए का सामान ले गए हैं। पुलिस ने चोरी का मामला दर्ज कर लिया हैं।

चोरों के संक्रमित होने की आशंका

पुलिस अफसरों ने बताया कि जिस घर में चोरों ने वारदात को अंजाम दिया है कि वहां से चंद घंटे पहले ही संक्रमित दंपती को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। घर में कई सामान को उन्होंने छुआ होगा तो वहां संक्रमण हो सकता है। क्योंकि कोरोना वायरस स्टील पर 6 से 7 घंटे तक ठहरता है। ऐसे में चोरी करने वालों के भी वायरस की चपेट में आने की आशंका है।

पाकिस्तान में गद्दार और अमेरिका में हीरो’, वो डॉक्टर जिसने बताया ओसामा का ठिकाना, लेकिन उल्टा मिली 33 साल जेल की सजा

अलकायदा के आतंकवादी ओसामा बिन लादेन को अमेरिका ने 10 साल पहले पाकिस्तान में मार गिराया. लेकिन बहुत ही कम लोगों को इस बात की जानकारी है कि दुनिया के सबसे खूंखार आतंकी को ढेर करने में एक पाकिस्तानी नागरिक ने बड़ी भूमिका निभाई. इस व्यक्ति का नाम है डॉ शकील अफरीदी (Shakeel Afridi), जिन्हें पाकिस्तानी में गद्दार माना जाता है और अमेरिका में एक हीरो की तरह उनकी प्रशंसा की जाती है.

अमेरिकी नेवी सील द्वारा अलकायदा के मुखिया को ढेर किए एक दशक से ज्यादा हो चला है. लेकिन अभी तक इस बात के कोई संकेत नहीं है कि पाकिस्तानी अधिकारियों द्वारा डॉ अफरीदी को बरी किया गया है. उन्होंने वैक्सीनेशन प्रोग्राम की आड़ में CIA को ओसामा बिन लादेन की पिनपॉइंट लोकेशन की जानकारी दी थी. डॉ अफरीदी को पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में स्थित साहिवाल जेल में बंद करके रखा गया है. यहां वह अब अपने दिन गिनने में लगे हुए हैं.

अधिकारियों ने डॉ अफरीदी को बनाया बलि का बकरा

ओसामा के मारे जाने के दौरान वाशिंगटन में पाकिस्तान के राजदूत रहे हुसैन हक्कानी ने बताया कि उन्हें अब जेल में इसलिए रखा जा रहा है ताकि हर पाकिस्तानी को पश्चिमी खुफिया एजेंसी के साथ सहयोग न करने का सबक सिखाया जा सके. पाकिस्तान में ओसामा की मौजूदगी पर सवाल खड़ा हो पाता, इससे पहले ही अधिकारियों ने डॉ अफरीदी को बलि का बकरा बना दिया. समाचार एजेंसी एएफपी ने डॉ अफरीदी के भाई और उनके वकील के जरिए जेल में उनकी दिनचर्या की जानकारी निकाली है.

जेल में इस तरह दिन गुजार रहे हैं डॉ अफरीदी

जेल में डॉ अफरीदी को किसी से भी बात नहीं करने दिया जाता है. वह सिर्फ अपनी लीगल टीम और परिवार के लोगों से बात कर पाते हैं. परिवार के मुताबिक, कैद में वह रोज रोज एक्सरसाइज करते हैं. उनके पास कुरान शरीफ है, जिसे वह रोज पढ़ते हैं. इसके अलावा, किसी भी अन्य किताब को उन्हें नहीं दिया जाता है. गार्ड्स की मौजूदगी में उनकी दाढ़ी और बाल काटे जाते हैं. साथी कैदियों से मुलाकात करने पर पाबंदी लगाई गई है. परिवार के लोगों को सिर्फ महीने में दो बार मुलाकात करने की इजाजत है.

ओसामा के डीएनए के लिए CIA ने डॉ अफरीदी के जरिए शुरू किया वैक्सीन अभियान

पाकिस्तान के बीहड़ जनजातीय क्षेत्रों से आने वाले डॉक्टर अफरीदी CIA को एक बेहतर व्यक्ति लगे, जो एबटाबाद में बिन लादेन के ठिकाने पर जासूसी कर सकते थे. CIA को ओसामा के वहां मौजूद होने के सबूत चाहिए थे. इस तरह CIA ने डॉ अफरीदी के जरिए वैक्सीन अभियान की शुरुआत करवाई, ताकि ओसामा के ठिकाने से उसके डीएनए सैंपल्स लिए जा सके. वहीं, पाकिस्तानी अधिकारियों ने ओसामा के मारे जाने के कुछ हफ्ते बाद ही डॉ अफरीदी को गिरफ्तार कर लिया.

33 साल जेल की सजा काट रहे हैं डॉ अफरीदी

डॉ अफरीदी के ऊपर ओसामा से जुड़े मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई. दरअसल, एक आदिवासी अदालत ने एक औपनिवेशिक युग के कानून के तहत डॉ अफरीदी पर आरोप लगाया कि उन्होंने एक विद्रोही ग्रुप को पैसे मुहैया कराया है. इसके बाद उन्हें दोषी ठहराते हुए 33 साल की सजा सुनाई गई. अमेरिकी प्रशासन ने उनकी हिरासत को लेकर विरोध जताया. अमेरिका ने कैदियों के बदले उन्हें अपने यहां लाने का प्रयास किया, लेकिन ये सौदा कभी हो ही नहीं पाया.

विदिशा में कोरोना विस्फोट, कुंभ से लौटे अधिकांश श्रद्धालु कोरोना संक्रमित

मध्य प्रदेश के विदिशा में हरिद्वार कुंभ से लौटे 61 श्रद्धालुओं में से 60 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. कुल 83 लोग लौटे थे, 22 के बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पा रही है.

विदिशा हरिद्वार कुंभ के बाद जगह-जगह कोरोना विस्फोट शुरू हो गया है. मध्य प्रदेश के विदिशा में कुंभ से लौटे 83 श्रद्धालुओं में से 60 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, जबकि 22 के बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पा रही है. ये पूरा मामला विदिशा जिला मुख्यालय से 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ग्यारसपुर का है.

विदिशा जिला प्रशासन के अनुसार, 83 तीर्थयात्री तीन अलग-अलग बसों में 11 से 15 अप्रैल के बीच हरिद्वार के लिए रवाना हुए थे. एक अधिकारी ने कहा कि ये पहले ग्यारसपुर से मुख्यालय कार में पहुंचे, फिर बस में मुख्यालय से हरिद्वार के लिए रवाना हुए. स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार तीर्थयात्री 25 अप्रैल को ग्यारसपुर लौट आए,

इसके बाद कुंभ गए सभी लोगों का पता लगाया गया और उनका परीक्षण किया गया. स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, हरिद्वार 83 श्रद्धालु गए थे, जिसमें से केवल 61 की ही जानकारी मिल पाई है, 22 का अब तक पता नहीं चला है और हम उनका पता लगाने के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं. जिन 61 का पता चला, उसमें से 60 कोरोना संक्रमित हैं.

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कहा कि पॉजिटिव मिले 60 में से 5 की हालत गंभीर है, उन्हें कोविड सेंटर में शिफ्ट किया गया है. इसके अलावा बाकी 55 संक्रमितों को होम क्वारनटीन किया गया है. एक अधिकारी ने कहा कि हम कुंभ से आने वालों पर नजर रखे हुए है, क्योंकि आशंका है कि उन्हें अगर समय पर अलग-थलग नहीं किया गया तो वे सुपर स्प्रेडर बन जाएंगे.

आपको बता दें कि हरिद्वार कुंभ के दौरान ही कई लोग कोरोना संक्रमित हो गए थे. इस दौरान कई साधु-संतों की मौत भी हुई थी. माना जा रहा था कि जैसे-जैसे श्रद्धालु कुंभ से लौटकर अपने-अपने घर जाएंगे, वैसे-वैसे कोरोना संक्रमण का खतरा और बढ़ता जाएगा. ऐसे में हर प्रदेश सरकार अलर्ट हो गई है और हरिद्वार से आने वालों का टेस्ट किया जा रहा है.

मौसम:आज और कल भोपाल सहित 35 जिलों में तेज हवा और बारिश की संभावना; दक्षिण-पूर्वी मप्र में बना है ऊपरी हवा का चक्रवात

अप्रैल का अंत और मई की शुरुआत प्रदेश में तेज हवा बूंदाबांदी और बारिश के साथ हो सकती है। मौसम केंद्र द्वारा जारी किए गए पूर्व अनुमान के मुताबिक शुक्रवार और शनिवार को प्रदेश के 35 जिलों में तेज हवा चलने, गरज-चमक के साथ बारिश होने की संभावना है। इनमें भोपाल संभाग समेत मालवा, निमाड़, महाकौशल, ग्वालियर, चंबल और विंध्य के कुछ जिले शामिल हैं। भोपाल सहित प्रदेश के कई जिलों में गुरुवार को धूलभरी तेज आंधी चली और कहीं-कहीं हल्की बारिश भी हुई।

ये तीन सिस्टम डालेंगे असर

पूर्वी मध्य प्रदेश में ऊपरी हवा का चक्रवात बना है।पूर्वी मध्य प्रदेश से लेकर पश्चिम बंगाल तक एक ट्रफ लाइन बनी है।सौराष्ट्र और कच्छ के पास भी ऊपरी हवा का चक्रवात बना है।

40 किलोमीटर की रफ्तार से चली धूल भरी हवा, 43 डिग्री पार हो सकता था पारा

अप्रैल बीतने के 1 दिन पहले गर्मी भी बढ़ गई। शहर में गुरुवार को दिन का तापमान 42.8 डिग्री पर पहुंच गया। यह सीजन का सबसे गर्म दिन रहा और 11 साल में अप्रैल में तीसरा सबसे ज्यादा तापमान है। बुधवार के मुकाबले दिन के तापमान में 1.2 डिग्री का इजाफा हुआ। यह सामान्य से 2 डिग्री ज्यादा रहा। तीखी धूप चटकी और बादल भी छाए। इस वजह से दिन में उमस से भी लोग बेहाल रहे। पारे की चाल भी तेज थी।

दोपहर होने से पहले सुबह 6 घंटे में ही तापमान में 13.6 डिग्री का इजाफा हो गया था। रात का तापमान 22.8 डिग्री दर्ज किया गया। 24 घंटे में इसमें 1 डिग्री की बढ़ोतरी हुई। मौसम वैज्ञानिकों ने बताया दक्षिण-पूर्वी मध्यप्रदेश में ऊपरी हवा का चक्रवात बना है। इस वजह से मौसम प्रभावित हुआ। हवा का रुख दक्षिणी रहा। इसके कारण तापमान में इजाफा हुआ।

तेज हवा के बीच कुछ इलाकों में बिजली भी हुई थी गुल
दोपहर 3 बजे के बाद 40 किमी की रफ्तार से धूल भरी तेज हवा चली। होशंगाबाद रोड, मिसरोद, रचना नगर, शाहपुरा, अवधपुरी, अरेरा कॉलोनी, चार इमली, एमपी नगर में धूल भरी हवा चली। पुराने शहर के शाहजहांनाबाद, जिंसी, जहांगीराबाद, रॉयल मार्केट, हमीदिया रोड समेत कई इलाकों में भी धूल भरी तेज हवा चली। इस दौरान इन इलाकों में कुछ देर के लिए बिजली गुल भी रही। मौसम वैज्ञानिकों ने बताया कि हवा की औसत रफ्तार 16 किमी प्रति घंटे रही।

कोविड 19 की नई गाइडलाइन्स हुई जारी, जानें कोरोना के मरीज होम आइसोलेशन के वक्त कैसे करें अपना इलाज

देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सरकार ने होम आइसोलेशन वाले मरीजों के लिए नई गाइडलाइन्स जारी की है। जिसमें बताया गया है कि कोरोना के बिना लक्षण और कम लक्षण वाले लोगों को खुद का कैसे इलाज करना है।

देश में  कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सरकार ने होम आइसोलेशन वाले मरीजों के लिए नई गाइडलाइन्स जारी की है। जिसमें बताया गया है कि कोरोना के  बिना लक्षण और कम लक्षण वाले लोगों को खुद का कैसे इलाज करना है। 


नई गाइडलाइन्स में कहा गया है कि होम आइसोलेशन वाले मरीज को हमेशा डॉक्टर के संपर्क में रहना चाहिए। अगर आपको ज्यादा गंभीर समस्या का सामना करना पड़ रहा है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे। इसके साथ ही अगर आप किसी बीमारी से ग्रसित हैं तो डॉक्टर की सलाह के साथ उस दवा को खाते रहे। 

कोरोना से संक्रमित हुए मरीज को शुरुआत में ही नाक बहने की समस्या, खांसी और बुखार के लक्षण नजर आने लगते है। इसे में उसे दवा खाने के साथ-साथ गर्म पानी से गरारा और दिन में कम से दो बार भाप जरूर लेना चाहिए। 


कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज को अच्छी तरह हवादार कमरों में रखा जाना चाहिए। जिससे उन्हें ताजी हवा मिलती रहे। 

नई गाइडलाइन में सलाद दी गई है कि अगर दिन में चार बार पैरासीटामोल (650 mg) लेने पर भी बुखार नहीं उतर रहा है तो मरीज  तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। जिसके बाद डॉक्टर आपको नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लामेटरी दवा जैसे कि नेप्रोक्सेन (250 mg ) दिन में दो बार  लेने की सलाह दे सकता हैं। इसके अलावा डॉक्टर आपको 3 से 5 दिनों के लिए आइवरमेक्टिन टैबलेट लेनी की सलाह दे सकता है। 

अगर व्यक्ति को बुखार के साथ कफ की अधिक समस्या हो तो वह  800 एमसीजी बुडेसोनाइड का इनहेलेशन ले सकता है। यह दवा 5-7 दिनों के लिए दिन में दो बार इनहेर के रूप में ली जा सकती है।

संक्रमित मरीज को हर समय एक ट्रिपल-लेयर मेडिकल मास्क पहनना चाहिए। इसके साथ ही हर 8 घंटे बाद मास्क  को हटा देना चाहिए, क्योंकि यह गीली हो जाता है। इसके साथ ही जो व्यक्ति कोरोना संक्रमित मरीज की देखभाल कर रहा है वह कमरे में प्रवेश करने से पहले N-95 मास्क जरूर लगा लें।  
गाइडलाइन में लोगों को सलाह दी गई कि कोरोना के मरीजों को रेमडेसिविर दवा घर पर नहीं लेनी चाहिए। रेमडेसिविर दवा सिर्फ डॉक्टर की सलाह पर या फिर हॉस्पिटल में ही उपलब्ध होगी।