एशिया का सबसे बड़ा ट्यूलिप गार्डन जनता के लिए खुला, पीएम मोदी ने की ये अपील

कश्मीर में नए पर्यटन सीजन की शुरुआत के साथ ही एशिया का सबसे बड़ा ट्यूलिप गार्डन जनता के लिए खुल गया है. पूर्व में सिराज बाग के नाम से मशहूर इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्यूलिप गार्डन को 2008 में तत्कालीन मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद ने खुलवाया था. ट्यूलिप गार्डन जबरवन पर्वत श्रृंखला की तलहटी में स्थित है और यह एशिया का सबसे बड़ा ट्यूलिप गार्डन है.

ट्यूलिप गार्डन है लगभग 30 हेक्टेयर के क्षेत्र में फैला हुआ है. इस उद्यान को कश्मीर घाटी में फूलों की खेती और पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से खोला गया था

इस गार्डन में इस साल विभिन्न किस्मों के लगभग 15 लाख फूल लगाए गए हैं. गार्डन में अब तक लगभग 25 प्रतिशत का इजाफा हुआ है.

ट्यूलिप गार्डन में इस साल ट्यूलिप की 62 किस्में हैं. ट्यूलिप के फूल औसतन तीन-चार सप्ताह तक रहते हैं, लेकिन भारी बारिश या बहुत अधिक गर्मी इन्हें नष्ट कर सकती है. पुष्प कृषि विभाग चरणबद्ध तरीके से ट्यूलिप के पौधे लगाता है ताकि फूल एक महीने या उससे अधिक समय तक बगीचे में रहे.

पर्यटन विभाग ने घाटी में नए पर्यटन सीजन की शुरुआत के तहत अगले महीने के पहले सप्ताह में बाग में एक सांस्कृतिक कार्यक्रम की योजना बनाई है.

ट्यूलिप गार्डन स्थापित करने का उद्देश्य पर्यटकों को एक और विकल्प देना और पर्यटन सीजन को आगे बढ़ाना था, जो हर साल मई में शुरू होता था. हर साल हजारों पर्यटक यहां आते हैं.

इस गार्डन को दो साल के अंतराल के बाद खोला गया है, क्योंकि यह पिछले साल कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लगे लॉकडाउन के कारण बंद रहा था. अधिकारियों ने कहा कि पुष्प कृषि विभाग ने मानक संचालन प्रक्रियाओं के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त उपाय किए हैं.

इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों से ट्यूलिप गार्डन घूमने और केंद्र शासित प्रदेश के लोगों के गर्मजोशी भरे आतिथ्य-सत्कार का आनंद लेने का आग्रह किया. मोदी ने कहा, जब भी आपको अवसर मिले, जम्मू-कश्मीर की यात्रा करें और सुंदर ट्यूलिप गार्डन का दर्शन करें.

उन्होंने कहा, ट्यूलिप के अलावा, आप जम्मू-कश्मीर के लोगों के गर्मजोशी भरे आतिथ्य-सत्कार का अनुभव करेंगे. मोदी ने एक अन्य ट्वीट में कहा, 25 मार्च जम्मू-कश्मीर के लिए खास है. जबरवन पर्वत की तलहटी में स्थित अद्भुत ट्यूलिप गार्डन आगंतुकों के लिए खुल जाएगा. गार्डन में 64 से अधिक किस्मों के 15 लाख से अधिक फूल दिखाई देंगे.

वायुसेना: चार दिन में मिलेंगे तीन राफेल, अप्रैल में नौ और लड़ाकू विमान बढ़ाएंगे ताकत

भारत सरकार चीन और पाकिस्तान जैसे पड़ोसी देशों के साथ जारी तनाव के बीच देश की सेनाओं को और ताकतवर बनाने में जुटी है। जल्द ही भारतीय वायुसेना (आईएएफ) की ताकत में और अधिक इजाफा होने वाला है।आगामी चार दिनों में तीन और लड़ाकू विमान राफेल अंबाला में लैंड करेंगे। इसके बाद अप्रैल के मध्य तक नौ और राफेल लड़ाकू विमान फ्रांस से भारत पहुंचेंगे।

फ्रांसीसी और भारतीय राजनयिकों की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, भारतीय वायुसेना की एक टीम तीन राफेल को अंबाला लाने के लिए पहले ही फ्रांस पहुंच चुकी है। उम्मीद है कि  राफेल के इन तीन लड़ाकू विमानों की खेप 30 या 31 मार्च को भारत पहुंच जाएगी।  

बता दें कि भारत ने फ्रांस सरकार के साथ सितंबर, 2016 में 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के लिए 59,000 करोड़ रुपये का रक्षा सौदा किया था। फ्रांस की कंपनी दसॉ एविएशन से पांच राफेल विमानों का पहला बेड़ा 28 जुलाई को भारत पहुंचा था। इस बेड़े ने फ्रांस से उड़ान भरने के बाद संयुक्त अरब अमीरात में हाल्ट किया था, जहां उसने ईंधन भरा था। राफेल के पहले बेड़े को जब वायुसेना में शामिल किया गया था, तब रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इसे गेम चेंजर करार दिया था। उनका दावा था कि राफेल के साथ वायुसेना ने तकनीकी स्तर पर बढ़त हासिल कर ली है। राफेल नवीनतम हथियारों और सुपीरियर सेंसर से लैस लड़ाकू विमान है।

भारतीय वायुसेना के अंबाला स्थित गोल्डन एरो स्क्वाड्रन ने जुलाई, 2020 और जनवरी, 2021 के बीच 11 राफेल लड़ाकू विमानों को पहले ही वायुसेना में शामिल कर लिया गया है। इन्हें लद्दाख सीमा पर तैना किया गया है। बता दें कि मई 2020 की शुरुआत से ही चीन के साथ सीमा गतिरोध के बाद सेना हाई अलर्ट पर है।

आमिर खान के बाद अब आर माधवन हुए कोविड पॉजिटिव, ‘थ्री ईडियट्स’ से फनी फोटो शेयर कर बोले-फरहान को तो रैंचो को फॉलो करना ही था

बॉलीवुड के सुपरस्टार आमिर खान के बाद फिल्म ‘थ्री ईडियट्स’ में उनके को-स्टार रहे आर माधवन कोरोना से संक्रमित हो गए हैं। इस बात की जानकारी आर माधवन ने खुद गुरुवार को सोशल मीडिया पर ‘थ्री ईडियट्स’ से अपने और आमिर के कैरेक्टर की एक फनी फोटो शेयर कर फैंस को दी है। एक दिन पहले ही बुधवार को आमिर खान कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए हैं।

फरहान को तो रैंचो को फॉलो करना ही था
आर माधवन ने आमिर के साथ की यह फोटो शेयर कर कैप्शन में लिखा, फरहान को तो रैंचो को फॉलो करना ही था। और हमेशा की तरह वायरस हमारे पीछे होता ही है। लेकिन, इस बार वायरस ने हमें पकड़ ही लिया। पर-‘ऑल इज वेल’ और कोविड बहुत जल्द ही वेल (कुए) में होगा। हालांकि, यह एकमात्र ऐसी जगह है, जहां हम नहीं चाहते कि राजू इसमें आए। आप सभी के प्यार के लिए धन्यवाद।”

पिछले साल आमिर की टीम के 7 लोगों को हुआ था कोरोना
इससे पहले पिछले साल जून में आमिर खान की टीम में 7 लोग कोरोना का शिकार हुए थे। तब आमिर को कोरोना छू भी नहीं पाया था। आमिर ने हाल ही में सोशल मीडिया को अलविदा कहा है, इसलिए उनके कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी उनके स्पोक्सपर्सन ने जारी की है।

बीते कुछ दिनों में कई सेलेब्स हुए कोरोना का शिकार
बॉलीवुड में लगातार कोरोना का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। पिछले कुछ दिनों में कई सेलेब्स कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। आमिर से पहले कार्तिक आर्यन, सतीश कौशिक, सिद्धांत चतुर्वेदी, रणबीर कपूर, संजय लीला भंसाली और मनोज बाजपेयी कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए थे।

युद्धाभ्यास के दौरान बड़ा हादसा:रात 3 बजे सेना की जिप्सी में आग लगी, 3 जवान जिंदा जले, 5 गंभीर; ग्रामीणों की मदद से आग पर काबू पाया

भारत-पाकिस्तान सीमा से सटे सीमांत क्षेत्र में बुधवार-गुरुवार की दरमियानी रात युद्धाभ्यास के दौरान बड़ा हादसा हो गया। रात करीब 3 बजे सेना की जिप्सी में आग लग गई। इसमें सेना के तीन जवानों की जलने से मौत हो गई। वहीं, 5 जवानों की हालत गंभीर बताई जा रही है। मृतकों में एक सूबेदार और दो जवान शामिल हैं। हादसे के बाद आसपास के ग्रामीणों की मदद से आग पर काबू पाया गया। हादसा श्रीगंगानगर जिले के छत्तरगढ़ के पास हुआ।

हालांकि, हादसे की वजह का खुलासा अब तक नहीं हुआ है। शुरुआत में खबर आई थी कि जिप्सी के नहर में पलटने से आग लग गई। अगर ऐसा होता, तो पानी से आग बुझ जाती। माना जा रहा है कि जिप्सी में युद्धाभ्यास के लिए बारूद या कुछ अन्य ज्वलनशील पदार्थ रखे थे, इन्हीं की वजह से आग लगी। आग इतनी तेजी से फैली कि जवानों को संभलने का मौका तक नहीं मिला।

सेना ने अब तक मृतक जवानों के नाम भी सार्वजनिक नहीं किए हैं। हादसे के बाद सेना के आला अधिकारी हरकत में आए। घायल जवानों को सूरतगढ़ के आर्मी अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिन तीन जवानों की मौत हुई है। उनके परिजनों को सूचना दी गई है।

जवान बठिंडा की 47-AD यूनिट के बताए जा रहे
सेना के प्रवक्ता अमिताभ शर्मा ने दैनिक भास्कर को बताया कि हादसा रात करीब दो से तीन बजे के बीच हुआ है। युद्धाभ्यास के तहत जवानों का एक वाहन सूरतगढ़-छत्तरगढ़ रोड पर इंदिरा गांधी नहर की आरडी 330 के पास था। तभी ये हादसा हुआ। इसमें तीन जवानों की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि पांच अन्य घायल हो गए। उन्होंने बताया कि यह रुटीन युद्धाभ्यास था, जिसके तहत जवानों को अलग-अलग टास्क दिए जाते हैं। इसी टास्क को पूरा करते समय यह हादसा हुआ है। सेना के ये जवान बठिंडा की 47-AD यूनिट के बताए जा रहे हैं। ये सभी जवान युद्धाभ्यास के लिए सूरतगढ़ आए हुए थे।

ग्रामीणों ने आग बुझाई
हादसे का पता चलते ही आसपास के ग्रामीण सबसे पहले घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने ही सबसे पहले आग पर पानी डालकर बुझाया, लेकिन तब तक 3 जवान जल चुके थे। ग्रामीणों की सूचना पर राजियासर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और 5 गंभीर घायल जवानों को अस्पताल ले जाया गया। वहीं, तीन मृत जवानों के पार्थिव शवों को सूरतगढ़ अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया है।

एंटीलिया विस्फोटक केस में खुल गया धमकी भरी चिठ्ठी का राज, सचिन वाजे ने कबूला जुर्म

मुंबई: अंबानी के एंटीलिया आवास के बाहर विस्फोटक वाली स्कॉर्पियो कार से मिली धमकी भरी चिठ्ठी का राज खुल गया है. NIA सूत्रों के मुताबिक, एंटीलिया के नजदीक पार्क की गई स्कॉर्पियो कार में मिली चिट्ठी को खुद मुंबई पुलिस के निलंबित अधिकारी सचिन वाजे ने ही रखा था. NIA के पूछताछ में ये बात वाजे ने कबूल की है.

टूटी फूटी इंग्लिश वाली चिट्ठी को विनायक शिंदे के घर से मिले प्रिंटर के जरिए निकाला गया था जिसकी जांच फोरेंसिक टीम के जरिये की जा रहीं है. आज NIA, सचिन वाजे के अलावा मनसुख हिरेन हत्या के आरोपी विनायक और नरेश की कस्टडी की मांग करेगी. कस्टडी लेने के बाद पहले नरेश और विनायक से पूछताछ करेगी. आने वाले दिनों में इन सबको आमने सामने बैठाकर पूछताछ संभव है.

NIA ने वाजे के खिलाफ यूएपीए के तहत भी आरोप लगाए
एनआईए ने एंटीलिया के पास से विस्फोटक मिलने के मामले में आरोपी निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वाजे के खिलाफ बुधवार को गैरकानूनी गतिविधियां (निवारण) अधिनियम (यूएपीए) की धाराएं भी लगाई हैं. एनआईए ने विशेष एनआईए अदालत को इस मामले में यूएपीए की धाराएं जोड़ने की जानकारी देते हुए बुधवार को अर्जी दाखिल की. वाजे पर यूएपीपीए की धारा 16 और 18 के तहत आरोप लगाए गए हैं.

एनआईए ने वाजे की हिरासत खत्म होने से एक दिन पहले यह कदम उठाया है. एजेंसी उस कार के मालिक मनसुख हिरेन की हत्या के मामले की भी जांच कर रही है. हिरेन का शव पांच मार्च को ठाणे में एक नहर से मिला था.

केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने 20 मार्च को इस मामले की जांच एनआईए को सौंप दी थी. लेकिन एटीएस की जांच भी जारी थी. एटीएस ने दो दिन पहले दावा किया था कि उसने हिरेन की मौत की गुत्थी सुलझा ली है. वहीं, एएनआईए ने हिरेन की हत्या के मामले में महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) द्वारा गिरफ्तार किए गए दो आरोपियों को बुधवार शाम हिरासत में ले लिया

कोरोना अलर्ट: 30 अप्रैल तक सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक,डोमेस्टिक उड़ानों के यात्रियों की भी जांच

इंदौर। कोरोना संक्रमितों की संख्‍या भारत में तेजी से बढ़ने के कारण नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक लगाने का फैसला किया है. इसे देखते हुए जारी किए गए आदेश में स्पष्ट किया गया है कि सभी अंतरराष्‍ट्रीय उड़ानों पर लागू निलंबन को 30 अप्रैल 2021 तक के लिए बढ़ा दिया है. लिहाजा महीने के आखिर तक सभी अंतरराष्‍ट्रीय उड़ानों पर रोक रहेगी.

साथ ही डीसीए कार्यालय की ओर से कहा गया है कि जरूरत महसूस किए जाने पर कुछ इंटरनेशनल रूट्स पर संबंधित अथॉरिटी की मंजूरी लेकर उड़ानों को संचालित किया जा सकता है. गौरतलब है केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने फरवरी के आखिर में कई देशों से आने वाली उड़ानों और यात्रियों के लिए संशोधित गाइडलाइंस का एक सेट जारी किया था. ये गाइडलाइंस ब्रिटेन, यूरोप और मध्य पूर्व से आने वाली उड़ानों के जरिये आने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए लागू की गई थी.

नई मानक संचालन प्रक्रिया 22 फरवरी 2021 से लागू की गई थी. अब विदेश में कोरोना वायरस के नए स्‍ट्रेन के मामले बढ़ने के साथ ही भारत में भी पॉजिटिव मामलों की रोजना बढ़ती संख्‍या के मद्देनजर फिर अंतरराष्‍ट्रीय उड़ानों पर अस्‍थायी रोक लगा दी गई है.

अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध के अलावा देश में जो डोमेस्टिक फ्लाइट चल रही है, उन्हें लेकर भी खासी सतर्कता बरती जा रही है. इंदौर में महाराष्ट्र समेत मुंबई से आने वाले तमाम यात्रियों की जांच एयरपोर्ट पर ही हो रही है. इनमें संदिग्ध पाए जाने वाले मरीजों को होम क्वॉरेंटाइन किया जा रहा है, जबकि शेष को भी जांच के बाद ही रवाना किया जा रहा है. इसके अलावा यहां यूके स्ट्रेन के 6 मरीजों के पॉजिटिव पाए जाने पर खास तौर पर महाराष्ट्र और यूके से आने वाले यात्रियों को लेकर खासी सतर्कता बरतनी पड़ रही है.

पश्चिम बंगाल में रैलियों का रेला, आज प्रचार थमने से पहले अमित शाह-ममता-राजनाथ सिंह-योगी की ताबड़तोड़ रैलियां

कोलकाता / गुवाहटी: पश्चिम बंगाल और असम में पहले चरण की वोटिंग 27 मार्च को होगी. आज शाम 5 बजे पहले चरण के लिए चुनाव प्रचार थम जाएगा. प्रचार थमने से पहले गृहमंत्री अमित शाह, सीएम ममता बनर्जी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ, गौतम गंभीर की ताबड़तोड़ रैलियां हैं.

असम की 47 विधानसभा सीटों पर और बंगाल की 30 सीटों पर 27 मार्च को चुनाव होंगे. असम के 12 जिलों में चुनाव होने हैं जिसमें 5 आदिवासी सीट हैं. असम में तीन फेज में चुनाव हो रहें हैं, वहीं पश्चिम बंगाल के 5 जिलों के 30 सीटों पर चुनाव होने हैं. बंगाल की 30 सीट पर 4 सीट दलित सीट हैं जबकि 7 सीट आदिवासी हैं.

बंगाल में अमित शाह की चार रैलियां

11.30 बजे- पुरुलिया जिले के बाघमुंडी के कुसाडी किक्रेट ग्राऊंड में रैली करेंगे
1.10 बजे- झारग्राम जिले के संक्रेल के रगड़ा ब्लॉक के रगड़ा हाईस्कूल में रैली करेंगे
2.45 बजे- तुमलुक जिले के शांतिपुर के मेचेडा में रैली करेंगे
4.45 बजे- बिष्णुपुर के टुर्की मठ में रैली करेंगे
6.30 बजे- बिष्णुपुर के अन्नपूर्णा होटल में पार्टी मीटिंग करेंगे

ममता बनर्जी की चार रैलियों का कार्यक्रम

11 बजे- दक्षिण 24 परगना के पत्थरप्रतिमा
12.15 बजे- दक्षिण 24 परगना के सागर द्वीप
2 बजे- पश्चिम मिदनापुर के दांतन
3.15 बजे- पश्चिम मिदनापुर में ही मिदनापुर टाउन में एक रैली को संबोधित करेंगी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की बंगाल में रैलियां

11.10 बजे- साऊथ 24 परगना के जयनगर विधानसभा में रैली करेंगे
1.15 बजे- हुगली जिले के चंडीतला विधानसभा में रैली करेंगे
3.30 बजे- बांकुरा जिले के तलदंगरा विधानसभा में रैली करेंगे

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की बंगाल में रैलियां

11.10 बजे- साऊथ 24 परगना जिले के सागर विधानसभा में रैली करेंगे
1.40 बजे- पश्चिम मिदनापुर जिले के चंद्रकोना विधानसभा में रैली करेंगे
3.20 बजे- पश्चिमी मिदनापुर जिले के नंदीग्राम विधानसबा के नंदीग्राम बाजार मैदान में रैली करेंगे

गौतम गंभीर बंगाल में दो रैली और एक रोड शो करेंगे

11 बजे- पश्चिमी मिदनापुर के दांतन विधानसभा में तुर्का रथताला मठ में रैली करेंगे
1 बजे- बांकुरा जिले के सोनामुखी विधानसभा के जोनामुखी रोड पर रोड शो करेंगे
3.10 बजे- हुगली जिले चीनसुराह विधानसभा में लिटचू ताला मठ पर रैली करेंगे

ममता बनर्जी के लिए नंदीग्राम में प्रचार नहीं करेंगे शिशिर अधिकारी
शुभेंदु अधिकारी के पिता शिशिर अधिकारी ने कहा कि ममता के लिए नंदीग्राम में प्रचार नहीं करेंगे. उन्होंने कहा, “मेरे बेटे का अपमानित किया जा रहा है और मैं अपने बेटे के साथ हूं. हर एक पिता चाहता है कि उनका बेटा आगे बढ़े और मै भी चाहता हूं कि मेरा बेटा भी राजनीति में बढ़े. वोटर इस बार के चुनाव में करारा जवाब देगा. मोदी हमसे मिले और स्टेज पर सुखद अनुभव का आदान प्रदान हुआ.”

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने संसद में कांग्रेस को धोया, कहा- मुंह मत खुलवाओ; 100 करोड़ की वसूली हो रही थी

भारतीय जनता पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस पर एक बार फिर जमकर हमला बोला है। दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया आज राज्यसभा में वित्तिय बिल पर अपनी बात रख रहे थे, तभी कांग्रेस के कई सांसद पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर टोका-टिप्पणी करने लगे। तभी सिंधिया ने उनको पेट्रोल-डीजल के पीछे की गणित भी समझा दिया और मुंह न खुलवाने की हिदायद भी दे दी।

इस बीच कांग्रेस के किसी नेता ने टोक दिया जिस पर सिंधिया ने भी पलटवार करते हुए उनको महाराष्ट्र की याद दिला दी। सिंधिया ने कहा कि मुंह मत खुलवाओ, 100 करोड़ रुपए एक गृह मंत्री के द्वारा लिया जा रहा था। सिंधिया ने कहा कि आप 15 लाख की बात करते हो, आप पहले 100 करोड़ का हिसाब दो। मेरा मुंह मत खुलवाना नहीं तो मैं शुरू हो जाऊंगा।

ज्योदितारादित्य सिंधिया ने कहा कि यह बात सही है कि पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़े हैं। यह भी सही है कि जो बढ़ोतरी हुई है उसका बंटवारा क्या है। उन्होंने कहा कि पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर खर्ता निकालने के बाद 40 फीसदी हिस्सा राज्य और 60 फीसदी हिस्सा केंद्र को मिलता है। 60 फीसदी में से 42 फीसदी राज्य को जाता है। राज्य को उस राशि का 64 फीसदी मिलता है और 36 फीसदी केंद्र के पास रहता है। सिंधिया ने कहा कि महाराष्ट्र में पेट्रोल-डीजल के सबसे ज्यादा दाम हैं। यहां आप सरकार को दुहाई दे रहे हैं, लेकिन वहां कोई कदम नहीं उठाते हैं। सिंधिया ने कहा कि मैं बस इतना ही कहना चाहता हूं कि जिनके घर शीशे के होते हैं, वह दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते।

नीतियों को लेकर कांग्रेस ने सरकार को घेरा
राज्यसभा में बुधवार को कांग्रेस ने सरकार की आर्थिक नीतियों की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि कोविड महामारी आने के पहले ही देश की अर्थव्यवस्था पटरी से उतर चुकी थी और केंद्र अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए कोरोना की आड़ ले रही है। कांग्रेस के दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने उच्च सदन में वित्त विधेयक, 2021 पर चर्चा की शुरूआत करते हुए आरोप लगाया कि सरकार की गलत नीतियों के कारण अर्थव्यवस्था महामारी के पहले ही खराब दौर से गुजर रही थी लेकिन स्थिति में सुधार के लिए बजट में कोई खास प्रावधान नहीं किया गया।

वैज्ञानिकों ने सुलझा दिया बरमुडा ट्रायएंगल का रहस्य 

बरमुडा ट्रायएंगल का नाम सुनते ही लोगों के रोंगटे खड़े हो जाते है। और हो भी क्यों नहीं ये एक ऐसी जगह मानी जाती है, जिसकों दानवों का क्षेत्र कहा जाता है। बरमुडा ट्रायएंगल एक ऐसी जगह है जो अब तक कई दर्जनों जहाज और विमान को अपनी आगोश में ले चुका है।आखिर किस कारण से यहां पर बड़े—बड़े जहाज और विमान डूब जाते है, इस रहस्य का पता लगाने के लिए अभी तक रिसर्च की जा रही थी। आखिरकार वैज्ञानिकों ने इस रहस्य से पर्दा हटा ही दिया। इस रिसर्च में लगे वैज्ञानिकों के मुताबिक ये न तो कोई यूएफओ (उड़न तस्तरी) है और न ही कोई समुद्री दानव है।

उनका मानना है कि ये दूसरी प्रकार की भयानक लहरे है, जो किसी दानव से कम नहीं है। इन्हीें लहरों के कारण बड़े से बड़ा जहाज भी डूब जाता है। बरमुड़ा ट्रायएंगल का शैतान तिकोण भी कहते भी कहा जाता है। यह उत्तरी अटलांटिक का एक ऐसा क्षेत्र है, जो मियामी, बर्मुडा और प्यूर्टो रिको से घिरा हुआ है।कई आंकड़ों के अध्ययन के बाद खुलासा हुआ है कि पिछले काफी समय से इस बरमुड़ा ट्रायएंगल में दर्जनों जहाज और एयरक्राफ्ट समा चुके हैं। आश्चर्य की बात ये है कि अभी तक भी इन विमानों और जहाजों का कोई पता नही चल पाया है। अध्ययन करने वाले शोधकर्ता बताते है कि यह दक्षिणी और उत्तरी तूफान है जो अचानक एक साथ आ जाता है।इस दौरान यदि फ्लोरिडा की ओर से कुछ होता है तो इससे लहरे और खतरनाक हो जाती हैं। ये भयानक लहरें 100 फिट तक ऊंची उठ सकती हैं। कई लोगों के वहम को दूर करने के लिए वैज्ञानिकों ने इसका पता लगा लिया है। अब ये साफ हो चुका है कि न तो की राक्षस, न आत्मा और न ही उड़न तस्तरी जहाज को डुबोती है, बल्कि ये खतरनाक लहरें हैं जो अब तक दर्जनों जहाज और विमान को डुबा चुकी हैं।