गाड़ी घर पर रखी रही कट गया ई-चालान, एक नंबर पर शहर में घूम रहीं कई गाडी

ग्वालियर। शहर में एक ही नंबर से कई गाडियंा घूम रहीं है एैसी गाडियों का उपयोग आपराधिक वारदातों में तो हो ही सकता है साथ ही जिनकी गाडियों पर नंबर सही है उन्हें इसका खामियाजा भी भुगतना पड़ सकता है मामले का खुलासा स्मार्ट सिटी द्वारा किए गए ई-चालान के बाद हुआ है जिसके बाद पीडित गाडी मालिक ने एसपी आफिस पहुंच कर मामले की जांच करने की मांग की है।
वीओ- फरियादी राजेन्द्र श्रीवास्तव को गत रोज स्मार्ट सिटी द्वारा ई-चालान व्यवस्था के तहत रेड सिग्नल क्राॅस करने पर 500 रूपए का चालान भेजा गया था जिसके बाद राजेन्द्र श्रीवास्तव स्मार्ट सिटी को आॅफिस पहुंचे और जब ई-चालन की काॅपी और गाडी का फोटो देखा तो उनका माथा ठनक गया दरअसल फोटो में जो गाडी दिख रही थी वो उनकी गाडी नहीं थी लेकिन नंबर प्लेट पर उनकी एक्टिवा गाडी का नंबर पड़ा हुआ था जिसके बाद उन्होने मामले की शिकायत स्मार्ट सिटी सीईओ और एसपी आॅफिस में की उनका कहना है कि इस तरह की गाडियेां से अगर किसी तरह की वारदात या घटना होती है तो उसकी जिम्मेवारी उनकी नहीं होगी।

निजीकरण के विरोध में हड़ताल 12 सरकारी बैंकों की 200 शाखाएं बंद

ग्वालियर। निजीकरण के विरोध में सोमवार और मंगलवार को सरकारी क्षेत्र के 12 बैंकों की 200 शाखाएं बंद रहेंगीं। जबकि निजी क्षेत्र के बैंक खुले रहेंगे। इस हड़ताल से बैंकिंग कारोबार प्रभावित होगा। हडताल में शामिल बैंक अधिकारी-कर्मचारियेां का कहना है कि केंद्र सरकार ने बजट सत्र में सिर्फ दो बैंकों के निजीकरण की बात कही थी, लेकिन अब दो से बढ़ाकर चार बैंकों के निजीकरण की बात करने लगी है। इसलिए व्यापक स्तर पर विरोध करने के लिए दो दिन की हड़ताल की जा रही है। सोमवार सुबह स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की महाराज बाड़ा मुुख्य शाखा पर बैंककर्मियों द्वारा प्रदर्शन किया गया।

ये बैंक हैं आज बंद

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बडौदा, यूनियन बैंक, सेट्रल बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन ओवरसीज बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, इंडियन बैंक, पंजाब एंड सिंध बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, ग्रामीण बैंक एवं कॉपरेटिव बैंक।

कोचिंग में दोस्ती की, घर बुलाकर रेप किया; वीडियो बनाकर कर रहा था ब्लैकमेल, छात्रा का प्री में हो गया है सलेक्शन

ग्वालियर।श्योपुर से PSC की तैयारी करने आई एक छात्रा से युवक ने कोचिंग में दोस्ती की। एक दिन वह छात्रा को अपने घर ले गया और दुष्कर्म कर वीडियो बना लिया। इस वीडियो को दिखाकर छात्रा को ब्लैकमेल कर शोषण करने लगा। घटना हजीरा के बिरला नगर की है। बीते एक साल से लगातार वह छात्रा को ब्लैकमेल कर रहा था। अभी छात्रा का PSC प्री में सलेक्शन हो गया। पर आरोपी ने ब्लैकमेल करना नहीं छोड़ा। इस पर पीड़ित छात्रा ने हजीरा थाना पहुंचकर मामले की शिकायत की है। पुलिस ने दुष्कर्म का मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

श्योपुर निवासी 24 वर्षीय रानी (बदला हुआ नाम) ग्वालियर के एक निजी हॉस्टल में रह कर PSC की तैयारी कर रही है। तैयारी के दौरान उसकी मुलाकात कोचिंग पर बलवीर धाकड़ से हुई। इसके बाद दोनों के बीच फ्रेंडशिप हो गई। कुछ दिन पहले बलवीर ने छात्रा को घर पर परिजनों से मुलाकात के लिए बुलाया। छात्रा जब उसके घर बिरला नगर पहुंची तो वहां पर कोई नहीं था। इस पर बलवीर ने कुछ देर इंतजार करने को कहा और उसे अंदर ले गया। अंदर आते ही बलवीर ने उसे जान से मारने की धमकी दी और उसके साथ गलत काम किया। इस दौरान आरोपी ने उसका वीडियो बनाया और फोटो भी ले लिए। वारदात के बाद आरोपी ने धमकाया कि किसी के सामने जिक्र किया तो वह फोटो व वीडियो वायरल कर देगा। बदनामी के डर से छात्रा ने इसकी शिकायत नहीं की तो कुछ दिन बाद ही आरोपी ने उसे वीडियो वायरल करने की धमकी देकर बुलाया और उसके साथ गलत काम किया। आरोपी उसका शारीरिक शोषण करने लगा।

PSC प्री में हुआ सलेक्शन तो और परेशान किया
कुछ समय पहले PSC प्री का रिजल्ट आया और छात्रा का सलेक्शन हो गया। 23 मार्च से उसकी मेंस की परीक्षा है। पर आरोपी का सलेक्शन नहीं हुआ तो वह चिढ़ गया। उसने और परेशान किया। इस पर छात्रा हजीरा थाना पहुंची और आरोपी के खिलाफ मामले में शिकायत की। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज कर आरोपी गिरफ्तार कर लिया है।

सिपाही ने गालियों के साथ सोशल मीडिया पर लिखा- चुनाव के समय ही कोरोना कम क्यों हो जाता है ; ग्वालियर SP ने किया सस्पेंड

ग्वालियर।सोशल मीडिया पर एक कांस्टेबल काेरोना के आंकड़ों को लेकर भड़क गया। उसने BJP पर अपनी भड़ास निकालकर गालियां लिख दीं। पुलिस जवान ने लिखा कि कोरोना चुनाव के समय ही क्यों कम हो जाता है। जब कोई त्योहार और अन्य कार्यक्रम हो तो बढ़ जाता है। उसका पोस्ट सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। घटना शनिवार की है। रात को ही SP ने उसे सस्पेंड कर दिया।

ग्वालियर के कोतवाली थाने में धर्मेन्द्र पाठक कांस्टेबल के पद पर है। वह सोशल मीडिया पर एक न्यूज ग्रुप पर जुड़ा है। शनिवार दोपहर ग्रुप पर स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के कारण बढ़ रहा कोरोना कर एक पोस्ट आई। इस पोस्ट पर अचानक कांस्टेबल चिढ़ गया और उसने BJP लिखकर गाली लिख दी। जब उसे एडमिन ने समझाया कि यह सोशल ग्रुप है यहां अपनी अभद्र भाषा का उपयोग न करें। इस पर कांस्टेबल ने लिखा कि चुनाव आ गया तो अब कहां गया कोरोना। त्योहार और अन्य कार्यक्रम में कोरोना बढ़ जाता है। इसके बाद एडमिन ने आरक्षक को ग्रुप से हटा दिया।

कुछ ही मिनट में यह पोस्ट इतना वायरल हुआ कि ग्वालियर SP अमित सांघी के पास पहुंच गया। SP ने पोस्ट को संज्ञान में लेकर तत्काल मामले की जांच कराई। कोतवाली थाना में पदस्थ आरक्षक धर्मेन्द्र पाठक की भूमिका गलत पाई गई। इस पर SP ग्वालियर ने शनिवार रात को जवान धर्मेन्द्र पाठक के सस्पेंड ऑर्डर जारी कर दिए। ऑर्डर में साफ कहा गया है कि आरक्षक का आचरण कहीं से भी पुलिस नियमों और आचरण जैसा नहीं था। उसने सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर अभद्र भाषा का उपयोग किया है। इसलिए उसे सस्पेंड कर लाइन भेज दिया गया है

ASI सस्पेंड:हाई कोर्ट में कहा- कोरोना की वजह से आरोपियों से नहीं हो सकी पूछताछ, फोन भी नहीं लगा; CDR से खुली पोल

धोखाधड़ी के मामले में फर्जी रिपोर्ट हाई कोर्ट में लगाना ASI को महंगा पड़ गया। ASI ने कोर्ट में कहा कि कोरोना के चलते संदेहियों से पूछताछ नहीं हो सकी। फोन भी लगाया, लेकिन नहीं लगा। घटना मार्च 2020 से मई 2020 के बीच बहोड़ापुर की है। हाई कोर्ट में लगाए ज्यादातर दस्तावेज की भाषा एक सी और सामान्य थी। इस पर कोर्ट ने नाराजगी जताई। SP को जांच के लिए कहा।

जब ASI की मोबाइल की CDR (कॉल डिटेल रिकॉर्ड) निकाली गई तो पता लगा कि वह न तो आरोपियों के घर तक गया और न ही कोई कॉल किया। इसके बाद SP ग्वालियर ने तत्काल ASI रामेन्द्र सेंगर को सस्पेंड करने के निर्देश जारी कर दिए हैं। इस मामले में 15 मार्च को एसपी को कोर्ट में पालन प्रतिवेदन रिपोर्ट पेश करना है।

शहर के दानाओली निवासी दीपक कुमार जैन ने अपनी फर्म के जरिए वर्ष 2016 में सकुमा एक्सपोर्ट कंपनी नामक फर्म से सोया तेल खरीदने डील की थी। इसके लिए उन्होंने 2 करोड़ 51 लाख रुपए कंपनी को भुगतान किया था। पर जब माल आया तो उसमें से 33 मैट्रिक टन तेल को सकुमा एक्सपोर्ट कंपनी ने खुदबुर्द किया था। इस मामले में दीपक जैन की शिकायत पर 6 जनवरी 2016 को अमानत में खयानत का मामला दर्ज किया गया था। यह मामला कोर्ट में परिवाद दायर करने के बाद दर्ज हुआ था। इस मामले में बहोड़ापुर पुलिस ने वर्ष 2016 में ही खात्मा रिपोर्ट पेश कर दी, लेकिन कोर्ट ने उसे अस्वीकार करते हुए वापस मामले की जांच के निर्देश दिए थे।

इस मामले में बहोड़ापुर में पदस्थ ASI रामेन्द्र सिंह सेंगर को मामले की जांच दी गई थी, लेकिन 2016 से यह जांच पेडिंग थी। पुलिस ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की थी। इसके बाद व्यवसायी दीपक जैन ने दोषियों पर कार्रवाई के लिए हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। उच्च न्यायालय ने केस डायरी तलब की, जिसमें पुलिस की काफी गड़बड़ियां सामने आई थी।

पूछताछ करने का प्रयास तक नहीं किया
जब हाई कोर्ट में दस्तावेज लगाए गए तो उसमें कई पत्र और रिपोर्ट की भाषा पहले पत्र से मिलती जुलती थी। सिर्फ मैटर को कट पेस्ट किया गया था। हद तो तब हो गई जब ASI रामेन्द्र सिंह सेंगर ने कोरोना के कारण संदेहियों से पूछताछ नहीं कर पाने का हवाला कोर्ट में पेश किया। इससे कोर्ट काफी नाराज हुआ और 8 मार्च को एसपी को तलब किया। कोर्ट ने काफी नाराजगी जताई और 15 मार्च को इस मामले में पालन प्रतिवेदन पेश करने को कहा है। एसपी ने जब ASI की मोबाइल की डिटेल निकलवाई तो पता लगा कि उसने संदेहियों को फोन तक नहीं लगाया। इस पर तत्काल उसे सस्पेंड करने के निर्देश शनिवार रात को जारी किए गए हैं।

धक्का-मुक्की, गाली गलौज, ये सब कुछ ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक और बीजेपी जिला अध्यक्ष में हुआ

मुरैना
एमपी बीजेपी में ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक और जिला अध्यक्ष में भिड़ंत का वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में सिंधिया समर्थक नेता को एक कार्यक्रम में अंदर जाने से रोका गया तो वह आगबबूला हो गया। इसके साथ ही गाली गलौज करने लगा। सोशल मीडिया पर यह वीडियो अब वायरल

है।

मुरैना में बीजेपी के ही दो नेताओं के बीच विवाद का वीडियो सामने आया है। बीजेपी के जिला अध्यक्ष योगेश पाल गुप्ता और सिंधिया समर्थक बीजेपी नेता हरिओम शर्मा के बीच विवाद हो गया है। विवाद के दौरान दोनों के बीच जमकर धक्का-मुक्की और गाली गलौज हुई। मौके पर मौजूद अन्य बीजेपी के नेताओं ने मामला संभाला और दोनों को शांत कराया।

यह पूरा मामला उस वक्त हुआ जब केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और मध्य प्रदेश के बीजेपी अध्यक्ष बीडी शर्मा एक बीजेपी कार्यकर्ता के घर पर भोजन करने के लिए गए हुए थे। अपने तय कार्यक्रम के तहत केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा मुरैना पहुंचे थे। यहां पर वे बीजेपी कार्यकर्ता रामवीर निगम के यहां भोजन करने पहुंचे। इस दौरान बीजेपी के कई नेता और कार्यकर्ता भी रामवीर निगम के घर पर पहुंचे। केंद्रीय मंत्री और बीजेपी अध्यक्ष तो घर के अंदर प्रवेश कर गए लेकिन सिंधिया समर्थक बीजेपी नेता हरिओम शर्मा को अंदर प्रवेश नहीं दिया गया।

सिंधिया समर्थक हरिओम शर्मा को बीजेपी के जिला अध्यक्ष योगेश पाल गुप्ता ने अंदर जाने से रोक दिया। इस बात को लेकर दोनों के बीच पहले मुंहवाद हुआ और फिर नौबत गाली गलौज तक आ गई। गाली गलौज से आगे बढ़ते हुए दोनों के बीच धक्का-मुक्की भी शुरू हो गई। दोनों को आपस में झगड़ते देख वहां मौजूद बीजेपी के प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर समेत अन्य बीजेपी नेताओं ने दोनों को पकड़ कर अलग-अलग किया और दोनों को काफी समझाइश दी। लेकिन काफी देर तक दोनों बीजेपी नेता एक दूसरे पर बरसते रहे। वहां मौजूद लोगों ने इसका वीडियो भी बना लिया। यह वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

1 अप्रैल से बदल सकते हैं सैलरी स्ट्रक्चर, पीएफ और रिटायरमेंट के नियम, जानें क्या होंगे बदलाव

एक अप्रैल 2021 यानी मुश्किल से 15 दिन बाद आपके जेब पर सीधा असर डालने वाले बदलाव होने जा रहे हैं। कई नियमों के बदलने से सैलरी स्ट्रक्चर, ईपीएफ कंट्रीब्यूशन, एलटीसी वाउचर से लेकर आईटीआर फाइलिंग तक के जरिए लोगों को प्रभावित करेंगे। चूंकि सरकार 1 अप्रैल से न्यू वेज कोड बिल 2021 को लागू करने की योजना बना रही है, इसलिए आपके वेतन में भारी फेरबदल हो सकता है।

बजट 2021 में टैक्स से जुड़ी कुछ प्रमुख घोषणाएं भी 1 अप्रैल से लागू होने वाली हैं, जिसका मतलब है कि अगले महीने से आईटीआर दाखिल करने वाले नियम, ईपीएफ अंशदान व कराधान नियम लागू होंगे। गौरतलब है कि देश के 73 साल के इतिहास में पहली बार इस प्रकार से श्रम कानून में बदलाव किए जा रहे हैं। सरकार का दावा है कि नियोक्ता और श्रमिक दोनों के लिए फायदेमंद साबित होंगे।आइए जानें 1 अप्रैल 2021 से क्या-क्या बदलने वाला है….

मूल वेतन के साथ बढ़ सकता है सीटीसी

New Wage Code यदि 1 अप्रैल को लागू किया जाता है तो मजदूरी कुल मजदूरी का कम से कम 50% होगी। इसका मतलब है कि मूल वेतन (सरकारी नौकरियों में मूल वेतन और महंगाई भत्ता) अप्रैल से कुल वेतन का 50 फीसदी या अधिक होना चाहिए।  आज ज्यादातर कंपनियों का मूल वेतन लगभग 35% से 45% है, यह उनके लिए एक बदलाव होगा। नए नियम लागू होने पर आपके मूल वेतन के साथ-साथ आपका सीटीसी भी बढ़ सकता है।

वेतन घटेगा और पीएफ बढ़ेगा

नए ड्राफ्ट रूल के अनुसार, मूल वेतन कुल वेतन का 50% या अधिक होना चाहिए।  मूल वेतन बढ़ने से पीएफ बढ़ेगा, जिसका मतलब है कि टेक-होम या हाथ में आने वाला वेतन में कटौती होगी। वर्तमान में, आपके मूल वेतन का 12 फीसदी अब पीएफ में चला जाता है। जब मूल वेतन सीटीसी का 50 प्रतिशत हो जाता है, तो पीएफ में योगदान भी बढ़ जाएगा। उदाहरण के लिए, 40,000 रुपये मासिक सीटीसी वाले व्यक्ति के लिए 20,000 रुपये मूल वेतन होगा और 2,400 रुपये पीएफ खाते में जाएगा।

LTC योजना में छूट बंद

2020 में COVID-19 के प्रकोप के कारण केंद्र ने अवकाश यात्रा रियायत (LTC) योजना में छूट की घोषणा की थी। इस छूट ने केंद्र सरकार के कर्मचारियों को 12 अक्टूबर, 2020 के बीच किए गए खर्चों पर आयकर लाभ का दावा करने की अनुमति दी। यात्रा व्यय के बदले 12 प्रतिशत या अधिक की जीएसटी दर को आकर्षित करने वाली वस्तुओं की खरीद पर 31 मार्च, 2021 तक। यह छूट 1 अप्रैल से लागू नहीं होगी।

रिटायरमेंट की राशि में होगा इजाफा

ग्रेच्युटी और पीएफ में योगदान बढ़ने से रिटायरमेंट के बाद मिलने वाली राशि में इजाफा होगा। इससे लोगों को रिटायरमेंट के बाद सुखद जीवन जीने में आसानी होगी। उच्च-भुगतान वाले अधिकारियों के वेतन संरचना में सबसे अधिक बदलाव आएगा और इसके चलते वो ही सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे। पीएफ और ग्रेच्युटी बढ़ने से कंपनियों की लागत में भी वृद्धि होगी। क्योंकि उन्हें भी कर्मचारियों के लिए पीएफ में ज्यादा योगदान देना पड़ेगा। इन चीजों से कंपनियों की बैलेंस शीट भी प्रभावित होगी।

काम के घंटे 12 घंटे करने का प्रस्ताव

नए ड्राफ्ट कानून में कामकाज के अधिकतम घंटों को बढ़ाकर 12 करने का प्रस्ताव पेश किया है। ओएसच कोड के ड्राफ्ट नियमों में 15 से 30 मिनट के बीच के अतिरिक्त कामकाज को भी 30 मिनट गिनकर ओवरटाइम में शामिल करने का प्रावधान है। मौजूदा नियम में 30 मिनट से कम समय को ओवरटाइम योग्य नहीं माना जाता है। ड्राफ्ट नियमों में किसी भी कर्मचारी से 5 घंटे से ज्यादा लगातार काम कराने को प्रतिबंधित किया गया है। कर्मचारियों को हर पांच घंटे के बाद आधा घंटे का विश्राम देने के निर्देश भी ड्राफ्ट नियमों में शामिल हैं।
 
पीएफ के ब्याज पर टैक्स 

1 अप्रैल, 2021 से, 2.5 लाख रुपये प्रति वर्ष से अधिक भविष्य निधि के लिए कर्मचारी योगदान पर ब्याज कर योग्य होगा। यह वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा अपने बजट भाषण में की गई घोषणा के अनुरूप है। इसका मतलब है कि 1 अप्रैल से, पीएफ खाते में प्रति वर्ष 2.5 लाख रुपये से अधिक का योगदान करने वाले लोगों को 2.5 लाख रुपये की सीमा से अधिक की राशि पर अर्जित ब्याज पर कर का भुगतान करना होगा।

वरिष्ठ नागरिकों के लिए आईटीआर फाइलिंग

75 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिक, जिनके पास केवल आय के स्रोत के रूप में पेंशन और ब्याज है, उन्हें आयकर रिटर्न दाखिल करने से छूट दी जाएगी। 75 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों को कर का भुगतान करने से छूट नहीं है। हालांकि, उन्हें कुछ शर्तों को पूरा करने पर आयकर रिटर्न (आईटीआर) दाखिल करने से छूट दी जाती है। आयकर रिटर्न दाखिल करने की छूट केवल उसी स्थिति में उपलब्ध होगी, जब ब्याज आय उसी बैंक में अर्जित की जाती है जहां पेंशन जमा की जाती है।

नॉन-फाइलरों के लिए उच्च दर पर टीडीएस

आयकर रिटर्न के गैर-फाइलरों के लिए टीडीएस के लिए उच्च दर प्रदान करने वाले विशेष प्रावधान के रूप में आयकर अधिनियम में एक नया खंड 206AB डाला जाएगा। इसके अतिरिक्त, व्यक्तिगत करदाताओं को पहले से भरे हुए आयकर रिटर्न (ITR) दिए जाएंगे। इस कदम का उद्देश्य रिटर्न दाखिल करने में ढील देना है। पहले से भरे आईटीआर में करदाता के आय और अन्य डेटा पर स्वचालित अपलोड होगा।

अब शादी समारोह, धार्मिक कार्यक्रम समेत सभी आयोजन की लेनी होगी अनुमति, दुकानों के बाहर गोले नहीं दिखे, तो जुर्माना

ग्वालियर।

रविवार को कलेक्टोरेट सभागार से कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने ऑनलाइन मीटिंग कर आपदा प्रबंधन समूह की बैठक की है। बैठक में सांसद विवेक शेजवलकर, विधायक डबरा सुरेश राजे, पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल, BJP ग्रामीण जिलाध्यक्ष कौशल शर्मा, चेम्बर ऑफ कॉमर्स के मानसेवी सचिव प्रवीण अग्रवाल एवं विभागीय अधिकारी शामिल हुए। बैठक में निर्णय लिया गया कि कोरोना की रोकथाम के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन पर सख्ती की जाए। साथ ही, बिना मास्क के निकलने वालों से 100 रुपए जुर्माना वसूला जाए और 2 मास्क तत्काल दिए जाएं।

दुकानों के सामने फिर बनेंगे गोले

बैठक में तय किया गया है कि सभी दुकानों व प्रतिष्ठानों के संचालकों को दुकानों में मास्क, सैनिटाइजर, थर्मल स्क्रीनिंग, सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था करनी होगी। स्वयं व स्टाफ और आने वाले ग्राहकों को भी मास्क पहनना अनिवार्य किया गया है। दुकानों के बाहर चूने से गोले बनाने होंगे।

मेला में सोशल डिस्टेंसिंग बनाना चुनौती

ग्वालियर व्यापार मेले में भी सैलानियों व दुकानदारों को मेला परिसर और दुकान में मास्क, सैनिटाइजर, थर्मल स्क्रीनिंग व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य किया गया है। मेले के समस्त प्रवेश द्वारों पर सैलानियों की थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की जा रही है। लगातार जिला प्रशासन व पुलिस की टीमें मेला में अभियान चलाएंगी।

कोरोना को लेकर मध्य प्रदेश सरकार की नई गाइडलाइन, महाराष्ट्र से आने वाले लोगों के लिए सात दिनों का क्वॉरन्टीन

भोपाल: मध्य प्रदेश में सरकार ने कोरोना के बढ़ते मरीज़ों पर पार पाने के लिए रविवार को नई गाइडलाइंस जारी की हैं. इसमें सबसे अहम ये है कि अब महाराष्ट्र से मध्य प्रदेश आने वाले लोगों को सात दिनों के क्वॉरन्टीन में रहना होगा. इसके साथ ही गाइलाइंस में कहा गया है कि दुकानों के बार गोले बनाकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाए. वहीं जिलों की क्राइसिस मैनेजमेंट टीम नाइट कर्फ्यू पर फैसले ले पाएंगी.

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. पिछले 24 घंटे में 16 हज़ार 620 नए मामले सामने आए हैं. ये इस साल एक दिन में आया अब तक सबसे अधिक केस है. मध्य प्रदेश की सीमा महाराष्ट्र से सटी हुई है, ऐसे में राज्य की शिवराज सिंह चौहान की सरकार ने नई गाइलाइंस जारी की है.

मध्य प्रदेश में कोरोना की ताजा स्थिति

वहीं मध्य प्रदेश में भी कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी देखी जा रही है. रविवार को राज्य में कोरोना संक्रमण के 743 नए मामले सामने आए हैं. नये मामलों के सामने आने के साथ ही प्रदेश में वायरस से अब तक संक्रमित पाए गए लोगों की कुल संख्या 2 लाख 68 हजार 594 पहुंच गई. राज्य में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी से प्रदेश में दो और व्यक्तियों की मौत हुई है. प्रदेश में अब तक इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 3887 हो गई है.

मध्यप्रदेश स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में रविवार को कोविड-19 के 263 नये मामले इंदौर में आये, जबकि भोपाल में 139 और जबलपुर में 45 नए मामले आए. अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में कुल 2 लाख 68 हजार 594 संक्रमितों में से अब तक 2 लाख 59 हजार 987 मरीज स्वस्थ होकर घर चले गये हैं और 4740 मरीज़ों का इलाज अलग-अलग अस्पतालों में चल रहा है. उन्होंने कहा कि रविवार को 513 रोगियों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई.