सास ने बहू को घर से निकाला, कहा- घर में रहना है तो देने होंगे 10 हजार रुपये

ग्वालियर के हजीरा थाना क्षेत्र से इंसानियत को शर्मिंदा कर देने वाला एक मामला सामने आया है, जहां एक नौकरीपेशा महिला ने पुलिस में अपनी सास-ससुर और जेठ के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाते हुए कहा कि उनके सुसराल वालों ने उसे घर से निकाल दिया है। साथ ही महिला ने यह भी बताया है कि उनकी दो बेटियां है, इसलिए सास का कहना है कि वह उनके परिवार को बेटा नहीं दे सकती, इसलिए वह उनके किसी काम की नहीं है।

साथ ही महिला ने यह भी बताया कि सास का यह भी कहना है कि अगर उसे घर में रहना है तो हर महीने 10 हजार रुपये देना होगा। वहीं, इस मामले में हजीरा पुलिस ने महिला की सास, ससुर और जेठ के खिलाफ FIR दर्ज कर ली है।

जानकारी के अनुसार, मामला हजीरा थाना क्षेत्र के बिरला नगर का है। जहां पीड़ित महिला सुमन, राधौगढ़ गुना में शिक्षा विभाग में सेवारत हैं। सुमन की शादी करीब आठ साल पहले सतीश के साथ हुई थी। इसके बाद उन्हें दो बेटियां हुई। बेटियों के जन्म के बाद से ही उसके सास-ससुर और जेठ उसे प्रताड़ित करने लगे। सास बार-बार ताने मारती है कि तू बेटे को जन्म नहीं दे सकती, इसलिए वह अपने बेटे की दूसरी शादी करा देंगे।

इसके बाद कभी-कभी तो नौबत यहां तक आ जाती है कि ससुराली जन उसके साथ मारपीट भी करते हैं। वहीं, महिला ने बताया कि जब उसके पति उसे उन लोगों से बचाते हैं, तो सास उसे भी घर से निकल देने की धमकी देती हैं

महिला ने शिकायत में आगे बताया कि उनकी सास कहती हैं कि तुम तो कमाती हो या तो बेटे को जन्म दो नहीं तो हर महीने हमें 10 हजार रुपये दो। तभी इस घर में रह पाओगी। ऐसे में कुछ दिन पहले ही ससुराल वालों ने उसके सारे गहने उतरवा लिए और उसे घर से निकाल दिया है।

अब इस समय पीड़िता अपनी दोनों बेटियों के साथ मायके में रह रही है। इसी कड़ी में पीड़िता ने हजीरा थाना आकर मामले की शिकायत की। इस पर पुलिस ने सास-ससुर और जेठ पर मामला दर्ज कर लिया है।

17 साल के लड़के को जूते चाटने पर किया मजबूर, एक आरोपी गिरफ्तार

मध्य प्रदेश के जबलपुर में नाबालिग लड़के की पिटाई करने और जूते चटवाने का मामला सामने आया है। जानकारी के अनुसार, पैसों के लेनदेन को लेकर हुए विवाद के बाद यह शर्मनाक घटना घटी। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए एक शख्स को गिरफ्तार किया है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, जबलपुर में पैसों के लेनदेन के विवाद में 17 साल के एक लड़के को कुछ लोगों द्वारा सिगरेट पीने और जूते चाटने पर मजबूर करने तथा उसकी पिटाई करने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। इस वीडियो के सामने आने के बाद पुलिस ने शनिवार को चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया और एक आरोपी को गिरफ्तार किया है।

शहर के गोरा बाजार पुलिस थाने के प्रभारी निरीक्षक सहदेव साहू ने बताया कि आरोपी दीपक पासी सहित चार लोगों के खिलाफ अपहरण और मारपीट का मामला दर्ज किया गया है। इनमें से पासी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

उन्होंने बताया कि यह विवाद दो हजार रुपये के लेनदेन को लेकर हुआ। पीड़ित लड़का जब बृहस्पतिवार रात को घर नहीं लौटा तो उसके माता-पिता ने उसकी गुमशुदगी की शिकायत दर्ज करवाई। इसके बाद लड़के की पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया।

साहू ने बताया कि पुलिस जांच में पता चला कि चारों आरोपी पीड़ित लड़के को नयागांव इलाके के एक मैदान में ले गए। वहां आरोपियों में से एक ने लड़के को कई थप्पड़ मारे, जबकि दूसरे ने उसे सिगरेट पिलाने की कोशिश की और उन सभी ने लड़के को जीभ से अपने जूते चाटकर साफ करने के लिए मजबूर किया। उन्होंने बताया कि पासी को दो दिन पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया था। जबकि शेष आरोपियों की तलाश की जा रही है।

भोपाल और इंदौर में नाइट कर्फ्यू लगेगा या नहीं? जानें CM शिवराज सिंह चौहान ने क्या कहा….

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि पिछले हफ्ते के बाद कोरोना संक्रमण के यूके स्ट्रेन का कोई नया मामला सामने नहीं आया है. देश भर के दस्तकारों, शिल्पकारों के दुर्लभ स्वदेशी हस्तनिर्मित उत्पादों के 27 वें “हुनर हाट” का उद्घाटन शनिवार को भोपाल के लाल परेड ग्राउंड में मुख्यमंत्री ने केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी की उपस्थिति में किया.

कार्यक्रम से इतर मुख्यमंत्री ने पत्रकारों से कहा, ‘ब्रिटेन में मिले कोविड-19 के नये स्वरूप वाले संक्रमण का कोई नया मामला प्रदेश में सामने नहीं आया है.’ उन्होंने कहा, ‘हम कोरोना महामारी की स्थिति पर, विशेषकर प्रदेश के दो बड़े शहरों भोपाल और इंदौर पर कड़ी निगरानी रख रहे हैं. हम सोमवार को स्थिति की समीक्षा कर आगे की कार्रवाई के बारे में निर्णय करेंगे.’ चौहान ने बताया कि प्रदेश की राजधानी भोपाल एवं इंदौर में रात को कर्फ्यू लगाने के संबंध में निर्णय सोमवार को किया जायेगा

उन्होंने कहा कि बिना मास्क के घूमते पाये गये लोगों पर जुर्माना लगाया जायेगा. मुख्यमंत्री ने कहा, ‘सार्वजनिक हॉल के मालिक और प्रबंधकों को बैठक क्षमता के आधे का उपयोग करने का निर्देश दिया गया है. 400 की बैठक क्षमता वाले हॉल को अब 200 की कटौती करना होगी.’ बता दें कि शुक्रवार को मध्य प्रदेश में कोविड-19 के कुल 603 नये मामले सामने आये.

नगरीय निकाय चुनावों की आरक्षण प्रक्रिया पर हाईकोर्ट का स्टे

ग्वालियर। मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय की ग्वालियर खंडपीठ ने नगरीय निकाय चुनाव (महापौर एवं नगर पालिका अध्यक्ष) चुनाव के लिये हुये आरक्षण के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई करने के बाद न्यायमूर्ति श्री शील नागू एवं न्यायमूर्ति आनंद पाठक ने आरक्षण प्रक्रिया पर रोक लगा दी है।
मध्यप्रदेश में होने वाले नगरीय निकाय, नगर पालिका एवं नगर पंचायतों मैं अध्यक्ष एवं मेयर चुनाव मैं आरक्षण प्रक्रिया रोटेशन के नियमानुसार ना होने के कारण अधिवक्ता मानवर्धन सिंह तोमर ने अपील दायर की थी, जिसमें माननीय उच्च न्यायालय ने मध्य प्रदेश शासन के दिनांक 10 दिसंबर २०२० के मध्यप्रदेश में होने वाले नगरीय एवं पंचायत चुनाव के अध्यक्ष ,मेयर के आरक्षण प्रक्रिया पर स्टे दे दिया है। इस मामले में हुई सुनवाई के बाद माननीय उच्च न्यायालय हाई कोर्ट खंड पीठ ग्वालियर ने अपील कर्ता की दायर याचिका पर यह आदेश जारी किया। याचिका कर्ता की ओर से एडवोकेट अभिषेक सिंह भदोरिया ने पक्ष रखा जबकि शासन की ओर से अतिरिक्त महाधिवक्ता अंकुर मोदी द्वारा पक्ष रखा गया था। एडवोकेट अभिषेक सिंह भदौरिया के अनुसार उक्त आदेश के तहत अब चुनाव प्रक्रिया मध्यप्रदेश में रोक दी गई है।

Raviwar Ke Upay: रविवार को करें ये सरल उपाय, मुसीबतें होंगी दूर, मां लक्ष्मी कर देंगी मालामाल 

Raviwar Ke Upay: 

आज साल 2021 के मार्च महीने का दूसरा रविवार है।  हिंदू सनातन धर्म में रविवार (Raviwar) का दिन सूर्य देव

(Surya Dev) 

को समर्पित है। जिस व्यक्ति सूर्य

(Sun)

मजबूत होता है उसे जीवन में किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं होती है और उसे धन, नाम और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। लेकिन सूर्य के कमजोर होने से व्यक्ति को जीवनभर मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

अगर आपका भी काम बनते-बनते बिगड़ जाता है तो परेशान होने की कोई बात नहीं है। धर्मशास्त्रों के जानकारों के मुताबिक ऐसा सूर्य  के कमजोर होने से होता है। ऐसे में आपको अपने सूर्य को मजबूत करने की जरूरत है। ऐसी मान्यता है कि जो व्यक्ति प्रतिदिन सुबह सूर्य देव को अर्घ्य (Arghya) देता है, उसे कभी किसी चीज की कमी नहीं रहती। 

अगर आपके लिए हर रोज ऐसा करना संभव न हो तो रविवार (Sunday) की सुबह ये काम जरूर करें। क्योंकि रविवार

(Sunday)

को सूर्य देव  का दिन माना जाता है। तांबे लोटे में चावल, लाल रंग के फूल और लाल मिर्च के कुछ दाने डालकर सूर्य देव  को अर्घ्य दें।

सूर्य देव को जल अर्पित करते समय इस मंत्र का जाप करें (

Surya Dev

 Mantra)

ॐ सूर्याय नम:

ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय नमः

ऊँ घृणि: सूर्यादित्योम

ऊँ घृणि: सूर्य आदित्य श्री

ऊँ ह्रां ह्रीं ह्रौं स: सूर्याय: नम:

रविवार

को जरूर करें ये काम 

(

Raviwar Ke Upay

)

– सामर्थ्य के मुताबिक तांबे के बर्तन, लाल कपड़े, गेंहू, गुड़ और लाल चंदन का दान करें।

– सूर्य देव को कभी भी बिना स्नान के जल अर्पित न करें।

– सूर्य देव को जल अर्पित करने के लिए जल में रोली या लाल चंदन और लाल पुष्प डाल सकते हैं।

– सूर्य देव को अर्घ्य देते समय स्टील, चांदी, शीशे और प्लास्टिक बर्तनों का प्रयोग न करें।

अगर घर में लगा रहे है केले का पेड़ तो इससे पहले जान लें ये जरुरी बातें, वरना रात में आते है..?

केले के पेड़ को घर में लगाने का बड़ा ही महत्त्व होता है. ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक केले के पेड़ में देवगुरु बृहस्पति और भगवान विष्णु का निवास माना गया है. इसके साथ यह भी कहा गया है कि यदि घर में केले का पेड़ गलत जगह पर लगाया जाए या उसकी समय-समय पर देखभाल ने की जाए तो आपको इसका नुकसान अपने जीवन में देखना पड़ा सकता है.

अगर आपके घर में भी है केले का पेड़ या आप उसे लगाने चाहते है तो एक बार इन 8 नियमों को एक बार अवश्य पड़ लें. वरना बात में कहियेगा नहीं की किसी ने बताया नहीं.

याद रखे केले का पेड़ अत्यंत पवित्र माना जाता है, इसलिए इसे ईशान कोण में ही हमेशा लगाया जाना चाहिए. केले के पेड़ को उत्तर या पूर्व दिशा में भी लगाया जा सकता है.आपको बता दें कि केले के पेड़ को हमेशा घर के पिछले हिस्से में ही लगाए. इसके साथ ही केले के पेड़ के पास तुलसी का पौधा लगाना भी बेहद अनिवार्य माना गया है.

इसके साथ ही केले के पेड़ के आसपास हमेशा ही अच्छी साफ-सफाई रखनी चाहिए. आप रोजाना इसमें जरूरत के अनुसार नियमित पानी डालते रहें. इसके साथ ही ध्यान रखे कि प्रत्येक गुरुवार को केले के पेड़ की पूजा करें और उसे हल्दी भी चढ़ाएं. इसके साथ ही रात में उसे घी का दीपक भी लगाए. केले के पेड़ के तने में लाल या पीला धागा हमेशा ही बांध कर रखे.

याद रखे कि केले के पेड़ को आग्नेय कोण, दक्षिण और पश्चिम दिशा में भूलकर भी नहीं लगाना चाहिए. इसके अलावा केले के पेड़ को घर के मुख्य द्वार के सामने कभी भी ना लगाएं. केले के पास में कभी भी कोई सा कांटेदार पौधा न हो, चाहे वह गुलाब का पौधा क्यों न हो. बता दें कि केले के पेड़ के आसपास गंदगी ना रखें.

केले के पेड़ का जो पत्ता खराब हो रहा हो, या सूखने लगे उसे तुरंत हटा दें. केले के पेड़ में हमेशा साफ-स्वच्छ जल ही अर्पित करे. इन सबके साथ सबसे ज्यादा ध्यान देने वाली बात केले के पेड़ की जड़ में कोई भी निर्माल्य यानी पूजा में इस्तेमाल किए हुए फूल-पत्ते, सामग्री कभी नहीं डालें.

केले के पेड़ का लाभ
ज्योतिष के मुताबिक केले का पौधा घर में लगाने से बृहस्पति ग्रह का शुभ फल मिलने लगता है. केले के पौधे से घर में संतान हमेशा सुखी और संकटों से दूर रहती हैं. समृद्धि के लिए भी केले के पेड़ की पूजा अच्छी मानी जाती है. केले के पौधे के होने से वैवाहिक जीवन की कठिनाइयां दूर होती है. इसके घर में होने से कन्याओं का विवाह जल्दी होता है. इस पौधे को शिक्षा और ज्ञान प्राप्ति स्त्रोत माना गया है. इसमें से लगातार शांतिमय और सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है.

आज से आरंभ हुआ खरमास, विवाह-मुंडन और गृह प्रवेश जैसे कार्य नहीं किए जाते

पंचांग के अनुसार आज यानी 14 मार्च से फाल्गुन मास का शुक्ल पक्ष आरंभ हो गया है। इस दिन प्रतिपदा तिथि रहेगी। इसी दिन से खरमास भी आरंभ हो रहे हैं। खरमास में मांगलिक कार्य नहीं किए जाते हैं। विवाह, मुंडन, गृह प्रवेश और कोई नया कार्य इस दौरान नहीं किया जाता है। पौराणिक मान्यता के अनुसार खरमास को शुभ नहीं माना गया है।

खरमास क्या होता है?
सूर्य जब बृहस्पति की राशि धनु राशि या मीन राशि मे आते हैं तो खरमास आरंभ होते हैं। खरमास में विवाह, मुंडन, गृह प्रवेश और यज्ञोपवित जैसे मांगलिक कार्य को नहीं किया जाता है। खरमास में पूजा पाठ आदि का विशेष महत्व बताया गया है।

खरमास का अर्थ
खरमास को दुष्टमास भी कहते हैं। ऐसा माना जाता है कि खरमास में सूर्य की गति धीमी हो जाती है। खरमास का समापन 14 अप्रैल 2021 को होगा।
खरमास में इन बातों का ध्यान रखें
खरमास में भगवान विष्णु की पूजा का विशेष महत्व बताया गया है। खरमास में भगवान का स्मरण करना चाहिए और जीवन में अध्यात्म के महत्व को जानना चाहिए। खरमास में दान का भी विशेष महत्व माना गया है। खरमास में इष्ट देवता की पूजा करने से भी शुभ फल प्राप्त होते हैं, जिन लोगों के जीवन में सूर्य से संबंधित परेशानी बनी हुई है, वे खरमास में सूर्य देव की उपासना करें। इससे सूर्य संबंधी दोष दूर होता है।
खरमास में जीवनशैली
खरमास में जीवनशैली को बेहतर बनाने की दिशा में प्रयास करना चाहिए। इस दौरान संतुलित आहार लेना चाहिए. खरमास में बुरी आदतों से दूर रहना चाहिए। सकारात्मक विचारों को अपनाना चाहिए। भगवान का ध्यान लगाना चाहिए।