केरल चुनाव से पहले पीसी चाको ने छोड़ी कांग्रेस, कहा- कहा- ‘बिना कप्तान का जहाज’ जैसी है पार्टी

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीसी चाको ने पार्टी से नाता तोड़ लिया है। उन्होंने अपना इस्तीफा पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेज दिया है। केरल में 6 अप्रैल को होने जा रहे विधानसभा चुनाव से पहले चाको का इस्तीफा कांग्रेस पार्टी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। वह पिछले साल से ही पार्टी से असंतुष्ट चल रहे थे। पीसी चाको पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में गिने जाते हैं और पूर्व मंत्री भी रह चुके हैं। चाको राहुल गांधी को अध्यक्ष की कुर्सी पर देखना चाहते थे और कई बार उन्होंने खुलकर कहा कि राहुल गांधी की ओर से जिम्मेदारी नहीं संभाले जाने की वजह से पार्टी को नुकसान हो रहा है।

पूर्व पार्टी महासचिव पीसी चाको ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा, ”एक ईमानदार कांग्रेस कार्यकर्ता के लिए सरवाइव करना बहुत मुश्किल हो गया है। मेरिट कोई चिंता की बात नहीं है।” उन्होंने कहा कि कांग्रेस बिना पतवार की नाव है और एक साल से अधिक समय तक पार्टी अध्यक्ष नहीं मिल पाया।

उन्होंने कहा, ‘मैं पिछले कई दिनों से इस फैसले पर विचार-विमर्श कर रहा था। मैं केरल से आता हूं जहां कांग्रेस पार्टी नाम की चीज नहीं है। वहां दो पार्टियां हैं- कांग्रेस (I) और कांग्रेस (A)। दो पार्टियो की कॉर्डिनेशन कमिटी केपीसीसी के रूप में काम कर रही है।’

चाको ने केरल में कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं रमेश छेन्नीथाला और ओमान चंडी पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि दोनों ही नेता हमेशा सीटें और संगठन के बाद आपस में बांट लेते हैं। उन्होंने कहा कि केरल में केवल उन नेताओं का भविष्य है जो इनमें से किसी ग्रुप का हिस्सा हैं, अन्य को हमेशा दरकिनार कर दिया जाता है।

उन्होंने कहा, ”केरल में एक अहम चुनाव है। लोग चाहते हैं कि कांग्रेस पार्टी वापस आए, लेकिन यहां पार्टी के बड़े नेताओं में खेमेबाजी है। मैं हाई कमांड से कहता आ रहा हूं कि इस पर रोक लगनी चाहिए, लेकिन आलाकमान भी इन समूहों के दिए प्रस्तावों से सहमत है।

यूपी के सीएम योगी आदित्य नाथ ने दतिया में किए मां पीताम्बरा दर्शन

दतिया । उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने आज सुबह यहां मां पीताम्बरा के दर्शन कर पूजा-अर्चना की। इसके साथ ही उन्होंने यहां मंदिर परिसर में स्थापित वनखण्डेश्वर महादेव की भी पूजा की। वनखण्डेश्वर महादेव के बारे में मान्यता है कि यह महाभारत कालीन है। बुंदेलखंड के अपने दो-दिवसीय दौरे के दौरान मंगलवार को उन्होंने जालौन, ललितपुर और झांसी में विभिन्न परियोजनाओं को लोकार्पित किया था। झांसी में रात्रि विश्राम के बाद वो सुबह दतिया आए और यहां से झांसी जाने के बाद महोबा के लिए रवाना होंगे। महोबा से वह बांदा और चित्रकूट भी जाएंगे और चित्रकूट से आज शाम लखनऊ के लिए रवाना हो जाएंगे/

कृषि कानूनों पर CM योगी ने विपक्ष पर साधा निशाना; बोले- विदेशी जूठन पर पलने वालों के पेट में हो रहा दर्द

झांसी में योगी ने 1,664 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस मौके पर उन्होंने कृषि कानूनों को लेकर विपक्ष को आड़े हाथों लिया। कहा कि जिन्हें खेती किसानी की ABCD नहीं आती है। वे किसानों के हित में बनाए गए कानून पर टिप्पणी कर रहे हैं। जिन्हें अन्नदाताओं के चेहरे पर खुशहाली अच्छी नहीं लगती वे किसानों को गुमराह कर रहे हैं। जब वैश्विक मंच पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यों को सराहना मिल रही है तो भारत में रहने वाले कुछ विदेशी जूठन पर पलने वाले लोगों के पेट में दर्द हो रहा है। उसी पेट दर्द का उपचार करने की आवश्यकता है।

दिल्ली और लखनऊ की राह आसान होगी
मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि आज झांसी मंडल की 1100 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का लोकार्पण और 564 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का शिलान्यास आज किया गया है। कहा कि बुंदेलखंड के युवाओं को रोजगार मिल सके, हर खेत को पानी मिल सके और हर घर में नल की योजना आ सके, इस परिकल्पना को साकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया है। कोई सोचता था बुंदेलखंड के बारे में कि यहां एक्सप्रेसवे बनेगा। इससे लोगों के लिए दिल्ली और लखनऊ की राह आसान होगी। औद्योगिक विकास होगा तो युवाओं को रोजगार मिलेगा।

मुरैना में शार्ट एनकाउंटर, एक बदमाश को लगी गोली

मुरैना। मुरैना में मंगलवार की दोपहर एसपी बंगले के पास एटीएम बैंक की कैश वैन को लूटने का प्रयास करने वाले बदमाशों को आज सुबह अम्बाह के बारह क्षेत्र में पुलिस ने घेर लिया। यहां पुलिस और बदमाशों के बीच गोलियां चलीं, उसमें मुख्य बदमाश रामप्रीत सिंह गुर्जर निवासी भिंड के पांव में गोली लगी, जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। रामप्रीत गुर्जर अंतरराज्यीय लुटेरों की लिस्ट में है और करीब 12 साल पहले भी मुरैना में एक व्यापारी को गोली मारकर लूट की घटना को अंजाम दे चुका है। घायल लुटेरा जिला अस्पताल लाया गया है, जहां अस्पताल को पुलिस छावनी बना दिया गया है और बदमाश का इलाज चल रहा है।

शराबी पति की हैवानित, पत्नी ने फोन से बात की तो काट दिया उसका एक हाथ और एक पैर

भोपाल )। निशातपुरा थाना इलाके में मंगलवार रात एक व्यक्ति ने हैवानियत की हदें पार करते हुए फरसे से अपनी पत्नी का बायां हाथ और बायां पैर काट दिया। घटना की वजह आरोपित पति द्वारा पत्नी के चरित्र पर संदेह करना बताई गई है। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है। घायल पत्‍नी को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसका इलाज चल रहा है।

निशातपुरा थाना पुलिस के मुताबिक कपिला नगर निवासी प्रीतम सिंह सिसोदिया निजी काम करता है। उसकी पत्नी संगीता (28) इंदौर में किसी कंपनी में काम करती है। दोनों का एक बच्चा भी है। महिला छुट्टी के दिन अपने घर भोपाल आ जाती थी। महिला घर आने के बाद फोन पर बात करती थी। इस बात को लेकर पति उसके चरित्र पर संदेह करने लगा था। मंगलवार रात करीब 11:30 बजे प्रीतम सिंह नशे की हालत में घर पहुंचा। पति-पत्नी के बीच विवाद होने पर प्रीतम सिंह ने घर में रखे फरसे से पत्नी पर हमला कर दिया। उसने फरसे से प्रहार करते हुए बाएं हाथ की हथेली और बाएं पैर का पंजा काटकर अलग कर दिया।

पत्‍नी की चीख सुनकर जब पड़ोसी वहां पहुंचे तो वह फरसा लहराते हुए लोगों को आतंकित करने लगा। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची तो प्रीतम ने गर्दन काटने की धमकी देना शुरू कर दिया। सिपाही राहुल सिकरवार और शैलेंद्र ने उसे बातों में उलझाते हुए फरसा छीन लिया। इसके बाद उसे हिरासत में ले लिया। पुलिस के कटे हुए अंग पॉलिथिन में रखकर महिला के साथ अस्पताल पहुंचा दिए, जहां डॉक्‍टरों ने उसका ऑपरेशन शुरू कर दिया है। मासूम बच्चे को उसके ताऊ को सौंप दिया गया है। घटना के बाद से इलाके में सनसनी है। पुलिस ने आरोपित का घर सील कर दिया है। घटना की सूचना महिला के मायके वालों को दे दी गई है।

खून से पत्र लिखकर व्यापम फर्जीवाड़े की जांच की मांग, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर के बंगले के बाहर किया प्रदर्शन

  

ग्वालियर। व्यापम द्वारा आयोजित कराई गई कृषि विस्तार अधिकारी परीक्षा में गड़बड़ी का विरोध कर रहे कृषि महाविद्यालय के छात्रों ने इस कथित फर्जीवाड़े के विरोध में केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के बंगले के बाहर प्रदर्शन किया और अपने खून से पत्र लिखकर न्याय की गुहार लगाई है। आपको बता दें कि ग्वालियर में कृषि महाविद्यालय रेसकोर्स रोड़ पर बना है और यहंी पास में केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर का सरकारी बंगला बना हुआ है। कृषि महाविद्यालय के छात्र पीईबी और सीएम शिवराज सिंह चैहान के खिलाफ नारेबाजी करते हुए केन्द्रीय मंत्री के बंगले के बाहर पहंुचे और व्यापम में सहायक कृषि विकास अधिकारी और ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी के पद के लिए आयोजित परीक्षा में फर्जीवाड़े का आरोप लगाकर परीक्षा की न्यायिक जंाच की मंाग की।
ग्वालियर के कृषि महाविद्यालय के पीजी छात्रों ने पिछले दिनों वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी और सहायक ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी पद के लिए हुई लिखित परीक्षा में पेपर कुछ लोगों को लीक करने का सनसनीखेज आरोप लगाते हुए केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर के बंगले पर धरना प्रदर्शन किया। इस दौरान छात्रों ने अपने खून से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और सीजेआई एस ए बोबडे को पत्र लिखा है। उन्होंने कहा है कि मध्यप्रदेश में हुए व्यापम घोटाले टू के बारे में या तो जल्द और विश्वसनीय जांच कराई जाए अथवा छात्रों को इच्छा मृत्यु की अनुमति दी जाए। केंद्रीय कृषि मंत्री तोमर के रेसकोर्स स्थित बंगले पर यह छात्र दोपहर 12:30 बजे पहुंचे थे। वहां उन्होंने धरना प्रदर्शन किया और प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और व्यापमं के अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी की। छात्रों का कहना है कि ग्वालियर भिंड मुरैना के कई छात्र जो पूर्व में फिसड्डी रहे हैं वह इन परीक्षाओं में टॉपर कैसे आ गए याने बड़े स्तर पर घोटाला हुआ है। छात्रों का कहना है कि वह 18 दिन से लगातार अपना आंदोलन जारी रखे हुए हैं लेकिन उनकी सुनने वाला ना तो कोई जनप्रतिनिधि है और ना ही कोई अफसर। इससे पहले कृषि महाविद्यालय के छात्र अर्धनग्न होकर प्रदर्शन कर चुके हैं वह कॉलेज के गेट पर कई दिनों तक धरने पर भी बैठे रहे। अब उन्होंने अपने खून से राष्ट्रपति और मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिखा है और कहा है कि उन्हें न्याय दो अथवा इच्छा की अनुमति दो ।

महिला को घर में ही बंधक बनाकर सामूहिक दुष्कर्म,तलाशते हुए पहुंची मां तो मुक्त कराया

सहेली के घर मदद मांगने पहुंची एक महिला को घर में ही बंधक बनाकर दो युवकों ने सामूहिक दुष्कर्म कर दिया है। इतना ही नहीं महिला को कमरे में बाहर से कुंडी लगाकर बंधक बनाकर रखा। जब महिला की मां उसे तलाशते हुए पहुंची तो उसे मुक्त कराया। घटना 25 फरवरी दोपहर 3 बजे पारस विहार कॉलोनी की है। दुष्कर्म करने वालों ने जान से मारने की धमकी भी दी थी। इससे महिला घबरा गई थी। दो दिन पहले वह मां के साथ झांसी रोड थाना पहुंची और शिकायत की। सोमवार रात को पुलिस ने दो आरोपियों पर दुष्कर्म व एक महिला पर मदद करने की FIR दर्ज कर ली है।

झांसी रोड थाना क्षेत्र के पारस विहार काली माता मंदिर के पास निवासी 30 वर्षीय महिला की शादी 10 साल पहले हुई थी। शादी के बाद सास से नहीं पटने पर महिला अपने मायके में आकर रहने लगी थी। महिला के घर से कुछ ही दूरी पर उसकी सहेली मोना कुशवाह रहती है। 25 फरवरी दोपहर 3 बजे महिला अपनी सहेली मोना के घर पर कुछ रुपए उधार मांगने गई थी। वहां मोना के घर पर उसका रिश्तेदार श्याम कुशवाह व एक अन्य युवक बैठे हुए थे। महिला को देखकर श्याम ने उसकी मदद करने को कहा और उसे पकड़ लिया। जब उसने शोर मचाने का प्रयास किया तो मुंह दबा लिया। इसी बीच मोना उठकर बाहर चली गई और बाहर से दरवाजा बंद कर लिया। इसके बाद श्याम के साथ मौजूद युवक ने उसके साथ गलत दुष्कर्म किया। जब उसने विरोध करने का प्रयास किया तो आरोपियों ने उसका गला घोंटने की धमकी दी। वारदात के बाद आरोपी मुंह खोलने पर उसे जान से मारने की धमकी देकर भाग गए। वारदात की शिकार महिला को कुछ देर बाद वहां पहुंची उसकी मां ने मुक्त कराया। इसके बाद वह काफी डरे सहमे थे। मामले की शिकायत दो दिन पहले झांसी रोड थाना में की है। जिस पर पुलिस ने सोमवार रात को दुष्कर्म का मामला दर्ज किया है।

मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह की भी ‘पावरी’, मंचे से बोले- ये मैं हूं, ये मेरी सरकार है और…

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़े ही अनोखे अंदाज में पाकिस्तान की ‘पावरी गर्ल’ के तर्ज पर भमिमाफियाों पर हमला किया है।  जिसे लोग खूब पसंद कर रहे हैं। मंगलवार को शिवराज शिंह .चौहान ने भरे मंच पर अनोख अंदार में कहा, ये मैं हूं, मेरी सरकार है, ये मेरी प्रशासनिक टीम है और आप देखो मध्य प्रदेश में भूमि माफिया भाग रहे हैं। 

मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान मंगलावर को एक कार्यक्रम में शामिल हेने के लिए गए थे जहां उन्होंने पाकिस्तान की ‘पावरी गर्ल’ के अंदाज में अपना संदेश दिया कि प्रदेश में माफिया राज की अब खैर नहीं और सरकार उनके खिलाफ सख्ती दिखाएगी।  साथ उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश में प्यार चलेगा लेकिन लव जिहाद नहीं चलेगा। 

ब्रिटेन की संसद में पीएम मोदी पर हमला, पर भारत के समर्थन में अकेली डटी रहीं थेरेसा विलियर्स

‌लंदन
पिछले करीब 100 दिनों से भारत में कृषि कानूनों को लेकर प्रदर्शन का दौर जारी है और इसको लेकर सोमवार शाम को ब्रिटेन की संसद में चर्चा हुई। इस चर्चा के दौरान कई सांसदों ने जहां मोदी सरकार पर हमला बोला, वहीं सत्‍तारूढ़ कंजरवेटिव पार्टी की सांसद थेरेसा विलियर्स चट्टान की तरह से भारत के साथ खड़ी रहीं। थेरेसा ने कहा कि यह भारत का आंतरिक मामला है और इस पर विदेशी संसद में चर्चा नहीं की जा सकती है।

थेरेसा ने यह भी कहा कि कृषि सुधारों को लेकर पूरी दुनिया में दिक्‍कतें आई हैं। नए कृषि कानूनों को अभी स्‍थगित कर दिया गया है ताकि व्‍यापक चर्चा और सलाह की जा सके। उन्‍होंने कहा, ‘मैं समझती हूं कि प्रदर्शन कर रहे किसान अपने भविष्‍य को लेकर असुरक्षित महसूस कर रहे हैं लेकिन प्रधानमंत्री मोदी की सरकार ने बार-बार यह कहा है कि इन सुधारों का मुख्‍य उद्देश्‍य ऐसे लोगों की आय बढ़ाना है जो किसानी करते हैं। साथ खेती में निवेश को बढ़ावा देना है।’

ब्रिटिश सांसद ने कहा कि मैंने प्रदर्शनकारियों के प्रति प्रतिक्रिया को लेकर जताई गई चिंता के बारे में सुना है लेकिन जब लाखों लोग प्रदर्शन में शामिल होते हैं और कई महीने तक डेरा डाले रहते हैं तो कोई भी पुलिस कार्रवाई विवादित घटनाक्रम से बच नहीं सकती है। लंदन के पोर्टकुलिस हाउस में 90 मिनट तक चली चर्चा के दौरान कंजर्वेटिव पार्टी की थेरेसा विलियर्स ने साफ कहा कि कृषि भारत का आंतरिक मामला है और उसे लेकर किसी विदेशी संसद में चर्चा नहीं की जा सकती।

भारत ने ब्रिटेन के सांसदों की चर्चा की निंदा की
इस बीच लंदन में भारतीय उच्चायोग ने भारत में तीन कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के आंदोलन के बीच शांतिपूर्ण तरीके से विरोध प्रदर्शन करने के अधिकार और प्रेस की स्वतंत्रता के मुद्दे को लेकर कुछ ब्रिटिश सांसदों के बीच हुई चर्चा की निंदा की है। उच्चायोग ने सोमवार शाम ब्रिटेन के संसद परिसर में हुई चर्चा की निंदा करते हुए कहा कि इस ‘एक तरफा चर्चा’ में झूठे दावे किए गए हैं।

भारतीय मिशन ने ब्रिटिश मीडिया सहित विदेशी मीडिया के भारत में चल रहे किसानों के प्रदर्शन का खुद साक्षी बन खबरें देने का जिक्र किया और कहा कि इसलिए ‘भारत में प्रेस की स्वतंत्रता में कमी पर कोई सवाल नहीं उठता।’ उच्चायोग ने एक बयान में कहा, ‘बेहद अफसोस है कि एक संतुलित बहस के बजाय बिना किसी ठोस आधार के झूठे दावे किए गए… इसने दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में से एक और उसके संस्थानों पर सवाल खड़े किए हैं।’ यह चर्चा एक लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर वाली ‘ई-याचिका’ पर की गई। भारतीय उच्चायोग ने इस चर्चा पर अपनी नाराजगी जाहिर की है।

सबसे खतरनाक मिसाइल के साथ राफेल जेट ने भरी पहली उड़ान, जानिए इसके बारे में सब-कुछ

राफेल फाइटर जेट को दुनिया का सबसे खतरनाक जेट माना जाता है. इस जेट ने हाल ही में एक ऐसा मुकाम हासिल किया है जो अपने आप में काफी खास है. जुलाई 2020 में इंडियन एयरफोर्स (आईएएफ) का हिस्‍सा बने राफेल जेट ने पहली बार खतरनाक मीटिऑर मिसाइल के साथ उड़ान भरी है.

फ्रेंच एयर और स्‍पेस आर्मी ने इस मिसाइल के साथ राफेल की पहली ऑपरेशनल सॉर्टी को सफलतापूर्वक अंजाम दिया है. यह सॉर्टी एयरक्राफ्ट के मौजूदा F3R एयरफ्रेम के अपग्रेडेशन का हिस्‍सा थी. मीटिऑर एक एडवांस्‍ड बियॉन्‍ड विजुअल रेंज एयर-टू-एयर मिसाइल है.

मिसाइल का क्रू हर तरह से रेडी

फ्रेंच एयरफोर्स की तरफ से एक ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी गई. इस ट्वीट में लिखा था, ‘राफेल F3-R की ताकत में और इजाफा हुआ है. एयर एंड स्‍पेस आर्मी ने पहली ऑपरेशनल सॉर्टी को मीटिऑर मिसाइल और राफेल मिसाइल टीम के साथ सफलतापूर्वक पूरा किया है.’

एक और ट्वीट में बताया गया था कि फ्लाइट यह देखने के लिए थी कि मिसाइल का पहला डेप्‍लॉयमेंट कैसा रहता है और साथ ही क्रू की ऑपरेशनल तैयारियों पर भी मोहर लगाने वाली थी.

मीटिऑर को फ्रांस की कंपनी एमबीडीए ने डेवलप किया है. यह मिसाइल एक एक्टिव रडार गाइडेड बीवीआर मिसाइल है जो हवा से हवा में दुश्‍मन पर हमला करने में सक्षम है.

इसकी वजह से मल्‍टी शॉट क्षमता में इजाफा होता है और यह जेट्स जैसे बड़े टारगेट्स से लेकर छोटे टारगेट्स जैसे यूएवी और क्रूज मिसाइल से भी हमला कर सकती है. इसकी रेंज 100 किलोमीटर तक है. मीटिऑर मिसाइल राफेल जेट को और ज्‍यादा खतरनाक बनाती है.

पूर्व IAF चीफ बोले-गेम चेंजर

पूर्व आईएएफ चीफ बीएस धनोआ ने राफेल को एक गेम चेंजर करार दिया था. उनका कहना था कि राफेल के पास टॉप लाइन के इलेक्‍ट्रॉनिक वॉरफेयर हैं. उनका कहना था कि ये मिसाइल मीटिऑर और स्‍कैल्‍प जैसी मिसाइलों से लैस है. इन हथियारों की वजह से ही राफेल एक खतरनाक जेट बन जाता है.

उनकी मानें तो राफेल के इन्‍हीं हथियारों की वजह से चीन की वायुसेना अब आईएएफ के आगे कहीं नहीं टिकती है. उन्‍होंने यह माना है कि चीनी जेट जे-20 पांचवीं पीढ़ी का फाइटर जेट है.

उनकी मानें तो राफेल और सुखोई की वजह से चीन और पाकिस्‍तान की तरफ से आने वाली किसी भी चुनौती का सामना आसानी से वायुसेना कर सकती है.

मिसाइलों की वजह से सबसे खतरनाक राफेल

राफेल जेट एक उड़ान में एक साथ चार मिशन को आसानी से पूरा कर सकता है. वहीं अगर चीनी जेट जे-20 की बात करें तो यह एक बार में सिर्फ एक ही मिशन पूरा कर सकता है. इस जेट को अफगानिस्‍तान, लीबिया और सीरिया जैसी मुश्किल जगहों में भी प्रयोग किया जा चुका है.

जिस मीटिऑर मिसाइल के साथ राफेल ने पहली उड़ान को सफलतापूर्वक पूरा किया है, उस मिसाइल की वजह से यह दुनिया का सबसे खतरनाक जेट बन जाता है.

मीटिऑर के अलावा राफेल हैमर मिसाइल से भी लैस है. हैमर एक रॉकेट एनेबल्ड हवा से जमीन पर मार करने वाली सटीक मिसाइल है. यह मिसाइल ऊंचाई वाले क्षेत्रों में 60 किमी की रेंज में भी कारगर है.

मीटिऑर के अलावा स्‍कैल्‍प क्रूज मिसाइल भी राफेल का बड़ा हथियार है. इस मिसाइल की रेंज 200 किलोमीटर है. इसे जमीन और पानी दोनों से ही लॉन्‍च किया जा सकता है.