पूर्व विधायक रणवीर जाटव पर धोकाधड़ी का आरोप, पीडित कारोबारी ने ली कोर्ट की शरण

ग्वालियर।
भिंड के गोहद विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक और भाजपा नेता रणवीर जाटव पर ग्वालियर के एक कारोबारी ने धोखाधड़ी पूर्वक उनकी संपत्ति हथियाने का सनसनीखेज आरोप लगाया है। कारोबारी का कहना है कि उन्होंने पिछले कुछ महीने से अपने साथ हो रही नाइंसाफी को लेकर मुख्यमंत्री से लेकर वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों से न्याय की गुहार लगाई ।लेकिन हर तरफ उनको निराशा ही हाथ लगी। लिहाजा अब उन्होंने कानून का दरवाजा खटखटाया है।
उन्हें उम्मीद है कि कोर्ट से उन्हें निश्चित तौर पर न्याय मिलेगा। दरअसल ग्वालियर में रहने वाले क्रेशर कारोबारी प्रतीक खंडेलवाल ने यह सनसनीखेज आरोप पूर्व विधायक एवं भाजपा नेता रणवीर जाटव पर लगाया है। उनका कहना है कि जाटव और उनके परिवार ने गोहद के पिपरसाना स्थित उनके क्रेशर प्लांट पर जबरन कब्जा कर लिया है। उन्होंने सत्तारूढ़ दल के नेता होने का लाभ उठाते हुए विरोध करने पर उनके परिवार पर झूठा हरिजन एक्ट का मामला दर्ज करवा दिया। क्रेशर कारोबारी प्रतीक खंडेलवाल ने अपने परिवार के साथ ग्वालियर में एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि श्रीजी इंफ्राटेक नामक फर्म को उन्होंने 2017 में बनाया था और इसी के नाम से अपने पार्टनर चेतन प्रकाश गुप्ता के साथ क्रेशर का काम शुरू किया था लेकिन लेकिन चेतन प्रकाश से उनकी अनबन हो गई जिसके बाद चेतन प्रकाश और पूर्व विधायक रणवीर जाटव ने फर्जी दस्तावेज तैयार करके उनका क्रेशर प्लांट अपनी साली मोनिका मौर्य के नाम कर लिया और जबरन प्लांट पर कब्जा कर लिया।
अब रणवीर जाटव उनके सहयोगी शैलेंद्र यादव द्वारा लगातार उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है। ग्वालियर के श्री राम कॉलोनी स्थित उनके पुश्तैनी मकान पर भी अफसरों की मिलीभगत से तोड़ने के आदेश जारी करवा दिए गए हैं ।जबकि उनका मकान श्री राम कॉलोनी में सबसे पुराना है और विधिवत अनुमति लेकर उसे बनाया गया है कारोबारी का कहना है कि क्रेशर प्लांट पर कब्जा करने के लिए विधायक पूर्व विधायक रणवीर जाटव उनके पूर्व पार्टनर चेतन प्रकाश गुप्ता ने फर्जी दस्तावेज तैयार कराए। फरवरी का कहना है कि उन्होंने भिंड प्रशासन ग्वालियर प्रशासन भोपाल में वरिष्ठ अधिकारियों तक अपनी आपबीती सुनाई लेकिन कोई भी उनकी सुनने वाला नहीं है। लिहाजा उनके पास परिवार सहित आत्महत्या करने के अलावा और कोई विकल्प नहीं बचा है।

—मैं नाम का फूफा नहीं पार्टी का सशक्त हस्ताक्षर हूँ – धैर्यवर्धन

——————————————-

प्रोटोकॉल उल्लंघन से नाराज धैर्यवर्धन ने रेल मंत्री सहित
अधिकारीयों को मेल भेजकर शिकायत की ।
कार्यक्रम मे भी नहीं पहुंचकर विरोध का सख्त संदेश देने मे नहीं चूके ।


जोनल समिति के सदस्य एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता धैर्यवर्धन ने ग्रह जिला शिवपुरी रेल स्टेशन के जन सुविधा लोकार्पण , राष्ट्रीय ध्वज स्थापना कार्यक्रम मे दिनांक 8 मार्च को सांयकाल होने जा रहे कार्यक्रम मे आमंत्रित न किया जाने पर गहरी आपत्ति दर्ज कराई है।जब कार्यक्रम को मध्य प्रदेश सरकार की मंत्री और स्थानीय सांसद के द्वारा गरिमामय उद्घाटन किया जा रहा हो ऐसे मे नियमानुसार मुझे भी आमंत्रित कर उस प्रसन्नता मे भागीदार किया जाना चाहिए था । धैर्यवर्धन् ने कहा कि वे इस सम्वन्ध मे कार्यक्रम के अतिथि द्वय श्रीमंत राजे और माननीय सांसद डॉ के पी यादव को भी वे इस धृष्टता से अवगत कराएँगे। उन्होंने भेजे शिकायती मेल मे कहा कि मुझे बहुत अफसोसजनक प्रतीत हो रहा है। मा. रेल मंत्री जी द्वारा मनोनयन से आपके पश्चिम मध्य रेल मे ZRUCC मेम्बर का कोई अधिकार / प्रोटोकॉल बनता है कि नहीँ ? पहली बार इस अन्चल के किसी व्यक्ति को जोन लेबल पर सदस्य बनाया है वे भारत सरकार और सत्ताधारी दल भाजपा के सशक्त प्रतिनिधि हैं यह अहसास कराकर ही रहूंगा । कल मीडिया को इस आशाजनक और घोर उपेक्षापूर्ण रवैया पर मैं क्या जबाव दूंगा।
धैर्यवर्धन द्वारा मेल पर भेजी शिकायत के पश्चात् जबलपुर, भोपाल तक हडकम्प मच गया तभी शिवपुरी स्टेशन मास्टर ने‌ अपने अधीनस्थ को घर भेजकर आमंत्रण की औपचारिकताएं पूरी की ।
आप मुख्य अतिथि किसी भी माननीय जन प्रतिनिधि को बनाए वे मेरे भी आदरणीय हैं परंतु बतौर विशिष्ट अतिथि तो रेल के जोनल सलाहाकार समिति के स्थानीय निवासी सदस्य को बुलाया ही जाना चाहिए था।
इसके पूर्व भी जब जी एम महोदय पिछ्ले सप्ताह शिवपुरी गुना के भ्रमण पर थे तब भी कोई सूचना नहीं थी अन्यथा एक सौजन्य मुलाकात मैं अवश्य करता ।
शिकायत भेजने के पश्चात् दोपहर डेढ़ बजे आनन फानन मे निमंत्रण कार्ड भेजा गया जिसे धैर्यवर्धन् ने अस्वीकार कर दिया ।
उन्होने रेल मंत्री , रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष , जी एम, डी आर एम को लिखा कि आज दिनांक तक शिवपुरी रेल स्टेशन के स्टेशन अफसर ने भी सौजन्य भेंट नहीं की है । हालांकि रेल अधिकारियो ने खेद प्रकट करते हुए बताया कि चुंकि अभी जोन लेबल पर एक भी बैठक नहीं हुई है अतः परिचय के अभाव मे भोपाल मंडल से यह चूक हुई है।
रैल्वे बोर्ड के अध्यक्ष को लिखी चिठ्ठी मे धैर्यवर्धन् ने पुछा कि क्या अधिकारियो की नज़र मे भारत सरकार के रेल मन्त्रालय ने हम लोगों को केवल कागजी खानापूर्ति के लिए ही बनाया है। उन्होंने लिखा कि माननीय मंत्री जी को भी इस बेरुखी के प्रकरण की जानकारी प्रत्यक्ष मिलकर दूंगा। जोन की पहली बैठक मे भी मैं यह विषय प्रमुखता से उठाकर स्पष्टीकरण माँगूँगा । किसी भी कीमत पर अधिकारियो की तानाशाही एवं बेरूखी को सहन नहीं किया जावेगा। मुझे प्रतिउत्तर स्वरूप इस जोनल सलाहकार समिति के बॉयलाज की प्रति भी अविलम्ब प्रेषित करने का कष्ट करें।
उपरोक्त विषय मे सक्षम अधिकारी द्वारा जान्च एवं समुचित कार्यवाही की अपेक्षा के साथ यह नम्र निवेदन प्रस्तुत है।

भोपाल की आरक्षक मीनाक्षी वर्मा बनीं एक दिन होम मिनिस्टर , मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने अपनी कुर्सी पर बैठाया

मध्यप्रदेश में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर आरक्षक मीनाक्षी वर्मा को एक दिन का गृहमंत्री बनाया गया है। खुद गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने अपनी कुर्सी पर मीनाक्षी को बैठाया और खुद बगल की आम जन की कुर्सी पर बैठे। आज दिन भर मीनाक्षी गृहमंत्री बनाकर लोगों की शिकायतें सुनेंगी। इस अवसर पर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मीनाक्षी वर्मा आज मध्यप्रदेश की गृह मंत्री हैं। आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को सशक्त बनाने की पहल की जा रही है।

भोपाल में महिला आरक्षक मीनाक्षी वर्मा, महिला मार्शल में तैनात हैं। वे मेरे निवास कार्यालय पर सुरक्षा में तैनात रहती हैं। भारत ही एक देश है, जो महिलाओं को मां की तरह सम्मान देता है। भारत ही एक मात्र देश है, जो देश को मां का दर्जा देता है। यह उसके लिए सबसे ऊपर है। किसी और देश को देख लो क्या वे अपने देश को इस तरह के किसी सम्मान या दर्जे से पहचाने जाते हैं। चाहे पाकिस्तान हो या दूसरा कोई देश। भारत में महिलाओं को सम्मान हमारी संस्कृति है और हम इसी से जाने जाते हैं।

गोडसे यात्रा पर तनातनी जांरी,हिमस बोली- हर हाल में निकालेंगे और कलेक्टर बोले – किसी भी कीमत पर नहीं निकलने देंगे

ग्वालियर में गोडसे का जिन्न शांत होने का नाम नही ले रहा है । पहले गोडसे की ज्ञान शाला खोलने पर विवाद हुआ । फिर हिन्दू महासभा के इकलौते पार्षद बाबूलाल चौरसिया कांग्रेस में शामिल हुए तो कांग्रेस निशाने पर आ गई। उसकी खुद की पार्टी में ही विरोध के स्वर उठने लगे। इसके बाद हिन्दू महासभा ने गोडसे यात्रा निकालने का ऐलान कर दिया । हालांकि प्रशासन इसे अनुमति देने के मूड में नही है।

हिंदू महासभा ने 14 मार्च को ग्वालियर से दिल्ली तक गोडसे यात्रा निकालने के लिए प्रशासन से अनुमति मांगी है. इस यात्रा की अनुमति के लिए प्रशासन का जवाब दो दिन में आएगा. हिंदू महासभा का कहना कि हम हर हाल में गोडसे यात्रा निकालेंगे और यह यात्रा ग्वालियर से दिल्ली जाएगी. यात्रा के दौरान देश के हर युवा को गोडसे की जीवन यात्रा के बारे में बताया जाएगा. बता दें हिंदू महासभा ने ऐलान किया है कि वह 14 मार्च को ग्वालियर से दिल्ली तक गोडसे यात्रा निकालेगी. दिल्ली पहुंचने के बाद हिंदू महासभा के नेता कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी से मुलाकात करेंगे और कांग्रेस पार्टी का नाम बदलकर गोडसेवादी कांग्रेस पार्टी नाम रखने की अपील करेंगे.

हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयवीर भारद्वाज का कहना है कि 14 मार्च को हिंदू महासभा ग्वालियर से दिल्ली तक यात्रा करेगी और यात्रा के दौरान गोडसे के ज्ञान को बांटा जाएगा. उनका कहना है कि अभी देश के लोग और युवा गॉडसे की सच्चाई से रूबरू नहीं हैं. यात्रा के जरिए इस सच्चाई को लोगों के सामने लाया जाएगा.

हिंदू महासभा की हर गतिविधि पर प्रशासन की नजर

हिंदू महासभा लगातार गोडसे को लेकर कुछ न कुछ नीतियां और गतिविधियां कर रही है. यही वजह है कि प्रशासन इनकी गतिविधियों पर नजर बनाए हुए है, क्योंकि हिंदू महासभा नाथूराम गोडसे को लेकर कुछ भी कर सकती है. कभी वह गोडसे की मूर्ति लगाने की बात करती है, तो कभी आंदोलन करने की बात कहती है. इसी के चलते जिला प्रशासन हिंदू महासभा की हर गतिविधियों पर नजर बनाए हुए है.

जिसके नाम से कांपता था यूपी, आज वो खुद यूपी आने से ‘कांप’ रहा ! | मुख्तार अंसार

पूर्वांचल का बाहुबली मुख्तार अंसारी इन दिनों पंजाब की रोपण जेल में बंद है और उसे यूपी लाने की कवायद की जा रही है लेकिन मुख्तार घबराया हुआ है. उसे डर लग रहा है. डर है कि कहीं उसका एनकाउंटर कर दिया जाए या फिर उसने यूपी में अपने दहशत के दम पर जो अपराध का साम्राज्य बनाया है. उससे कानून का फंदा उसके गले में पड़ सकता है. मुख्तार बेशक पैंतरे खेल रहा है और सियासत का भी सहारा ले रहा है लेकिन वो बच नहीं पाएगा. उस पर कानून की तलवार भी लटक रही है.

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस:CM की सुरक्षा से लेकर ड्राइवर तक का जिम्मा महिलाओं के पास

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर CM शिवराज सिंह चौहान सोमवार 8 मार्च को सुबह 7 बजे नेहरू नगर चौराहे पर महिला सफाईकर्मियों के पास पहुंच गए। उनकी ड्यूटी में तैनात ड्राइवर, PSO महिलाएं थीं। नेहरू नगर चौराहे पर मुख्यमंत्री ने महिलाओं के साथ झाड़ू लगाई और उनसे चाय पर चर्चा की। महिलाओं ने भी अपनी बातें उनके सामने रखीं।

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर CM ने सुरक्षा और गाड़ी चलाने में महिला की ड्यूटी लगाने पर कहा कि गाड़ी चलाने से लेकर OSD का काम करने तक, सुरक्षा से लेकर सभी चीजें बहनें करेंगी। यह इस बात का प्रतीक है कि सारी चीजें बहनें करती हैं और कर सकती हैं। कई बार जो पुरुष की अकड़ रहती है कि मैं श्रेष्ठ हूं। यह अकड़ बहनों को पीछे रखती हैं। उस अकड़ को निकालना है। बहनें सब कर सकती हैं। मुख्यमंत्री ने कहा आज महिलाएं अंतरिक्ष तक जा रही हैं। आज का दिन महिलाओं के लिए विशेष हैं।

महिला सफाई कर्मियों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने उनका उत्साहवर्धन किया। महिला सशक्तीकरण के पहलुओं पर बातचीत की और उनकी कठिनाइयों की जानकारी भी प्राप्त की। महिलाओं ने भी अपनी बातें और पीड़ा उनके सामने रखीं। मुख्यमंत्री ने एक बात का जवाब देते हुए कहा कि कोरोना काल में हालत यह थी कि कोई आय नहीं थी। जैसे तैसे कर्जा लेकर घर चलाते हैं। मैंने कर्ज लेकर सरकार चलाई। तनख्वाह बांटने की कोशिश की। मुख्यमंत्री ने सुबह नेहरू नगर चौराहे पर चाय पर महिला स्वच्छता कर्मी शशि, प्रभा, सरोज, शकुन बाई, ललिता देवी और उषा बाई से बातचीत की।

आंख का फड़कना कब माना जाता है शुभ? जानिए इससे जुड़ी मान्यताएं 

समुद्र शास्त्र अनुसार दायीं आंख का फड़कना पुरुषों के लिए काफी शुभ माना जाता है। लेकिन अगर किसी महिला की ये आंख फड़कती है तो यह एक अशुभ संकेत है।

आपने अकसर बड़े बुजुर्गों को ये कहते सुना होगा कि आंख का फड़कना अपशगुन होता है। ज्योतिष अनुसार हर अंग के फड़कने का कुछ न कुछ अर्थ जरूरत होता है। जो भविष्य में होने वाली किसी घटना का संकेत देता है। लेकिन ये जरूरी नहीं कि आंख का फड़कना हमेशा अशुभ ही हो। जानिए आंख का फड़कना कब माना जाता है बेहद ही शुभ…

समुद्र शास्त्र अनुसार दायीं आंख का फड़कना पुरुषों के लिए काफी शुभ माना जाता है। लेकिन अगर किसी महिला की ये आंख फड़कती है तो यह एक अशुभ संकेत है। इसका मतलब है कि जल्द ही कोई परेशानी आने वाली है। लेकिन अगर महिलाओं की बायीं आंख फड़कती है तो इसका अर्थ है कि कुछ शुभ होने वाला है। लेकिन अगर पुरुषों की बायीं आंख फड़के तो इसका मतलब कुछ बुरा हो सकता है।


मान्यताओं अनुसार अगर किसी पुरुष की बायीं आंख की पलक और भौंवें फड़कती हैं तो इसका अर्थ है कि उसकी किसी के साथ लड़ाई हो सकती है। इसलिए पहले से ही सावधान हो जाएं। ऐसा होने पर व्यक्ति के रिश्ते खराब होने की संभावनाएं रहती हैं। इसी के साथ अगर बायीं आंख के नीचे का हिस्सा अचानक से फड़कने लगे तो इसका मतलब आपकी किसी से बहस हो सकती है। लेकिन महिलाओं की बायीं आंख की पलक और भौंहों का फड़कना काफी शुभ होता है। इसका मतलब है कोई सुखद समाचार सुनने को मिलेगा।

भगवान शिव ने बताया पूजा में सड़ा हुआ नारियल मिलने का अर्थ, जानकर हो जाएंगे हैरान 

किसी भी व्रत त्योहार या मंदिर में हम सभी प्रसाद के साथ नारियल चढ़ाते हैं लेकिन दोस्तों क्या आप जानते हैं अगर वह नारियल छोड़ने के बाद आप को पता चले कि वह नारियल सड़ा हुआ या खराब है तो इसका अर्थ क्या होता है? तो आइए दोस्तों आज हम आपको बताएंगे कि अगर मंदिर में चढ़ाया हुआ नारियल सड़ा हुआ या खराब निकल जाए तो शास्त्रों के अनुसार उसका क्या अर्थ होता है।


अगर आप किसी मंदिर में जा रहे हैं और नारियल चढ़ा रहे हैं और अगर वह नारियल सड़ा हुआ या खराब निकल जाए तो कई लोगों बहुत ही चिंतित हो जाते हैं, उन्हें लगता है कि अब हमारी मनोकामना पूरी नहीं होगी, हम जिस चीज के लिए पूजा करवा रहे हैं वह पूरी नहीं होगी, वह ऐसा मान लेते हैं कि हमारे साथ अब कुछ अशुभ होने वाला है। लेकिन दोस्तों असल में ऐसा कुछ भी नहीं होता है। बड़े-बड़े महात्मा और बड़े-बड़े पंडितों से पूछने पर हमें पता चलता है कि ऐसा होना शुभ ही होता है।

अगर कोई नारियल सड़ा हुआ या खराब निकल जाए तो इसका मतलब यह होता है कि भगवान हमारी मनोकामना बहुत जल्द पूरी करने वाले हैं। इसीलिए आपको भयभीत होने की कोई आवश्यकता नहीं है, ऐसा होने पर आपकी जिंदगी में खुशी का ही आगमन होता है, क्योंकि वह सारा प्रसाद भगवान के हित में ही चला जाता है और उसे आप भी नहीं खाते।

लेकिन अगर आप का नारियल अच्छा है और उसकी पूजा हो गई है तो आपको उसे ज्यादा से ज्यादा लोगों में बांट देना चाहिए ऐसा करने पर भगवान प्रसन्न होते हैं यह सोचकर कि आपने उनके प्रसाद से उनके बहुत सारे भक्तों का पेट भरा है। इससे कुछ भी फर्क नहीं पड़ता कि आपकी पूजा की सामग्री कैसी है, फ़र्क इससे पड़ता है कि आपका दिल भगवान के प्रति कैसा है।

प्रेम राशिफल : 08 मार्च से 28 मार्च, इन राशियों की बदलेगी किस्मत, मिलेगा सच्चा प्यार

मेष, कर्क, मकर

अपने साथी उपरकी वजह से आपकी दयालुता एवं नरममिजाजी अपनी चरम सीमा पर है। शनि का गोचर एवं सूर्य की दृष्टि आपकी राशि में है। सूर्य को अर्घ्य दे और हनुमान जी का पूजन करें। जिससे आय में बाधा होगी और संतान से विवाद हो सकता है। आपकी चरित्र पर उंगली उठ सकती है, इसलिए सावधान रहें।

वृषभ, धनु, मीन

आज कोई व्यक्ति आपकी जिंदगी में खुशी और उत्साह लाएगा। विवाद एवं निर्माण में ज्यादा खर्च होगा। इस दिन के अंत में अत्यंत सावधानी पूर्वक समय निकालें। इस काल में चोट आदि लगने का भय होगा। लेन-देन में सावधानी बरतें। आप श्री कृष्ण और राधा रानी के दर्शन पूजन करें। दिन के मध्य में कुछ परेशानी हो सकती है।

मिथुन, कन्या, वृश्चिक

आज का दिन प्यार की नजर से आपके लिए सुनहरा साबित होगा। यात्रा पर अकेले बिल्कुल नहीं जाए और कम से कम दूसरे से कर्ज़ ले। आपकी राशि मे तृतीय चंद्र की गति अनुकूल है। जिससे पिछले नुकसान का गया हुआ अब लाभ में बदलेगा। आपका मन बहुत प्रसन्न होगा। अचानक धन लाभ के योग बनेंगे।

तुला, सिंह, कुंभ

पार्टनर और परिवार के लोगों से मिले प्यार में आज आप डूबे रहेंगे। शुक्रवार से पुण स्थितियां आपकी पक्ष की बन जाएगी। कहीं तीर्थ यात्रा का योग बना हुआ है। दिन के अंत शानदार होगा। दोस्तों और प्रेमी के संग मनोरंजन में समय व्यतीत होगा। हर मंगलवार को हनुमान जी को नारियल की भेंट करें।