कमलनाथ की ‘गलती’ पर भारी पड़ रहे दिग्विजय सिंह? सोनिया गांधी ने दी बड़ी जिम्मेदारी

भोपाल
एमपी में कुछ कथित सियासी गलतियों की वजह से कांग्रेस में कमलनाथ की स्थिति कमजोर हुई है। ‘कमजोर’ कमलनाथ पर अब फिर से दिग्विजय सिंह भारी पड़ने लगे हैं। केंद्र में फिर से उनका ओहदा बढ़ा है। इसके साथ ही एमपी के पॉलिटिक्स में भी दिग्विजय सिंह जबरदस्त तरीके से एक्टिव हो गए हैं।

दरअसल, देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। पुदुचेरी और तमिलनाडु चुनाव के लिए सोनिया गांधी ने दिग्विजय सिंह को स्क्रीनिंग कमिटी का अध्यक्ष बनाया है। स्क्रीनिंग कमिटी का अध्यक्ष राज्य में उम्मीदवारों का चयन करता है। इस हिसाब से यह बड़ी जिम्मेदारी मानी जा रही है। वो भी तब जब कमलनाथ की गिनती भी गांधी परिवार के खास लोगों में है।

गोडसे भक्त की एंट्री से घिरे कमलनाथ
सियासी जानकार मानते हैं कि कमलनाथ की कुछ सियासी गलतियां उनके ऊपर भारी पड़ रही है। सत्ता में वापसी के बाद वह एमपी में कांग्रेस की सरकार को संभाल नहीं पाए। उपचुनाव में भी वह पार्टी को जीत नहीं दिला पाए। ये सारी चीजें उनके फेवर में नहीं है। यहीं वजह है कि पार्टी के कुछ नेता परिवर्तन की मांग करते रहे हैं। हालिया में उन्होंने हिंदू महासभा के नेता को कांग्रेस की सदस्यता दिलवा दी।

इस घटना के बाद कांग्रेस के बड़े नेता खुलकर कमलनाथ के फैसले के खिलाफ आ गए। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने तो यहां तक कह दिया कि क्या हम साध्वी प्रज्ञा को भी अपनी पार्टी में स्वीकार कर लेंगे। साथ ही उन्होंने बड़े नेताओं की चुप्पी पर भी सवाल किया था। दिग्विजय सिंह खुल कर तो नहीं बोल पाए थे लेकिन इशारों-इशारों में अपने इरादे स्पष्ट कर दिए थे। उन्होंने कहा था कि बाबूलाल चौरसिया कौन है।

कमलनाथ के लोग बचाव में उतरे

वहीं, गोडसे भक्त की एंट्री से अपनी ही पार्टी में चौतरफा घिरे कमलनाथ खुद तो खामोश रहे, लेकिन उनके समर्थक खुलकर मैदान में उतर आए। सज्जन सिंह वर्मा जैसे कद्दावर नेताओं ने कहा कि गांधीवादी विचारधारा को अपनाने वाले लोगों को हम स्वीकार रहे हैं। इस मुद्दे पर एक बार फिर से कांग्रेस में गुटबाजी चरम पर दिखी है। राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि दोनों के समर्थक एक-दूसरे को पसंद नहीं करते हैं।

किसान महापंचायत करेंगे दिग्विजय सिंह

कहा जाता है कि एमपी कांग्रेस में दिग्विजय सिंह इकलौते ऐसे नेता हैं, जिनका पूरे प्रदेश में जनाधार है। यहीं वजह है कि पार्टी में पर्दे के पीछ रहकर भी वो उतना ही दबदबा रखते हैं, जितना लोग फ्रंट पर रहकर रखते हैं। एमपी कमलनाथ की सरकार के दौरान इसकी झलक लोगों ने देखी है। निकाय चुनाव से पहले अपनी पैंठ बढ़ाने के लिए दिग्विजय सिंह पूरे मध्यप्रदेश में किसान महापंचायत कर रहे हैं। 4 मार्च को रतलाम में पहली किसान महापंचायत है।

ई-कंपनियों को 1 करोड़ से अधिक ठगी करने वाला बीएससी का छात्र जेल गया

ग्वालियर । अमेजन व फ्लिपकार्ट जैसी ई-कंपनियों को एक करोड़ रुपये से अधिक की ठगी करने वाले देवांशु चौहान को राज्य साइबर पुलिस ने कोर्ट में पेश किया। आरोपित को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है।

पुलिस आरोपित के पास से 23 लाख रुपये से अधिक की कीमत का ठगी का सामान बरामद किया था। उसके चार खातों में 22 लाख रुपये मिले हैं। इन खातों को पुलिस फ्रीज करा दिया है। पुलिस को पता चला है कि ठगी में आठ अन्य बैंकों का उपयोग किया है। इनकी भी पुलिस पड़ताल कर रही है। दो दिन की पूछताछ में पुलिस को पता चला है कि आरोपित लग्जरी लाइफ जीने का आदी था। ढाई लाख की बाइक पर घूमता था। और महंगे चश्में लगाता था। पुलिस को यह भी पता चला है कि आरोपित की एक गर्ल फ्रेंड भी है, लेकिन उसे नहीं पता था कि उसका फ्रेंड ठगी करता है।

राज्य साइबर पुलिस ने बीएससी के द्वितीय वर्ष के छात्र देवांशु चौहान को शनिवार को गोविंदपुरी से पकड़ा था। मूल रूप से आरोपित डबरा का निवासी है। उसके ठगी के शातिर दिमाग का पुलिस अधिकारी भी लोह मान रहे हैं। देंवाशु से जुड़े लोगों को जब उसकी करतूत का पता चला तो वह भी अवाक रह गए। पड़ताल में पुलिस को पता चला है कि आरोपित ने एक करोड़ से अधिक की ठगी कर चुका है। 50 लाख से अधिक माल पुलिस बरामद कर चुकी है। पुलिस को यह भी पता चला है कि आरोपित आठ और खातों का उपयोग ठगी करने के लिए करता है। इन खातों की भी पुलिस पड़ताल करेगी।

नीरा को लेकर बैकफुट पर बाइडन: मुश्किल भरा हो सकता है उनका राष्‍ट्रपति कार्यकाल, जानें क्‍यों गदगद हुए पाक और चीन

वाशिंगट। अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्‍ट्रपति जो बाइडन को सीनेट में अपनी ही पार्टी ने एक बड़ा झटका दिया है। सीनेट में डेमोक्रेटिक पार्टी में एकता को दिखाने और पार्टी के अंदर आतंरिक कलह से बचने के लिए व्‍हाइट हाउस ने मंगलवार को नीरा टंडन का नाम बजट निर्देशक के पद से वापस ले लिया है। अमेरिका की राजनीति में इसके क्‍या निहितार्थ होंगे। बाइडन प्रशासन के लिए यह क्‍या संकेत हैं। बाइडन प्रशासन के समक्ष चार वर्षों में अमेरिका की राजनीति में इसका क्‍या असर पड़ेगा। व्‍हाइट हाउस के इस फैसले के  बाद आखिर क्‍यों गदगद हुए चीन और पाकिस्‍तान। 

बाइडन की सीनेट ही नहीं अपनी पार्टी में पकड़ ढीली

प्रो. हर्ष पंत का कहना है कि नीरा टंडन का बजट निर्देशक पद से नाम वापस लेना बाइडन प्रशासन के लिए शुभ नहीं है। उन्‍होंने कहा पार्टी के आंतरिक कलह को छिपाने के लिए व्‍हाइट हाउस ने यह फैसला लिया है। खासकर तब जब राष्‍ट्रपति बाइडन सीनेट में और अपनी डेमोक्रेटिक पार्टी के सीनेटरों से नीरा टंडन की वकालत करते रहे। प्रो. पंत का कहना है कि इससे एक बात तो साफ हो गई है कि बाइडन की अपनी डेमोक्रेटिक पार्टी में पकड़ ढीली  है। उन्‍होंने कहा कि मसला नीरा टंडन के नाम वापसी का नहीं है। अभी बाइडन को चार वर्षों तक व्‍हाइट हाउस में रहना है। बाइडन को इन चार वर्षों में आंतरिक और वाह्य बहुत सारे कठिन फैसले लेने होंगे। ऐसे में यह तय हो गया है कि सीनेट में इन फैसलों को पास कराने में उनको एक बड़ी मुश्किल का सामना करना होगा। ऐसे में यह कहना आसान होगा कि बाइडन के लिए उनके चार वर्षों का कार्यकाल मुश्किल भरा होगा। खासकर तब जब रिपब्लिकन के अलावा पूर्व राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप अमेरिकी राजनीति में सक्रिय हैं और खुद बड़े विपक्ष की भूमिका में दिख रहे हैं। 

व्‍हाइट हाउस के फैसले से गदगद हुआ पाकिस्‍तान

प्रो. पंत का कहना है कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव में जो बाइडन की जीत के बाद उनके प्रशासन में भारतीय-अमेरिकी लोगों के वर्चस्‍व ने पाकिस्‍तान और चीन की चिंता बढ़ना लाजमी है। व्‍हाइट हाउस में पहली बार 20 भारतीयों को प्रवेश मिला। व्‍हाइट हाउस में भारतीयों के वर्चस्‍व को लेकर पाकिस्‍तान और चीन दोनों मायूस हुए होंगे। खासकर नीरा टंडन के बजट निर्देशक के पद पर नियुक्ति को लेकर दोनों देशों की चिंता बढ़ी होगी। अब व्‍हाइट हाउस के फैसले के बाद पाकिस्‍तान और चीन निश्चित रूप से गदगद होंगे। उन्‍होंने कहा कि भारत-पाकिस्‍तान के बीच तनावपूर्ण संबंधों को लेकर व्‍हाइट हाउस में भारतीयों के वर्चस्‍व को लेकर उसकी चिंता लाजमी है। बाइडन प्रशासन की मुश्किलों से चीन भी खुश होगा कि चीन तो चाहता है कि बाइडन आंतरिक राजनीति में उलझे रहें। खासकर कोरोना महामारी के बाद जिस मुश्किल हालात से अमेरिका गुजर रहा है, उसमें राजनीति सत्‍ता की अस्थिरता चीन के लिए शुभ है।

बाइडन ने कहा-नीरा के अनुरोध को स्‍वीकार किया

राष्‍ट्रपति बाइडन ने मंगलवार को अपने एक बयान में कहा कि मैंने नीरा टंडन के अनुरोध को स्वीकार कर लिया है, जिसमें कहा गया था कि ऑफिस ऑफ मैनेजमेंट और बजट की प्रमुख के पद के लिए उनका नाम वापस ले लिया जाए। बाइडन ने कहा कि उन्होंने टंडन की क्षमता के हिसाब से अपने प्रशासन में कोई पद देने की योजना बनाई है। व्हाइट हाउस द्वारा जारी किए गए राष्ट्रपति के पत्र में टंडन ने स्वीकार किया कि उनका नामांकन अब एक कठिन चढ़ाई से अधिक हो चला था। उन्‍होंने कहा कि उनके पास व्‍हाइट हाउस में काम का लंबा अनुभव है। वह बिल क्लिंटन और बराक ओबामा के प्रशासन में व्‍हाइट हाउस में कार्य कर चुकी हैं। मौजूदा समय में वह अमेरिकी प्रगति के लिए काम कर रही हैं।

बुरहानपुर के शाहपुर लाया गया दिवंगत सांसद का पार्थिव शरीर, 8 मंत्री और विधानसभा अध्यक्ष अंतिम यात्रा में होंगे शामिल

मध्यप्रदेश के खंडवा से BJP सांसद दिवंगत नंदकुमारसिंह चौहान का आज दोपहर एक बजे के करीब अंतिम संस्कार होगा। देर रात 2:30 बजे सांसद का पार्थिव शरीर बुरहानपुर स्थित उनके पैतृक गांव शाहपुर लाया गया। उनके पार्थिव शरीर के यहां लाए जाने की सूचना पर सैंकड़ों की संख्या में भाजपा कार्यकर्ता और उनके समर्थक यहां जुटे रहे। देर रात सांसद को श्रद्धांजलि देने के लिए पूरा शहर सड़क पर नजर आया।

अंतिम यात्रा में शामिल होंगे आठ मंत्री समेत विधानसभा अध्यक्ष
सांसद के अंतिम यात्रा में मध्यप्रदेश सरकार के आठ मंत्री और विधानसभा अध्यक्ष शामिल होंगे। इनमें कमल पटेल, गोपाल भार्गव, संजय पाठक, गिरीश गौतम (विधानसभा अध्यक्ष), प्रेम सिंह पटेल, तुलसी सिलावट, उषा ठाकुर, डॉक्टर मोहन यादव और डॉक्टर अरविंद सिंह भदौरिया शामिल हैं।

खंडवा से भाजपा सांसद नंदकुमार सिंह चौहान का मंगलवार सुबह निधन हो गया था। उन्होंने गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में अंतिम सांस ली। उनका पार्थिव शरीर देर शाम भोपाल पहुंचा था। इस दौरान स्टेट हैंगर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने नंदकुमार सिंह चौहान के पार्थिव शरीर को कांधा दिया। इस अवसर पर मंत्री विश्वास सारंग, तुलसी सिलावट, विधायक अजय विश्नोई समेत कई बीजेपी नेता भी मौजूद रहे। पार्थिव शरीर स्टेट हैंगर से बीजेपी प्रदेश कार्यालय अंतिम दर्शन के लिए लाया गया।

बता दें कि कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उनके फेफड़ों में संक्रमण फैल गया था। इसके बाद उन्हें 5 फरवरी को मेदांता में एडमिट कराया गया था। उनकी रिपोर्ट निगेटिव भी आ गई थी, लेकिन उनकी तबीयत में सुधार नहीं हो रहा था।

लाल सिंह आर्य ने अध्यक्ष बनने के 5 महीने बाद घोषित की टीम; MP से सूरज केरो को बनाया कोषाध्यक्ष

BJP अनुसूचित जाति मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की घोषणा 2 मार्च को देर शाम हो गई है। मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष लाल सिंह आर्य ने अपनी टीम में 22 पदाधिकारियों को शामिल किया है। इसमें मध्य प्रदेश से सिर्फ एक पदाधिकारी को जगह मिली है। जबकि लाल सिंह आर्य मध्यप्रदेश के हैं। ऐसे में अपेक्षा की जा रही थी कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी में मध्यप्रदेश को ज्यादा प्रतिनिधित्व मिलेगा लेकिन इंदौर से सूरज केरो को लिया गया है। मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रह चुके हैं। केरो को राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष बनाया गया है।

मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में 7 उपाध्यक्ष, 7 राष्ट्रीय मंत्री, एक कोषाध्यक्ष और एक कार्यालय प्रभारी बनाए गए हैं। इनके अलावा दिल्ली के मुकेश कुमार को मीडिया प्रभारी, उत्तर प्रदेश की अनिमा सोनकर को सोशल मीडिया प्रभारी और महाराष्ट्र के डॉ. राहुल चिनुरकर को नीति एवं शोध विभाग का प्रभारी बनाया गया है।

बता दें कि BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा ने सभी मोर्चोंं के राष्ट्रीय अध्यक्षों की नियुक्ति 26 सिंतबर 2020 को की थी। अनुसूचित जाति मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की घोषणा 5 महीने बाद हुई लेकिन BJYM की राष्ट्रीय कार्यकारिणी का इंतजार अभी भी हो रहा है।

MCD उपचुनाव:AAP की 4 वार्डों में जीत, भाजपा से एक सीट छीनी; एक पर कांग्रेस का कब्जा

दिल्ली नगर निगम (MCD) के 5 वार्डों के उपचुनावों ने नतीजे आ गए हैं। ये वार्ड 62N (शालीमार बाग नॉर्थ), 8-E (कल्याणपुरी), 2-E (त्रिलोकपुरी), 32N (रोहिणी-सी) और 41-E (चौहान बांगड़) हैं। इनमें से 4 वार्डों में AAP प्रत्याशियों ने जीत दर्ज की है। सिर्फ एक वार्ड (चौहान बांगड) कांग्रेस के खाते में गया है, जबकि भाजपा खाता भी नहीं खोल पाई।

कल्याणपुरी से AAP के धीरेंद्र कुमार 7,259 वोटों से जीते हैं, उनका मुकाबला भाजपा के सियाराम से था। शालीमार बाग नॉर्थ से AAP की सुनीता मिश्रा ने 2,705 वोटों से जीत दर्ज की। सिर्फ एक वार्ड चौहान बांगड से कांग्रेस के जुबैर अहमद जीते हैं। उन्होंने AAP के इशराक खान खो 10,642 वोटों से हराया। त्रिलोकपुरी में AAP के विजय कुमार ने भाजपा के ओम प्रकाश को 4,986 वोटों से मात दी। वहीं रोहिणी-सी से AAP के राम चंद्र ने भाजपा के राकेश गोयल को 2,985 वोटों से हराया।

मनीष सिसोदिया ने कहा- भाजपा से जनता दुखी
उपचुनाव में जीत पर दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया ने AAP के कार्यकर्ताओं को बधाई दी है। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा, ‘बीजेपी के शासन से दिल्ली की जनता अब दुखी हो चुकी है। अगले साल होने वाले MCD चुनाव में जनता अरविंद केजरीवाल जी की ईमानदार और काम करने वाली राजनीति को लेकर आएगी।’

28 फरवरी को हुई थी वोटिंग
इन वार्डों के लिए AAP, भाजपा और कांग्रेस के बीच मुकाबला था। इनमें से 4 में पहले भी AAP के पार्षद थे। सिर्फ शालीमार बाग नॉर्थ भाजपा के कब्जे में था। इन वार्डों के उपचुनाव के लिए 28 फरवरी को मतदान हुआ था। इस दौरान 50.86% से ज्यादा वोटिंग हुई थी। सबसे ज्यादा (59.19%) वोटिंग कल्याणपुरी वार्ड में हुई थी। सबसे कम (43.23%) शालीमार बाग नॉर्थ वार्ड में हुई 

अब बाइक में पेट्रोल इंजन की जगह बैट्री लगवा रहे हैं लोग! जानें- कितना आता है खर्चा?

अब बाइक में पेट्रोल इंजन की जगह बैट्री लगवा रहे हैं लोग! जानें- कितना आता है खर्चा?

ये बात तो पक्की है भारत में किसी भी चीज का जुगाड़ मिल जाता है. यहां के लोग भी अपनी जरूरत के हिसाब से किसी ना किसी चीज का जुगाड़ निकाल लेते है. ऐसा ही इन दिनों बाइकों के साथ हो रहा है. दरअसल, पेट्रोल की कीमतें लगातार बढ़ती जा रही है और अब लोगों ने इस खर्चे से बचने के लिए एक जुगाड़ ढूंढ लिया है. दरअसल, अब लोग अपनी बाइक से पेट्रोल का झंझट ही खत्म कर रहे हैं और पेट्रोल इंजन को इलेक्ट्रिक इंजन में कंवर्ट कर रहे हैं। 


जी हां, अब कई लोग अपनी बाइक से पेट्रोल इंजन को हटा रहे हैं और उसकी जगह बैट्री लगवा रहे हैं. इसका मतलब ये है कि अब उन्हें गाड़ी में पेट्रोल डलवाने की जगह चार्ज करना होगा. इसके बाद आप बिजली से अपनी गाड़ी चला सकेंगे, जो पेट्रोल इंजन से काफी सस्ता पड़ता है. ऐसे में जानते हैं कि यह किस तरह कंवर्ट हो रहा है और इसमें कितना खर्चा आता है और ऐसा करने के बाद लोगों को काफी फायदा हो रहा है…. हालांकि, आपको बता दें कि ऐसा करना गलत है और ऐसा करने पर आपको जुर्माना भी भर सकता है। 

कितना आता है खर्चा?

अब सोशल मीडिया पर कई लोग अपना प्रचार कर रहे हैं और दावा कर रहे हैं कि वो पेट्रोल इंजन को इलेक्ट्रिक इंजन में कंवर्ट कर दे रहे हैं. बताया जा रहा है कि ये लोग करीब 10 हजार रुपये का खर्चा बता रहे हैं. साथ ही कहा जा रहा है कि बैट्री के हिसाब से चार्ज भी बदल जाते हैं. वहीं, स्पीड को लेकर इन मैकेनिक का दावा है कि इससे बाइक की 65-70 किलोमीटर तक स्पीड आती है.

कैसे होता है कंवर्ट?

बताया जा रहा है कि पेट्रोल इंजन को इलेक्ट्रिक में कंवर्ट करते गियर बॉक्स को निकाल दिया जाता है और फिर बाइक का कंट्रोल सीधे एक्सिलेटर से होता है. इससे आपकी बाइक एक तरह स्कूटी की तरह काम करेगी और आप स्कूटी से अपनी कार चला सकेंगे. हालांकि, इस तरीके स्कूटी का इंजन चेंज नहीं किया जा सकता है, इसके लिए काफी बदलाव करना होता है. बताया जा रहा है कि इससे खर्चा भी काफी आता है। 

कितना होगा फायदा?

अब ये दावा किया जा रहा है कि इससे आप बैट्री को 2 घंटे तक चार्ज करके 40 किलोमीटर तक चला सकते हैं. वहीं, अगर बैट्री को पूरी तरह चार्ज कर लेंगे तो बाइक 300 किलोमीटर तक चल सकती है. इसके अलावा आपकी बैट्री पर भी यह निर्भर करता है। 

मगर यह है गैर कानूनी

अगर आप ऐसा करते हैं तो जान लें कि यह गैर कानूनी है. मोटर व्हीकल एक्ट 1988 के सेक्शन 52 के अनुसार, किसी भी मोटर व्हीकल में एटरनेशन करना कानूनी अपराध है. इस नियम के तरह कोई भी व्यक्ति कंपनी की ओर बनाई गई कार या बाइक में कोई भी परिवर्तन नहीं कर सकता है. अगर ऐसा करता है तो यह कानूनी अपराध है और इसपर आपको जुर्माना देना पड़ सकता है. वहीं, इससे आपका इंश्योरेंस भी खत्म हो सकता है। 

बुरी नजर से हैं परेशान तो अपनाएं ये अचूक उपाय, हो जायेंगे मालामाल

किसी के साथ कुछ अच्छा होते हुए बुरा हो जाना या कभी कभी हंसता हुआ बच्चा अचानक रोने लगना. ये कुछ ऐसे लक्षण हैं जिन्हें सामान्य भाषा में नजर का प्रभाव बताया जाता है.हर किसी की यही कामना रहती है कि उनके घर को किसी की भी बुरी नजर नहीं लगे और घर में सुख शांति, समृद्धि हमेशा बनी रहे और इसके लिए घर के लोग तरह तरह के उपाय, टोने टोटके करते रहते हैं.

जिस घर में रोजाना कपूर जलाया जाता है, वहां की वायु स्वच्छ रहती है. दूषित वायु घर से बाहर हो जाती है और वातावरण शुद्ध हो जाता है. सुबह-शाम कपूर जलाने से बाहरी नकारात्मक उर्जा घर में प्रवेश नहीं कर पाती. यही कारण है कि हवन, पूजा पद्धति में कपूर का उपयोग किया जाता है.

जिस घर में नियमित कपूर जलाया जाता है, वहां की वायु स्वच्छ रहती है. दूषित वायु घर से बाहर हो जाती है और वातावरण शुद्ध हो जाता है. सुबह शाम कपूर जलाने से बाहरी नकारात्मक उर्जा घर में प्रवेश नहीं कर पाती. यही कारण है कि हवन, पूजा पद्धति में कपूर का उपयोग किया जाता है. कपूर जलाने से बैक्टीरिया, कीटाणु, मच्छर आदि घर में प्रवेश नहीं करते.
कपूर से पता करें बुरी नजर है या नहीं…

यदि कपूर जलाने पर उसकी लौ स्थित रहे और उसमें से धुआं बिलकुल न निकलें तो समझें कोई बुरी नजर नहीं है.यदि कपूर जलाने पर उसकी लौ थोड़ी इधर-उधर जाए, लेकिन धुआं न करे नजर का हल्का प्रभाव होता है,यदि जलते कपूर की लौ बिना हवा के बार-बार इधर-उधर हो और उसमें से धुआं भी निकले तो निश्चित रूप से बुरी नजर होती है.कपूर जलाने पर उसमें से तेज धुआं निकले और उसकी लौ भी अस्थिर हो तो समझो कड़ी नजर ने जकड़ रखा है.

3 March – जानें, किन राशि के जातकों के आज रोज़गार प्राप्ति के प्रयास होंगे सफल

मेष : इस राशि के जातकों को आज दूर से शुभ समाचार प्राप्त होंगे। घर में कोई मांगलिक कार्य का आयोजन हो सकता है। अतिथियों का आगमन होगा।

वृष : इस राशि के जातकों की आज प्रसन्नता में कमी रहेगी। शत्रुता में वृद्धि होगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे।

मिथुन : इस राशि के जातकों के आज रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। नौकरी में उन्नति होगी। लाभ में वृद्धि होगी। शत्रुओं का प्रभाव कम होगा।

कर्क : इस राशि के जातक आज आत्मविश्वास से लबरेज रहेंगे। क्रोध एवं आवेश के अतिरेक से बचें। परिवार का साथ मिलेगा। आय में वृद्धि होगी। वस्त्रों के प्रति रुझान बढ़ेगा।

सिंह : इस राशि के जातकों को आज नौकरी में अफसरों का सहयोग मिलेगा। लेकिन कोई अतिरिक्त कार्य भी मिल सकता है। विवादों से बचने का प्रयास करें।

कन्या : इस राशि के जातकों का जीवनसाथी आज आपसे किसी बात को लेकर नाराज़ हो सकता है, लेकिन आपको उन्हें मनाने की आवश्यक कोशिश करनी चाहिए। विद्यार्थियों को आज अपने कैरियर को लेकर थोड़ी चिंता हो सकती है।

तुला : इस राशि के जातक आज आत्मसंयत रहें। मन अशान्त हो सकता है लेकिन चिंता न करें। हर परेशानी का कोई न कोई हल ज़रूर होता है इसलिए हल निकालने की कोशिश करें।

वृश्चिक : इस राशि के जातकों को आज अपने कार्य क्षेत्र में ऑफिस में कुछ नए अधिकार प्राप्त हो सकते हैं, जिनका आपको ध्यान रखना होगा और लोगों को भी उन्हें मानने के लिए समझाना पड़ेगा। संतान के लिए विवाह के अच्छे-अच्छे प्रस्ताव आएंगे, जिसमे आपकी रुचि बढ़ती हुई नजर आ रही है।

धनु : इस राशि के जातकों के लिए आज का दिन खुशियों से सराबोर होगा। आपको अपने बिजनेस के सिलसिले में किसी कि सलाह लेने की आवश्यकता पड़ सकती है, लेकिन आपको भी ध्यान देना होगा कि किसी ऐसे व्यक्ति ऐसे व्यक्ति की सलाह लेनी होगी, जो अनुभवी हो ताकि आप उन पर आंखें बंद करके विश्वास कर सके।

मकर : इस राशि के जातक अगर आज कोई निवेश करना चाहते हैं, तो उसमें आपको भरपूर लाभ होने के योग बन रहे हैं। आपके विरोधी आपको सताने का भरपूर प्रयास करेंगे, लेकिन उनके प्रयास असफल रहेंगे, लेकिन अपने घर से निकलते समय माता पिता का ध्यान करके निकले।

कुंभ : इस राशि के जातक आज धर्म-कर्म के कार्यों में शुभ व्यय भी कर सकते हैं। विद्यार्थियों को आज गुरुजनों व अपने सहयोगियों से कुछ नया अनुभव देखने को मिलेगा।

मीन : इस राशि के जातक यदि संपत्ति खरीदना चाहते हैं, तो उसके लिए आज का दिन उत्तम रहेगा। आपको मामा पक्ष में भी मान सम्मान मिलने की उम्मीद है, हो सकता है आज आपको कुछ जिम्मेदारियां अधिक मिल जाए।