कांग्रेस का एमपी बन्द, सुबह से सड़क पर उतरे कांग्रेसी

भोपाल। पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ आज प्रदेशभर में कांग्रेस नेता आधे दिन के बंद के आव्हान के साथ सड़कों पर उतरे। उज्जैन में कांग्रेस कार्यकर्ता सुबह बाजारों में निकले, इस दौरान दुकानें खुली मिलीं। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कुछ दुकानों को जबरन बंद कराने की कोशिश की। हालांकि मौके पर मौजूद पुलिस की समझाइश के बाद कार्यकर्ता मान गए। बंद का शहर में कोई खास असर देखने को नहीं मिला है।

बालाघाट में सुबह से ही स्थानीय बस स्टैंड बसों का विभिन्न रुटों के लिए संचालन हो रहा है। वहीं पेट्रोल पंप भी खुला हुआ है। इतना ही नहीं सुबह से सड़कों पर चाय नास्ता समेत अन्य दुकानें खुली होने से लोगों की भीड़ व चहलकदमी बनी हुई हैं। खुली दुकानों को बंद कराने पहुंचे कांग्रेसी, दुकानें जबरदस्ती बंद कराने पर पुलिस ने कांग्रेसियों को दी हिदायत, कहा जबरदस्ती नहीं करा सकते बंद। 2 बजे तक होने वाले इस बंद के लिए भोपाल सभी बड़े शहरों में कांग्रेस नेता दुकानदारों इसमें शामिल होने के लिए मनाते दिखे। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ ने प्रदेशवासियों से इस बंद में हिस्सा लेने की अपील की है। उन्होंने कहा कि बढ़ती महंगाई से जनजीवन प्रभावित होने लगा है। कोरोना संकट के कारण पहले ही लोग आर्थिक तौर पर परेशान हैं। बंद दोपहर दो बजे तक रहेगा। अत्यावश्यक सेवाओं को इससे मुक्त रखा गया है। प्रदेश कांग्रेस के संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर ने बताया कि बंद का कई सामाजिक और व्यावसायिक संगठनों ने पूर्ण समर्थन किया है। यह लड़ाई राजनीतिक नहीं बल्कि आम जनता के हक की है।

महंगाई के विरोध में कांग्रेस के आव्हान पर शनिवार को पूरी तरह से विदिशा बंद रहा। इस दौरान लोग चाय, नाश्ता, तंबाकू आदि के लिए भी परेशान होते रहे। सुबह से ही कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता विधायक शशांक भार्गव के नेतृत्व में अलग-अलग दलों में शहर की सड़कों और गलियों में पहुंचे और व्यापारियों से बंद का आह्वान किया जिसके चलते सब्जी, फल, पेट्रोल, मेडिकल छोड़कर सभी दुकान एवं प्रतिष्ठान बंद रहे। विदिशा बंद को लेकर कहीं कोई अप्रिय घटना नहीं हो इसके लिए जगह-जगह पुलिस तैनात की गई है। इसके अलावा पुलिस के वरिष्ठ अफसर स्वयं शहर का जायजा ले रहे हैं।

स्कूल हॉस्टलों को खोलने का आदेश, जानें किन नियमों का करना होगा पालन

नई दिल्ली. मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के कारण बंद सरकारी और निजी स्कूलों के हॉस्टलों को खोलने के आदेश जारी कर दिए गए हैं. यह आदेश स्कूल शिक्षा विभाग के उप सचिव प्रमोद सिंह की ओर से 19 फरवरी को जारी किए गए हैं. जारी आदेश में कहा गया है कि शासकीय, अशासकीय आवासीय विद्यालयों के छात्रावासों को कक्षा 10वीं और 12वीं के विद्यार्थियों के लिए खोले जाएंगे.

स्कूल छात्रावासों को इन नियमों का करना होगा पालन

जारी आदेश में कहा गया है कि स्कूल हॉस्टलों को कोरोना सुरक्षा को लेकर केंद्र और राज्य सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन का पालन करना होगा. हॉस्टलों में हाथ साफ करने के लिए अल्कोहल आधारित हैंड सैनिटाइजर रखना होगा. साथी ही सभी छात्रों के मोबाइल फोन में आरोग्य सेतु ऐप को इंस्टॉल कराना अनिवार्य किया गया है.

छात्रावासों में राज्य हेल्पलाइन नंबर और स्थानीय अस्पतालों के फोन नंबर को चस्पा करना होगा. फर्श की नियमित सफाई के साथ परिसर को रोजाना सैनिटाइज कराना होगा. साथ ही  आदेश में यह भी कहा गया है कि छात्रों के सुरक्षा व स्वास्थ्य की जिम्मेदारी स्कूल और हॉस्टल संचालक की होगी.

अभिभावकों की अनुमति जरूरी

छात्रावास में प्रवेश के लिए विद्यार्थी को अपने अभिभावक से लिखित में अनुमति लेनी होगी. बिना अभिभावक के लिखित अनुमति के छात्रों को हॉस्टल में प्रवेश नहीं दिया जाएगा. छात्रावासों में विद्यार्थियों की उपस्थिति अनिवार्य नहीं है.

मध्य प्रदेश: होशंगाबाद का बदला जाएगा नाम, मुख्यमंत्री शिवराज ने बताया नया नाम

मध्य प्रदेश में होशंगाबाद जिले का नाम बदलकर नर्मदापुरम किया जाएगा। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को यह ऐलान किया। बता दें कि पिछले कई सालों से होशंगाबाद का नाम बदलने की मांग चल रही थी। पिछले साल दिसंबर में प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने होशंगाबाद का नाम बदलने की मांग की थी। रामेश्वर शर्मा ने कहा कि कब तक लुटेरे हुशंगशाह के नाम से होशंगाबाद को पहचाना जाएगा। तब उन्होंने मांग की थी कि होशंगाबाद का नाम बदलकर नर्मदापुर किया जाना चाहिए। 

रामेश्वर शर्मा ने कहा था कि जिस लुटेरे ने हमारे मठ-मंदिर तोड़े उसके नाम पर किसी शहर का नाम रखा जाए यह उन्हें मंजूर नहीं हैं। उन्होंने कहा था कि यहां से मां नर्मदा बहती हैं जिनके दर्शन मात्र से ही दुख कष्ट दूर हो जाते हैं। इसलिए होशंगाबाद का नामकरण किया जाना चाहिए और नर्मदापुर ही होना चाहिए।

गौरतलब है कि बीजेपी शासित राज्यों में नाम बदलने का सिलसिला कोई नया नहीं है। इससे पहले उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार ने इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया। इसके अलावा मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय कर दिया गया है। इसी कड़ी में अब मध्य प्रदेश में भी होशंगाबाद का नाम बदलकर नर्मदापुरम करने का ऐलान किया गया है।

नेपाल के प्रधानमंत्री को संसद भंग करने का अधिकार नहीं, पीएम ओली का फैसला असंवैधानिक

काठमांडू, प्रेट्र। नेपाल की संसद के निचले सदन को भंग करने के मामले में प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। शुक्रवार को मीडिया में आई खबरों के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट में बहस के दौरान न्याय मित्र की ओर से पेश वकीलों ने कहा कि सदन को भंग करने का प्रधानमंत्री ओली का फैसला असंवैधानिक था।

ओली के संसद के निचले सदन को भंग करने के फैसले के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन हुए

सत्तारूढ़ नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) में पुष्प कमल दहल उर्फ प्रचंड खेमे के साथ सत्ता पर काबिज होने की लड़ाई के बीच ओली ने पिछले साल 20 दिसंबर को अचानक संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा को भंग कर दिया था। 275 सदस्यीय सदन को भंग करने के ओली के फैसले के खिलाफ प्रचंड समर्थकों ने देशभर में धरना प्रदर्शन किया था।

ओली के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पूरी हुई सुनवाई

काठमांडू पोस्ट के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में 23 दिसंबर से सुनवाई चल रही थी, जो शुक्रवार को पूरी हो गई। न्याय मित्र की तरफ से पांच वरिष्ठ वकीलों ने अदालत में पक्ष रखा।

नेपाल के संविधान प्रधानमंत्री को संसद को भंग करने का अधिकार नहीं, कोर्ट को हस्तक्षेप करना चाहिए

इनमें से एक वरिष्ठ वकील पूर्णमान शाक्य ने कहा कि नेपाल के संविधान में देश के प्रधानमंत्री को संसद को भंग करने का अधिकार नहीं है। राजनीतिक नहीं, संवैधानिक मामला है, इसलिए अदालत को इसमें हस्तक्षेप करना चाहिए। एक सदस्य ने फैसले को असंवैधानिक बताया तो एक सदस्य ने कहा कि गलत नीयत से सदन को भंग किया गया। हालांकि, एक सदस्य ने कहा कि प्रधानमंत्री को संसद भंग करने का अधिकार है।

सुप्रीम कोर्ट तथ्यों का विस्तृत अध्ययन करने के बाद सुनाएगी फैसला

सुप्रीम कोर्ट के अधिकारियों ने बताया कि चोलेंद्र शमशेर राणा की अगुआई वाली पांच सदस्यीय संवैधानिक पीठ सभी पक्षों की तरफ से पेश किए गए तथ्यों का विस्तृत अध्ययन करने के बाद फैसला सुनाएगी।

आर्टिकल 370 भेदभावपूर्ण था; विदेशी दूतों के सामने कश्मीर के लोगों ने पाक के झूठ को किया बेनकाब

कश्मीर और आर्टिकल 370 के मसले पर अक्सर उलूल-जुलूल बोलकर दुनिया को भ्रमित करने वाले आतंक के आका पाकिस्तान के मुंह पर केंद्र शासित प्रदेश के दो दिवसीय दौरे पर आए विदेशी दूतों के सामने वहां के स्थानीय लोगों ने जोरदार तमाचा मारा है। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद हालात का जायजा लेने पहुंचे विदेशी दूतों के सामने स्थानीय लोगों ने पाकिस्तान के झूठ की पोल खोल दी और कहा कि आर्टिकल 370 भेदभावपूर्ण था। अपने दो दिनों की यात्रा के दौरान विदेशी दूतों ने कई जन प्रतिनिधियों और समुदाय के साथ मुलाकात की।

नागबनी की एक महिला सरपंच वंदना ने कहा, ‘मैंने उन्हें बताया कि आर्टिकल 370 जम्मू और कश्मीर की महिलाओं के साथ कितना भेदभावपूर्ण था, जिसके तहत दूसरे राज्यों के पुरुषों से शादी करने के बाद पैतृक संपत्ति के अधिकार से वंचित हो जाते थे और जम्मू-कश्मीर की नागरिकता खो देते थे। केंद्र सरकार द्वारा पूर्ववर्ती राज्य जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने और उसे दो केंद्रशासित प्रदेशों-जम्मू कश्मीर और लद्दाख- में विभाजित कर दिये जाने के बाद से पिछले 18 महीनों में विदेशी राजनयिकों की यह तीसरी यात्रा है। 

यूरोपीय संघ में कई देशों के 24 विदेशी दूत इस प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा थे, जिनमें फ्रांस के राजदूत इमैनुअल लेनिन, यूरोपीय संघ के राजदूत यूगो एस्टुटो, इस्लामिक सहयोग संगठन और कई अन्य दक्षिण अमेरिकी और अफ्रीकी देशों के संगठन शामिल थे। प्रतिनिधिमंडल को जम्मू और कश्मीर में जमीनी स्थिति का आकलन करने का अवसर दिया गया था। इस दौरान उन्होंने प्रशासन, सुरक्षा तंत्र के साथ-साथ समुदाय के लोगों के बीच समय बीताया और वहां के जमीनी हकीकत को जाना। 
जम्मू में विदेशी दूतों ने महिला सरपंचों, जम्मू के मेयर, पश्चिम पाक शरणार्थी कार्रवाई समिति के सदस्यों, वाल्मीकि समुदाय के सदस्यों और अन्य लोगों से मुलाकात की। वंदना ने कहा कि वे अनुच्छेद 370 के निरस्तीकरण के बारे में जानना चाह रहे थे और हमने उनसे कहा कि हम इसके निरस्तीकरण से बहुत खुश हैं क्योंकि यह विकास में एक बड़ी बाधा थी और यह केंद्रर शासित प्रदेश के लोगों के साथ बहुत भेदभावपूर्ण था।

वहीं, मथवार की एक अन्य महिला सरपंच अंजली शर्मा ने कहा कि हमने उन्हें बताया कि कैसे त्रिस्तरीय पंचायती राज व्यवस्था गरीबों की मदद कर रही है और जमीनी स्तर पर विकास सुनिश्चित कर रही है। उन्होंने यह भी बताया कि पाकिस्तान किस तरह से जम्मू-कश्मीर पर विश्व समुदाय को गुमराह करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय मंच पर झूठ बोल रहा है। 

पश्चिम पाक शरणार्थी कार्रवाई समिति के सदस्य सुखदेव सिंह मन्हास ने कहा कि मेरे समुदाय की ओर से मैंने इन 73 वर्षों के दौरान हमारे साथ क्या हुआ था, इसके बारे में दूतों को बताया। मैंने उन्हें बताया कि पहली बार हमने जिला विकास परिषद (डीडीसी) के चुनावों में मतदान किया और इससे पहले जब आर्टिकल 370 अस्तित्व में था, हम विधानसभा चुनावों में मतदान करने के अपने मूल अधिकार से वंचित रहते थे। सिंह ने आगे कहा कि हमने उन्हें यह भी बताया कि हमारे बच्चों को सरकारी नौकरियों, पेशेवर पाठ्यक्रमों के लिए कंसीडर नहीं किया जाता था और यहां हमारे पास संपत्ति का अधिकार नहीं था। 

वहीं, जम्मू के मेयर चंदर मोहन गुप्ता ने कहा, मैंने उन्हें बताया कि कैसे स्थानीय निकायों के चुनाव हुए और संविधान के 73 वें और 74 वें संशोधन को अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद ही जम्मू-कश्मीर में लागू किए गए। वाल्मीकि समुदाय के आकाश कुमार और मनीषा ने कहा कि यहां की सरकारों के कारण उनके समुदाय का सामना “सबसे बुरी तरह की गुलामी” से हुआ और कैसे अनुच्छेद 370 ने उन्हें मतदान के अधिकार, नौकरी और संपत्ति से वंचित कर दिया था।

एक सप्ताह के अंदर हुआ सिंधिया की चिट्ठी का असर, ग्वालियर एयरपोर्ट के विस्तार के लिए मिले 50 करोड़

ग्वालियर
राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का आग्रह मानते हुए केंद्र सरकार ने एमपी में ग्वालियर के एयरपोर्ट के विस्तार को मंजूरी दे दी है। केंद्रीय विमानन मंत्री हरदीप पुरी ने इसके लिए 50 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं। सिंधिया ने गुरुवार को ट्वीट कर इसके बारे में जानकारी दी। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने हरदीप पुरी को धन्यवाद देते हुए उम्मीद जताई है कि इससे क्षेत्र में एयर कनेक्टिविटी बढ़ेगी।

सिंधिया ने बीते 10 और 16 फरवरी को हरदीप पुरी को 2 चिट्ठियां लिखी थीं। एक सप्ताह के अंदर केंद्र सरकार ने उनकी दोनों मांगें मान ली। सिंधिया ने कहा था कि ग्वालियर में यात्रियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए एयरपोर्ट का विस्तार जरूरी है। उन्होंने ग्वालियर और मुंबई के बीच फ्लाइट शुरू करने का अनुरोध किया था। उन्होंने बताया कि गुरुवार को मुलाकात के दौरान हरदीप पुरी ने उनकी दोनों मांगें मान ली हैं।

ग्वालियर एयरपोर्ट के विस्तार की मांग वर्षों से हो रही थी। केंद्र सरकार ने एक सप्ताह के अंदर सिंधिया का आग्रह मानते हुए एयरपोर्ट के विस्तार के लिए 50 करोड़ रुपये स्वीकृत करने के साथ ग्वालियर से मुंबई के बीच सप्ताह में तीन दिन फ्लाइट शुरू करने के भी निर्देश दिए हैं। सिंधिया ने गुरुवार को हरदीप पुरी से मुलाकात के ठीक बाद विमानन मंत्रालय के इस फैसले की जानकारी दी।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एयरपोर्ट के विस्तार को मंजूरी देने के लिए केंद्र सरकार के फैसले का स्वागत किया है। शिवराज ने ट्वीट कर उम्मीद जताई है कि इससे एयर कनेक्टिविटी बढ़ने के साथ क्षेत्र के विकास को भी गति मिलेगी।

मेडिकल कॉलेजों में पैसे लेकर एडमिशन: साइबर पुलिस ने 12 जगहों पर मारे छापे, 2 युवती और 1 युवक हिरासत में

भोपाल साइबर पुलिस ने इंदौर में अलग-अलग 12 जगहों पर छापे मारे। गुरुवार देर रात टीम ने 2 युवती समेत 3 को हिरासत में लिया है। मामला मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की सीटें पैसे लेकर दिलाने से जुड़ा है।दोनों युवतियों ने एडमिशन के नाम पर अलग-अलग खातों में पैसा लिया था, जिसमें से कुछ खाते इंदौर से पकड़ाए लोगों के हैं। इस चर्चित मामले में कई आरोपी हैं।

देर रात भोपाल साइबर सेल की टीम इंदौर पहुंची थी, यहां एक दर्जन जगहों पर छापे मारे गए। इस कार्रवाई में 2 युवती और एक युवक को हिरासत में भी लिया । दरअसल पिछले दिनों एमबीबीएस में एडमिशन दिलवाने के नाम पर ठगी का मामला सामने आया था। इसकी जांच भोपाल साइबर पुलिस कर रही थी। कई नामी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन दिलवाने के नाम पर ठगी की गई है।

ऑनलाइन खातों की जांच
साइबर सेल पुलिस ने शिकायत मिलने के बाद ऑनलाइन खातों की जांच की और इंदौर में ठगों की धरपकड़ के लिए स्थानीय पुलिस की मदद से छापे मारे। छापे की खबर लगते ही अधिकतर ठग फरार हो गए। सिर्फ दो युवती और एक युवक पुलिस के हाथ लगे। इनसे भोपाल में पूछताछ होगी।

घर में मौजूद बुरी शक्तियों को दूर करने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय, पैसों की तंगी होगी खत्म और खुशियों से भर जाएगा घर

ज्योतिषशास्त्रों में नकारात्मक और सकारात्मक शक्तियों के बारे में बताया गया है. ये दोनों तरह की शक्तियां हमारे और आपके घरों में और उसके आसपास घूमती रहती हैं. लेकिन घर मौजूद कुछ चीजें पॉजिटिव एनर्जी का संचार करती हैं. लेकिन कुछ ऐसी चीजें हमारे घर में नकारात्मक शक्तियों को बढ़ा देते हैं जो हमारे पूरे परिवार की किस्मत पर भारी पड़ जाता है. ऐसे में हमें तब तक राहत नहीं मिलती जब तक कि ये नकारात्मक शक्तियां घर से निकल नहीं जाती. आज हम आपको ऐसे कुछ उपाय बताने जा रहे हैं जो आपके घर में मौजूद नकारात्मक शक्तियों को खत्म कर देंगे या फिर उन्हें आने नहीं देंगे.

नकारात्मक शक्तियों को समाप्त करने के लिए आपके घर में मौजूद कुछ चीजों का प्रयोग करना होगा. सबसे पहले बात करते हैं नमक की. नमक एक ऐसी वस्तु है जिसका प्रयोग खाने के साथ-साथ घर की नेगेटिव शक्तियों के समाप्त करने के लिए भी किया जा सकता है. अब बात आती है कि नकारात्मक शक्तियों को नमक से कैसे समाप्त किया जाए.

ऐसे करें घर की नकारात्मक शक्तियां दूर-

सबसे पहले कांच के एक बाउल में थोड़ा सा समुद्री नमक लें और उसमें 4-5 लौंग डालकर उस कांच के बाउल को घर के किसी भी कोने में रख दें. इस उपाय को करने से न सिर्फ आपके घर से पैसों की तंगी दूर होगी, बल्कि आपके घर में सकारात्‍मक ऊर्जा का संचार बढ़ेगा और घर की हर चीज में भारी बरकत आएगी. इसके साथ ही आपके घर के माहौल में सुख और सौहार्द भी पैदा होगा. इसके अलावा लौंग और नमक का पानी यदि आप अपने घर में छिड़कते हैं तो आपके पूरे घर में एक अलग प्रकार की भीनी भीनी महक रहेगी. जो कि पूरे माहौल को खुशनुमा कर देगी जो परिवारों वालों को पसंद भी आएगी.

अगर आपके बाथरूम में कोई वास्‍तुदोष है तो थोड़ा सा डले यानी साबुत नमक लेकर एक कांच के बाउल में डालकर एक कोने में रख दें. ऐसे स्‍थान पर रखें जहां कोई इसे छू न सके. कुछ-कुछ समय के बाद इस नमक को बदलते रहें. ऐसा करने से आपके बाथरूम से सभी प्रकार के दोष समाप्‍त हो जाएंगे. बाथरूम में नमक रखने से आपका स्‍वास्‍थ्‍य भी बेहतर रहता है और आप मानसिक परेशानियों से दूर रहते हैं. यह आपके घर से नकारात्‍मक ऊर्जा को समाप्त करता है. इसके साथ ही अगर आपका मन बहुत उदास रहता है और आप भीतर से थकान या फिर बुझा हुआ महसूस करते हैं तो बाथरूम में जाकर नमक के पानी से स्‍नान करना शुभफल दायक होता है.

ऐसा करके आप फिर से खुद को तरोताजा और ऊर्जान्वित महसूस करने लगेंगे. इससे आपकी सारी थकान और उदासी भी दूर हो जाएगी. ये उपाय आपके दिमाग से सारी नेगेटिविटी दूर कर देंगे. वास्‍तु में नमक के महत्‍व को बहुत ही खास माना गया है. इसीलिए अगर आप नमक को थोड़े से पानी के साथ मिक्‍स करके घर में जगह-जगह रख सकते हैं और सभी दिशाओं में रख सकते हैं. तो ये शुभफल देता है. लेकिन इसके लिए ध्‍यान देने वाली बात ये है कि जब इस पानी को बदलें तो यह घर में कहीं भी गिरना नहीं चाहिए. 

इसे आप किचन के सिंक में या फिर टॉयलेट में ही फ्लश कर सकते हैं. ऐसा माना जाता है कि घर में रखी मूर्तियां या फिर अन्‍य धातु के बने सजावटी सामान देखते-देखते काफी डल हो जाते हैं. ऐसे में जरूरी है कि बीच-बीच में इन्‍हें नमक से साफ करते रहें. ऐसा करने से ये चमकने लगेंगे इनमें दोबारा से नई पॉजिटिविटी आ जाएगी.

Aaj Ka Panchang: 20 फरवरी 2021 पंचांग- गुप्त नवरात्रि की अष्टमी आज, जानें शुभ और अशुभ समय


Aaj Ka Panchang, Gupt Navratri Navami Today- 20 फरवरी 2021 पंचांग- गुप्त नवरात्रि की नवमी आज, जानें शुभ और अशुभ समय…


आज का पंचांग (Aaj Ka Panchang) 20 February: आज 20 फरवरी है. आज गुप्त नवरात्रि की नवमी है. नवमी के दिन नवीं महाविद्या मातंगी माता की पूजा अर्चना करने का विधान है. मातंगी माता का व्रत नहीं रखा जाता है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, मातंगी माता को शिव की शक्ति बताया गया है.मतंग भगवान शिव का नाम है. गृहस्थ जीवन को सुखमय बनाने, असुरों को मोहित करने और साधकों को इच्छित फल देने वाली देवी बताया गया है. मातंगी माता को जूठन का ही भोग लगाया जाता है.आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी रहेगी आज ग्रहों की चाल…

20 फरवरी 2021

आज का पंचांग
आज की तिथि – अष्टमी – 13:33:13 तक

आज का नक्षत्र – रोहिणी – पूर्ण रात्रि तक

आज का करण – बव – 13:33:13 तक, बालव – 26:42:16 तक

आज का पक्ष – शुक्ल

आज का योग – वैधृति – 29:14:00 तक

Advertisement

आज का वार – शनिवार

आज  सूर्योदय-सूर्यास्त और चंद्रोदय-चंद्रास्त का समय
सूर्योदय – 06:55:41

सूर्यास्त – 18:14:38

चन्द्रोदय – 11:52:59

चन्द्रास्त – 25:59:00

चन्द्र राशि – वृषभ
हिन्दू मास एवं वर्ष

शक सम्वत – 1942   शार्वरी

विक्रम सम्वत – 2077

काली सम्वत – 5122

दिन काल – 11:18:57

मास अमांत – माघ

मास पूर्णिमांत – माघ

शुभ समय – 12:12:31 से 12:57:47 तक

अशुभ समय (अशुभ मुहूर्त)

दुष्टमुहूर्त – 06:55:41 से 07:40:56 तक, 07:40:56 से 08:26:12 तक

कुलिक – 07:40:56 से 08:26:12 तक

कंटक – 12:12:31 से 12:57:47 तक

राहु काल – 09:45:25 से 11:10:17 तक

कालवेला / अर्द्धयाम – 13:43:03 से 14:28:18 तक

यमघण्ट – 15:13:34 से 15:58:50 तक

यमगण्ड – 14:00:01 से 15:24:53 तक

गुलिक काल – 06:55:41 से 08:20:33 तक.