ग्वालियर रेलवे स्टेशन के विकास में खर्च होंगे 700 से 800 करोड़ रूपए, निरीक्षण कर बोले उत्तर मध्य रेलवे महाप्रबंधक

ग्वालियर। ग्वालियर रेलवे स्टेशन के वार्षिक निरीक्षण के लिए पहंुचे उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रबंधक विनय त्रिपाठी ने कहा कि ग्वालियर रेलवे स्टेशन का सात से आठ सौ करोड़ रूपए में विकास किया जाना है जिसके लिए उनहेाने जरूरी तैयारियों की समीक्षा की है इसके साथ ही उन्हेाने कहा कि कोरोना काल के बाद जैसे-जैसे मंाग हो रही है ट्रेनों की संख्या बढाई जा रही है।
धौलपुर से झांसी तक रेल खंड का वार्षिक निरीक्षण करने आए उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रबंधक विनय त्रिपाठी ग्वालियर रेलवे स्टेशन का निरीक्षण करने भी पहंुचे पूरे दौरे के दौरान उनहोने ग्वालियर को सबसे अधिक समय दिया और यहंा उनहोने रेलवे स्टेशन का निरीक्षण करने के अलावा रनिंग रूम, क्रू लॉबी, आरआरआई केबिन, रेलवे यार्ड और पश्चिम रेलवे काॅलोनी को भी देखा साथ ही ग्वालियर में प्लेटफार्म नंबर-1 पर आईआरएसडीसी मॉडल का लोकार्पण भी किया। इस दौरान पत्रकारों से चर्चा करते हुए उन्हेाने कहा कि देशभर में करीब सौ से अधिक रेलवे स्टेशनों को नया लुक दिया जा रहा है। इनमें ग्वालियर का रेलवे स्टेशन भी शामिल है। ग्वालियर रेलवे स्टेशन को आइआरएसडीसी द्वारा विकसित किया जाएगा। ग्वालियर रेलवे स्टेशन के विकास में सात सौ से आठ सौ करोड़ रूपए खर्च होने की संभावना है जिसके लिए उनहोने अधिकारियों से चर्चा कर प्रजेंटेशन भी देखा है।
रेलवे महाप्रबंधक ने कहा कि कोरोना काल के बाद धीरे-धीरे मंाग के अनुरूप ट्रेनें संचालित की जाएंगी भारत में अभी रेलवे पूरी सावधानी बरत रहा है। आगे जैसा सरकार का निर्देश आएगा वैसा ही कार्य किया जाएगा।

महंगाई पर कांग्रेस का विरोध:कमलनाथ ने कहा- कल MP बंद रहेगा; पेट्रोल की बढ़ती कीमतों को लेकर सड़कों पर उतरेंगे

पेट्रोल-डीजल और गैस की बढ़ती कीमतों को लेकर कांग्रेस शनिवार को प्रदर्शन करेगी। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कल यानी 20 फरवरी को प्रदेश में आधे दिन के बंद का आह्वान किया है। इस दौरान आवश्यक वस्तुओं को छोड़कर प्रदेश में सभी कुछ बंद करने की बात कांग्रेस ने कही है। यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ता इसके लिए अभियान चला रहे हैं।

आज दिन भर कार्यकर्ता मार्केट में घूम-घूमकर व्यापारियों से अपनी दुकानें बंद रखने का आह्वान करेंगे। इसके साथ ही उनसे बंद के समर्थन में सहमति भी ली जा रही है। युवा कांग्रेस मध्यप्रदेश मीडिया विभाग के अध्यक्ष विवेक त्रिपाठी ने कहा कि कमलनाथ के आह्वान पर हम प्रदेश भर में शांति पूर्ण बंद करेंगे।

सरकार वसूली में लगी हुई है

नाथ ने वीडियो जारी कर कहा कि पेट्रो पदार्थों की बढ़ती कीमतों से जनता परेशान हो रही है। सरकार जनता को राहत पहुंचाने के बजाय टैक्स वसूली में लगी है। सरकार के खिलाफ और आम लोगों को राहत देने के इरादे से कांग्रेस ने 20 फरवरी को मध्यप्रदेश बंद का आह्वान किया है। मैं सबसे अपील करता हूं कि इस बंद में शामिल होकर सरकार को जगाने में साथ दें।

जबरन बंद नहीं कराएगी कांग्रेस

विवेक त्रिपाठी ने बताया कि यह बंद शनिवार दोपहर तक रहेगा। इस दौरान हम जबरन बंद नहीं कराएंगे। यह पूरी तरह से शांतिपूर्ण रहेगा। व्यापारियों से इसके समर्थन में बंद करने का अनुरोध करेंगे। हमने आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं को बंद से बाहर रखा है।

सिर्फ किराने, बर्तन, इलेक्ट्राॅनिक और अन्य तरह के दुकानदारों से अपना कारोबार शनिवार दोपहर बंद रखने के लिए कह रहे हैं। बड़ी संख्या में व्यापारियों ने इसका समर्थन दिया है। वे कल अपनी-अपनी दुकानें और कारोबार बंद रखेंगे।

रेल्वे मंत्रालय की ज़ोनल कमेटी के सदस्य बने धैर्यवर्धन


शिवपुरी ( ) भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता धैर्यवर्धन को रेलवे मंत्रालय भारत सरकार ने ज़ोनल कमेटी का सदस्य मनोनीत कर बड़ी जिम्मेदारी दी है । भाजपा की प्रदेश कार्य समिति के सदस्य शिवपुरी निवासी धैर्यवर्धन को रेल मंत्री पीयूष गोयल ने पश्चिम् मध्य रेल्वे की ज़ोनल रेलवे यूजर्स कन्सलटेटिव कमेटी का सदस्य बनाया है । भिंड भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष संजीव कान्कर् को भी ग्वालियर चम्बल् संभाग से वेस्टर्न सेंट्रल रेलवे ज़ोन में सदस्य बनाया गया है ।
सम्वन्धित ज़ोन में भोपाल, जबलपुर और राजस्थान के कोटा संभाग के लगभग तीन सौ से अधिक रेल स्टेशन आते हैं । राजधानी, शताब्दी, जन शताब्दी, गरीब रथ, दुरन्तो एक्सप्रेस सहित लगभग एक हज़ार गाड़ियां का सन्चालन होने वाले इस ज़ोन में भोपाल का कोच पुनर्निमाण कारखाना एवं कोटा का वैगन मरम्मत कारखाना जैसी महत्वपूर्ण इकाइयाँ भी है ।
यदि शिवपुरी रेलवे की दृष्टि से समझा जाए तो भोपाल, जबलपुर, कोटा,‌ दमोह, कटनी, सागर,‌ सतना, रीवा, गुना, अशोकनगर, भिंड, हरदा, नरसिंह्पुर, मैहर, पिपरिया, चित्रकूट, सान्ची, विदिशा, इटारसी, गञ्बासौदा, मंडीदीप, टिमरनी, रुठियाई, छ्बडा, सवाईमाधौपुर , भरतपुर, गंगापुर सिटी आदि क्षेत्र प्राथमिकता में रहेंगे ।
भाजपा के वरिष्ठ नेता धैर्यवर्धन ने अपने मनोनयन् पर केन्द्रीय् एवं प्रदेश नेतृत्व का आभार मानते हुए भरोसा दिलाया है कि वे रेलवे के विकास एवं रेल उपभोक्ताओ को अधिकाधिक सुविधा उपलब्ध कराने हेतु अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देने का यथाशक्ति प्रयास करेंगे ।उन्होंने गणमान्य नागरिको से इस सम्वन्ध् में आवश्यक् सुझाव और मार्गदर्शन प्रदान किये जाने का विनम्र अनुरोध किया है । शिवपुरी के विकास की दृष्टि से अखिल भारतीय स्तर की जिम्मेदारी मिलने से अन्चलवासियों में हर्ष व्याप्त् है । लोगो में यह चर्चा है कि स्थानीय व्यक्ति के मनोनयन से शिवपुरी की बात रेलवे बोर्ड और रैल्वे मन्त्रालय में अब पुरजोर ढंग से उठाई जायेगी ।

सादर प्रकाश्नार्थ् ।

नासा का मंगल मिशन कामयाब:पर्सीवरेंस रोवर मार्स के जजीरो क्रेटर पर उतरा

अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा का पर्सीवरेंस मार्स रोवर (Perseverance Rover) गुरुवार को मंगल (Mars) पर जीवन की तलाश के लिए उतरा। इसने भारतीय समय के अनुसार, गुरुवार और शुक्रवार की दरमियानी रात करीब दो बजे मार्स की सबसे खतरनाक सतह जजीरो क्रेटर पर लैंडिंग की। इस सतह पर कभी पानी हुआ करता था। नासा ने दावा किया है कि यह अब तक के इतिहास में रोवर की मार्स पर सबसे सटीक लैंडिंग है। पर्सीवरेंस रोवर लाल ग्रह से चट्‌टानों के नमूने भी लेकर आएगा।

6 पहियाें वाला रोबोट सात महीने में 47 करोड़ किलोमीटर की यात्रा पूरी कर तेजी से अपने लक्ष्य के करीब पहुंचा। आखिरी सात मिनट बेहद मुश्किल और खतरनाक रहे। इस वक्त यह सिर्फ 7 मिनट में 12 हजार मील प्रतिघंटे से 0 की रफ्तार पर आया। इसके बाद लैंडिंग हुई। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने भी अपने ऑफिस में यह लैंडिंग देखी।

पर्सीवरेंस मार्स रोवर और इंजीन्यूटी हेलिकॉप्टर मंगल ग्रह पर कार्बन डाई-ऑक्साइड से ऑक्सीजन बनाने का काम करेंगे। यह जमीन के नीचे जीवन संकेतों के अलावा पानी की खोज और उनसे संबंधित जांच भी करेगा। इसका मार्स एनवायर्नमेंटल डायनामिक्स ऐनालाइजर (MEDA) मंगल ग्रह के मौसम और जलवायु का अध्ययन करेगा।

जजीरो क्रेटर पर था टचडाउन जोन
नासा ने जजीरो क्रेटर को ही रोवर का टचडाउन जोन बनाया था। राबोट ने यहीं लैंड किया। अब यह यहीं से सैटेलाइट कैमरे के जरिए पूरी जानकारी जुटाएगा और फिर इसे नासा को भेजेगा। यह मिशन अब तक का सबसे एडवांस्ड रोबॉटिक एक्सप्लोरर है। वैज्ञानिकों ने मुताबिक, जजीरो क्रेटर मंगल ग्रह का वह सतह है, जहां कभी विशाल झील हुआ करती थी। यानी यहां पानी होने की जानकारी पुख्ता तौर पर मिल चुकी है। वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि अगर मंगल पर कभी जीवन था, तो उसके संकेत यहां जीवाश्म के रूप में मिल सकेंगे।

सेना की बड़ी कामयाबी, शोपियां मुठभेड़ में लश्कर के तीन आतंकी ढेर

सेना ने जम्मू-कश्मीर में बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए लश्कर के तीन आतंकियों को ढेर कर दिया है। बीती देर रात से जारी इस मुठभेड़ में एक जवान के शहीद होने की सूचना है। जानकारी के मुताबिक, सेना को खुफिया जानकारी मिली की शोपियां में आतंकी छिपे बैठे हैं। सेना ने मोर्चा संभाला तो दूसरी तरफ से गोलीबारी शुरू हो गई। शुक्रवार सुबह तीन आतंकियों के मारे जाने के साथ ही मुठभेड़ खत्म हो गई। तीनों लश्कर के आतंकी हैं। सेना ने पूरे इलाके में गहन सर्च अभियान चलाया है। शोपियां के बादीगाम में दो वर्षों में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच दूसरी मुठभेड़ है। इससे पूर्व पांच मई 2018 को बादीगाम में सुरक्षाबलों ने हिजबुल मुजाहिदीन के कुख्यात आतंकी सद्दाम पडर समेत पांच आतंकियों को भीषण मुठभेड़ में मार गिराया था।

मनरेगा का वार्षिक लक्ष्य बढ़ कर हुआ 33 करोड़ मानव दिवस

ग्वालियर/ भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए मनरेगा अंतर्गत मध्यप्रदेश का वार्षिक लेबर बजट रिवाइज कर 33 करोड़ मानव दिवस का किया है। मनरेगा अंतर्गत अब प्रदेश में 33 करोड़ मानव दिवस सृजित करने का लक्ष्य हो गया है, जिसे 31 मार्च 2021 तक पूरा करना होगा।
अपर मुख्य सचिव, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग श्री मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि पूर्व में वर्ष 2020-21 के लिए भारत सरकार द्वारा 20 करोड़ 50 लाख मानव दिवस का लक्ष्य रखा गया था। प्रदेश में कोराना काल में मनरेगा श्रमिकों को हर हाथ को काम मुहैया कराकर इस लक्ष्य को माह सितम्बर 2020 में प्राप्त कर लिया था। जिसे भारत सरकार ने पुनरीक्षित कर 28 करोड़ 50 लाख मानव दिवस कर दिया था। प्रदेश द्वारा 28 करोड़ 50 लाख मानव दिवस के लक्ष्य को 25 जनवरी 2021 तक हासिल कर लिया। भारत सरकार द्वारा पुनर्लक्षित करते हुए 31 करोड़ मानव दिवस का कर दिया था। मध्यप्रदेश में 18 फरवरी की स्थिति में 30 करोड़ 63 लाख मानव दिवस सृजित हो चुके है।
भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय के साथ गुरूवार को आयोजित हुयी वीडियो कॉन्फ्रेंस में केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा मघ्यप्रदेश में मनरेगा के पूर्व लक्ष्य 31 करोड़ मानव दिवस को को संशोधित करते हुए 33 करोड़ मानव दिवस कर दिया है। दो करोड़ मानव दिवस का लक्ष्य बढ़ जाने से प्रदेश के ग्रामीण परिवारों को जहाँ रोजगार के अतिरिक्त अवसर मुहैया होंगे वहीं मनरेगा में काम करने वाले श्रमिकों को 380 करोड़ रूपये मजदूरी के रूप में अतिरिक्त प्राप्त होंगे।
प्रदेश में मनरेगा अन्तर्गत ग्रामीण जॉब-कार्डधारी परिवारों को हर हाथ को काम मुहैया कराया जा रहा है। वित्तीय वर्ष 2020-21 अंतर्गत 52 लाख 47 हजार परिवारों के 98 लाख 79 हजार श्रमिकों को 30 करोड़ 63 लाख मानव दिवस का रोजगार मुहैया कराया जा चुका है। कोविड काल में मनरेगा अंतर्गत सृजित मानव दिवस योजना प्रारंभ से अब-तक के वर्षों में रिकार्ड सर्वाधिक है। मनरेगा के तहत कोविड काल, वर्ष 2020-21 में 6 लाख 45 हजार हितग्राही मूलक और सामुदायिक कार्य पूर्ण किये जा चुके हैं। वर्तमान में 6 लाख 74 हजार कार्य प्रगतिरत हैं।

सीएम हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का त्वरित करें निराकरण: निगमायुक्त

ग्वालियर ।-  सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों का त्वरित करें निराकरण अन्यथा कार्यवाही के लिए तैयार रहें। उक्ताशय के निर्देश नगर निगम आयुक्त श्री शिवम वर्मा ने आज सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों की समीक्षा करते हुए व्यक्त किए।
उपायुक्त एवं नोडल अधिकारी सीएम हेल्पलाइन डा प्रदीप श्रीवास्तव ने निगमायुक्त श्री वर्मा को जानकारी देते हुए बताया कि नगर निगम ग्वालियर की सीएम हेप्ललाइन में रेटिंग होने वाली है, लेकिन अनेक अधिकारियों की शिकायतें अभी लंबित पडी हैं जिस पर निगमायुक्त श्री वर्मा ने समीक्षा करते हुए ऐसे सभी अधिकारियों जिनकी जनवरी माह की 20 से अधिक शिकायतें लंबित हैं, उन्हें 24 घंटे के अंदर शिकायतों का निराकरण करने के निर्देश दिए। जिन अधिकारियों की 20 से अधिक शिकायतें लंबित हैं उनमें श्री विष्णु पाल सब इंजीनियर पीएचई, श्रीमती अभिलाषा बघेल सभी इंजीनियर विद्युत, श्री अजय शर्मा क्षेत्राधिकारी, श्री राम बाबू दिनकर सब इंजीनियर विद्युत, श्री धर्मेंद्र परमार स्वच्छता निरीक्षक, श्री केवल सिंह यादव सब इंजीनियर विद्युत, श्री विवेक त्यागी स्वच्छता निरीक्षक, श्री दीपेंद्र सिंह सेंगर स्वच्छता निरीक्षक , श्री श्रवण कुमार स्वच्छता निरीक्षक, श्री राजेश श्रीवास्तव उपयंत्री पीएचई, श्री संदीप श्रीवास्तव उपयंत्री पीएचई, श्री अभिनव कुमार तिवारी उपयंत्री विद्युत एवं श्री राजेश शर्मा उपयंत्री पी एच ई शामिल हैं।

यौन उत्पीड़न केस:सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के खिलाफ मामला बंद किया, कहा- साजिश से इनकार नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व चीफ जस्टिस (CJI) रंजन गोगोई के खिलाफ यौन उत्पीड़न मामले में खुद के नोटिस (स्वत: संज्ञान) पर शुरू की गई सुनवाई को बंद कर दिया है। अदालत ने कहा कि केस को दो साल बीत चुके हैं और साजिश की जांच में इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड हासिल करने की संभावना बहुत कम रह गई है। सुप्रीम कोर्ट के वकील उत्सव बैंस ने जस्टिस गोगोई पर लगे यौन शोषण के आरोपों के पीछे साजिश होने का दावा किया था।

जस्टिस संजय किशन कौल की अगुआई वाली बेंच ने इस मामले में 1 साल 9 महीने बाद गुरुवार को सुनवाई शुरू की थी। कोर्ट ने यह फैसला पूर्व जस्टिस एके पटनायक की रिपोर्ट के आधार पर किया। उन्हें साजिश की जांच करने का काम सौंपा गया था।

अदालत ने कहा कि जस्टिस पटनायक की रिपोर्ट में साजिश को स्वीकार किया गया है और इसे खारिज नहीं किया जा सकता। दरअसल, जस्टिस गोगोई ने CJI रहते हुए कुछ कड़े फैसले किए जो साजिश को बल देते हैं। रिपोर्ट में एक इंटेलिजेंस ब्यूरो के इनपुट का हवाला भी है। इसमें बताया गया है कि असम में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (NRC) को आगे बढ़ाने की वजह से कई लोग जस्टिस गोगोई से नाखुश थे।

करीब दो साल पहले शुरू हुई थी सुनवाई
इस मामले की अंतिम सुनवाई 25 अप्रैल 2019 को जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस रोहिंटन फली नरीमन और जस्टिस दीपक गुप्ता की बेंच ने की थी। तब अदालत ने इसकी जांच करने का फैसला किया था कि ये आरोप CJI और कोर्ट की गरिमा को नुकसान पहुंचाने की साजिश तो नहीं है।

सुप्रीम कोर्ट की पूर्व कर्मचारी ने लगाया था आरोप
सुप्रीम कोर्ट की एक पूर्व महिला कर्मचारी ने पूर्व चीफ जस्टिस गोगोई पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। यह महिला 2018 में जस्टिस गोगोई के आवास पर बतौर जूनियर कोर्ट असिस्टेंट पदस्थ थी। महिला का दावा था कि बाद में उसे नौकरी से हटा दिया गया था।

महिला ने अपने हलफनामे की कॉपी 22 जजों को भेजी थी। इसी आधार पर चार वेब पोर्टल्स ने चीफ जस्टिस के बारे में खबर प्रकाशित की। अप्रैल 2019 में मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू हुई थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाबाहु-ब्रह्मपुत्र प्रोजेक्ट की शुरुआत की, 680 किमी की दूरी घटकर 43 किमी रह जाएगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कई सौगातें दीं। उन्होंने महाबाहु-ब्रह्मपुत्र प्रोजेक्ट की शुरुआत की। इस प्रोजेक्ट के तहत नीमाटी-माजुली द्वीप, उत्तरी गुवाहाटी-दक्षिण गुवाहाटी और धुबरी-हाटसिंगिमारी के बीच रो-पैक्स पोत चल सकेगा। अभी रोड के जरिए इन इलाकों की दूरी तय करने के लिए करीब 680 किलोमीटर सफर करना पड़ता है। इस प्रोजेक्ट के शुरू होने से ये दूरी घटकर महज 43 किलोमीटर रह जाएगी।

‘महाबाहु-ब्रह्मपुत्र’ प्रोजेक्ट से असम को क्या फायदा होगा ?

नेमाटी और माजुली के बीच करीब 420 किलोमीटर की दूरी कम होकर केवल 12 किलोमीटर रह जाएगी।उत्तर और दक्षिण गुवाहाटी के बीच लगभग 40 किलोमीटर की दूरी घटकर केवल 3 किलोमीटर रह जाएगी।धुबरी और हाटसिंगीमारी के बीच एमवी बॉब खातिंग तक 220 किलोमीटर की दूरी कम होकर 28 किलोमीटर ही रह जाएगी।यहां के लघु उद्योगों को भी काफी फायदा मिलेगा। कम समय में वह अपने माल एक से दूसरी जगह तक पहुंचा सकेंगे।

मोदी ने इन प्रोजेक्ट्स की नींव रखी

धुबरी फूलबाड़ी ब्रिजमाजुली पुल के निर्माण के लिए भूमिपूजन कियाजोगीघोपा में इंटरनेशनल वॉटर ट्रांसपोर्टेशन (IWT) टर्मिनल का शिलान्यासब्रह्मपुत्र नदी पर कई तरह के टूरिज्म पॉइंट्स की शुरुआतईज ऑफ डूइंग-बिजनेस के लिए डिजिटल प्रॉब्लम सॉल्विंग सिस्टम का शुभारंभ

इसी साल असम में होने हैं चुनाव
असम में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में केंद्र की भाजपा सरकार ने पूरी ताकत लगा दी है। असम में भी अभी भाजपा की सरकार ही है। ऐसे में पार्टी की पूरी कोशिश है कि इस बार भी ये जीत बरकरार रहे। यही कारण है कि पिछले 10 के अंदर प्रधानमंत्री दूसरी बार असम की जनता को संबोधित करेंगे। इसके पहले उन्होंने 7 फरवरी को असम में आयोजित एक कार्यक्रम में शिरकत की थी। असम के अलावा इस साल पश्चिम बंगाल, पुडुचेरी, तमिलनाडु और केरल में भी विधानसभा चुनाव होने हैं।