कृषि कानूनों पर अमेरिका ने किया भारत का समर्थन, कहा- इससे बढ़ेगा दुनिया में भारतीय बाजार का प्रभाव

वाशिंगटन, प्रेट्र। अमेरिका ने भारत के नए कृषि कानूनों का स्वागत किया है। अमेरिका ने कहा है कि वह ऐसे कदम का स्वागत करता है जिससे दुनिया में भारतीय बाजार का प्रभाव बढ़े। यह स्वीकार करते हुए कि कृषि कानूनों पर शांतिपूर्ण विरोध एक संपन्न लोकतंत्र की एक बानगी है, अमेरिका ने बुधवार को कहा कि वह ऐसे कदमों का स्वागत करता है जो भारत के बाजारों की दक्षता में सुधार करेंगे और निजी क्षेत्र के अधिक निवेश को आकर्षित करेंगे।

विदेश विभाग के एक प्रवक्ता ने संकेत दिया कि नई बाइडन सरकार कृषि क्षेत्र में सुधार के लिए भारत सरकार के कदम का समर्थन करती है, जो किसानों के लिए निजी निवेश और अधिक बाजार पहुंच को आकर्षित करती है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा कि सामान्य तौर पर अमेरिका ऐसे कदमों का स्वागत करता है जो भारत के बाजारों की दक्षता में सुधार करेंगे और निजी क्षेत्र के निवेश को आकर्षित करेंगे।

भारत में चल रहे किसानों के विरोध प्रदर्शन को लेकर किए गए एक सवाल के जवाब में अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा कि अमेरिका, भारत के अंदर बातचीत के माध्यम से पार्टियों के बीच किसी भी मतभेद को हल किया जाने के पक्ष में है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि हम मानते हैं कि शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन किसी भी संपन्न लोकतंत्र की पहचान है और भारत की सर्वोच्च न्यायालय ने भी यही कहा है।

आइएमएफ भी कर चुका है भारत का समर्थन

हाल ही में, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने कहा कि भारत के नए कृषि कानूनों को कृषि क्षेत्र में सुधारों के लिए एक महत्वपूर्ण कदम बताया था। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की कम्युनिकेशन निदेशक गेरी राइस ने पिछले महीने संवाददाताओं से कहा था कि हम मानते हैं कि भारत में कृषि सुधारों के लिए खेत के बिल एक महत्वपूर्ण कदम का प्रतिनिधित्व करने की क्षमता रखते हैं। यह उपाय किसानों को विक्रेताओं के साथ सीधे अनुबंध करने में सक्षम बनाएगा, जिससे किसानों को बिचौलियों की भूमिका को कम करके अधिशेष के अधिक से अधिक हिस्से को बनाए रखने की अनुमति मिलेगी।

अमेरिका में विरोध में भी उठे स्वर

एक तरफ जहां, अमेरिका की नई बाइडन सरकार भारत के समर्थन में नजर आ रही है तो इसी बीच भारत में किसान आंदोलन के समर्थन में भी कई अमेरिकी कानूनविद् सामने आए हैं। अमेरिकी कांग्रेस की हेली स्टीवंस ने कहा कि मैं भारत में नए कृषि सुधार कानूनों का विरोध करने वाले शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कथित कार्रवाई से चिंतित हूं। इसके अलावा कई और नेता भी किसान आंदोलन के साथ खड़े नजर आए।

भारत के डिफेंस बजट से पाकिस्तान में मचा हाहाकार, इमरान को कोस रहे पाकिस्तानी

इस्लामाबाद: भारत ने अपना डिफेंस बजट कितना बढ़ाया इसको लेकर देश में कंफ्यूजन फैलाने की कोशिश हुई। राहुल गांधी ने सवाल उठाए, बोले बॉर्डर पर तनाव है बावजूद इसके रक्षा बजट क्यों नहीं बढ़ाया लेकिन उसी डिफेंस बजट के चलते पाकिस्तानी मीडिया में दहशत फैल गई है। मोदी सरकार के रक्षा बजट के आंकड़ों को सुन कर पाकिस्तान में मातम फैला हुआ है। हर टीवी चैनल पर हाहाकार मचा है। पाकिस्तान के बड़े बड़े पॉलिटिकल और डिफेंस एनालिस्ट तज्ज़िया कर रहे हैं, पाकिस्तान का क्या होगा।

पाकिस्तान के पेट में दर्द भारत के सिर्फ रक्षा बजट को लेकर ही नहीं है। कोरोना काल में इंडियन इकॉनमी की वी-सेप ग्राफ की बढ़ती ऊंचाई देख कर पाकिस्तान को जलन हो रही है। पाकिस्तान में इसे लेकर भी पैनिक मचा हुआ है। विदेशी कर्ज में सिर से पैर तक डूब चुका पाकिस्तान किस कदर कंगाल हो चुका है इससे पाकिस्तानी एक्सपर्ट बहुत ही अच्छे से वाकिफ हैं। मीडिया में वो बड़ी ही बेबाकी से आवाम को बता रहे हैं कि कैसे भ्रष्टाचार के चलते पाकिस्तान की इकॉनमी गोते लगा कही है।

बता दें कि भारत ने 4 लाख 78 हज़ार करोड़ रक्षा बजट में सेना के नए हथियारों के लिये एक लाख 35 हजार करोड़ की रकम दी गई है। पिछले साल ये रकम करीब एक लाख 14 हजार करोड़ थी। यानी नए हथियारों के मद में 21 हज़ार करोड़ रुपये का इज़ाफ़ा किया गया है। अब हथियार खरीद के लिये 18 फीसदी अधिक धन दिया गया है जो पाकिस्तान की चिंता बढ़ाने वाला है। पिछले साल भारतीय सेनाओं को नये हथियारों के लिये 20 हजार 700 करोड़ रुपये मिले थे। इस बार ये रक़म 21 हज़ार करोड़ को क्रॉस कर गई है।

इंडियन एयर फोर्स के लिए आधुनिक तेजस खरीदे जाने हैं। नेवी के लिए नई पनडुब्बियां खरीदी जानी है। आर्मी के लिए नए हेलिकॉप्टर,  राइफल और तोप आने वाले हैं जो पाकिस्तान के लिए परेशानी का सबब है। भारत पिछले एक दशक से लगातार अपने डिफेंस बजट को बढ़ा रहा है। 2017-18 में देश का डिफेंस बजट 3 लाख 59 हजार करोड़ था, 2018-19 में ये बढ़कर 4 लाख 4 हजार 365 करोड़ हो गया, 2019-20 में 4 लाख 31 हज़ार 11 करोड़ का डिफेंस बजट पेश किया गया, 2020-21 में बढ़कर 4 लाख 71 हजार 378 करोड़ हो गया है और अब 2021-22 में बढ़ा कर 4 लाख 78  हजार 196 करोड़ रुपये किया गया है।

पाकिस्तान का रक्षा बजट इसके मुकाबले काफी कम है। वो भी तब जब डिफेंस बजट पर ही पाकिस्तान की फौज से लेकर हुक्मराम का जोर रहता है। यही वजह है कि पाकिस्तान नें मातम पसरा हुआ है। उनको अपना फ्यूचर खतरे में लग रहा है।

कांग्रेस के साफ्ट हिंदुत्व की दिग्विजय सिंह व कांतिलाल भूरिया ने निकाली हवा, कमल नाथ की कोशिशों को लगा धक्का

भोपाल, । कांग्रेस की खुद को हिंदू धर्म का करीबी साबित करने की कोशिशों को उसके वरिष्ठ नेताओं ने ही पटरी से उतार दिया है। पहले, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा देने के साथ सवाल उठा कर गलतबयानी की। पीएम मोदी को पत्र लिखकर पूछा था कि अयोध्‍या में राम मंदिर निर्माण के लिए किसे चंदा दूं? अब पार्टी को दुविधा में डालने का काम पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस विधायक कांतिलाल भूरिया ने किया है। 

राम मंदिर निर्माण के लिए चंदे को लेकर दोनों नेताओं ने उठाए सवाल

राम को लेकर विवादास्पद बयान (राम मंदिर के चंदे से दारू पी रहे भाजपाई) के बाद पार्टी बैकफुट पर है। दोनों नेताओं के बयानों ने कई महीनों से साफ्ट हिंदुत्व की राह पर चलकर लोगों का समर्थन जुटाने में लगे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमल नाथ की कोशिशों को झटका दिया है। हनुमान भक्त की छवि गढ़ने में लगे मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ को नगरीय निकाय चुनाव के पहले मुश्किलों की राह पर उनके नेताओं ने ही पीछे धकेल दिया है। कांग्रेस नेताओं के हिंदू विरोधी बयानों ने कांग्रेस के साफ्ट हिंदुत्व पर चलने के अब तक के प्रयासों पर पानी फेर दिया है। 

राहुल गांधी ने भी अपनाया था साफ्ट हिंदुत्व का मार्ग 

ज्ञात हो कि मानसरोवर यात्रा से लौटने के बाद खुद को शिवभक्त बताने वाले कांग्रेस के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने 2018 में मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले चित्रकूट के कामतानाथ मंदिर में पूजा की थी। दरअसल, भाजपा की कट्टर हिंदूवादी छवि से मुकाबला करने के लिए राहुल गांधी ने साफ्ट हिंदुत्व का मार्ग अपनाया था। धर्मनिरपेक्षता का दंभ भरने वाली कांग्रेस ने यहीं से हिंदुत्व की पिच पर बल्लेबाजी शुरू की और मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ सहित पांच राज्यों के चुनाव में हिंदुत्व को ही आधार बनाकर चुनाव लड़ा था। 

मध्य प्रदेश में तो कांग्रेस ने 21 सितंबर 2018 से ‘राम वनगमन पथ यात्रा’ निकाली थी। राहुल गांधी ने चित्रकूट के राम दरबार से हिंदुत्व का जो कार्ड खेला, उससे कांग्रेस को मध्य प्रदेश में सफलता भी मिली थी। हिंदुत्व का कार्ड खेलने में पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी भी पीछे नहीं रहीं। वे भी कई मंदिरों में गई। 

हनुमान भक्त हैं कमल नाथ

राहुल-प्रियंका के हिंदुत्व कार्ड की तुलना में कमल नाथ का रुख हिंदुत्व के प्रति नरम ही रहा है। वे खुद को हनुमान भक्त बताते आए हैं, अपने गृह नगर छिंदवाड़ा में हनुमानजी की विशालकाय मूर्ति लगवाई है। वे हनुमान चालीसा का पाठ भी कराते हैं। मध्य प्रदेश के 2018 के विधानसभा चुनाव में भी कमल नाथ ने घोषणा पत्र में 23 हजार गांवों में गोशालाएं बनवाने और राम वनगमन पथ बनाने की घोषणा की थी। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के भूमिपूजन के दौरान भी कमल नाथ ने कहा था कि मंदिर निर्माण का असली काम राजीव गांधी के कार्यकाल में ही शुरू हुआ था। मंदिर निर्माण के लिए कमल नाथ ने चांदी की 11 ईटें भी भेजी थीं। 

अब पूर्व मंत्री ने किया भूरिया का समर्थन 

अब मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री डा. गोविंद सिंह ने कांतिलाल भूरिया का समर्थन किया है। उन्होंने कहा है कि भाजपा ने 20 साल पहले भी राममंदिर निर्माण की ईटों के लिए चंदा किया था। भाजपा पहले उस चंदे का हिसाब दे। गौरतलब है कि भूरिया भी हिसाब मांग चुके हैं। 

कमल नाथ ने कही यह बात

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ ने कहा कि कांग्रेस एक धर्म प्रेमी पार्टी है। हम सभी धर्मों का सम्मान करते हैं, लेकिन हम कभी भी धर्म का उपयोग राजनीति में नहीं करते। राम मंदिर के निर्माण में हमारी भी आस्था है। हम भी चाहते हैं कि अयोध्या में भगवान राम का भव्य मंदिर बने। भाजपा कुछ भी झूठ परोसती रहे, हमें उससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। 

म्यांमार की तानाशाह सेना को चीन का खुला समर्थन, UNSC में निंदा प्रस्ताव को किया वीटो

संयुक्त राष्ट्र
चीन ने म्यांमार की तानाशाह सेना को खुला समर्थन देते हुए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में निंदा प्रस्ताव को रोक दिया। अमेरिका-ब्रिटेन समेत सुरक्षा परिषद के कई अस्थायी सदस्यों ने म्यांमार में हुए सैन्य तख्तापलट की निंदा करते प्रस्ताव पेश किया था। म्यांमार की सेना ने सोमवार को देश की सबसे बड़ी नेता आंग सान सू की समेत सैकड़ों सांसदों को गिरफ्तार करते हुए सत्ता पर कब्जा कर लिया था। इतना ही नहीं, सेना ने देश में एक साल के लिए आपातकाल का ऐलान भी किया है।

चीन और रूस ने लगाया वीटो
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के कुल पांच स्थायी सदस्य हैं। केवल इन्हें ही किसी भी प्रस्ताव को रोकने के लिए वीटो शक्ति मिली हुई है। इसके अलावा अस्थायी 15 सदस्यों को किसी प्रस्ताव को रोकने का अधिकार नहीं है। चीन ने रूस के साथ मिलकर इसी ताकत का इस्तेमाल करते हुए निंदा प्रस्ताव से असहमति जताते हुए वीटो लगा दिया। म्यांमार में संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत क्रिस्टीन श्रानेर ने भी सैन्य तख्तापलट की निंदा की है।

जी-7 ने भी की म्यांमार की निंदा
उधर जी-7 में शामिल देशों ने भी साझा बयान जारी करते हुए म्यांमार की सेना की निंदा की है। हम आपातकाल की स्थिति को तुरंत समाप्त करने, लोकतांत्रिक रूप से चुनी हुई सरकार को सत्ता बहाल करने, मानव अधिकारों और कानून के शासन का सम्मान करने के लिए सेना से अपील करते हैं। जी-7 देशों में कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, यूके और यूएस शामिल हैं।

चीन ने म्यांमार के निंदा प्रस्ताव को क्यों रोका?
चीन तख्तापलट के बाद से चेतावनी दे रहा है कि प्रतिबंध या अंतरराष्ट्रीय दबाव से ही म्यांमार में हालात और खराब होंगे। इससे पहले भी रोहिंग्याओं के नरसंहार के मामले में चीन ने लंबे समय तक म्यांमार को अंतराष्ट्रीय जांच से बचाया है। चीन अपने पड़ोसी म्यांमार को आर्थिक और सामरिक नजरिए से देखता है। वह न केवल म्यांमार में ब्लेट एंड रोड इनिशिएटिव से अपनी पहुंच बंगाल की खाड़ी तक बनाना चाहता है, बल्कि भारत की भी घेराबंदी करने की प्लानिंग कर रहा है।

म्यांमार की सरकार से नाराज था ड्रैगन

चीन राष्ट्रपति शी जिनपिंग की महत्वकांक्षी योजना सीपीईसी के प्रोजक्ट को मंजूरी देने के लिए म्यांमार पर दबाव बना रहा था। सू की के नेतृत्व वाली सरकार चीन की चाल को समझकर सीपीईसी की योजना को लटकाए हुए थी। चीन ने पहले भी कई बार म्यांमार की नागरिक सरकार को चेतावनी दी थी। दरअसल चीन यूनान प्रांत को म्यांमार के तीन आर्थिक केंद्रों- मंडले, यंगून न्यू सिटी और क्यॉपू स्पेशल इकनॉमिक जोन (SEZ) से जोड़ने की योजना पर काम कर रहा है।

आंग सान सू की सोमवार से नहीं दिखीं
निर्वाचित सरकार का नेतृत्व करने वाली आंग सान सू की सोमवार की सुबह सेना द्वारा हिरासत में लिए जाने के बाद से नहीं देखी गई हैं। दर्जनों अन्य लोग भी हिरासत में हैं, जिनमें राष्ट्रपति विन म्यिंट, उनकी पार्टी की केंद्रीय समिति के सदस्य और उनके निजी वकील शामिल थे। उन्हें कथित तौर पर हाउस अरेस्ट के तहत रखा गया है।

चीन ने दी वीटो पर सफाई
चीन ने संयुक्त राष्ट्र की बैठक में क्या प्रस्ताव रखा था, यह पूछे जाने पर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने बुधवार को कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को म्यामांर की सेना और सू की के बीच मुद्दों के समाधान के लिए अनुकूल माहौल बनाना चाहिए। वांग ने कहा कि यूएनएससी ने म्यामांर पर आंतरिक बैठक की थी। चीन ने इस बैठक में शिरकत की। चीन म्यामांर का पड़ोसी और मित्र देश है। हमें उम्मीद है कि म्यामांर में सभी पक्ष राजनीतिक और सामाजिक स्थिरता कायम रखते हुए राष्ट्र हित और जनहित में काम करेंगे।

अनुकूल माहौल बनाने की राग अलाप रहा चीन
उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को मुद्दे के समाधान के लिए अनुकूल माहौल बनाना चाहिए। अंतरराष्ट्रीय समुदाय को तनाव भड़काने और हालात जटिल करने के बजाए राजनीतिक और सामाजिक स्थिरता के लिए काम करना चाहिए। वांग ने यूएनएससी की अनौपचारिक बैठक में विचार-विमर्श का दस्तावेज बाहर आने पर भी हैरानी जताई। हम इसे एकजुटता के लिए अच्छा नहीं मानते और सुरक्षा परिषद में विश्वास की भावना होनी चाहिए।

चौरा चौरी घटना के शताब्दी समारोह की PM मोदी ने की शुरुआत, बोले- देश कभी ना भूले बलिदान

आजादी की लड़ाई के दौरान घटी चौरी चौरा की ऐतिहासिक घटना के शताब्दी समारोह की शुरुआत गुरुवार को हुई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर एक विशेष डाक टिकट भी जारी किया. पीएम मोदी ने कहा कि देश को कभी चौरा चौरी की घटना नहीं भूलनी चाहिए, उन्होंने देश के लिए अपनी जान दी है. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने इस संबोधन में कहा कि चौरी चौरा में जो हुआ वो सिर्फ एक थाने में आग लगाने की घटना नहीं थी, इससे एक बड़ा संदेश अंग्रेजी हुकूमत को दिया गया. पीएम मोदी ने कहा कि इस साल देश की आजादी के 75 साल के वर्ष की भी शुरुआत होगी. पीएम मोदी ने कहा कि इस घटना को इतिहास में सही जगह नहीं दी गई, लेकिन हमें उन शहीदों को सलाम करना चाहिए.

बजट और किसानों के मसले पर बोले पीएम मोदी पीएम मोदी ने कहा कि पहले बजट को वोटबैंक का बहीखाता बनाया गया था. लेकिन हमारी सरकार ने किसी पर भी कोई नया टैक्स नहीं लगाया है. किसानों को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि देश की तरक्की में किसानों ने अहम योगदान किया है. हमारी सरकार ने मंडियों को मजबूत करने के लिए कदम उठाए हैं. साथ ही ग्रामीण क्षेत्र के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर फंड को बढ़ाया गया है. पीएम मोदी ने कहा कि देश की सामूहिक शक्ति आत्मनिर्भर भारत का आधार है. कोरोना काल में भारत दुनिया को वैक्सीन दे रहा है और आगे बढ़कर मदद कर रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि हाल ही में जो बजट पेश किया गया, ये देश की रफ्तार को बढ़ाने वाला है. बजट से पहले दिग्गज बोल रहे थे कि टैक्स बढ़ाना ही होगा, लेकिन सरकार ने किसी पर भी बोझ नहीं डाला.

पीएम ने बताया चौरा चौरी घटना का महत्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अंग्रेजी हुकूमत सैकड़ों स्वतंत्रता सेनानियों को फांसी देने पर तुली थी, लेकिन मालवीय जी, बाबा राघवदास की कोशिशों से सैकड़ों लोगों को बचा लिया गया. पीएम मोदी ने कहा कि भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय ने युवा लेखकों को स्वतंत्रता सेनानियों पर किताब लिखने के लिए आमंत्रित किया है

उत्तर प्रदेश सरकार इस कार्यक्रम को काफी जोर-शोर से मना रही है. आज शुरू हो रहे इस समारोह को अगले एक साल तक मनाया जाएगा. इस दौरान यूपी के सभी जिलों में कार्यक्रम का आयोजन किया जाना है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया और कहा कि गोरखपुर समेत पूरे प्रदेश में इस जश्न को पूरे साल तक मनाया जाएगा.

बता दें कि साल 1922 में चौरी-चौरा में स्वतंत्रता सेनानियों ने पुलिस चौकी में आग लगा दी थी. इसी घटना के बाद महात्मा गांधी ने अपने असहयोग आंदोलन को खत्म कर दिया था. 

ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके समर्थकों को पचा नहीं पा रही भाजपा? 

इंदौर में हाल ही भाजपा (BJP) के प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव (Muralidhar Rao) तो उखड़ ही पड़े थे. वह बोले, ‘यह बात ध्यान में रखिए कि हमने अपने बरसों पुराने और अनुभवी नेताओं को पीछे करते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia)के साथ आए नेताओं को मंत्री बनाया है. इस पर कुछ लोग ऐसा भी कह रहे हैं कि शिवराज सरकार में संतुलन कम है और सिंधिया के साथ भाजपा में आए लोग मंत्रिमंडल में ज्यादा हैं.’


भोपाल. राजनीतिक मजबूरी चाहे जो हो, लेकिन एक बात साफ होती जा रही है कि मध्य प्रदेश में भाजपा के नेता और कार्यकर्ता कांग्रेस छोड़कर पार्टी में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) समर्थक नेता, मंत्री और विधायकों को पचा नहीं पा रहे. कदम-कदम पर यह बात देखने को मिल रही है. इससे सिंधिया समर्थकों में भी उनके साथ सौतेलेपन का व्यवहार महसूस होने का भाव बढ़ता ही जा रहा है.

भाजपा ने नेता सिंधिया समर्थकों को तरजीह देने को लेकर कितने नाराज हैं, इसका अंदाजा दो दिन पहले भाजपा के प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव की कही एक बात से लगाया जा सकता है. राव नवनियुक्त प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक लेने दो दिन पहले इंदौर पहुंचे थे. भाजपा की नवगठित कार्यकारिणी में सिंधिया समर्थकों को कम स्थान दिए जाने संबंधी संवाददाताओं के सवाल पर मुरलीधर राव (Muralidhar Rao)एक तरह से लगभग उखड़ ही पड़े और बोले ‘यह बात ध्यान में रखिए कि हमने अपने बरसों पुराने और अनुभवी नेताओं को पीछे करते हुए सिंधिया के साथ आए नेताओं को मंत्री बनाया है. इस पर कुछ लोग ऐसा भी कह रहे हैं कि शिवराज सरकार में संतुलन कम है और सिंधिया के साथ भाजपा में आए लोग मंत्रिमंडल में ज्यादा हैं.’ क्या हमारे उन सभी कार्यकर्ताओं को भाजपा के नवगठित प्रदेश संगठन में मौका मिल गया, जिन्होंने जी-तोड़ मेहनत करते हुए राज्य में भाजपा के एक करोड़ सदस्य बनाए हैं. मुरलीधर राव के यह तेवर देख जब मीडिया के लोग थोड़ा चौंके तो राव ने बात को संभालते हुए कहा कि दरअसल यह किसी नेता को भाजपा में कम या ज्यादा तबज्जो दिए जाने का मुद्दा ही नहीं है. जो भाजपा में आ गया, उसे तो हम अपना मान चुके. सिंधिया के साथ आए नेताओं में किसी तरह की असुरक्षा की भावना नहीं है. सिंधिया भाजपा में आ गए, तो हम यह मानते हैं कि पूरी भाजपा के नेता हैं. बता दें कि संगठन की इस महत्वपूर्ण पहली बैठक में सिंधिया को भी नहीं बुलाया गया था.

Scindia समर्थकों में निकाय चुनावों को लेकर घमासान 

नगरीय निकाय चुनाव से पहले एक बार फिर मध्यप्रदेश में बड़ी सियासी उठापटक की आहट सुनाई देने लगी है. कांग्रेस छोड़ बीजेपी में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक फिर टिकट की मांग पर अड़ गए हैं. कुछ सिंधिया समर्थक पार्षद पद का टिकट मांग रहे हैं तो कुछ महापौर पद पर दावा कर रहे हैं. खबर है कि चुनाव हार चुके मुन्ना लाल गोयल भी अपने परिजन के लिए टिकट की आस लगाए बैठे हैं. इस दौड़ में गिर्राज दंडोतिया के शामिल होने की भी खबर है. खैर ये टिकट से पहले इस तरह की अटकलें आम बात हैं पर असल मामला जोड़तोड़ पर आकर अटक रहा है. सिंधिया समर्थकों की तरफ से ऐसे संकेत मिलने की भी अफवाह है कि वो टिकट न मिलने पर कांग्रेस से सांठ गांठ करने पर भी नहीं चूकेंगे. सिंधिया समर्थकों के बड़े और मुख्य चेहरों को छोड़ दें तो जो अन्य नेता खुद को कांग्रेस की जगह बीजेपी नेता समझने लगे थे वो टिकट मिलते न देख वापस कांग्रेस का रूख कर सकते हैं. ऐसे नेताओं में ग्वालियर के कई नेता शामिल बताए जा रहे हैं. कहना गलत नहीं होगा कि जमीनी नेताओं की कांग्रेस में वापसी से ज्योतिरादित्य सिंधिया की पैठ कमजोर हो सकती है. अब अगर सिंधिया का दबदबा कायम रहा और वो अपने समर्थकों को नगरीय निकाय चुनाव में टिकट दिलवा सके तो ठीक है. वर्ना ये बहुत संभव माना जा रहा है कि अधिकांश नेता टिकट की खातिर कांग्रेस में वापसी करने से नहीं चूकेंगे 

Glowing Skin Tips : इन पांच बातों को रोजाना फॉलो करके हमेशा बना रहेगा चेहरे पर निखार 

चेहरे पर निखार लाने के लिए ब्यूटी पार्लर जाकर इंस्टेंट निखार आ जाता है लेकिन लम्बे समय तक स्किन ग्लोइंग नहीं लगती। वही, महंगे ब्यूटी प्रॉडक्ट्स में भी जेब पर भारी होने के साथ इनका साइड इफेक्ट्स का खतरा भी बना रहता है। इन सब अस्थायी तरीकों से अच्छा है कि आप छोटे-छोटे टिप्स अपनाकर स्किन को ग्लोइंग बनाएं। आज हम आपको ऐसे तरीके बता रहे हैं, जिसे अपनाकर आपका चेहरा नेचुरल ग्लोइंग लगेगा। 

स्किन हाइड्रेटेड रखें 
अपनी त्वचा को हाइड्रेट रखने और इसे और अधिक युवा दिखाने के लिए खूब सारा पानी पिएं, पानी अधिक पीने से आप अपनी त्वचा की कमियों को दूर कर सकते हैं। इससे विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं, इसलिए रोजाना 8 से 10 ग्लास पानी का सेवन करना चाहिए।

सूरज के संपर्क से बचें 
सूरज की सीधी किरणों से दूर रहें। सूरज की मजबूत यूवी किरणें आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचा सकती हैं और इसे सुस्त और बेजान बना देती है। धूप से बचने के लिए छतरी का इस्तेमाल करें, सनस्क्रीन लगाएं, धूप का चश्मा लगाएं और पूरी बांह के कपड़े पहनें। आप अगर सूरज की हानिकारक किरणों से अपना बचाव नहीं करेंगे, तो फिर कोई भी स्किन प्रॉडक्ट यूज करना आपके लिए बेकार ही साबित होगा।

स्किन को मॉइस्चराइजर रखें
अपने चेहरे को दिन में दो बार धोएं, चेहरा को नमी प्रदान करने और हाइड्रेटेड रखने के लिए अच्छे हर्बल का इस्तेमाल करें। इसके लिए आप बार-बार फेसवॉश लगाने से अच्छा पानी से भी चेहरे को धो सकती हैं।

सीटीएम जरूरी
दिन में एक बाद क्लीजिंग, टोनिंग, मॉइस्चराइजिंग यानि सीटीएम जरूरी है। सफाई के लिए दूध का इस्तेमाल किया जा सकता है। टोनिंग अपनी त्वचा के अनुरूप करें और त्वचा की मॉइस्चराइजिंग के लिए जैतून के तेल का इस्तेमाल करें।

गर्म पानी से न नहाएं 
नहाने के लिए गर्म पानी की तुलना में गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें, क्योंकि गर्म पानी त्वचा को खुश्क कर देता है। चाहे कितनी भी सर्दी हो, आपको गर्म पानी से नहाने से बचना चाहिए।
 

आज का राशिफल 4 फरवरी

Aaj Ka Rashifal: पंचांग के अनुसार आज माघ मास की कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि है. चंद्रमा आज तुला राशि में गोचर कर रहा है. नक्षत्र स्वाति रहेगा. आज मेष राशि वालों को रचनात्मक कार्यों से लाभ होने की स्थिति बन रही है. वृष राशि के जातकों को आज प्रतिद्वंदियों से सावधान रहने की जरूरत है. अन्या राशियों के लिए कैसा है आज का दिन, जानते हैं-

मेष- आज क्रिएटिव कार्यों पर फोकस करना लाभप्रद रहेगा. सामाजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर भाग लेने वालों को सम्मान मिलेगा. यातायात नियमों का पालन नहीं करने से आर्थिक दंड भुगतना पड़ेगा, इसलिए सतर्क रहें और अपने करीबियों को भी इसके लिए सचेत करते रहें. नौकरी को लेकर कुछ परेशानियां देखने को मिल सकती हैं. लकड़ी के कारोबारियों को सजग रहना होगा. हिसाब-किताब में कोई लापरवाही न बरतें. किसी भी प्रकार की देनदारी खुद पर न रखें. बदलते मौसम के प्रति थोड़ा सजग रहें. बच्चों और बुजुर्गों के सेहत के प्रति सावधान रहते हुए संतुलित खान-पान पर जोर दें. ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त अपनी जेब पर जरूर ध्यान दें.

वृष- आज कार्यस्थल हो या सामाजिक जीवन, हर जगह प्रतियोगिता का सामना करना पड़ेगा. इन सभी परिस्थितियों में लड़ने के लिए खुद को तैयार रखें. ज्ञान को जंग न लगने दें. गुणों को और तराशने का समय है. फोकस बनाए रखने से जल्द सफलता मिलेगी. बॉस को प्रसन्न रखें अन्यथा उनकी नाराजगी आपके लिए नुकसानदेह हो सकती है. युवा वर्ग समय का पूरा सदुपयोग करें और अपने से बड़ों की बात को मजाक में न टालें. हाई बीपी के मरीज परेशान हो सकते हैं. घर में सभी के साथ स्नेह भरा व्यवहार करें. निमंत्रण पर परिजनों के साथ कहीं रिश्तेदारी या परिचित के यहां जाना सुखद महसूस कराएगा.

मिथुन- आज से ही आने वाले महत्वपूर्ण दिनों की तैयारी करने के लिए लग जाएं. निवेश संबंधी प्लानिंग कर सकते हैं. ध्यान रखें बड़ा बजट अभी इन्वेस्ट करना ठीक नहीं होगा. थोड़ा ठहर जाएं और सही समय का इंतजार करें. बैंकिंग सेक्टर से जुड़े लोगों के लिए दिन आज बहुत सफलता दायक होगा. प्रॉपर्टी का बिजनेस करने वाले कुछ निराश नजर आ सकते हैं. स्वास्थ्य को लेकर थोड़ी चिंता रह सकती है.जीवनसाथी के करियर और उन्नति का ग्राफ तेजी से ऊपर चढ़ेगा. मन प्रसन्न होने के साथ आर्थिक स्थिति में भी सुधार आता दिख रहा है. परिवार में शुभ सूचना मिल सकती है.


कर्क- आज अपने हंसी मजाक वाले स्वभाव से सभी का दिल जीत सकेंगे. इससे न सिर्फ आपकी साख बढ़ेगी बल्कि लोगों के बीच आपसी स्वीकार्यता तेजी से बढ़ने वाली है. ऑफिशियल मोर्चे पर नई जिम्मेदारियां लेने के लिए तैयार रहें. टेलीकम्युनिकेशन से जुड़े लोगों को बहुत अच्छा लाभ मिलने की उम्मीद है. व्यापार की शुरुआत भी जोर-शोर से होगी. ध्यान रखें ग्राहकों की पसंद से ही आपका भविष्य का कारोबार निर्भर करेगा. गठिया रोगों से दर्द का सामना करना पड़ सकता है. जरूरी दवाओं को लेकर लापरवाही न बरतें. घर के पेंडिंग कार्यों को भी समय रहते पूरा करें. छोटे बच्चों और बुजुर्गों की जरूरतों का ख्याल रखें.

सिंह- आज नजदीकी व्यक्तियों की खुशियों का ख्याल रखें. खुद पहल करते हुए उनसे उनकी समस्याएं पूछें और हर संभव निदान का प्रयास करें. नियम और अनुशासन का पूरी तरह पालन करें. नौकरी के तनाव को धैर्य के साथ हैंडल करें. ऑफिस की समस्याएं या चिंतन घर तक लाना उचित नहीं होगा. व्यापारिक फैसला किसी जल्दबाजी में आकर लेना नुकसान हो सकता है. पार्टनरशिप में काम कर रहे हैं तो आपसी विश्वास में कोई कमी न लाएं. अनाज के कारोबारियों को अच्छा लाभ मिलेगा. हेल्थ को देखते हुए बासी या बाहर का भोजन करने से बचें. मां की सेवा का मौका मिले तो उसे हाथ से न जाने दें.

कन्या – आज के दिन महत्वपूर्ण कार्य नहीं बनते दिख रहे हैं, जिनसे मन में निराशा का भाव बन सकता है. स्थानांतरण की पूर्ण संभावनाएं हैं, मनचाही पोस्टिंग नहीं मिलने को लेकर भी खुद को मानसिक तौर पर तैयार रखना होगा. कपड़ों के कारोबारियों को अच्छा लाभ मिलेगा. युवाओं को अपने सब्जेक्ट में विशेषज्ञता लेने का समय आ गया है, हालांकि प्रतिस्पर्धी की गतिविधियों पर भी नजर रखना होगा. विद्यार्थी नोट संभाल कर रखें, यह गुम होने की आशंका है. घर के आसपास गंदगी न रखें. संक्रमण की चपेट में आ सकते हैं. परिवार में कोई अगर विवाह योग्य व्यक्ति है तो रिश्ते की बात पक्की हो सकती है.

तुला- आज अनावश्यक क्रोध करने से बचें अन्यथा घर हो या बाहर, आप की छवि को गहरी चोट पहुंच सकती है. ऑफिस में टीम को साथ में लेकर चलें, अनावश्यक छुट्टी लेने से बचना चाहिए। टीम में मनमुटाव की स्थिति बन सकती है. आज कार्यस्थल पर विवाद होने की आशंका है, इसलिए अपने शब्दों की गरिमा को समझें. व्यापार में परिवर्तन करने का विचार बन रहा है तो अभी कुछ समय के लिए रुकना होगा. शारीरिक थकान और इम्यून सिस्टम कमजोर हो सकता है. ऐसे में खान-पान को लेकर सतर्क रहें. घर में धैर्य और प्रसन्नता का माहौल बनाने का प्रयास करें, ऐसा करने से दूरियां कम होगी.

वृश्चिक- आज का दिन अपने पसंदीदा कार्यों को पूरा करने में व्यतीत करना चाहिए. पसंदीदा विषयों का अध्ययन करना भी अच्छा विकल्प रहेगा. किसी काम में मन नहीं लग रहा है तो मानसिक भटकाव या भ्रम की स्थिति से बचने का प्रयास करें. युवा वर्ग के लिए दिन शुभ रहेगा. करियर के लिए नए मार्ग और मौके खोज पाएंगे. शिक्षा से संबंधित फील्ड से जुड़े लोगों के लिए भी लाभ की प्रबल संभावनाएं हैं. पथरी के मरीजों को दर्द का सामना करना पड़ सकता है. काम के सिलसिले में शहर से बाहर जाने का मौका मिलेगा. यात्रा सुखद रहेगी. सभी लोगों के साथ परिवार में अच्छा व्यवहार करना होगा.


धनु- आवश्यक मुद्दों पर चर्चा के लिए आज का दिन बहुत अच्छा है. शोध परक कार्यों में लगे लोगों को बहुत अच्छी सफलता मिलेगी. अनाज के कारोबारी भी अच्छा लाभ कमा पाएंगे. लेनदेन या फुटकर उपभोक्ताओं के साथ संबंध और बेहतर बनाने होंगे. विद्यार्थी कठोर विषयों पर अपने अध्यापक के मार्गदर्शन से ही विद्यार्थी काम करें. युवा वर्ग को किसी की बातों को पूरा सुने बगैर बीच में काटना नहीं चाहिए. बुरी संगत और नशे से पूरी तरह दूरी बनाकर रखें. स्वास्थ्य की दृष्टि से कान में दर्द होने की आशंका है. दांपत्य जीवन में तनाव बढ़ रहा है तो उसे समय रहते नियंत्रित करना जरूरी है.

मकर- आज किसी भी प्रकाश की शंका से दूरी बनाए रखना ही आपके लिए अच्छा होगा. ऑफिस में अधीनस्थों के लिए आप प्रेरणा स्रोत का काम करेंगे, इसलिए दी गई जिम्मेदारियों को पूरी निष्ठा और ईमानदारी के साथ निभाएं. सरकारी विभाग में कार्यरत लोगों को काम के लिए सजग रहें. सोने-चांदी के कारोबारियों को बड़े निवेश के लिए थोड़ा समय के लिए रुकना चाहिए. नियम और कानूनों का पूरा पालन करें अन्यथा कानूनी कार्रवाई की चपेट में आ सकते हैं. डीहाईड्रेशन से अलर्ट रहना होगा. डॉक्टर से संपर्क बनाए रखें. आज अचानक कोई घरेलू परेशानी तनाव दे सकती है. सभी के साथ मिलबैठकर निदान खोजने से जल्दी हल मिलेगा.

कुम्भ- आज के दिन अच्छे मैनेजमेंट और परिश्रम से आप ऊर्जा से भरपूर नजर आएंगे. आपके सभी रुके हुए काम बनते दिख रहे हैं. इवेंट मैनेजमेंट का कार्य करने वालों को अपने परिश्रम में कमी नहीं लानी है. ट्रांसपोर्ट के कारोबारियों को बहुत अच्छा मुनाफा होता दिख रहा है. वाहनों की देखरेख और उसके सर्विसिंग पर्याप्त खर्च करने की जरूरत है. कारोबार की स्थिति में सुधार आएगा. विद्यार्थियों और युवाओं के लिए आज का दिन सफलता भरा होने वाला है. शुगर के पेशेंट सतर्कता रखें. खान-पान लेकर कोई लापरवाही न बरतें. आज मनमानी करना महंगा पड़ सकता है, इसलिए घर में बड़े बुजुर्गों की बात की बिल्कुल न करें.

मीन- आज के दिन वर्तमान का लाभ देखकर आप कोई निवेश न करें. रिश्ते हो या धन हर जगह चौकन्ना रहते हुए काम करें. चीजों की अनदेखी निकट भविष्य में आप के लिए नुकसानदेह हो सकती है. उच्च अधिकारी आपकी कार्यशैली और काम की गुणवत्ता पर निगाह रख रहे हैं, इसलिए बगैर कोई लापरवाही बरते, पूरी गुणवत्ता के साथ समय पर काम निपटाने का प्रयास करें. खुदरा व्यापारियों को बहुत अच्छा मुनाफा होगा. ध्यान रखें उत्पाद की गुणवत्ता में कोई कमी न आए. जिन लोगों ने हाल में सर्जरी आदि कराई हो, ऐसे लोगों को सतर्कता रखनी होगी. परिवार के साथ अच्छा समय बिताने का मौका मिलेगा.