राफेल से जल्‍द हमला कर सकता है भारत, घबराए पाकिस्‍तानी एयरफोर्स चीफ ने दी चेतावनी

इस्‍लामाबाद
पाकिस्‍तान के एयरफोर्स चीफ ने चेतावनी दी है कि भारत अगले कुछ महीने के अंदर फ्रांस से लिए अपने नए राफेल फाइटर जेट से देश पर हमले की साजिश रच रहा है। पाकिस्‍तानी एयर फोर्स चीफ मुजाहिद अनवर खान ने दावा किया कि भारत टकराव को बढ़ाने के लिए एक आक्रामक सैन्‍य कार्रवाई की योजना बना रहा है। उन्‍होंने कहा कि भारतीय फाइटर जेट 5 किलोमीटर के दायरे में आएंगे ताकि हवा में अपने प्रभुत्‍व का प्रदर्शन कर सकें।

मार्शल खान ने पाकिस्‍तान में एक कार्यक्रम में यह दावा किया। उन्‍होंने यह भी दावा किया कि भारत कश्‍मीर और अंतरराष्‍ट्रीय सीमा से परे जाकर टकराव को बढ़ाना चाहता है। उन्‍होंने कहा, ‘मेरा अनुमान है कि भारत 18 से 24 महीने के अंदर आक्रामक कार्रवाई कर सकता है क्‍योंकि उस समय वह पर्याप्‍त संख्‍या में मेटेओर मिसाइल से लैस फाइटर जेट फ्रांस से हासिल कर लेगा।’

उन्‍होंने कहा, ‘केवल उस समय भारत 5 किमी के दायरे में आएगा और हवा में अपनी बादशाहत को दिखाने के लिए कई ठिकानों पर एकसाथ हमले करेगा। मेरा अनुमान है कि भारत टकराव को कश्‍मीर से बाहर बढ़ाना चाहता है।’ मार्शल खान का यह बयान ऐसे समय पर आया है, जब कुछ समय पहले राफेल फाइटर जेट भारतीय वायुसेना में शामिल हुए हैं।

पहाड़ी इलाकों में उड़ने के लिए आदर्श एयरक्राफ्ट

पिछले दिनों अंबाला एयरफोर्स स्‍टेशन पर इंडक्‍शन सेरेमनी में राफेल को औपचारिक रूप से IAF में शामिल किया गया। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और फ्रांस की रक्षामंत्री फ्लोरेंस पार्ले के सामने 17 स्कवॉड्रन ‘गोल्डन ऐरोज़’ के पायलट्स ने जौहर दिखाए। अंबाला के आसमान पर बड़ी आसानी से मैनूवर्स करते राफेल लड़ाकू विमानों को देखकर चीन और पाकिस्‍तान की धड़कनें तेज हो गई हैं। राफेल आ जाने से भारतीय वायुसेना की ताकत में जो इजाफा हुआ है, उससे दोनों पड़ोसी देशों की नींद उड़ चुकी है।

राफेल को भारत की जरूरतों के हिसाब से मॉडिफाई किया गया है। राफेल की रेंज 3,700 किलोमीटर है, यह अपने साथ चार मिसाइल ले जा सकता है। राफेल की लंबाई 15.30 मीटर और ऊंचाई 5.30 मीटर है। राफेल का विंगस्‍पैन सिर्फ 10.90 मीटर है जो इसे पहाड़ी इलाकों में उड़ने के लिए आदर्श एयरक्राफ्ट बनाता है। विमान छोटा होने से उसकी मैनुवरिंग में आसानी होती है।

एक राफेल जेट को रोकने क‍ि लिए दो एफ-16 की जरूरत

यही नहीं पाकिस्‍तानी एयरफोर्स को अब एक राफेल फाइटर जेट को रोकने क‍ि लिए अपने दो एफ-16 लड़ाकू विमान लगाने पड़ेंगे। अभी तक स्थिति यह है कि भारत को एक एफ-16 रोकने के लिए दो सुखोई-30एमकेआई विमान तैनात करने पड़ते हैं। इंडियन एयरफोर्स के पूर्व चीफ एवाई टिपणिस का मानना है कि यदि एयरफोर्स के पास फरवरी में बालाकोट हमले के दौरान राफेल होता तो भारत पाकिस्‍तान के कम से कम 12 एफ-16 विमानों को मार गिराता। यही नहीं भारत को बालाकोट में एयर स्‍ट्राइक करने के लिए पाकिस्‍तानी हवाई क्षेत्र में नहीं घुसना पड़ता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *