जेवर एयरपोर्ट से होगी सबसे सस्ती हवाई यात्रा, जानिए

.

यहां यात्रियों के टिकट में शामिल रहने वाली यूजर डिवेलमेंट फीस (यूडीएफ) को कम से कम कराने का प्रयास है। यह दिल्ली के इंटरनैशनल एयरपोर्ट से आधी से कम हो सकती है। ऐसे में यहां सबसे सस्ता हवाई टिकट होगा। एयरपोर्ट निर्माण के लिए बुधवार को ज्यूरिख इंटरनैशनल एजी के साथ कंसेशन एग्रीमेंट हो चुका है।

हाइलाइट्स:

जेवर एयरपोर्ट में यूजर डिवेलमेंट फीस (यूडीएफ) को कम से कम कराने का प्रयासयह दिल्ली के इंटरनैशनल एयरपोर्ट से आधी से भी कम हो सकती हैऐसे में जेवर एयरपोर्ट से सबसे सस्ता हवाई टिकट होगा.

जेवर एयरपोर्ट से सबसे सस्ती हवाई यात्रा का तोहफा देने की योजना है।

ग्रेटर नोएडा
जेवर में बनने वाले इंटरनैशनल एयरपोर्ट से आपको देश में सस्ती हवाई सेवा कराने की योजना है। इसके लिए यहां यात्रियों के टिकट में शामिल रहने वाली यूजर डिवेलमेंट फीस (यूडीएफ) को कम से कम कराने का प्रयास है। यह दिल्ली के इंटरनैशनल एयरपोर्ट से आधी से कम हो सकती है। ऐसे में यहां सबसे सस्ता हवाई टिकट होगा। उधर, निर्माण के लिए करार पर हस्ताक्षर होने के साथ ही अब इन्फ्रास्ट्रक्चर पर जल्द काम शुरू होगा।

एयरपोर्ट निर्माण के लिए बुधवार को ज्यूरिख इंटरनैशनल एजी के साथ कंसेशन एग्रीमेंट हो चुका है। ज्यूरिख के अधिकारियों ने नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट लिमिटेड के अधिकारियों से कहा है कि वे यहां सस्ती हवाई यात्रा का तोहफा देने की योजना पर काम कर रहे हैं। इसे लिए वह यहां टर्मिनल, रनवे और ऑफिस बिल्डिंग आदि के निर्माण में ऐसी तकनीक का इस्तेमाल करेंगे, जिससे कम से कम लागत आए। निर्माण की लागत के आधार पर ही रेग्युलेटरी अथॉरिटी यूजर डिवेलपमेंट फीस तय करती है।

कैसे कम होगी कॉस्ट
दिल्ली समेत देश के दूसरे एयरपोर्ट पर इंटरनैशनल फ्लाइट के लिए ये फीस एक हजार रुपये से अधिक है। ये रकम टिकट की कीमत में शामिल होती है। ज्यूरिख के अधिकारियों की योजना है कि इसे करीब 400 रुपये के आसपास लाया जाए। नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट लिमिटेड के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने कहा है कि ज्यूरिख के अधिकारियों ने निर्माण की लागत में तकनीक की मदद से कमी करने की बात कही। कॉस्ट कम होने पर वे इसके आधार पर यूजर डिवेलपमेंट फीस को कम कराने की योजना पर काम कर रहे हैं। ऐसा होता है तो यहां देश में सबसे सस्ता हवाई टिकट मिल सकेगा।

क्यूआर कोड से प्रवेश और निकास
इस एयरपोर्ट में सभी आधुनिक सुविधाएं भी विकसित की जाएंगी। इस एयरपोर्ट पर ऐप और मोबाइल आदि से डिजिटल भुगतान की सुविधा मिलेगी। तकनीकी का उपयोग अधिक से अधिक होगा। कोरोना जैसी बीमारियों को देखते हुए प्रयास होगा कि एयरपोर्ट पर अधिक से अधकि कॉन्टेक्टलेस सुविधाएं हों। इसके लिए टिकट बुकिंग से लेकर एयरपोर्ट में प्रवेश व निकास आदि तकनीकी पर आधारित होगा। टिकट पर क्यूआर कोड स्कैन करने पर प्रवेश और निकास द्वार खुलेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *