पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, पीएम मोदी ने मानवेंद्र को फोन कर दी श्रद्धांजलि

Jaswant Singh death news: जसवंत सिंह ने केंद्र में रहते हुए वित्‍त, विदेश और रक्षा जैसे अहम मंत्रालयों का जिम्‍मा संभाला। वह योजना आयोग के उपाध्‍यक्ष भी रहे थे। साल 2014 में सिर में चोट लगने के बाद वे कोमा में चले गए थे।

हाइलाइट्स:

पूर्व रक्षा, विदेश और वित्‍त मंत्री जसवंत सिंह का निधन2014 से कोमा में थे.  छह साल बाद हार गए जिंदगी की जंगपीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि. मानवेंद्र को लगाया फोन,राजनाथ बोले- शानदार है रिकॉर्ड, बीजेपी को मजबूत किया.

नई दिल्‍ली
पूर्व कैबिनेट मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के संस्‍थापक सदस्‍यों में से एक जसवंत सिंह का निधन हो गया है। वह 82 साल के थे और पिछले छह साल से कोमा में थे। दिल्‍ली के आर्मी अस्‍पताल की ओर से जारी बयान के अनुसार, ‘पूर्व कैबिनेट मंत्री मेजर जसवंत सिंह (रिटा) का आज सुबह 6.55 बजे निधन हो गया। उन्‍हें जून को भर्ती कराया गया था और सेप्सिस के साथ मल्‍टीऑर्गन डिसफंक्‍शन सिंड्रोम का इलाज चल रहा था। उन्‍हें आज सुबह कार्डियक अरेस्‍ट आया। उनका कोविड स्‍टेटस निगेटिव है।’

रक्षा के अलावा वित्‍त और विदेश मंत्रालय भी संभाला
भारतीय सेना में मेजर रहे जसवंत सिंह ने बाद में राजनीति का दामन थाम लिया था। बीजेपी की स्‍थापना करने वाले नेताओं में शामिल जसवंत ने राज्‍यसभा और लोकसभा, दोनों सदनों में बीजेपी का प्रतिनिधित्‍व किया। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्‍व वाली सरकार में उन्‍होंने 1996 से 2004 के बीच रक्षा, विदेश और वित्‍त जैसे मंत्रालयों का जिम्‍मा संभाला। बतौर वित्‍त मंत्री जसवंत सिंह ने स्‍टेट वैल्‍यू ऐडेड टैक्‍स (VAT) की शुरुआत की जिससे राज्‍यों को ज्‍यादा राजस्‍व मिलना शुरू हुआ। उन्‍होंने कस्‍टम ड्यूटी भी घटा दी थी। 2014 में बीजेपी ने सिंह को बाड़मेर से लोकसभा चुनाव का टिकट नहीं दिया था। नाराज जसवंत ने पार्टी छोड़कर निर्दलीय चुनाव लड़ा मगर हार गए थे। उसी साल उन्‍हें सिर में गंभीर चोटें आई, तब से वह कोमा में थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *