मध्य प्रदेश उपचुनाव के लिए कांग्रेस ने उम्मीदवीरों की दूसरी सूची जारी कर दी है.

नई दिल्ली. मध्य प्रदेश उपचुनाव (MP Bypolls 2020) को लेकर कांग्रेस ने उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी कर दी है. दूसरी सूची में कांग्रेस (Congress) ने 9 उम्मीदवारों का नाम घोषित किया है. कांग्रेस पार्टी पहले 15 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर चुकी है. मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी है. अब तक 24 उम्मीदवार के नाम का ऐलान किया जा चुका है. चार सीटों पर विवाद के कारण कांग्रेस ने अभी तक उम्मीदवार तय नहीं किया है. इन नौ सीटों पर कहां से किसे चुनाव लड़ने का मौका मिला है यहां देखिए पूरी लिस्ट…

1- जोरा से पंकज उपाध्याय

2- सुमावली से अजय कुशवाह

3- ग्वालियर पूर्व से सतीश सिकरवार

4- पोहरी से हरीवल्लभ शुक्ला

5- मुंगावली से कन्हैया राम लोधी

6- सुर्खी से पारुल साहू

7- मांधाता से उत्तम राज नारायण सिंह

8- बदनावर से अभिषेक सिंह टिंकू

9-सुवासरा से राकेश पाटीदार

इन तीन सीटों पर है सबसे ज्यादा विवाद

कांग्रेस में तीन सीटों को लेकर सबसे ज्यादा विवाद भी स्थिति बनी हई है, जिसके कारण इन सीटों पर कांग्रेस अभी तक अपने उम्मीदवारों के नाम नहीं तय कर पाई है. इनमें मेहगांव सीट पहली है, जहां पर बीजेपी से छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी अपना दावा कर रहे हैं. जिसका विरोध डॉक्टर गोविंद सिंह कर रहे हैं. डॉक्टर गोविंद सिंह अपने भांजे राहुल लोधी को यहां से टिकट दिलाना चाहते हैं. दूसरी है बदनावर सीट, जहां कांग्रेस पार्टी को बीजेपी के बड़े नेता भंवर सिंह शेखावत की हरी झंडी का इंतजार है. उसके बाद पार्टी कोई फैसला लेगी. तीसरी सीट है बड़ा मलहरा. यहां यादव और लोधी समीकरण को लेकर पेंच फंसा है.

E-PAN का डिजिटल वर्जन ऐसे पाएं, अब घर बैठे जारी होने लगा है पैन कार्ड

ई-पैन में क्यूआर कोड होता है, इसके साथ ही फिजिकल पैन कार्ड की तरह ही बाकी जानकारियां भी होती हैं। जैसे कि पैन कार्ड धारक का नाम, डेट ऑफ बर्थ और फोटोग्राफ

नई दिल्ली

पैन कार्ड एक बेहद ही महत्वपूर्ण दस्तावेज है। आईटीआर फाइल करने से लेकर बैंकिंग कामकाज और लेनदेन में इसकी जरूरत पड़ती है। पैन कार्ड बनवाना अब बेहद ही आसान है। घर बैठकर भी इस काम को पूरा किया जा सकता है। ई-पैन पैन का वैध प्रमाण है। आवेदकों को मुफ्त में एक इलेक्ट्रॉनिक पैन (ई-पैन) जारी किया जाता है।

इनकम टैक्स विभाग की तरफ से जारी किया जाने वाला पैन कार्ड की फिजिकल कॉपी पाने के बाद आप ई-पैन यानी पैन कार्ड का डिजिटल वर्जन पा सकते हैं। इनकम टैक्‍स विभाग की वेबसाइट पर इसे तत्‍काल जारी करने का विकल्प मिलता है। आप आसानी से कुछ ही मिनटों में इस काम को पूरा कर सकते हैं।

ई-पैन में क्यूआर कोड होता है, इसके साथ ही फिजिकल पैन कार्ड की तरह ही बाकी जानकारियां भी होती हैं। जैसे कि पैन कार्ड धारक का नाम, डेट ऑफ बर्थ और फोटोग्राफ। ई-पैन पाने के लिए आपको आधार नंबर भी देना होता है। इसके बाद ही ओटीपी जनरेट होता है।

ई-पैन पाने के लिए आपको इनकम टैक्स विभाग की आधिकारिक वेबसाइट के इस लिंक https://www.incometaxindiaefiling.gov.in/home पर विजिट करना होगा। इसके बाद यहां ‘Instant PAN through Aadhaar New’ लिंक पर क्लिक करने के बाद आपको ‘Get New PAN’ और ‘Check status/download PAN’ ये दो विकल्प नजर आएंगे। इसके बाद आपको आधार आधार नंबर दर्ज करना होगा। आधार के साथ रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर आपको ओटीपी रिसीव होगा। ओटीपी दर्ज करने के बाद तुरंत ही E-PAN का डिजिटल वर्जन आपको जारी कर दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजमाता विजयाराजे सिंधिया को बताया वात्सल्य की प्रतिमूर्ति

ग्वालियर। Mann Ki Baat: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात में राजमाता विजयाराजे सिंधिया को वात्सल्य की प्रतिमूर्ति बताया। उन्होंने कहा कि 12 अक्टूबर को विजयाराजे सिंधिया का जन्म शताब्दी वर्ष के समारोह का समापन होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि हम कन्याकुमारी से कश्मीर एकता यात्रा लेकर निकले थे। डॉ. मुरली मनोहर जोशी जी के नेतृत्व में यात्रा चल रही थी। दिसंबर, जनवरी कड़ाके के ठंड के दिन थे। हम रात को करीब बारह-एक बजे, मध्य प्रदेश के शिवपुरी पहुंचे, निवास स्थान पर जा करके, क्योंकि, दिन-भर की थकान होती थी, नहा-धोकर के सोते थे और सुबह की तैयारी कर लेते थे। करीब 2 बजे होगी, मैं नहा-धोकर के सोने की तैयारी कर रहा था, तो दरवाजा किसी ने खटखटाया। मैंने दरवाजा खोला तो राजमाता साहब सामने खड़ी थीं।

प्रधानमंत्री ने कहा, कड़ाके की ठंड में राजमाता साहब को देखकर के मैं हैरान था। मैंने मां को प्रणाम किया, मैंने कहा, मां आधी रात में, उन्होंने कहा कि नहीं बेटा आप ऐसा करो गर्म दूध पीकर सो जाइए। हल्दी वाला दूध वो खुद लेकर आईं थी। दूसरे दिन मैंने देखा कि वो सिर्फ मुझे ही नहीं हमारी यात्रा की व्यवस्था में जो 30-40 लोग थे, उसमें ड्राइवर भी थे और भी कार्यकर्ता थे, हर एक के कमरे में जाकर के खुद ने रात को 2 बजे सबको दूध पिलाया। मां का प्यार क्या होता है, वात्सल्य क्या होता है, उस घटना को मैं कभी नहीं भूल सकता हूं। यह हमारा सौभाग्य है कि ऐसे महान विभूतियों ने हमारी धरती को, अपने त्याग और तपस्या से सींचा है। उन्होंने कहा कि हम सब मिल करके, एक ऐसे भारत का निर्माण करें, जिस पर इन महापुरुषों को गर्व की अनुभूति हो। उनके सपने को अपने संकल्प बनाएं।

उमा भारती और नरोत्तम मिश्रा के बेटे भी संक्रमित

भाजपा (BJP) की वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती (Uma Bharti) कोरोनावायरस से संक्रमित हो गई हैं. उन्होंने ऋषिकेश और हरिद्वार के बीच एक स्थान पर खुद को क्वारंटाइन कर लिया है. उमा भारती ने उनके संपर्क में आए सभी लोगों से कहा है कि वे अपना-अपना कोरोना टेस्ट करा लें और सावधानी बरतें. उन्होंने ट्वीट करके इस बात की पुष्टि की है कि वो कोरोनावायरस पॉजिटिव हैं.

उमा भारती उत्तराखंड में हैं. वो पहाड़ों की यात्रा से लौट रही थीं, इसी दौरान अस्वस्थ होने पर उन्होंने खुद को क्वारंटाइन कर लिया है.

उन्होंने ट्वीट करके कहा, “मैं आपकी जानकारी में यह डाल रही हूं कि मैंने आज अपनी पहाड़ की यात्रा की समाप्ति के अंतिम दिन प्रशासन से आग्रह करके कोरोना टेस्ट की टीम को बुलवाया, क्योंकि मुझे तीन दिन से हल्का बुखार था.”

चार दिन के बाद फिर से कराऊंगी टेस्ट’

उन्होंने कहा है कि ‘मैं अभी हरिद्वार एवं ऋषिकेश के बीच वंदे मातरम् कुंज में क्वारंटाइन हूं जो कि मेरे परिवार के जैसा है. चार दिन के बाद फिर से टेस्ट कराऊंगी और स्थिति ऐसी ही रही तो डॉक्टरों के परामर्श के अनुसार निर्णय लूंगी.’

उन्होंने कहा, “मैंने हिमालय में कोविड के सभी विधिनिषेध और सोशल डिस्टेंस का पालन किया फिर भी मैं अभी कोरोना पॉजिटिव निकली हूं.”

उमा भारती ने ट्वीट किया है कि ‘मेरे इस ट्वीट को जो भी मेरे संपर्क में आए हुए भाई-बहन पढ़ें या उन्हें जानकारी हो जाए, उन सबसे मेरी अपील है कि वे अपना कोरोना टेस्ट करवाएं एवं सावधानी बरतें.’

एमपी के गृहमंत्री के पुत्र कोरोना संक्रमित

वहीं, मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के गृहमंत्री (Home Minister) नरोत्तम मिश्रा के बेटे सुकर्ण शनिवार को कोरोनावायरस (Coronavirus) जांच रिपोर्ट में पॉजिटिव (Positive) पाए गए. मालूम हो कि गृहमंत्री हाल ही में सार्वजनिक कार्यक्रमों में बिना मास्क के दिखाई दिए थे, जिस वजह से वह सुर्खियों में थे. उन्होंने इंदौर में एक बयान दिया, जहां लोगों को सार्वजनिक रूप से मास्क न पहनने पर 500 रुपये के जुर्माना लगेगा, बाद में उन्होंने बयान के लिए माफी मांगी थी. हालांकि, मिश्रा ने उसी दिन शाम को ग्वालियर और चंबल का दौरा किया और बिना मास्क के दिखाई दिए थे.

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, पीएम मोदी ने मानवेंद्र को फोन कर दी श्रद्धांजलि

Jaswant Singh death news: जसवंत सिंह ने केंद्र में रहते हुए वित्‍त, विदेश और रक्षा जैसे अहम मंत्रालयों का जिम्‍मा संभाला। वह योजना आयोग के उपाध्‍यक्ष भी रहे थे। साल 2014 में सिर में चोट लगने के बाद वे कोमा में चले गए थे।

हाइलाइट्स:

पूर्व रक्षा, विदेश और वित्‍त मंत्री जसवंत सिंह का निधन2014 से कोमा में थे.  छह साल बाद हार गए जिंदगी की जंगपीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि. मानवेंद्र को लगाया फोन,राजनाथ बोले- शानदार है रिकॉर्ड, बीजेपी को मजबूत किया.

नई दिल्‍ली
पूर्व कैबिनेट मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के संस्‍थापक सदस्‍यों में से एक जसवंत सिंह का निधन हो गया है। वह 82 साल के थे और पिछले छह साल से कोमा में थे। दिल्‍ली के आर्मी अस्‍पताल की ओर से जारी बयान के अनुसार, ‘पूर्व कैबिनेट मंत्री मेजर जसवंत सिंह (रिटा) का आज सुबह 6.55 बजे निधन हो गया। उन्‍हें जून को भर्ती कराया गया था और सेप्सिस के साथ मल्‍टीऑर्गन डिसफंक्‍शन सिंड्रोम का इलाज चल रहा था। उन्‍हें आज सुबह कार्डियक अरेस्‍ट आया। उनका कोविड स्‍टेटस निगेटिव है।’

रक्षा के अलावा वित्‍त और विदेश मंत्रालय भी संभाला
भारतीय सेना में मेजर रहे जसवंत सिंह ने बाद में राजनीति का दामन थाम लिया था। बीजेपी की स्‍थापना करने वाले नेताओं में शामिल जसवंत ने राज्‍यसभा और लोकसभा, दोनों सदनों में बीजेपी का प्रतिनिधित्‍व किया। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्‍व वाली सरकार में उन्‍होंने 1996 से 2004 के बीच रक्षा, विदेश और वित्‍त जैसे मंत्रालयों का जिम्‍मा संभाला। बतौर वित्‍त मंत्री जसवंत सिंह ने स्‍टेट वैल्‍यू ऐडेड टैक्‍स (VAT) की शुरुआत की जिससे राज्‍यों को ज्‍यादा राजस्‍व मिलना शुरू हुआ। उन्‍होंने कस्‍टम ड्यूटी भी घटा दी थी। 2014 में बीजेपी ने सिंह को बाड़मेर से लोकसभा चुनाव का टिकट नहीं दिया था। नाराज जसवंत ने पार्टी छोड़कर निर्दलीय चुनाव लड़ा मगर हार गए थे। उसी साल उन्‍हें सिर में गंभीर चोटें आई, तब से वह कोमा में थे।

कृषि विधेयकों के विरोध में NDA से अलग हुई सहयोगी शिरोमणि अकाली दल

इससे पहले राजग के दो अन्य प्रमुख सहयोगी दल शिवसेना और तेलगु देशम पार्टी भी अन्य मुद्दों पर गठबंधन से अलग हो चुके हैं.

चंडीगढ़ शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने कृषि विधेयकों के विरोध में शनिवार रात को भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से अलग होने की घोषणा की. पार्टी की कोर समिति की बैठक के बाद उन्होंने यह घोषणा की.

इससे पहले राजग के दो अन्य प्रमुख सहयोगी दल शिवसेना और तेलगु देशम पार्टी भी अन्य मुद्दों पर गठबंधन से अलग हो चुके हैं.

सुखबीर ने कहा, ‘शिरोमणि अकाली दल की निर्णय लेने वाली सर्वोच्च इकाई कोर समिति की आज रात हुई आपात बैठक में भाजपा नीत राजग से अलग होने का फैसला सर्वसम्मति से लिया गया.’

उन्होंने कहा कि सरकार ने किसानों की भावनाओं का आदर करने के बारे में भाजपा के सबसे पुराने सहयोगी दल शिअद की बात नहीं सुनी.

इससे पहले, 17 सितंबर को सुखबीर सिंह बादल की पत्नी और शिअद की वरिष्ठ नेता हरसिमरत कौर ने कृषि विधेयकों के विरोध में कैबिनेट मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था.

भोपाल दो रेलवे अधिकारियों पर गेंगरेप का आरोप

भोपाल: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के दो रेलवे अधिकारियों पर उत्तर प्रदेश की युवती से भोपाल रेलवे स्टेशन में गैंग रेप करने का आरोप लगा है. पुलिस ने कहा कि दो रेलवे अधिकारियों (Railway Officials) ने शनिवार को यूपी की 22 वर्षीय युवती से भोपाल रेलवे स्टेशन पर  कथित रूप से दुष्कर्म किया. पुलिस ने मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. महिला का आरोप है कि रेलवे अधिकारी से फेसबुक पर दोस्ती हुई थी और उन्होंने नौकरी दिलाने का वादा करते हुए भोपाल बुलाया था. 

पुलिस अधिकारी हितेश चौधरी ने पीटीआई को बताया, “हमने 45 वर्षीय मुख्य आरोपी राजेश तिवारी को गिरफ्तार कर लिया है. वह भोपाल रेलवे डिविजन में आपदा प्रबंधन इंचार्ज और सिक्योरिटी काउंसलर है. इसके अलावा, दूसरे रेलवे अधिकारी को भी हिरासत में लिया गया है.”

महिला ने पुलिस को बताया कि तिवारी ने फेसबुक (Facebook) पर उससे दोस्ती की और नौकरी दिलाने का वादा करके भोपाल बुलाया. महिला ने कहा कि जब वह भोपाल पहुंची तो तिवारी भोपाल के मुख्य स्टेशन में वेस्ट सेंट्रल रेलवे कार्यालय की पहली मंजिल पर बने अपने कमरे में ले गए. 

महिला ने अपनी शिकायत में कहा कि तिवारी और उनके दोस्त एक अन्य रेलवे अधिकारी ने उसे नशीला ड्रिंक दिया, जिसके बाद वह बेसुध हो गई. इसके बाद दोनों अधिकारियों ने उसके साथ दुष्कर्म किया. महिला ने बताया कि होश में आने के बाद वह जीआरपी के पास पहुंची. जीआरपी ने दोनों अधिकारियों के खिलाफ गैंगरेप का दर्ज किया और तिवारी को अरेस्ट किया. 

पुलिस अधिकारी ने कहा, “हमने अन्य रेलवे अधिकारी को हिरासत में लिया, लेकिन हम उसकी गिरफ्तारी से पहले महिला द्वारा उसकी पहचान किए जाने का इंतजार कर रहे हैं.”

हर फिक्र को धुएं में उड़ा देते थे देवा आनंद

26 सितंबर  सुपरस्टार देव आनंद की जयंती थी. जिन्होंने अपने प्रशंसकों के दिलों पर राज किया। बॉलीवुड के सुपरस्टार अभिनेता देव आनंद ने अपनी जिंदगी अपनी शर्तों पर जी, इसे एक धुंआ और जीवन का एक झटका बना दिया। भारतीय सिनेमा के अविश्वसनीय उत्पाद देव आनंद भले ही हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनकी प्रतिभा और दृढ़ता के आधार पर, उनका अभिनय आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणा का स्रोत बन गया। देव आनंद ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत ब्लैक एंड व्हाइट फिल्म एक हम से की, जिसमें उनकी नायिका सुरैया थीं। देव साहब का फिल्मी करियर छह दशक से अधिक समय तक चला। देव आनंद, जिनका जन्म 26 सितंबर, 1923 को पंजाब के गुरदासपुर जिले में हुआ था, उनका बचपन का नाम देवदत्त पिशोरीमल आनंद था और बचपन से ही अभिनय की ओर झुकाव था।

उनके पिता पेशे से वकील थे। देव आनंद ने लाहौर के प्रसिद्ध गवर्नमेंट कॉलेज से अंग्रेजी साहित्य में स्नातक की पढ़ाई पूरी की थी। देव आनंद आगे भी पढ़ना चाहते थे, लेकिन उन्होंने पैसो की परेशानी की वजह से पढ़ाई छोड़ दी। यहीं से उनका और बॉलीवुड का सफर शुरू हुआ। 1943 में अपने सपनों को साकार करने के लिए जब वह मुंबई पहुंचे। देव आनंद ने मुंबई में रेलवे स्टेशन के पास एक सस्ते होटल में एक कमरा किराए पर लिया।

जहां उनके साथ तीन अन्य लोग थे, जो उनकी तरह ही फिल्म उद्योग में अपनी पहचान बनाने के लिए संघर्ष कर रहे थे। उनके पास सैन्य सेंसर कार्यालय में एक लिपिक की नौकरी थी, जहां उन्हें अपने परिवार के सैनिकों के पत्र पढ़ने थे। उनके करियर में, गाइड, हरे रामा हरे कृष्णा, जॉनी मेरा नाम और कई फिल्में शामिल हैं।

दीपिका पादुकोण की 2017 वाली ‘ड्रग चैट’ कैसे हुई लीक, उठे सवाल तो WhatsApp ने दी सफाई

नई दिल्ली .सुशांत सिंह राजपूत की मौत  की जांच से निकला ड्रग एंगल दीपिका पादुकोण , श्रद्धा कपूर, सारा अली खान जैसी अभिनेत्रियों तक जा पहुंचा। इस पूरे मामले में केस से संबंधित कई लोगों के व्हाट्सऐप चैट मीडिया में लीक हुई है। सबसे ताजा मामला दीपिका पादुकोण की एक व्हाट्सऐप चैट का है, जो मीडिया में जमकर दिखाया जा रहा है। इस चैट में वह कथित तौर पर ड्रग्स मांगते दिख रही हैं। कहा जा रहा है कि ये चैट 2017 की है, जो डिलीट हो चुकी थी। लेकिन इन सब की बीच सवाल ये है कि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो  ने इसे हासिक कैसे किया? लोगों ने व्हाट्सऐप प्राइवेसी को लेकर सवाल उठाए हैं, जिसपर व्हाट्सऐप ने अधिकारिक तौर पर जवाब दिया है।सोशल नेटवर्क प्लेटफॉर्म व्हाट्सऐप  ने गुरुवार  को कहा कि उसके संदेश  सुरक्षित हैं और कोई भी थर्ड पार्टी उन्हें एक्सेस नहीं कर सकता है।

व्हाट्सऐप ने कहा है कि किसी भी थर्ड पार्टी की पहुंच मैसेज तक नहीं हो सकती है। व्हाट्सऐप के प्रवक्ता ने कहा, व्हाट्सऐप आपके मैसेजों को एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन के साथ हमेशा सुरक्षित रखता है। ताकि आप और जिस शख्स से आप बातचीत कर रहे हैं, मैसेज सिर्फ वही पढ़ सके। कोई थर्ड पार्टी या में कोई भी इन मैसेजों को नहीं पढ़ सकता है। यहां तक ​​कि व्हाट्सऐप भी नहीं। व्हाट्सऐप के प्रवक्ता ने कहा, आपको याद रखना चाहिए कि आप सिर्फ एक फोन नंबर से व्हाट्सऐप पर साइन अप करते हैं, और व्हाट्सऐप की आपकी मैसेज तक पहुंच नहीं है। व्हाट्सऐप के प्रवक्ता ने कहा, ऑन-डिवाइस स्टोरेज के लिए हम ऑपरेटिंग सिस्टम निर्माताओं द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करता है।

इसके अलावा कंपनी हमेशा ही ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा दिए गए सभी सिक्योरिटी उपाए जैसे, पासवर्ड या बायोमैट्रिक आईडी के इस्तेमाल को बढ़ावा देते हैं, ताकी कोई भी थर्ड पार्टी आपके डिवाइस में स्टोर कंटेट तक ना जा सके।सुशांत सिंह केस में ड्रग्स एंगल की जांच कर नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो  ने दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर, सारा अली खान और रकुल प्रीत सिंह को पूछताछ के लिए बुलाया है। 25-26 सितंबर के बीच इन सबको एनसीबी के पास पूछताछ के लिए जाना है। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने बॉलीवुड नेक्सस में अबतक रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती के अलावा 18 लोगों को गिरफ्तार किया है।