मध्यप्रदेश: दारुवाली लड़ेगी सुरखी से चुनाव कभी मंत्री ने कहा था “दारुवाली “

भाजपा को झटका, पूर्व विधायक पारुल साहू ने थामा कांग्रेस का दामन

सागर  सुरखी उपचुनाव में कांग्रेस ने भाजपा को उसी के अंदाज में पटखनी देने का फैसला कर लिया है। बड़े घटनाक्रम के बीच सुरखी से भाजपा की पूर्व विधायक पारुल साहू ने शुक्रवार को कांग्रेस का दामन थाम लिया। वे पहले परिवहन मंत्री गोविंद राजपूत को शिकस्त दे चुकी हैं। शुक्रवार को भोपाल में पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के सामने उन्होंने कांग्रेस का हाथ थामा। इसके पूर्व गुरुवार शाम उनकी कमलनाथ से मुलाकात हुई थी। पारुल बीते विधानसभा चुनाव के समय से टिकट काटे जाने और उपेक्षा से आहत थीं। उनके कांग्रेस में जाने के साथ ही कांग्रेस की तरफ से उनका सुरखी से प्रत्याशी होना तय हो गया है। जाहिर है उनका चुनावी मैदान में उतरना भाजपा के गोविंद राजपूत की मुसीबतें बढ़ाएगा।

जाने-माने शराब ठेकेदार और पूर्व विधायक संतोष साहू की बेटी और सुरखी विधानसभा क्षेत्र की पूर्व विधायक पारुल साहू ने हाथ का दामन थामकर भाजपा का करारा झटका दिया है। पारुल ने 2013 में सुरखी से कांग्रेस के गोविंद सिंह राजपूत को हराया था। पहली दफा लड़ी पारुल ने गोविंद राजपूत को 141 वोट से पराजित किया था। पिछले चुनाव में उनको पार्टी ने टिकट नहीं दिया था। गोविंद सिंह राजपूत के भाजपा में शामिल होने के बाद से उनकी नाराजगी और बढ़ गई थी। अंदरखाने की खबरों पर यकीन करें तो भाजपा ने पारुल को मनाने की भरपूर कोशिश की, लेकिन सफलता नहीं मिली। अब एक बार फिर सुरखी में राजस्व मंत्री राजपूत का मुकाबला पारुल से होगा। फर्क इतना है कि पार्टी बदली हुई है। पिछले कई दिनों से पारुल के कांग्रेस में जाने की चर्चाएं थीं। गुरुवार को नगरीय विकास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने यह कहकर इस चर्चा को हवा दे दी थी कि वे अभी तक तो भाजपा में हैं, भविष्य का कहा नहीं जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *