बीमारियों को भगाना है दूर तो पिएं इन चीजों से बना काढ़ा, मिलते हैं कई स्वास्थ्य लाभ

नई दिल्ली 

दादी-नानी के नुस्खों में घर में मौजूद चीजों को मिलाकर काढ़े बनाए जाते थे, जो कई तरह से सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं। पहले के समय में मौसम बदलने के कारण होने वाले सर्दी-जुकाम और बुखार में घर पर ही काढ़ा बनाकर दिया जाता था। काढ़ा बनाने के लिए घरेलू मसालों का उपयोग किया जाता है जो औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं। इन काढ़ों के सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है, जिससे हमारा शरीर रोगों से लड़ने में सक्षम होता है। इन काढ़ों को आसानी से घर पर ही बनाया जा सकता है। आइए जानते हैं कि काढ़ा पीने से क्या लाभ होते हैं…
 

दालचीनी एक ऐसा मसाला है जिसमें भीनी खुशबू आती है। वैसे तो दालचीनी का उपयोग एक आम मसाले की तरह किया जाता है, लेकिन इसमें पाए जाने वाले गुणों के कारण ये एक औषधि की तरह काम करती है। आधा चम्मच दालचीनी के पाउडर एक गिलास पानी में उबालें। जब पानी अच्छी तरह से उबल जाए तो आंच से उतारकर इस कुछ देर ठंडा होने दे उसके बाद इसमें शहद मिलाकर पिएं, इससे सर्दी जुकाम से राहत मिलती है। दालचीनी का सेवन दिल की बीमारियों से बचाने में भी सक्षम है। ये कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में लाभकारी है।  

अगर गले में खराश, खांसी, सर्दी की समस्या है तो लौंग को बारीक पीसकर, काली मिर्च, अदरक और गुड़ के साथ पानी में डालकर उबालें। इसमें कुछ तुलसी की पत्तियां भी डालें। जब उबलता हुआ पानी आधा रह जाए तो समझ जाएं कि आपका काढ़ा बनकर तैयार हो गया। इसको छानकर गुनगुना ही पी लें। 

एक कप पानी में एक चम्मच काली मिर्च और चार चम्मच नींबू का रस डालकर उबालें। इसे रोज सुबह खाली पेट पीने से पेट की चर्बी कम होती है। साथ ही सर्दी जुकाम में भी लाभ मिलता है.

अजवाइन पेट संबंधी समस्याओं में लाभ पहुंचाती है। अगर आपको पेट से संबंधित परेशानियां रहती हैं तो एक गिलास पानी को उबाल लें। पानी में तेज उबाल आने पर इसमें आधा चम्मच अजवाइन और गुड़ मिलाकर आधा पानी सूखने तक उबालें। आंच पर से उतारकर ठंडा करके पिएं। इससे पाचन क्रिया सही होती है।

मसालों की तासीर बहुत गर्म होती है इसलिए काढ़े का सेवन ज्यादा मात्रा में न करें। ज्यादा मात्रा में सेवन करने से पेट में जलन जैसी समस्या हो सकती है। अगर आपको किसी तरह की कोई परेशानी है तो किसी योग्य आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह लेकर ही इसका सेवन करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *