जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में इंटरनेट बैन करने वाला ट्वीट है फर्जी, MHA ने दी सफाई

नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारत (India) और चीन (China) के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प (India-China Dispute) के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है. दूसरी तरफ जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ चलाए गए अभियान गए अभियान के बाद से ही सेना को किसी भी आतंकी घटना के लिए अलर्ट किया गया है. चीन और पाकिस्तान के साथ चल रहे विवाद के बीच गृह मंत्रालय के नाम पर एक फर्जी ट्वीट किया जा रहा है. इसमें कहा गया है कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) और लद्दाख (Ladakh) में फिक्स्ड लाइन ब्रॉडबैंड और इंटरनेट पर रोक लगाई जा रही है. हालांकि, गृह मंत्रालय ने इसे सिरे से खारिज किया है.

गृह मंत्रालय की ओर से वायरल हो रही ट्वीट पर सफाई देते हुए कहा गया है कि केंद्रीय गृह मंत्री के नाम से एक ट्वीट चल रहा है, जिसमें जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में फिक्स्ड लाइन ब्रॉडबैंड और इंटरनेट को बंद करने का उल्लेख है. यह ट्वीट फर्जी है. केंद्रीय गृह मंत्री के ट्विटर हैंडल से ऐसा कोई ट्वीट नहीं किया गया है.

बता दें कि गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हिंसक झड़प के बाद अब भारतीय सरकारी वेबसाइट चाइनीज़ हैकर्स के निशाने पर हैं. दरअसल, इस हफ्ते सोमवार को डीआईपीपी की वेबसाइट हैक हो गई उस पर चाइनीज भाषा में मीडिएट लिखा मिला था. ऐसे में साइबर इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम यानी CERT ने सभी मंत्रालयों और विभागों को चेतावनी जारी कर सावधानी बरतने की सलाह दी है.

बताया गया कि हैकर्स सरकारी फर्जी ईमेल आईडी के ज़रिए टारगेट कर सकते हैं. कहा गया कि डार्क वेब पर भारत को सबक सिखाने पर चर्चा जारी है और चाइनीज हैकर बड़ी मात्रा में हमला करने के तैयारी कर रहे हैं. साइबर सिक्योरिटी रिसर्च फर्म CYfirma ने भी चेतावनी जारी की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *