जमानत मिलने के बाद संसद पहुंचे पी चिदंबरम

कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद पी चिदंबरम आज संसद पहुंचे हैं। संसद पहुंचे कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने प्याज की बढ़ी कीमतों को लेकर वित्त मंत्री पर तंज कसा है। पी चिदंबरम को कल प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दर्ज आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जमानत दे दी थी। वहीं आज राज्यसभा में कराधान कानून(संशोधन) विधेयक 2019 पेश किया जाएगा। वित्त मंत्री निर्मला निर्मला सीतारमण इसे राज्यसभा में पेश करेंगी। वहीं दिल्ली में आज वायु प्रदूषण फिर से खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण की स्थिति गंभीर हो गई है। दिल्ली से सटे गाजियाबाद के वसुंधरा में वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 406 पहुंच गया है, जो कि गंभीर श्रेणी में आता है। वहीं कर्नाटक विधानसभा के उपचुनाव के लिए मतदान आज हो रहा है। राज्य की 15 विधानसभा सीटों पर आज उपचुनाव हो रहे हैं।कांग्रेस और जेडीएस के 17 बागी विधायकों की अयोग्यता के कारण खाली होने के बाद यह उपचुनाव हो रहे हैं। वहीं आज तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की तीसरी पुण्यतिथि है। इस मौके पर कई जगह कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं।

तीन महीने से जीएसटी मुआवजा न मिलने से अब 7 राज्य हुए नाराज

वस्तु एवं सेवा कर (GST) से हुए नुकसान के बदले मिलने वाला मुआवजा पिछले तीन महीने से न मिलने की वजह से नाराज होने वाले राज्यों की संख्या बढ़ती जा रही है. पहले 5 राज्यों ने सवाल उठाए थे, अब 7 राज्यों ने केंद्र सरकार के रवैए पर सवाल उठाए हैं. केरल ने तो यहां तक धमकी दी है कि अगर जरूरत पड़ी तो वह इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट तक जाएगा.

वित्त मंत्री के आश्वासन से संतुष्ट नहीं

बुधवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पांच राज्यों के वित्त मंत्रियों से मुलाकात के दौरान यह आश्वासन भी दिया कि अगस्त और सितंबर का बकाया जल्द ही जारी किया जाएगा, लेकिन राज्य इससे संतुष्ट नहीं दिख रहे. वित्त मंत्री ने इसके लिए कोई समय सीमा नहीं बताई है.

पंजाब, केरल, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के वित्त मंत्रियों ने बुधवार को वित्त मंत्री से मुलाकात की और यह मांग की कि अगस्त से अब तक का बकाया फंड जल्द से जल्द जारी किए जाए. इसके पहले पश्चिम बंगाल, पंजाब, केरल, राजस्थान और दिल्ली के वित्त मंत्री ने एक संयुक्त बयान जारी कर हाल में कहा था कि यह मुआवजा न मिलने से राज्य वित्तीय रूप से भारी दबाव में हैं और केंद्र सरकार ने इसकी कोई वजह भी नहीं बताई है.

प्रयागराज में 10 जनवरी से शुरू हो रहा माघ मेलामेले में साढ़े 3 हजार पुलिकर्मियों की होगी तैनाती

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार संगम के शहर प्रयागराज में अगले महीने से शुरू हो रहे माघ मेले में सिर्फ ‘संस्कारी पुलिस’ वालों की ही ड्यूटी लगाएगी. संस्कारी पुलिस का मतलब जो शराब और नशे से दूर रहते हैं. माघ मेला अगले महीने 10 जनवरी से शुरू हो रहा है.

सरकार आस्था के पावन माघ मेले के लिए ऐसे पुलिसवालों की ड्यूटी नहीं लगाएगी जो शराब या अन्य दूसरे तरह के नशे का सेवन करते हैं. इतना ही नहीं मेले में ड्यूटी करने वाले सभी साढ़े तीन हजार पुलिस वालों को अच्छा व्यवहार रखने की ट्रेनिंग भी दी जाएगी.

पुलिसवालों की ट्रेनिंग भी

मेले में तैनाती से पहले पुलिसकर्मियों की ट्रेनिंग इसलिए कराई जा रही है ताकि मेले में ड्यूटी के दौरान पुलिस का रवैया अच्छा रहे और वह सुरक्षा पर नजर रखने के साथ ही श्रद्धालुओं के साथ गाइड और मददगार के तौर पर अपना व्यवहार बेहतर रख सकें.

पुलिसकर्मियों को अंग्रेजी की ट्रेनिंग

मेले में ड्यूटी करने वाले पुलिसकर्मियों को अच्छे व्यवहार और संस्कार की ट्रेनिंग के साथ ही बेसिक इंग्लिश भी सिखाई जाएगी. इसके पीछे कोशिश यह है कि विदेश और दक्षिण भारत से आने वाले ऐसे श्रद्धालुओं जिन्हें हिंदी नहीं आती, उन्हें रास्तों और अन्य जरूरी चीजों की जानकारी अंग्रेजी में दी जा सके.

प़यागराज में 10 जनवरी से शुरू हो रहे माघ मेले में इस बार साढ़े छह करोड़ श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है. माघ मेले को इस बार मिनी कुंभ के तौर पर आयोजित किए जाने की तैयारी है.