स्वयंभू बाबा नित्यानंद ने बना लिया अलग देश खुद का साम्राज्य, नाम है कैलासा!


अपहरण के मामले में फरार चल रहे दक्षिण भारत के स्वयंभू बाबा नित्यानंद के बारे में खबरें आ रहीं हैं कि वह विदेश भाग चुका है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो नित्यानंद ने दक्षिण अमेरिका के इक्वाडोर में एक आईलैंड खरीद उसे कैलासा नाम दे दिया है। वायरल खबरों की मानें तो इस आईलैंड को नित्यानंद ने हिन्दू राष्ट्र घोषित कर दिया है। वहीं, कुछ दिन पहले नित्यानंद के विदेश चले जाने के सवाल पर विदेश मंत्रालय ने कहा था उन्हें ऐसी कोई जानकारी नहीं है। गुजरात पुलिस ने इस बात की पुष्टि कर चुकी है कि नित्यानंद फरार है और भारत में नहीं है। गुजरात पुलिस ने बीती 21 नवंबर को बताया था कि स्वयंभू बाबा नित्यानंद देश छोड़कर भाग गया है। नित्यानंद के खिलाफ फौजदारी मामला दर्ज है। मामले में उसके खिलाफ सबूत जुटाने के लिए पुलिस ने उसकी दो महिला अनुयायियों को भी गिरफ्तार किया है।

लगे हैं ये गंभीर आरोप

अहमदाबाद (ग्रामीण) के पुलिस अधीक्षक एसवी असारी ने बताया कि नित्यानंद कर्नाटक में उसके खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज होने के बाद ही देश छोड़कर भाग गया था। गुजरात पुलिस उचित माध्यम के जरिए उसकी हिरासत हासिल करेगी। पुलिस ने उसकी दो महिला अनुयायियों- साध्वी प्राण प्रियानंद और प्रियातत्व रिद्धि किरण को भी गिरफ्तार किया था। दोनों पर चार बच्चों को कथित तौर पर अगवा करने और उन्हें एक फ्लैट में बंधक बनाकर रखने का आरोप है। पुलिस नित्यानंद के आश्रम से लापता हुई एक महिला के मामले में भी जांच कर रही है। महिला के पिता जनार्दन शर्मा ने शिकायत दर्ज कराई थी। पुलिस ने 20 नवंबर को स्वयंभू बाबा स्वामी नित्यानंद के खिलाफ मामला दर्ज किया था। नित्यानंद पर अहमदाबाद में अपना आश्रम योगिनी सर्वज्ञपीठम चलाने के लिए बच्चों को कथित तौर पर अगवा करने और उन्हें बंधक बनाकर अनुयायियों से चंदा जुटाने के आरोप हैं। 

विदेश मंत्रालय का बयान

नित्यानंद के विदेश भागने की खबरों पर सवाल पूछे जाने पर विदेश मंत्रालय ने 21 नवंबर को था कि इसकी कोई औपचारिक सूचना नहीं है कि अपहरण का आरोपी स्वयंभू धर्मगुरु नित्यानंद भारत से बाहर चला गया है। गुजरात पुलिस द्वारा प्रत्यर्पण की प्रक्रिया शुरू करने के सवाल पर विदेश मंत्रालय ने कहा कि प्रत्यर्पण प्रक्रिया शुरू करने के लिए किसी भी व्यक्ति के स्थान का विवरण होना चाहिए। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने तब कहा था कि हमें कोई औपचारिक जानकारी नहीं है, न तो गुजरात पुलिस से और न ही गृह मंत्रालय से। इसके अलावा, प्रत्यर्पण अनुरोध के लिए, हमें व्यक्ति के स्थान और राष्ट्रीयता के विवरण की आवश्यकता होती है। हमारे पास अभी तक उसके बारे में ऐसी कोई जानकारी नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *