चीन से अमेरिका इस मोर्चे पर हार गया है जंग, पेंटागन के पूर्व अधिकारी ने जताई चिंता

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के पूर्व सॉफ्टवेयर प्रमुख निकोलस चैलान ने कहा है कि चीन ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के मामले में बड़ी सफलता हासिल की है। उन्होंने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के युद्ध में चीन के मुकाबले अमेरिा हारता हुआ दिख रहा है। निकोलस ने कहा कि साइबर क्षमताओं में इजाफे के चलते चीन ने बड़ी बढ़त कायम कर ली है। फाइनेंशियल टाइम्स से बातचीत करते हुए निकोलस ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी इकॉनमी चीन उभरती तकनीकों के मामले में अपना दबदबा बनाए हुए है।

निकोलस ने कहा कि चीन ने आर्टिफिशयल इंटेलिजेंस, सिंथेटिक बायोलॉजी और जेनेटिक्स के मामले में बढ़त कायम कर ली है। उन्होंने कहा कि चीन को यह अहम सफलता बीते एक दशक के दौरान ही मिली है, जबकि अमेरिका पिछड़ता हुआ दिखा है। अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के पहले चीफ सॉफ्टवेयर ऑफिसर रहे निकोलस ने यह कहते हुए पद से इस्तीफा दे दिया था कि अमेरिका की टेक्नॉलिजिकल ट्रांसफॉर्मेशन की गति बेहद कम है। उनका कहना है कि गति धीमी होने और बढ़ते रिस्क का जवाब देने में सक्षम न होने के चलते अमेरिका के आगे खतरा बढ़ा है।

यही नहीं अमेरिका के पिछड़ने पर गहरी चिंता जाहिर करते हुए निकोलस ने कहा कि अगले 15 से 20 सालों में हम चीन का मुकाबला करने की स्थिति में शायद नहीं होंगे। अखबार से बात करते हुए निकोलस ने कहा कि यह स्पष्ट हो गया है कि हम पिछड़ गए हैं। निकोलस ने गूगल की भी आलोचना करते हुए कहा कि वह अमेरिका के साथ मिलकर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर काम नहीं कर रहा है। उन्होंने कहा कि इसे लेकर एथिक्स से जुड़ी तमाम डिबेट्स होती रही हैं और इसके चलते अमेरिका पिछड़ गया है। उन्होंने कहा कि चीनी कंपनियां वहां सरकार के साथ मिलकर तकनीक पर काम कर रही हैं, लेकिन अमेरिका में ऐसा नहीं हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!