तालिबान के हाथ लग सकते हैं पाकिस्‍तान के 150 परमाणु बम, ट्रंप के पूर्व सुरक्षा सलाहकार ने दी चेतावनी

वॉशिंगटन
अमेरिका के पूर्व राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के सुरक्षा सलाहकार रह चुके जॉन बोल्‍टन ने आशंका जताई है कि अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद अब तालिबानी पाकिस्‍तान के 150 परमाणु बमों पर कब्‍जा जमा सकते हैं। बोल्‍टन ने कहा कि अगर इस्‍लामिक कट्टरपंथी पाकिस्‍तान पर कब्‍जा कर लेते हैं तो परमाणु हथियार तालिबान के हाथ लग सकते हैं। उन्‍होंने कहा कि तालिबान के अफगानिस्‍तान पर कब्‍जे के बाद अब उनके पाकिस्‍तान पर कब्‍जे की आशंका बढ़ गई है।

जॉन बोल्‍टन ने एक इंटरव्‍यू में कहा, ‘तालिबान का अब अफगानिस्‍तान पर नियंत्रण हो गया है जिससे आतंकियों के पाकिस्‍तान पर कब्‍जा करने का खतरा बढ़ गया है। इसका मतलब है कि 150 परमाणु बम आतंकियों के हाथों में जा सकता है।’ इससे पहले अमेरिका के अफगानिस्‍तान से हटने के बाद अफगान सेना को दिए गए अरबों डॉलर के अत्‍याधुनिक हथियार तालिबान के हाथ में आ गए थे।,

पाकिस्‍तान के पास करीब 160 परमाणु बम, 102 मिसाइलें
अब तालिबानी आतंकियों के पाकिस्‍तान पर कब्‍जे का खतरा मंडराने लगा है। पाकिस्‍तान के पास करीब 160 परमाणु बम हैं। इसके अलावा उसके पास जमीन आधारित 102 मिसाइलें हैं। पाकिस्‍तान ने अमेरिका से एफ-16 फाइटर विमान खरीदा है जिसमें 24 परमाणु लॉन्‍चर्स भी मौजूद हैं। जॉन बोल्‍टन ट्रंप के शासन काल में अप्रैल 2018 से लेकर सितंबर 2019 तक उनके सुरक्षा सलाहकार रह चुके हैं।

बोल्‍टन ने यह आशंका ऐसे समय पर जताई है जब पाकिस्‍तान में तालिबानी प्रभाव तेजी से बढ़ता ही जा रहा है। यही नहीं तालिबान समर्थक पाकिस्तान के कट्टरपंथी मौलाना अब अपने देश में भी इस्लामी शरिया कानून को लागू करने की मांग करने लगे हैं। इस्लामाबाद के सबसे कुख्यात मदरसे जामिया हफ्सा में लगे तालिबान के झंडे को उतारने के लिए जब पाकिस्तानी पुलिस पहुंची तो उसे मौलाना अब्दुल अजीज और छात्रों के विरोध का सामना करना पड़ा। वहीं मौलाना ने दावा किया कि इस्लामाबाद प्रशासन ने शरिया लागू करने की मांग को मान लिया है।

तालिबान झंडा उतारने पहुंची पुलिस का विरोध
पाकिस्तान की द फ्राइडे टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, जब इस्लामाबाद पुलिस जामिया हफ्सा की इमारत पर तालिबान के झंडे उतारने पहुंची तो उसे भारी विरोध का सामना करना पड़ा। खुद मौलाना अब्दुल अजीज पुलिस के सामने खड़े हो गए। इसके बाद पुलिस टीम झंडों को बिना उतारे ही वापस लौट गई। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में अब्दुल अजीज पुलिसकर्मियों को लताड़ते हुए दिखाई देते हैं। वायरल वीडियो में मौलाना अब्दुल अजीज जामिया हफ्सा के अंदर पुलिसकर्मियों के साथ बहस करते हुए दिखाई दे रहे हैं। उन्होंने पुलिसकर्मियों को नौकरी छोड़ने तक की समझाइश दे दी। मौलाना ने धमकी देते हुए कहा कि पाकिस्तान तालिबान आप सभी को सबक सिखाएगा। पुलिस को तालिबान के झंडे हटाने से रोकने के लिए बड़ी संख्या में मदरसे की बुर्का पहने छात्राएं छत पर मौजूद थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!