ग्वालियर काे मिलेगी वंदे भारत ट्रेनः-जनवरी से नए रेलवे स्टेशन का काम शुरू हाे जाएगा, सिंधिया ने किया आंध्र प्रदेश संपर्क क्रांति काे हरी झंडी दिखाकर रवाना

ग्वालियर । नागरिक उड्डयन मंत्री ज्याेतिरादित्य सिंधिया एवं सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने आज सुबह आंध्र प्रदेश संपर्क क्रांति काे हरी झंडी दिखाकर तिरूपति के लिए रवाना किया। ट्रेन अपने निर्धारित समय से पहले ही पहुंच गई थी, इसलिए ट्रेन काे बानमाैर में राेकना पड़ा। ट्रेन राइट टाइम पर ग्वालियर पहुंची और निर्धारित समय पर ही रवाना हुई। इस दाैरान सिंधिया ने रेलवे स्टेशन पर प्रस्तावित कार्य के बारे में जानकारी दी। उन्हाेंने कहा कि भव्य रेलवे स्टेशन के निर्माण के लिए अक्टूबर माह में टेंडर डाले जाएंगे, दिसंबर में टेंडर खुलेंगे और जनवरी माह से आपके सपनाें के रेलवे स्टेशन के निर्माण का काम शुरू हाे जाएगा। सिंधिया ने कहा कि रेल मंत्री काे पत्र लिखकर मैने ग्वालियर से दिल्ली के बीच वंदे भारत ट्रेन देने के लिए कहा है। अगले साल इस ट्रेन की साैगात मिल सकती है। उन्हाेंने कहा कि मरा दायित्व समूचे संभाग के लिए है। इसलिए हरेक जिले के लिए कुछ न कुछ साैगात लाना मेरी जिम्मेदारी बनती है। इस दाैरान उन्हाेंने भिंड़ ग्वालियर रतलाम इंटरसिटी, ग्वालियर रतला इंदाैर इंटरसिटी के कुछ नए स्वीकृत स्टापेज के बारे में भी जानकारी दी।

आंध्र प्रदेश संपर्क क्रांति निजामुद्दीन से चलकर सुबह 9. 39 बजे बानमाैर पहुंच गई थी। ऐसे में ट्रेन निर्धारित समय से पहले ही ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर पहुंच जाती, इसलिए ट्रेन काे बानमाैर स्टेशन पर ही रूकवा दिया गया। इस बीच रेलवे स्टेशन पर ट्रेन काे हरी झंडी दिखाने की तैयारी हाे चुकी थी। कार्यक्रम काे केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने संबाेधित किया। इसके बाद ट्रेन निर्धारित समय पर ग्वालियर पहुंची। यहां पर सिंधिया एवं सांसद शेजवलकर ट्रेन काे 9:56 बजे हरी झंडी दिखाकर तिरुपति के लिए रवाना किया। यह ट्रेन बुधवार, शुक्रवार और रविवार को ही चलेगी।

केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने कहा कि सांसद शेजवलकर जी और हम मिलकर आंध्र प्रदेश संपर्क क्रांति का स्टापेज दे रहे हैं। हमारी मंशा है कि ग्वालियर का एक-एक श्रद्धालु तिरुपति जाकर दर्शन करे। उन्हाेंने सपनाें के रेलवे स्टेशन का उल्लेख करते हुए कहा कि ढाई साै कराेड़ की लागत से आपके सपनाें का रेलवे स्टेशन तैयार हाेगा। इसके लिए शेजवलकर जी और मैने सालाें मेहनत मशक्कत की है। अब जनवरी से यह सपनाें का रेलवे स्टेशन आकार लेने लगेगा। इसमें एस्केलेटर लगेंगे, अलग-अलग टर्मिनल बनाए जाएंगे। खासताैर पर ग्वालियर की एतिहासिक संस्कृति काे शामिल करके स्टेशन बनाया जाएगा। दाे नए आरओबी के अलावा तानसेन राेड चाैड़ीकरण की भी जानकारी दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!