नरेंद्र गिरि मामला : 12 घंटे की पूछताछ में आनंद गिरि ने क्या कुछ उगला, ये रही पूरी डिटेल

Prayagraj: आनंद गिरि से यूपी पुलिस ने पुलिस लाइन में करीब 12 घंटे तक पूछताछ की। अलग-अलग अधिकारियों ने अलग-अलग पूछताछ कर नरेंद्र गिरि और आनंद गिरि के बीच विवाद की वजह उगलवाने की कोशिश की। सूत्रों के मुताबिक, आनंद गिरि को सुसाइड नोट भी दिखाया गया, नरेंद्र गिरि की हैंड राइटिंग पहचनवाने की कोशिश की गयी। घंटो में पूछताछ में आनंद गिरि बस यही बोलते रहे कि महंत जी खुदकुशी नहीं कर सकते, ये हत्या है, किसी को उनकी हत्या से फायदा पहुंच रहा था, वो कौन है मुझे नहीं पता।

आनंद गिरि और नरेंद्र गिरि के बीच मठ के उतराधिकार को लेकर विवाद पर भी सवाल जवाब हुए, जिसमें आनंद गिरि ने बताया कि महंत जी के कहने के बाद जब तक उन्होंने मुझे माफ़ नहीं कर दिया श्री बड़े हनुमान जी के मंदिर नहीं गया। आनंद गिरि ने कबूल किया कि हाल में मेरा महंत जी से कोई विवाद नहीं था, महंत जी मुझे कभी परेशान भी नहीं लगे।महंत नरेंद्र गिरि से ब्लैकमेलिंग के सवाल पर आनंद गिरि ने बताया कि मुझे फंसाया जा रहा है, ये मेरे खिलाफ बड़ी साजिश है। महंत आनंद गिरि, अध्या तिवारी और उसके बेटे संदीप तिवारी तीनों से एक साथ भी मंदिर के चंदे में गड़बड़ को लेकर आमने सामने बैठा कर पूछताछ की गई।

अध्या तिवारी और उसके बेटे संदीप ने पुलिस को बताया कि महंत जी से उनका कोई विवाद नहीं हुआ, वो काफी लंबे वक्त से मंदिर के पुजारी है और गुरु जी मुझ पर बहुत विश्वास करते थे। एक हफ्ते पहले हुए झगड़े पर अध्या तिवारी और उसके बेटे ने बताया कि महंत जी ने हेराफेरी की बात बोली जरूर थी लेकिन बाद में जब हमने उन्हें सच्चाई बताई तो वो मान गए थे, कोई नाराजगी नहीं थी।

यूपी पुलिस हरिद्वार आश्रम से आनंद गिरी के लैपटॉप, फ़ोन और अन्य इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स को भी कब्जे में लेकर फॉरेंसिक जांच के लिए भेज रही है। गनर अजय समेत सुरक्षा में तैनात 4 पुलिसकर्मियो से पूछताछ की गई। खुदकुशी के लिए उकसाने के मामले में गिरफ्तार आरोपियों को 12 बजे के बाद कोर्ट में पेश किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!