काेराेना पर WHO की आई रिपाेर्ट ने उड़ाए सबके हाेश… जाने भारत के लिए क्या है खुशखबरी

WHO के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि अगर काेराेना वैक्सीन लगाने के बाद बी वापस आ रहा है ताे हमें वैक्सीनेशन की रणनीति बदलने की भी दरकार है.

दुनिया में काेराेना की स्तिथि काफी बिगड़ती जा रही है. वहीं भारत में भी काेराेना की स्तिथि काेई इतनी खास नही है. WHO की एक रिपाेर्ट सामने आई है जिसमें कहा गया है कि चाहे कितनी भी काेशिशें कर लाे काेराेना काे भगाने की, पर काेराेना फिलहाल ताे धरती से नही जाएगा. WHO के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि अगर काेराेना वैक्सीन लगाने के बाद भी वापस आ रहा है ताे हमें वैक्सीनेशन की रणनीति बदलने की भी दरकार है.

ऐसा इसलिए क्याेंकि माैजूदा रणनीति से काेराेना महामारी नही जा रही है. WHO के अधिकारी ने यह साफ कहा है कि आने वाले कई वर्षाें तक काेराेना रहेगा. गाेैरतलब है कि दुनिया के कई देश है जहां काेराेना का वैक्सीनेशन 90 फिसदी तक हाे गया है. लेकिन वहां अभी भी काेराेना के मामले सामने आ रहे हैं. बता दें कि डेल्टा वेरियंट तेजी के साथ एक दूसरे में फैल रहा है.

ताजा जानकारी के मुताबिक काेलंबिया में काेराेना का नया वेरियंट मिला है. इस वेरियंट काे पहली बार जनवरी 2021 काे काेलंबिया में पहचाना गया था. वहीं अगर बात करे भारत की ताजा स्तिथि पर ताे भारत में काेराेना के मामले तेजी के साथ बढ़ रहे हैं. देश में पिछले 24 घंटे में 27 हजार नए मामले देखे गए है. वहीं 38 हजार लाेग ठीक हाेकर घर जा चुके हैं. जिससे यह साफ है की भारत जैसे आबादी वाले देश में काेराेना काबू में है.

बता दें कि देश में फिलहाल 3 लाख 74 हजार लाेगाें का इलाज चल रहा है. लेकिन देश के केरल राज्य में अभी भी काेराेना से राहत नही मिली है. बता दें कि यहां बीते 24 घंटे में 20 हजार से ज्यादा मामले सामने आए. बात करे अगर देश में टीकाकरण की रफ्तार की ताे देश में टीकाकरण की रफ्तार बुलेट ट्रेन की तरह तेजी से जारी है.

बता दें कि देश में अब तक 74 कराेड़ लाेगाें काे काेराेना की वैक्सीनेशन हाे चुका है. भारत ने काेराेना की तीसरी लहर से बचने के लिए वैक्सीनेशन की रफ्तार काे आगे बढ़ाया है. अब तक देश के 6 राज्याें और एक केन्द्र शासित प्रदेश में काेराेना की पहली ड़ाेज़ लग चुकी है. जिसमें गाेवा, हिमाचल प्रदेश, लद्दाख, सिक्किम, लक्षद्वीप, दादा एवं नगर हवेली और दमन एवं दीव शामिल है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!