दिल्ली-एनसीआर में भारी बारिश से राहत तो मिली, मगर सड़कों पर जलभराव और ट्रैफिक जाम से हाल बेहाल

दिल्ली-एनसीआर में शुक्रवार देर रात से हो रही झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से थोड़ी राहत मिली हैं, लेकिन जगह-जगह हुए जलजमाव और ट्रैफिक जाम से हाल बेहाल हो गया है। बारिश के कारण दिल्ली-एनसीआर के निचले इलाकों समेत आईटीओ, राजघाट, धौलाकुआं, मिंटो ब्रिज, आजाद मार्केट, नोएडा, गाजियाबाद, गुरुग्राम और फरीदाबाद में कई जगहों पर जलभराव होने के चलते सड़कों पर वाहनों का लंबा जाम लग गया। सभी जगह अंडरपासों में पानी भर गया है। इसके चलते लोगों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। मूसलाधार बारिश के आगे नगर निगमों द्वारा किए गए पानी निकासी के बंदोबस्त और दावे भी ध्वस्त हो गए।

मौसम विभाग ने अगले दो घंटों के दौरान दिल्ली-एनसीआर में मध्यम से भारी बारिश के साथ गरज के साथ बौछारें पड़ने की भविष्यवाणी की थी। इससे पहले, भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने अगले 12 घंटों के दौरान दिल्ली में कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश की भविष्यवाणी की थी। 

आईएमडी ने ट्वीट किया, “अगले 12 घंटों के दौरान दिल्ली के कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश (2 सेमी तक) होने की संभावना है। अगले 12 घंटों के दौरान दिल्ली के अलग-अलग स्थानों पर मध्यम वर्षा (3-5 सेमी) की भी संभावना है।” 

दिल्ली में इस महीने अब तक हुई बारिश दीघार्वधि के औसत से ज्यादा रही है। दिल्ली शहर में जहां 09 सितंबर तक 129.1 मिमी बारिश हुई, वहीं सामान्य अवधि में 56.8 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई। आईएमडी ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली में हवाएं उत्तर-पूर्व की ओर से करीब 14.7 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हैं। इस बीच राजधानी के अधिकतर स्थानों पर वायु गुणवत्ता फिर से स्वास्थ्य के लिए हानिकारक स्थति में पहुंच गई है और यह मध्यम श्रेणी की पाई गई है। राजधानी के वजीरपुर और आनंद विहार में वायु गुणवत्ता सूचकांक क्रमश: 162 और 151 पर रहा।

मौसम विभाग के मुताबिक, 11 सितंबर के आसपास उत्तर और मध्य बंगाल की खाड़ी के पास हवा का कम दवाब का क्षेत्र बन रहा है और इसके 13 सितंबर के आसपास उत्तर-पश्चिम और उससे सटे पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर केंद्रित होने का अनुमान है।

दक्षिण हरियाणा, दक्षिण-पश्चिम उत्तर प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर 10 और 11 सितंबर के दौरान भारी बारिश होने के आसार जताए जा रहे हैं। सप्ताह के पहले तीन दिनों के दौरान उत्तराखंड में भारी से अति भारी बारिश हो सकती है और जम्मू और हिमाचल प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश होने का अनुमान है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!