कैदियों ने पीटा और ‘जय श्री राम’ के नारे लगवाए’, पकड़े गए संदिग्ध ISIS आतंकी ने HC में याचिका डाल बताई आपबीती

देश में सुसाइड अटैक और सीरियल ब्लास्ट करने की योजना बनाने के आरोप में धरे गए आरोपी ने दिल्ली हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की है। खूंखार आतंकी संगठन ISIS के इस संदिग्ध आतंकी ने हाईकोर्ट से कहा है कि दिल्ली की तिहाड़ जेल में उनके साथी कैदियों ने उनकी पिटाई की है और उनसे जबरन ‘जय श्री राम’ के नारे भी लगवाए। एडवोकेट एम एस खान ने दावा किया है कि इस घटना के बारे में पीड़ित ने तिहाड़ जेल में लगे टेलीफोन के जरिए अपने पिता को जानकारी दी है। इस याचिका में कहा गया है कि जेल में कैदियों ने उनकी पिटाई की और उन्हें जबरन ‘जय श्री राम’ का धार्मिक नारा बोलने के लिए मजबूर किया। 

बता दें कि आरोपी राशीद ज़फर को साल 2018 में आतंकी संगठन ISIS का सदस्य होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। यह भी बताया गया था कि यह ग्रुप उस वक्त दिल्ली में बम ब्लास्ट करने और अलग-अलग राजनीतिज्ञों को टारगेट करने की योजना बना रहा था। इसके अलावा यह लोग नॉर्थ इंडिया के अलग-अलग हिस्सों में भी तबाही मचाने की तैयारी कर रहे थे। 

आरोपी राशीद जफर को दिसंबर, 2018 में 9 अन्य आरोपियों के साथ पकड़ा गया था। उस वक्त एनआईए ने दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और उत्तर प्रदेश की एंटी-टेररिज्म दस्ते के साथ मिलकर दिल्ली के जाफराबाद और सीलमपुर में 6 जगहों पर जबकि उत्तर प्रदेश के अमरोहा में 6 जगह, लखनऊ में 2 जगह, हापुड़ में 2 जगह और मेरठ में 2 जगहों पर बड़ा सर्च अभियान चलाया था। 

यह सर्च ऑपरेशन और गिरफ्तारी 26 जनवरी से एक महीने पहले हुई थी। एनआईए के मुताबिक एक देसी रॉकेट लॉन्चर, सुसाइड बम बनाने के सामान और 112 अलार्म घड़ियां इस सर्च ऑपरेशन के दौरान बरामद की गई थीं। यह भी आरोप लगा था कि इस ग्रुप ने रिमोट कंट्रोल, कार और वायरलेस डोरबेल्स भी खरीदे थे ताकि रिमोट कंट्रोल से चलने वाले एक्सप्लोसिव डिवाइस को कंट्रोल किया जा सके। इसके अलावा एनआईए ने स्टील कंटेनर, बिजली के तार, 91 मोबाइल फोन, 134 सिम कार्ड, 3 लैपटॉप, चाकू, तलवार और आईएसआईएस से जुड़े कुछ पर्चे भी बरामद किये थे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *