फ्रांस से भारत आएंगे 4 और राफेल लड़ाकू विमान, 101 स्क्वाड्रन को फिर से जिंदा करने के लिए IAF तैयार

राफेल लड़ाकू विमान का एक और जत्था 19-20 मई को फ्रांस से भारत पहुंचने वाला है। ये चारो विमान मेरिग्नैक-बोर्डो एयरबेस से अंबाला पहुंचने वाले हैं। इसके साथ ही भारतीय वायु सेना (IAF) पश्चिम बंगाल के हाशिमारा में 101 “फाल्कन्स ऑफ चंब” स्क्वाड्रन को फिर से जीवित करने के लिए तैयार है। आपको बता दें कि भारत में राफेल की लैंडिंग की सही तारीख यूएई वायु सेना के द्वारा हवा में ईंधन भरने की उपलब्धता और मौसम की स्थिति को देखकर निर्धारित की जाएगी।

इक बात की प्रबल संभावना है कि फ्रांस अप्रैल 2022 से पहले ही सभी 36 राफेल लड़ाकू विमान भारत को सौंप देगा। इसकी घोषणा संसद में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी की थी। उन्होंने कहा था कि मई के अंत तक भारतीय वायु सेना के पास 24 राफेल लड़ाकू जेट होंगे। अन्य सात को फ्रांस में प्रशिक्षण उद्देश्यों के लिए रखा जाएगा और दो स्क्वाड्रन के पूरा होने से पहले केवल पांच और सौंपे जाएंगे। अंतिम पांच विमान 2021 की दूसरी छमाही में भारत को दिए जा सकते हैं क्योंकि मिस्र ने भी 30 राफेल लड़ाकू विमानों का ऑर्डर दिया है।

दूसरे स्क्वाड्रन का होम बेस हाशिमारा होगा। उसके रनवे, गोला-बारूद डिपो, ब्लास्ट पेन और कर्मियों के आवास के अलावा रखरखाव के लिए जरूरी सामग्रियों के साथ तैयार किया जा रहा है। एक एयर मार्शल ने कहा, “हाशिमारा हवाई अड्डे को पूरी तरह से नया रूप दिया गया है। इस महीने के अंत तक इसे चालू कर देना चाहिए। यहां विमान पार्क किए जाएंगे। युद्ध के समय में, लड़ाकू योजना के अनुसार देश में कहीं से भी लड़ाकू विमानों का संचालन होगा।”

आपको बता दें कि भारत अपने 126 मध्यम बहु-भूमिका वाले लड़ाकू विमानों (एमएमआरसीए) की रुकी हुई आवश्यकता को पूरा कर रहा है। इसके लिए अधिक फ्रंट-लाइन लड़ाकू विमानों की खरीद की दिशा में आगे बढ़ रही है। आपको बता दें कि फ्रांस ने न केवल भारत को हॉट इंजन तकनीक की पेशकश की है, बल्कि आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत हवा से जमीन पर मार करने वाली मिसाइल के विस्तारित रेंज को संयुक्त रूप से विकसित करने के लिए भी तैयार है।  फ्रांसीसी इंजन निर्माता Safran ने पहले ही 100 किलो न्यूटन थ्रस्ट तक के विमान इंजनों को संयुक्त रूप से विकसित करने के साथ-साथ हॉट इंजन तकनीक को साझा करने की पेशकश की है।

फ्रांस ने लंबी दूरी और भारी अत्यधिक चुस्त और युद्धाभ्यास मुनिशन एक्सटेंडेड रेंज (हैमर) मिसाइल के लिए साझा और संयुक्त रूप से प्रौद्योगिकी विकसित करने की पेशकश की है जो वर्तमान में भारतीय राफेल पर हथियार पैकेज का हिस्सा है। 70 किलोमीटर से अधिक की सीमा के साथ, हैमर हथियार को जीपीएस, इनर्शियल नेविगेशन और इन्फ्रा-रेड सीकर का उपयोग करके लक्ष्य पर निर्देशित किया जा सकता है। 

IAF के एयर मार्शल ने कहा, “राफेल पैकेज इस क्षेत्र में गेम-चेंजर है क्योंकि भारत के किसी भी विरोधी के पास दृश्य सीमा से परे युद्ध छेड़ने की इतनी क्षमता नहीं है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!