बुखार कोई भी हो, इलाज सिर्फ एक ही होगा अपनाएं ये उपाय 

अक्सर गलत खानपान और मौसम बदलने के कारण बुखार होना आम है जिससे घबराने की कोई बात नहीं। वायरल फीवर किसी वाइरस की वजह से फैलता है जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता के कमज़ोर होने पर होता है। जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत है उन्हें वायरल फीवर होने का खतरा कम होता है।

तिल के तेल या घी में लहसुन की 5 से 7 कलियाँ तोड़ कर तल ले। अब इसमें सेंधा नमक डाल कर मरीज को खिलाए। किसी भी वजह से बुखार हो इस उपाय से उतर जाएगा।

अगर बुखार तेज हो तो मरीज के माथे पर ठंडे पानी में भीगी पट्टियां रखें और ये तब तक करे जब तक शरीर का तापमान कम ना हो जाए। 

सर्दी और जुकाम के कारण बुखार हुआ हो तो मुलेठी, शहद, तुलसी और मिश्री को पानी में अच्छे से मिला कर काढ़ा  बनाये और मरीज को पिलाए। इस आयुर्वेदिक नुस्खे से जुकाम का इलाज होता है।

बुखार से पीड़ित व्यक्ति के शरीर में पानी की कमी ना हो इसलिए जरुरी है पानी अधिक मात्रा में पिए। पानी में ग्लूकोस घोल कर भी ले सकते है। पानी उबाल कर रखे और बाद में इसमें से ही पानी पिए। 

एक चम्मच सिरका 1 कप गरम पानी में डाल कर इसमें आलू का एक टुकड़ा भिगो कर रोगी के सिर पर रखने से बुखार में आराम मिलेगा।

बुखार आने पर रोगी को ज्यादा से ज्यादा आराम करना चाहिए और खाने पिने का भी पूरा ध्यान रखे। दूध, साबूदाना और मिश्री जैसी हल्की फुलकी चीज़े खाने को दे। नारियल पानी और मौसमी का जूस पीना भी अच्छा होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!