कोराेना बेकाबू, पॉजिटिविटी रेट 12%:4043 नए केस, 13 मौतें; एक्टिव केस 26 हजार के पार,12 दिन में दो गुना हुए

मध्य प्रदेश / कोरोना का ग्राफ तेजी से ऊपर आ रहा है। पिछले 24 घंटे में रिकाॅर्ड 4,043 पॉजिटिव केस मिले हैं। हालातों के बिगड़ने का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि पॉजिटिविटी रेट 12% पहुंच गया है। मौतों का आंकड़ा 4086 हो गया है। इसमें 6 अप्रैल की 13 मौत भी शामिल हैं। चार महानगरों भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर के बाद अब बाद अब बड़वानी, उज्जैन और उमरिया में 100 से अधिक केस मिले हैं। प्रदेश में संक्रमण बेकाबू रफ्तार को रोकने के लिए सरकार ने 13 जिलों में रविवार के बाद अब शनिवार को भी लॉकडाउन करने की तैयारी कर ली है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को एक बार फिर कहा कि हम लॉकडाउन के पक्ष में नहीं हैं, लेकिन कुछ जिलों में ऐसी परिस्थितियां आती है तो लॉकडाउन बढ़ाना ही अंतिम विकल्प होगा। इसके लिए क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की सिफारिश से इस तरह के सख्त फैसले लिए जाएंगे। सरकार की सबसे बड़ी चिंता एक्टिव केस का ग्राफ बढ़ना है। प्रदेश में एक्टिव केस 12 दिन में दो गुना हो गए हैं। 26 मार्च को प्रदेश में 12,995 एक्टिव केस थे, जो 6 अप्रैल को बढ़कर यह संख्या 26,059 हो गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक्टिव केस बढ़ने के कारण अस्पतालों में बेड की संख्या 24 से बढा़कर 36 हजार किए जा रहे हैं। जीवन शक्ति योजना के तहत स्व सहायता समूहों को 10 लाख मास्क बनाने का सरकार ने ऑर्डर दे दिया है।

ग्वालियर की स्थिति पिछले साल से भी ज्यादा भयावह होती जा रही है । बीते एक सप्ताह से यहां डेढ़ सौ से ज्यादा मरीज हर रोज निकल ही रहे थे लेकिन वुधवार को कोरोना का बड़ा विस्फोट सामने आया । संक्रमित लोगो का आंकड़ा सारी सीमाएं पार करके 225 पर पहुंच गया। टेस्ट के मुकाबले यह आंकड़ा लगभग 15 फीसदी है जो यहां हो रहे इसके भयबह स्प्रेड का संकेत  देता है ।

हाॅस्पिटल एडमिशन प्रोटोकॉल लागू होगा
मुख्यमंत्री ने बताया कि हॉस्पिटल एडमिशन प्रोटोकाॅल लागू किया जा रहा है। इसके तहत कोविड की जांच के बाद यह तय किया जाएगा कि कम संक्रमित मरीज को होम आइसोलेशन में भेजना है या फिर कोविड केयर सेेंटर में रखा जाना है।
हर जिले में बनेगा एक-एक कोविड केयर सेंटर
मुख्यमंत्री ने बताया कि हर जिले में एक-एक कोविड केयर सेंटर बनाने के निर्देश कलेक्टरों को दिए गए हैं। ताकि जिन मरीजों का परिवार बड़ा है और होम आइसोलेशन में दिक्कत है तो उन्हें इन सेंटर में रखकर इलाज किया जाएगा।
रेमडेसिवीर का इंजेक्शन खरीदेगी सरकार
मुख्यमंत्री ने बताया कि रेमडेसिवीर के इंजेक्शन को लेकर कई जगह से शिकायतें प्राप्त हो रही हैं। उन्होंने कहा कि इसके लिए सरकार जल्दी ही एसओपी जारी करेगी। ताकि यह तय हो सके कि किस मरीज को यह इंजेक्शन लगाने की जरुरत है। उन्होंने कहा कि रेमडेसिवीर इंजेक्शन की सरकारी स्तर पर खरीद की जाएगी। ताकि मध्यम वर्गीय व गरीब को निशुल्क उपलबध कराया जाएगा।
जहां ज्यादा केस, वहां बनेगा कंटेटमेंट जोन
मुख्यमंत्री ने बताया कि बड़े शहरों में संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इसको रोकने के लए शहर के जिस इलाके में केस ज्यादा आएंगे, वहां कटेंटमेंट जोन बनाए जाएंगे। इसके आधार पर ही सीमित क्षेत्र में लॉकडाउन भी लगाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!