पंजाब से मुख्तार की विदाई : सड़क मार्ग से होगी विधायक की रवानगी, रास्ते पर यूपी-पंजाब पुलिस ने साधी चुप्पी

यूपी के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की सोमवार पांच अप्रैल को पंजाब से विदायगी हो जाएगी। अंसारी को यूपी ले जाने के लिए बांदा पुलिस कुछ ही देर में पंजाब पहुंचने वाली है। मुख्तार रोपड़ जेल में बंद है। अंसारी को सड़क के रास्ते ले जाया जाएगा। रोपड़ से बांदा की दूरी लगभग 900 किलोमीटर है। यूपी से रवाना हुई टीम में एडीजी और चित्रकूट के आईजी शामिल हैं। सुप्रीम कोर्ट ने अंसारी को बांदा जेल में स्थानांतरित करने का आदेश दिया है। इस संबंध में पंजाब के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) ने यूपी के अतिरिक्त मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी को लिखे पत्र में कहा है कि न्यायालय के निर्देश के अनुसार 8 अप्रैल से पहले अंसारी को यूपी की बांदा जेल में शिफ्ट किया जाना है। उन्होंने इसके लिए उचित प्रबंध करने का आग्रह किया है। उन्होंने अंसारी की सेहत का पत्र में जिक्र किया है और कहा है कि शिफ्टिंग के दौरान उसकी मौजूदा स्वास्थ्य स्थिति का भी ध्यान रखा जाए।

रविवार को यूपी पुलिस की इनोवा रोपड़ जेल पहुंची थी। हालांकि मीडिया को देख कर गाड़ी आगे निकल गई। इसके कुछ ही मिनट बाद गाड़ी दोबारा जेल के सामने से निकली। रायबरेली नंबर की इस इनोवा में यूपी पुलिस के अधिकारी थे। रोपड़ के एसएचओ सिटी राजीव चौधरी ने गाड़ी को रोककर पूछताछ की। हालांकि इस बारे में कोई भी जानकारी मीडिया को नहीं दी गई।

पंजाब पुलिस के जवान भी जाएंगे अंसारी के साथ 
विधायक मुख्तार अंसारी की सुरक्षा को लेकर पंजाब सरकार बेहद गोपनीयता बरत रही है। जेल अधिकारी भी मुख्तार को लेकर कुछ भी बताने से इनकार कर रहे हैं। अधिकारियों का कहना है कि सुरक्षा कारणों से मुख्तार को पंजाब से यूपी ले जाने वाला रूट प्लान बेहद गोपनीय रखा गया है। मुख्तार की रवानगी के दौरान पंजाब पुलिस के कुछ जवान भी शामिल होंगे।

इससे पहले रविवार को एक नाटकीय घटनाक्रम में यूपी नंबर की जिस एंबुलेंस से अंसारी को मोहाली की अदालत में पेश किया गया था, वह रोपड़-मनाली हाईवे मार्ग पर एक ढाबे के पास लावारिस हालत में खड़ी मिली। इस एंबुलेंस के पंजीकरण में लगाए गए दस्तावेज फर्जी पाए गए हैं। पंजाब पुलिस ने मौके पर पहुंच कर जांच की।    
चित्रकूट धाम के पुलिस महानिरीक्षक के सत्यनारायण ने मीडिया को बताया कि मुख्तार को पंजाब से लाने के लिए बांदा पुलिस 5 अप्रैल को रवाना होगी। इसके लिए पर्याप्त सुरक्षा प्रबंध किए जा रहे हैं। वहीं, अंसारी के भाई अफजाल अंसारी ने मुख्तार की सुरक्षा पर चिंता जताते हुए कहा कि अब इसकी जिम्मेदारी न्यायपालिका और योगी सरकार पर होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!