बाराबंकी में बवाल के बाद हालात काबू में, विवादित स्थल पर नोटिस लगाकर की एंट्री बैन

बाराबंकी
यूपी के बाराबंकी में रामसनेहीघाट तहसील परिसर में विवादित स्थल के नजदीक पथराव और तोड़फोड़ के बाद फिलहाल शांति है। विवादित स्थल पर जाने से रोकने पर अराजकतत्वों ने पथराव शुरू कर दिया था जिसमें चार सिपाही समेत एक दरोगा भी घायल हो गए। सूचना के बाद एसपी बाराबंकी यमुना प्रसाद भारी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और अराजकतत्वों को हिरासत में लेकर स्थिति कंट्रोल की। घटना में घायल पुलिस कर्मियों को अस्पताल भेजा गया है।

तहसील परिसर के विवादित स्थल की बाउंड्री पर प्रशासन ने नोटिस चस्पा कर किसी भी व्यक्ति के आने जाने पर पूरी तरह रोक लगा दी है। किसी भी शख्स के बलपूर्वक घुसने पर कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं। प्रशासन ने 5 घंटे बाद रास्ते के आवागमन को सुचारू रूप चालू कर दिया है। विवादित स्थल पर पुलिस की टुकड़ी तैनात है। रामसनेहीघाट तहसील परिसर में पथराव और तोड़फोड़ के बाद शांति हैं।

रात 8 बजे की घटना
घटना शुक्रवार की रात करीब 8 बजे रामसनेहीघाट तहसील कार्यालय परिसर की है जहां पुलिस प्रशासन द्वारा विवादित स्थल पर आने-जाने से रोकने पर समुदाय विशेष के लोगों ने पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों पर जमकर पथराव कर दिया। जिसमें दरोगा सहित चार पुलिसकर्मी घायल हो गए। अराजकतत्वों ने पुलिस की बाइकें तोड़ दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस टीम की भारी फोर्स ने कुछ उपद्रवियों को चुनकर जमकर धुनाई की और पूरे इलाके को सील कर दिया गया।

आईडी प्रूफ मांगने पर भाग खड़े हुए
दरअसल रामसनेहीघाट तहसील कैम्पस में दो-तीन कमरें बने हैं। इसमें बिहार व बंगाल के तीन लोग रहते थे। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट व आईएएस अधिकारी दिव्यांशु पटेल को कुछ दिन पहले तहसील परिसर में रहने वाले लोगों ने इस भवन में संदिग्ध गतिविधियों की शिकायत की। जिस पर दिव्यांशु पटेल ने यहां पर रहने वाले लोगों से आईडी प्रूफ मांगे। इसके बाद यहां रह रहे लोग भाग खड़े हुए। दो दिन पहले संयुक्त मजिस्ट्रेट ने इस विवादित स्थल पर आने-जाने के लिए लगे गेट को बंद कर दीवार बनवा दी गई।

उपद्रवियों ने पुलिसकर्मियों पर शुरु किया पथराव
शुक्रवार की दोपहर कुछ लोग यहां पर धार्मिक क्रियाकलाप के लिए पहुंचे तो पुलिस ने उनको वापस कर दिया था। लेकिन तनातनी के बीच शाम करीब 8 बजे तहसील प्रशासन की ओर से बनवाई गई दीवार को ढहाने के लिए समुदाय विशेष के लोग एकत्र हुए और नारेबाजी शुरू कर दी। नारेबाजी के बीच उपद्रवियों ने थाने के हेडमुहर्रिर उमेश सिंह सहित चार पुलिसकर्मियों पर पथराव शुरू कर दिया। धारदार हथियार से लैस हमलावरों ने कई बाइकें भी तोड़ दी। इनको नियंत्रित करने के लिए पुलिस को जवाबी कार्रवाई करते हुए आंसू गैस के गोले छोड़े व रबर की गोलियां चलाईं।

15 थानों की पुलिस फोर्स व पीएसी के साथ तैनात, इलाका सील
फिलहाल सूचना के बाद डीएम आदर्श सिंह, एसपी यमुना प्रसाद, 15 थानों की पुलिस फोर्स व पीएसी के साथ पहुंच गए। इलाके को सील कर दिया है। उपद्रवियों की पहचान कर धरपकड़ व सर्च ऑपरेशन जारी है। डीएम आदर्श सिंह ने बयान जारी कर कहा कि कुछ अराजकतत्वों द्वारा शांति व्यवस्था को बिगाड़ने का प्रयास किया जा रहा है जिस पर पुलिस फोर्स उपस्थित था और हम और पुलिस अधीक्षक मौके पर तत्काल पहुंचे यंहा शांति व्यवस्था पूरी तरह कायम है स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है और ऐसे अराजक तत्त्वों के विरुद्ध कठोर से कठोर कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *