प्लाॅटिंग कारोबारी को धमकाना पड़ा मंहगाः जोनल अधिकारी और टाईम कीपर को 50 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथों दबोचा

ग्वालियर। ईओडब्ल्यू की टीम ने नगर निगम क्षेत्रीय कार्यालय क्रमांक 14 के क्षेत्रीय अधिकारी व टाईमकीपर को पचास हजार की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। जेडो ने फरियादी से तीन लाख की मांग की थी, सौदा दो लाख में तय हुआ था। फरियादी शुक्रवार को जब रिश्वत की पहली किश्त के रूप में पचास हजार देने पहुंचा तो ईओडब्ल्यू की टीम ने क्षेत्रीय अधिकारी को पकड़ लिया।

दरअसल वीरपुर बांध निवासी अनूप कुशवाह का क्षेत्रीय कार्यालय क्रमांक 14 के अंतर्गत ग्राम भटखेड़ी वार्ड क्रमांक साठ में अपनी जमीन पर प्लाटिंग की है। जिसमें से कुछ प्लाट पर निर्माण कार्य हो चुका है। पिछले दिनों क्षेत्रीय अधिकारी मनीष कन्नौजिया उनके मकान को तोड़ने के नोटिस देने की धमकी दे रहा था। जब फरियादी ने पूछा तो बताया कि यह निर्माण अवैध हैं, इसलिए इसे तोड़ना होगा। जब फरियादी ने काफी मिन्नते की तो क्षेत्रीय अधिकारी मनीष कन्नौजिया ने मकानों को बचाने के लिए तीन लाख रुपये की मांग की। काफी हाथ पैर जोड़ने के बाद सौदा दो लाख रुपये में तय हो गया। फरियादी ने जब इसकी जानकारी ईओडब्ल्यू को दी तो उन्होंने अधिकारी को ट्रैप करने का पूरा प्लान तैयार किया। इसके तहत फरियादी को रिश्वत की पहली किश्त के रूप में पचास हजार रुपये लेकर शारदा विहार पानी की टंकी के पास बने क्षेत्रीय कार्यालय क्रमांक 14 पर भेजा गया। फरियादी से जेडो ने पचास हजार रुपये लेकर अपने चपरासी इंदर सिंह जाटव को थमा दिए। लेनदेन पूरा होते ही ईओडब्ल्यू की टीम कार्यालय में पहुंची और जेडो मनीष कन्नौजिया व टाईमकीपर इंदर सिंह को गिरफ्तार कर लिया। इस रिश्वतकांड में जेडो और टाईमकीपर दोनों ही मिले हुए थे।

सिटी प्लानर रिश्वतकांड के बाद भी नहीं सुधरेः

ईओडब्ल्यू ने कुछ माह पहले इसी प्रकार से छापामार कार्रवाई कर सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा को पांच लाख की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया था। इसके बाद भी निगम अफसरों में कोई सुधार नहीं हुआ है। जेडो के रिश्वत लेते हुए पकड़े जाने की खबर फैलते ही निगम में हडकंप मच गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *