सबसे खतरनाक मिसाइल के साथ राफेल जेट ने भरी पहली उड़ान, जानिए इसके बारे में सब-कुछ

राफेल फाइटर जेट को दुनिया का सबसे खतरनाक जेट माना जाता है. इस जेट ने हाल ही में एक ऐसा मुकाम हासिल किया है जो अपने आप में काफी खास है. जुलाई 2020 में इंडियन एयरफोर्स (आईएएफ) का हिस्‍सा बने राफेल जेट ने पहली बार खतरनाक मीटिऑर मिसाइल के साथ उड़ान भरी है.

फ्रेंच एयर और स्‍पेस आर्मी ने इस मिसाइल के साथ राफेल की पहली ऑपरेशनल सॉर्टी को सफलतापूर्वक अंजाम दिया है. यह सॉर्टी एयरक्राफ्ट के मौजूदा F3R एयरफ्रेम के अपग्रेडेशन का हिस्‍सा थी. मीटिऑर एक एडवांस्‍ड बियॉन्‍ड विजुअल रेंज एयर-टू-एयर मिसाइल है.

मिसाइल का क्रू हर तरह से रेडी

फ्रेंच एयरफोर्स की तरफ से एक ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी गई. इस ट्वीट में लिखा था, ‘राफेल F3-R की ताकत में और इजाफा हुआ है. एयर एंड स्‍पेस आर्मी ने पहली ऑपरेशनल सॉर्टी को मीटिऑर मिसाइल और राफेल मिसाइल टीम के साथ सफलतापूर्वक पूरा किया है.’

एक और ट्वीट में बताया गया था कि फ्लाइट यह देखने के लिए थी कि मिसाइल का पहला डेप्‍लॉयमेंट कैसा रहता है और साथ ही क्रू की ऑपरेशनल तैयारियों पर भी मोहर लगाने वाली थी.

मीटिऑर को फ्रांस की कंपनी एमबीडीए ने डेवलप किया है. यह मिसाइल एक एक्टिव रडार गाइडेड बीवीआर मिसाइल है जो हवा से हवा में दुश्‍मन पर हमला करने में सक्षम है.

इसकी वजह से मल्‍टी शॉट क्षमता में इजाफा होता है और यह जेट्स जैसे बड़े टारगेट्स से लेकर छोटे टारगेट्स जैसे यूएवी और क्रूज मिसाइल से भी हमला कर सकती है. इसकी रेंज 100 किलोमीटर तक है. मीटिऑर मिसाइल राफेल जेट को और ज्‍यादा खतरनाक बनाती है.

पूर्व IAF चीफ बोले-गेम चेंजर

पूर्व आईएएफ चीफ बीएस धनोआ ने राफेल को एक गेम चेंजर करार दिया था. उनका कहना था कि राफेल के पास टॉप लाइन के इलेक्‍ट्रॉनिक वॉरफेयर हैं. उनका कहना था कि ये मिसाइल मीटिऑर और स्‍कैल्‍प जैसी मिसाइलों से लैस है. इन हथियारों की वजह से ही राफेल एक खतरनाक जेट बन जाता है.

उनकी मानें तो राफेल के इन्‍हीं हथियारों की वजह से चीन की वायुसेना अब आईएएफ के आगे कहीं नहीं टिकती है. उन्‍होंने यह माना है कि चीनी जेट जे-20 पांचवीं पीढ़ी का फाइटर जेट है.

उनकी मानें तो राफेल और सुखोई की वजह से चीन और पाकिस्‍तान की तरफ से आने वाली किसी भी चुनौती का सामना आसानी से वायुसेना कर सकती है.

मिसाइलों की वजह से सबसे खतरनाक राफेल

राफेल जेट एक उड़ान में एक साथ चार मिशन को आसानी से पूरा कर सकता है. वहीं अगर चीनी जेट जे-20 की बात करें तो यह एक बार में सिर्फ एक ही मिशन पूरा कर सकता है. इस जेट को अफगानिस्‍तान, लीबिया और सीरिया जैसी मुश्किल जगहों में भी प्रयोग किया जा चुका है.

जिस मीटिऑर मिसाइल के साथ राफेल ने पहली उड़ान को सफलतापूर्वक पूरा किया है, उस मिसाइल की वजह से यह दुनिया का सबसे खतरनाक जेट बन जाता है.

मीटिऑर के अलावा राफेल हैमर मिसाइल से भी लैस है. हैमर एक रॉकेट एनेबल्ड हवा से जमीन पर मार करने वाली सटीक मिसाइल है. यह मिसाइल ऊंचाई वाले क्षेत्रों में 60 किमी की रेंज में भी कारगर है.

मीटिऑर के अलावा स्‍कैल्‍प क्रूज मिसाइल भी राफेल का बड़ा हथियार है. इस मिसाइल की रेंज 200 किलोमीटर है. इसे जमीन और पानी दोनों से ही लॉन्‍च किया जा सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *