गोडसे यात्रा पर तनातनी जांरी,हिमस बोली- हर हाल में निकालेंगे और कलेक्टर बोले – किसी भी कीमत पर नहीं निकलने देंगे

ग्वालियर में गोडसे का जिन्न शांत होने का नाम नही ले रहा है । पहले गोडसे की ज्ञान शाला खोलने पर विवाद हुआ । फिर हिन्दू महासभा के इकलौते पार्षद बाबूलाल चौरसिया कांग्रेस में शामिल हुए तो कांग्रेस निशाने पर आ गई। उसकी खुद की पार्टी में ही विरोध के स्वर उठने लगे। इसके बाद हिन्दू महासभा ने गोडसे यात्रा निकालने का ऐलान कर दिया । हालांकि प्रशासन इसे अनुमति देने के मूड में नही है।

हिंदू महासभा ने 14 मार्च को ग्वालियर से दिल्ली तक गोडसे यात्रा निकालने के लिए प्रशासन से अनुमति मांगी है. इस यात्रा की अनुमति के लिए प्रशासन का जवाब दो दिन में आएगा. हिंदू महासभा का कहना कि हम हर हाल में गोडसे यात्रा निकालेंगे और यह यात्रा ग्वालियर से दिल्ली जाएगी. यात्रा के दौरान देश के हर युवा को गोडसे की जीवन यात्रा के बारे में बताया जाएगा. बता दें हिंदू महासभा ने ऐलान किया है कि वह 14 मार्च को ग्वालियर से दिल्ली तक गोडसे यात्रा निकालेगी. दिल्ली पहुंचने के बाद हिंदू महासभा के नेता कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी से मुलाकात करेंगे और कांग्रेस पार्टी का नाम बदलकर गोडसेवादी कांग्रेस पार्टी नाम रखने की अपील करेंगे.

हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयवीर भारद्वाज का कहना है कि 14 मार्च को हिंदू महासभा ग्वालियर से दिल्ली तक यात्रा करेगी और यात्रा के दौरान गोडसे के ज्ञान को बांटा जाएगा. उनका कहना है कि अभी देश के लोग और युवा गॉडसे की सच्चाई से रूबरू नहीं हैं. यात्रा के जरिए इस सच्चाई को लोगों के सामने लाया जाएगा.

हिंदू महासभा की हर गतिविधि पर प्रशासन की नजर

हिंदू महासभा लगातार गोडसे को लेकर कुछ न कुछ नीतियां और गतिविधियां कर रही है. यही वजह है कि प्रशासन इनकी गतिविधियों पर नजर बनाए हुए है, क्योंकि हिंदू महासभा नाथूराम गोडसे को लेकर कुछ भी कर सकती है. कभी वह गोडसे की मूर्ति लगाने की बात करती है, तो कभी आंदोलन करने की बात कहती है. इसी के चलते जिला प्रशासन हिंदू महासभा की हर गतिविधियों पर नजर बनाए हुए है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *