केंद्र सरकार ने आम आदमी को दी बड़ी राहत, रसोई गैस पर बदला ये नियम

केंद्र सरकार आम आदमी को बड़ी राहत दी है। सरकार रसोई गैस सिलेंडर को लेकर नियम बदलने जा रहा है। नए नियम के मुताबिक ग्राहक अब किसी एक डीलर के बदले एक साथ तीन डीलर से गैस बुक कर सकेंगे। अक्सर एक डीलर के साथ एलपीजी उपलब्धता पर परेशानी होती है। ग्राहकों को नंबर लागने के बावजूद समय पर सिलेंडर नहीं मिल पाता है। ऐसे में जहां पहले मिल जाएं उस नजदीकी डीलर से भी एलपीजी सिलेंडर ले सकेंगे। ऑयल सेक्रेटरी तरुण कपूर ने कहा गर्वनमेंट कम दस्तावेज में रसोई गैस कनेक्शन देने की तैयारी कर रही। बदले नियमों में एड्रेस प्रूफ के बिना भी कनेक्शन देने की योजना चल रही है। उन्होंने कहा कि एलपीजी कनेक्शन लेने के लिए निवास प्रमाण पत्र जरूरी होता है। इसके बिना सिलेंडर लेना कठिन है। हालांकि सबके पास यह डॉक्यूमेंट नहीं होता और गांवों में इसे बनवाना मुश्किल होता है। न्यूज एजेंसी पीटीआई को दिए इंटरव्यू में तरुण ने कहा कि पिछले चार साल में 8 करोड़ एलपीजी सिलेंडर कनेक्शन दिए गए हैं। इस साल पेश हुए बजट में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने ऐलान किया था कि प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत देश में 1 करोड़ गैस कनेक्शन फ्री में बांटे जाएंगे। सरकार की योजना इस संख्या को 2 करोड़ तक बढ़ाने की है। बजट में इसके लिए अलग आवंटन का प्रावधान नहीं किया है। अभी जो सब्सिडी चल रही है, उससे कनेक्शन बांटने का काम पूरा होगा। सरकार ने अनुमान लगाया है कि कितने लोगों के पास एलपीजी कनेक्शन नहीं है। यह हिसाब 1 करोड़ के आसपास है। उज्जवला स्कीम में अबतक 29 करोड़ लोगों को मुफ्त में एलपीजी कनेक्शन मिल चुका है।

अब सिर्फ एक मिस्ड कॉल के साथ एक एलपीजी गैस सिलेंडर बुक करें

इंडेन गैस उपभोक्ताओं के लिए गैर-सब्सिडी वाले LPG सिलेंडर की बुकिंग अब बहुत आसान होने जा रही है क्योंकि केंद्र सरकार ने अब इसके लिए मिस्ड कॉल की सुविधा शुरू की है। केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने सुविधा शुरू की और कहा कि कॉस्ट्यूमर्स अब 8454955555 पर मिस्ड कॉल देकर एलपीजी सिलेंडर बुक कर सकेंगे।

व्हाट्सएप, एसएमएस के जरिए भी एलपीजी सिलेंडर बुक करें

आप व्हाट्सएप और व्हाट्सएप के माध्यम से एलपीजी गैस सिलेंडर भी बुक कर सकते हैं। व्हाट्सएप के माध्यम से सिलेंडर बुक करने के लिए, आपको REFILL टाइप करना होगा और व्हाट्सएप पर 7588888824 पर भेजना होगा। दूसरी ओर, एसएमएस के जरिए सिलेंडर बुक करने के लिए, आपको अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर से अपने वितरक के टेलीफोन नंबर पर एक संदेश आईओसी भेजना होगा।

1 मार्च को 25 रुपए बढ़ गया LPG सिलेंडर का दाम

मालूम हो कि गैर-सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडर की कीमतें 1 मार्च, 2021 को, 25 तक बढ़ गई थीं। इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के अनुसार 1 मार्च से गैर-रियायती एलपीजी की कीमत ₹ 819 प्रति सिलेंडर (14.2 किलोग्राम) हो गया है। देश की सबसे बड़ी फ्यूल रिटेलर इंडियन ऑयल ब्रांड इंडेन के तहत एलपीजी की आपूर्ति करती है। आमतौर पर, गैर-सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडरों की दरों की समीक्षा मासिक आधार पर की जाती है और प्रत्येक महीने के पहले दिन पर कोई भी परिवर्तन होता है। स्थानीय करों के कारण देश के विभिन्न हिस्सों में रसोई गैस की दरें भिन्न हैं। फरवरी 2021 के महीने में एलपीजी की कीमतों में लगभग तीन गुना बढ़ोतरी हुई थी। एलपीजी रसोई गैस की दरों में बढ़ोतरी ऐसे समय में हुई है जब पेट्रोल और डीजल की कीमतें चार मेट्रो शहरों में सभी समय के उच्च स्तर को छू चुकी हैं। वैश्विक कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि के बीच, तेल विपणन कंपनियों ने सभी महानगरों में ईंधन दरों में वृद्धि की। आमतौर पर, गैर-सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडरों की दरों की मासिक आधार पर समीक्षा की जाती है और किसी भी परिवर्तन को हर महीने के पहले दिन लागू किया जाता है। स्थानीय करों में भिन्नता के कारण देश भर के विभिन्न हिस्सों में खाना पकाने की गैस की दरें भिन्न हैं। ग्राहक को बाजार मूल्य के आधार पर एलपीजी सिलेंडरों के लिए आवश्यक अतिरिक्त खरीदारी करनी होगी। 12 रीफिल के वार्षिक कोटे पर सरकार द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी की राशि महीने-दर-महीने बदलती रहती है। एलपीजी पर सब्सिडी मोटे तौर पर कच्चे तेल के साथ-साथ विदेशी विनिमय दरों जैसे कारकों से निर्धारित होती है।

गैंस सिलेंडर पर मिलता है बीमा

गैंस सिलेंडर पर बीमा भी होता है। जिसका इस्तेमाल एलपीजी सिलेंडर में विस्फोट या कोई हानि में किया जा सकता है। रसोई गैस उपलब्ध करवा रही कंपनियां इंश्योरेंस करवाती है। इस बीमा की कुछ शर्ते होती हैं। कंपनियां तीन तरह का इंश्योरेंस ग्राहकों को देती है। किसी के मरने पर 6 लाख रुपए का कवर होता है। वहीं घायल होने पर 30 लाख का इंश्योरेंस होता। जिसमें दो से ज्यादा लोगों को 2 लाख रुपए तक का इलाज होता है। जबकि संपत्ति को नुकसान होने पर दो लाख का बीमा मिलता है। इसके लिए ऑयल कंपनियां कोई चार्ज नहीं लेती है। कोई अनहोनी होने पर इंश्योरेंस कंपनी पैसा ऑयल कंपनी को ट्रांसफर करती है। जिसके बाद विक्टिम तक मदद पहुंचाई जाती है।

जानें रसोई गैस बचाने की टिप्स

गौरतलब है कि रसोई गैस के दाम लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। ऐसे में आप कुछ सावधानी अपनाकर गैस बचा सकते हैं। सबसे पहले रात को गैस सिलेंडर की नॉब बंद करे। जहां तक हो सके हमेशा खाना ढककर ही पकाएं। फ्रोजन फूड, दूध, सब्जियों को पकाने से कम से कम 1-2 घंटे पहले फ्रिज से बाहर निकाल लें। खाना बनाते वक्त सही साइज के पैन या कड़ाही का इस्तेमाल करना चाहिए। बड़े पैन या कड़ाही होने से उन्हें गर्म होने और खाना पकाने में गैस की खपत ज्यादा होती है। मीट, चिकन, दाल और सब्जियों को उबालने में गैस की खपत ज्यादा होती है। इसलिए प्रेशर कुकर का इस्तेमाल करना चाहिए। समय-समय पर सिलेंडर के रेग्युलेटर, पाइप और बर्नर को चेक करें, कहीं गैस लीक तो नहीं कर रही है।

पेटीएम पर सिलेंडर बुकिंग पर कैशबैक

वहीं पेटीएम सिलेंडर बुकिंग पर कैशबैक दे रहा है। जो भी कस्टमर 31 मार्च से पहले एप के माध्यम से बुकिंग करेंगे उन्होंने 100 रुपए तक का कैशबैक मिलेगा। इस ऑफर का एक बार ही इस्तेमाल की किया जा सकता है।

गैस सिलेंडर बुकिंग आसान, एक ही समय में तीन डीलरों से रिफिल ऑर्डर ऐसे करें

जैसे ही एलपीजी की कीमत बढ़ रही है, एलपीजी गैस सिलेंडर उपयोगकर्ताओं के लिए कुछ अच्छी खबर है, अब उपभोक्ताओं को जल्द ही तीन डीलरों से बुकिंग करने का विकल्प मिलेगा। यह स्पष्ट रूप से उन उपभोक्ताओं की मदद करने के लिए किया गया है, जिन्हें एक विशेष गैस डीलर के रूप में भुगतना पड़ता है, समय पर एलपीजी गैस सिलेंडर देने में विफल रहता है। इसकी पुष्टि तेल सचिव तरुण कपूर ने की। घरेलू रसोई गैस या तरल पेट्रोलियम गैस (एलपीजी) की कीमत में 1 मार्च को 25 रुपये प्रति सिलेंडर की बढ़ोतरी की गई थी। नवीनतम मूल्य वृद्धि के बाद, 14.2 किलोग्राम के घरेलू एलपीजी सिलेंडर की कीमत अब दिल्ली में 819 रुपये है। 28 फरवरी को पीटीआई से बात करते हुए, तेल सचिव ने कहा, “योजनाएँ रसोई गैस को कम से कम पहचान दस्तावेजों के साथ प्रदान करने के काम में हैं और खाना पकाने की गैस का लाभ उठाने के स्थान के निवास प्रमाण पर जोर दिए बिना। इसके अलावा, उपभोक्ताओं को जल्द ही एक विकल्प मिलेगा।

मुफ्त एलपीजी कनेक्शन का दायरा पहले से बहुत बढ़ा

इस बीच, मुफ्त एलपीजी कनेक्शन योजना मोदी सरकार का एक सुधार है जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इनडोर घरेलू प्रदूषण से छुटकारा पाने और महिलाओं के स्वास्थ्य में सुधार के लिए प्रशंसित है। और अब, सरकार की योजना है कि अगले दो वर्षों में जरूरतमंदों को एक करोड़ से अधिक मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन दिया जाए और देश में स्वच्छ ईंधन के 100 प्रतिशत तक पहुँच प्राप्त करने के लिए रसोई गैस की पहुँच को आसान बनाया जाए। पीटीआई को दिए एक साक्षात्कार में कपूर ने कहा कि रसोई गैस के आक्रामक रोलआउट के साथ, केवल चार वर्षों में गरीब महिलाओं के घरों में रिकॉर्ड तोड़ 8 करोड़ मुफ्त एलपीजी कनेक्शन प्रदान किए गए, जिससे देश में एलपीजी उपयोगकर्ताओं की संख्या लगभग 29 करोड़ हो गई। केंद्रीय बजट ने इस महीने की शुरुआत में प्रधान मंत्री उज्ज्वला (पीएमयूवाई) योजना के तहत एक करोड़ से अधिक मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन देने की योजना की घोषणा की। “हमारी योजना दो वर्षों में इन अतिरिक्त एक करोड़ कनेक्शनों को पूरा करने की है।”

एलपीजी सब्सिडी की जांच कैसे करें

– पेज पर “अपनी एलपीजी आईडी जानने के लिए यहां क्लिक करें” पर क्लिक करें। (…

– एक पॉप-अप आपको अपने वितरक की कंपनी चुनने का संकेत देगा: भारत गैस / एचपी गैस / इंडेन। …

– लैंडिंग पेपर आपसे ग्राहक का विवरण पूछेगा। …

– फिर कैप्चा कोड दर्ज करें और “आगे बढ़ें” पर क्लिक करें।

– आपकी एलपीजी आईडी पृष्ठ के निचले सिरे पर दिखाई देनी चाहिए।

एलपीजी सब्सिडी ऑनलाइन ऐसे पाएं

आपको इंडेन की वेबसाइट पर जाना होगा और उस लिंक पर क्लिक करना होगा, जो कहता है कि ‘PAHAL स्थिति जांचें’। ग्राहक दो विकल्पों के माध्यम से अपनी स्थिति का पता लगा सकते हैं। पहले एक में, उन्हें वितरक का नाम, एलपीजी आईडी या आधार नंबर या उनका उपभोक्ता नंबर और क्लिक आगे बढ़ाना होगा।

बैंक खाते में एलपीजी गैस सब्सिडी कैसे प्राप्त करें

यदि आप एलपीजी कनेक्शन का उपयोग करते हैं, तो आप अपने आधार को अपने कनेक्शन से जोड़कर सीधे अपने बैंक खाते में सब्सिडी प्राप्त कर सकते हैं। गैस कंपनियां कई तरह के तरीके पेश करती हैं जिनसे आप अपने आधार को अपने एलपीजी कनेक्शन से जोड़ सकते हैं। आप एक वितरक पर कॉल करके, IVRS के माध्यम से या एसएमएस भेजकर ऐसा कर सकते हैं।

वर्तमान एलपीजी सब्सिडी क्या है?

दिल्ली और मुंबई में प्रत्येक की दर 694 रुपये प्रति सिलेंडर और चेन्नई में Chennai 610 प्रति सिलेंडर है। वर्तमान में, सरकार प्रत्येक वर्ष प्रति परिवार 14.2 किलोग्राम के 12 सिलेंडरों पर सब्सिडी देती है। उपभोक्ता को बाजार मूल्य पर एलपीजी सिलिंडर की कोई अतिरिक्त खरीद करनी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *