पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में चुनाव का एलान

भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा है कि पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव कराने का फैसला लिया गया है. उन्होंने बताया कि पश्चिम बंगाल सहित सभी पांचों राज्यों में मतदान के बाद वोटों की गिनती एक ही दिन की जाएगी.उन्होंने कहा कि मतदान के दौरान कोरोना संबंधित दिशानिर्देशों का पालन किया जाएगा और मतदाताओं की सुपरक्षा का पूरा ख्याल रखा जाएगा.

निर्वाचन आयोग ने पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव के लिए तारीखों का एलान कर दिया है. इसी के साथ चुनाव की आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है. चुनाव आयोग ने कहा है कि केरल में छह अप्रैल को एक चरण में मतदान होगा, जबकि असम में तीन चरणों में मतदान होगा. 27 मार्च को पहले चरण का मतदान, एक अप्रैल को दूसरे चरण और तीसरे चरण का मतदान छह अप्रैल को होगा. एक मई को चुनाव के नतीजे आएंगे.इसके अलावा तमिलनाडु विधानसभा चुनाव भी छह अप्रैल को एक ही चरण में होंगे. सुनील अरोड़ा ने कहा कि चुनाव के दौरान स्पेशल, जनरल, खर्च और पुलिस ऑब्जर्वर तैनात होंगे. जरूरी होने पर चुनाव आयोग जिला ऑब्जर्वर पर निगरानी के लिए सेंट्रल आब्जर्वर भी भेज सकता है. उन्होंने कहा कि विवेक दुबे को पश्चिम बंगाल, दीपक मिश्रा को केरल, धर्मेंद्र कुमार को तमिलनाडु में स्पेशल पुलिस ऑब्जर्वर बनाकर भेजा जा रहा है. उन्होंने कहा कि चुनाव की तारीखों की घोषणा के तुरंत बाद आदर्श आचार संहिता लागू हो जाएगी. मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा चुनाव के दौरान पर्याप्त सीएपीएफ तैनाती सुनिश्चित की जाएगी. हमने सभी महत्वपूर्ण, संवेदनशील मतदान केंद्रों की पहचान की है और पर्याप्त संख्या में सीएपीएफ की तैनाती की जाएगी. सुरक्षा बल एडवांस ही भेजे जा रहे हैं. सिर्फ बंगाल ही नहीं बल्कि सभी पांच राज्यों में भेजे जा रहे हैं.

बंगाल में आठ चरणों में होगा मतदान

पश्चिम बंगाल में आठ चरणों में विधानसभा चुनाव संपन्न होगा। पिछले विधानसभा में सात चरण थे। पहले चरण का मतदान 27 मार्च को पांच जिलों की 30 विधानसभा सीटों पर होगा। दूसरे चरण का मतदान एक अप्रैल को चार जिलों की 30 विधानसभा सीटों पर होगा। तीसरे चरण का चुनाव छह अप्रैल को 31 विधानसभा सीटों पर होगा। चौथे चरण का मतदान 10 अप्रैल को 44 विधानसभा सीटों पर होगा। पांचवें चरण का मतदान 17 अप्रैल को 44 विधानसभा सीटों पर होगा। छठे चरण में 22 अप्रैल को 43 विधानसभा सीटों पर चुनाव होगा। सातवें चरण में 26 अप्रैल को 36 विधानसभा सीटों पर और अंतिम व आठवें चरण में 29 अप्रैल को 35 विधानसभा सीटों पर चुनाव होगा।

असम में तीन चरणों में होगा चुनाव

असम में तीन चरणों में चुनाव होगा। पहले चरण का मतदान 27 मार्च को होगा। नामांकन की अंतिम तारीख नौ मार्च और नामांकन वापसी की अंतिम तारीख 10 मार्च रहेगी। दूसरे चरण का मतदान एक अप्रैल को 39 सीटों पर होगा। नामांकन की अंतिम तारीख 12 मार्च और नामांकन वापसी की अंतिम तारीख 17 मार्च रखी गई है। तीसरे चरण में छह अप्रैल को 40 सीटों पर मतदान होगा। नामांकन की अंतिम तारीख 19 मार्च और नामांकन वापसी 22 मार्च तक होगी।

केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी में एक ही चरण में छह अप्रैल को चुनाव

केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी में छह अप्रैल को एक ही चरण में सभी सीटों पर चुनाव होंगे। केरल की खाली पड़ीं मल्लपुरम संसदीय सीट और कन्याकुमारी संसदीय सीटों के लिए भी छह अप्रैल को चुनाव होगा।

नामांकन की प्रक्रिया के लिए ऑनलाइन सुविधा

CEC ने कहा कि चुनाव के दौरान नियमों का पालन जरुरी होगा. घर-घर संपर्क के लिए भी नियम होंगे. घर-घर चुनाव प्रचार के लिए पाच लोगों के साथ में जाने की अनुमति होगी. उन्होंने कहा कि नामांकन की प्रक्रिया और सिक्योरिटी मनी ऑनलाइन भी जमा कराई जा सकती है. रैली के लिए मैदान तय होंगे.

2.7 लाख मतदान केंद्र बनाए जाएंगे

उन्होंने कहा कि चुनाव के लिए 2.7 लाख मतदान केंद्र बनाए जाएंगे, जहां 18.6 करोड़ लोग मतदान कर सकेंगे.मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि पश्चिम बंगाल में वोटिंग के लिए एक लाख से अधिक मतदान केंद्र बनाए जाएंगे.

किस राज्य में कितनी विधानसभा सीटें

पश्चिम बंगाल विधानसभा में 294 विधानसभा सीटें हैं. असम में 126 सीटों पर होंगे चुनाव, तमिलनाडु में 232 विधानसभा सीटों पर चुनाव, केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी की 30 विधानसभा सीटों पर होंगे चुनाव, केरल की विधानसभा में 140 सीटें, सभी सीटों पर चुनाव.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *