बजट सत्र :गोविंद सिंह ने उठाया सोम डिस्टलरी का मुद्दा,वित्त मंत्री ने स्वीकारा- सोम डिस्टलरी ने स्प्रिट के 20 टैंक अवैध रूप से बनाए

बजट सत्र के तीसरे दिन प्रश्नकाल के दौरान सरकार और विपक्ष आमने सामने हो गए। जबलपुर बरगी से कांग्रेस विधायक संजय यादव ने अपने विधानसभा क्षेत्र के बड़ा देव मंदिर के निर्माण में स्वीकृत राशि खर्च नहीं किए जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि यह सरकार आदिवासी विरोधी है। कमलनाथ सरकार ने इस मंदिर के लिए पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने एक करोड़ 99 लाख रुपए स्वीकृत किए थे लेकिन सरकार ने पूरी राशि स्वीकृत नहीं की है। इसका जवाब पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर ने जैसे ही दिया। उसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सदन को बताया कि हमारी सरकार विकास कार्यों में किसी तरह का भेदभाव नहीं करती है। विधायक चाहे सत्ता पक्ष का हो या फिर विपक्ष का, सभी के क्षेत्र में समान रूप से विकास किया जाता है। उन्होंने आरोप लगाया कि जब कर्ज माफी कमलनाथ सरकार ने की थी तब जो सूची बनी थी उसमें से बीजेपी विधायकों के क्षेत्र के किसानों के नाम गायब कर दिए गए थे। विधायक के आरोपों पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने सदन में कहा कि विधायक की रूचि सिर्फ आरोप लगाने में है , ना कि सवाल पूछने में। हमारी सरकार अनुसूचित जनजाति विरोधी नही है।

डॉक्टर गोविंद सिंह ने उठाया सोम डिस्टलरी का मुद्दा
कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक डॉक्टर गोविंद सिंह ने रायसेन स्थित सोम डिस्टलरी के प्लांट में अवैध रूप से 20 स्प्रिट टैंक बनाए जाने का मामला उठाया। उन्होंने वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा से पूछा कि क्या सोम डिस्टलरीज ने अवैध रूप से स्प्रिट टैंक बनाए हैं? डिस्टलरीज में आबकारी विभाग के अधिकारी कर्मचारी पदस्थ रहते हैं, उनके खिलाफ क्या कार्रवाई की गई? वित्त मंत्री ने सदन में यह स्वीकार किया कि सोम डिस्टलरीज ने 20 स्प्रिट टैंक अवैध रूप से बनाए। 22 जनवरी 2021 को बंद करा दिया गया है। यह विभाग की बड़ी चूक है कि यह टैंक वर्ष 2014 में बनकर तैयार हो गए थे। उन्होंने सदन को आश्वासन दिया कि इसके लिए जो भी अधिकारी कर्मचारी दोषी होंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

दो मुद‌दों पर लगाया है ध्यान आकर्षण

बजट सत्र के तीसरे दिन बुधवार को विधानसभा में सागर की कड़ान सिंचाई परियोजना के डूब क्षेत्र की जमीन का मुआवजा न देने तथा चित्रकूट की मंदाकनी नदी से प्रदूषित पानी छोड़े जाने का मामला सदन में उठेगा। सागर से बीजेपी विधायक प्रदीप लारिया और चित्रकूट के कांग्रेस विधायक नीलांशु चतुर्वेदी ने इन दोनों मुद़दों पर ध्यान आकर्षण लगाया है। हालांकि अभी यह तय नहीं है कि दोनों मुद्दों पर कितनी देर तक चर्चा होगी। वहीं आज सदन में लव जिहाद रोकने वाला धार्मिक स्वतंत्रता संशोधन विधेयक भी पेश होगा। इस पर डेढ़ घंटे चर्चा होगी।
विधानसभा की कार्यवाही सुबह 11 बजे शुरू हो गई। इसी तरह कोरोना संक्रमण के चलते पिछले साल सितंबर (22 व 23 सितंबर) तथा शीतकालीन सत्र में 28 से 30 दिसंबर को विधानसभा स्थगित हो गई थी। इस दौरान विधायकों ने सैकड़ों सवाल सरकार से पूछे थे, लेकिन इसके उत्तर नहीं दिए गए थे। दोनों सत्रों में पूछे गए सवालों के जवाब सरकार आज सदन पटल पर रखेगी।
विधानसभा द्वारा जारी कार्यसूची के मुताबिक 24 फरवरी को प्रश्नकाल होगा। इसके बाद सरकार की तरफ से 15 अध्यादेश भी विधानसभा में पेश किए जाएंगे। विधायकों द्वारा लगाए ध्यान आकर्षण प्रस्ताव पर नियम 138 के तहत चर्चा कराई जाएगी।
आज ये विधेयक पेश होंगे

  1. सहकारी सोसाइटी संशोधन विधेयक
  2. लोक सेवाओं के प्रदान की गारंटी संशोधन विधेयक
  3. वैट संशोधन विधेयक
  4. राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग संशोधन विधेयक
  5. मध्य प्रदेश निजी विश्वविद्यालय द्वितीय संशोधन विधेयक
  6. मध्य प्रदेश भोज (मुक्त) विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक
  7. डॉ. बीआर आंबेडकर सामाजिक विज्ञान विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक
  8. पंडित एसएन शुक्ला विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक
  9. मध्य प्रदेश मोटर स्पिरिट उपकर संशोधन विधेयक
  10. मध्य प्रदेश हाई स्पीड डीजल उपकर संशोधन विधेयक
  11. मध्य प्रदेश विनियोग संशोधन विधेयक
  12. धार्मिक स्वतंत्रता संशोधन विधेयक
  13. मप्र कराधान अधिनियमों की पुरानी बकाया राशि का समाधान अध्यादेश
  14. मप्र नगरपालिक विधि (द्वितीय संशोधन) अध्यादेश
  15. मप्र नगरपालिक विधि (तृतीय संशोधन) अध्यादेश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *