हर वार्ड में स्वच्छता के लिए बनाए जायेंगे 50 – 50 शहर दूत

ग्वालियर । ग्वालियर नगर निगम को गार्वेज फ्री सिटी और थ्री स्टार रैंकिंग की ट्रॉफी और प्रमाण-पत्र भारत सरकार द्वारा प्रदान किया गया है। स्टार रैंकिंग और गार्वेज फ्री सिटी की ट्रॉफी और प्रमाण-पत्र संभागीय आयुक्त एवं नगर निगम प्रशासक श्री आशीष सक्सेना एवं नगर निगम आयुक्त श्री संदीप माकिन ने कलेक्टर ग्वालियर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह को प्रदान किया। इसके साथ ही इस बार ग्वालियर को फाईव स्टार रैकिंग दिलाने के लिये सभी को पूर्ण रूप से कार्य करने का आह्वान भी किया गया।
शहर की स्वच्छता व्यवस्था को और बेहतर बनाने के लिये जिला स्तरीय अधिकारियों को भी एक – एक वार्ड की जवाबदारी सौंपी गई है। जिला स्तरीय अधिकारियों और नगर निगम के वार्ड मॉनीटरों की एक बैठक गुरूवार को नगर निगम के बाल भवन में आयोजित की गई। बैठक में संभागीय आयुक्त एवं नगर निगम प्रशासक श्री आशीष सक्सेना, कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री अमित सांघी और नगर निगम आयुक्त श्री संदीप माकिन ने संबोधित कर स्वच्छता के कार्य को और बेहतर कैसे किया जा सकता है इस संबंध में मार्गदर्शन दिया। इस मौके पर सीईओ स्मार्ट सिटी श्रीमती जयति सिंह, एडिशनल एसपी श्री पंकज पाण्डेय, अपर कलेक्टर श्री नरोत्तम भार्गव, अपर कलेक्टर श्री मुकुल गुप्ता सहित जिला स्तरीय अधिकारी और नगर निगम के वार्ड मॉनीटर उपस्थित थे।
संभाग आयुक्त श्री सक्सेना ने कहा कि स्वच्छता का कार्य केवल नगर निगम का नहीं है बल्कि इस कार्य में सभी विभागों का सहयोग अपेक्षित है। जिला अधिकारियों को जिन वार्डों की जवाबदारी सौंपी गई है वे अपने-अपने वार्डों में जाकर स्वच्छता के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों की मॉनीटरिंग करें और अगर कहीं कमी है तो उसे दूर कराने की कार्रवाई भी करें। उन्होंने कहा कि सभी जिला अधिकारियों को भी गंदगी फैलाने वालों के विरूद्ध जुर्माना करने के अधिकार दिए जा रहे हैं। जिला अधिकारी भी भ्रमण के दौरान निर्धारित राशि का जुर्माना कर राशि वसूल कर सकते हैं।
संभाग आयुक्त श्री आशीष सक्सेना ने यह भी कहा कि शासकीय प्रयासों के साथ-साथ हर वार्ड में 50 – 50 शहर दूत भी बनाए जाएँ। ऐसे लोग जो स्वच्छता के कार्य के लिये स्वेच्छा से कार्य करने और जन जागृति के कार्य में सहयोग कर सकते हैं उन्हें शहर दूत बनाया जाए। शहर दूत को निगम की ओर से परिचय पत्र भी प्रदान किया जाए। शहर दूत बनाने के लिये ऑनलाइन पंजीयन की भी सुविधा विकसित की जाए। उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि नगर निगम द्वारा जिन लोगों को वेण्डर प्रमाण-पत्र प्रदान किए गए हैं उन्हें और जिन दुकानदारों को लायसेंस जारी किए गए हैं उन सबको भी नोटिस जारी कर कहा जाए कि वे अपने संस्थान के आस-पास गंदगी न होने दें। नोटिस के बाद भी अगर गंदगी पाई जाए तो संबंधित के विरूद्ध चालान की कार्रवाई की जाए। इसके साथ ही हॉकर्स जोनों में ठेले शिफ्ट कराने की कार्रवाई भी सुनिश्चित की जाए।
संभाग आयुक्त श्री सक्सेना ने यह भी कहा कि रेलवे स्टेशन, बस स्टेण्ड और आश्रय स्थलों पर सर्दी के मौसम को देखते हुए अलाव जलाने की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाए। इन स्थानों पर साफ-सफाई की व्यवस्था भी चाक-चौबंद हो यह भी सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने सभी जिला अधिकारियों को कहा कि वे अपने भ्रमण के दौरान सार्वजनिक शौचालयों का अवश्य निरीक्षण करें। सभी सार्वजनिक शौचालय साफ-सुथरे हों और उनमें पानी की व्यवस्था भी हो यह सुनिश्चित किया जाए। कहीं पर भी खुले में शौच न हो यह सुनिश्चित हो तथा सार्वजनिक स्थानों पर लोग खड़े होकर पेशाब न करें, यह भी देखा जाए। ऐसे स्थान जहाँ पर लोग आदतन पेशब करते हैं उन स्थानों को व्यवस्थित कराने की जवाबदारी भी वार्ड मॉनीटर की होगी।
कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने जिला अधिकारयों से कहा कि वे अपने कार्य के साथ-साथ साफ-सफाई की व्यवस्था का भी निरीक्षण करें। निरीक्षण के दौरान सार्वजनिक शौचालयों और मूत्रालयों का निरीक्षण करें और व्यवस्थायें चाक-चौबंद रहें यह सुनिश्चित करें। कहीं पर भी अगर व्यवस्थायें ठीक नहीं हैं तो निगम के माध्यम से ठीक कराएँ। सभी जिला अधिकारी प्रतिदिन अंतरविभागीय समन्वय समिति की बैठक में सप्ताह भर में किए गए कार्यों की प्रगति से भी अवगत करायें।
नगर निगम आयुक्त श्री संदीप माकिन ने कहा कि स्वच्छता के कार्य में सभी का सहयोग अपेक्षित है। जिला प्रशासन द्वारा जिन अधिकारियों को स्वच्छता के कार्य में मॉनीटरिंग की जवाबदारी सौंपी है वे भी हमें सहयोग प्रदान करें ताकि शहर को और स्वच्छ व सुंदर बनाया जा सके। नगर निगम द्वारा शहर की स्वच्छता के साथ-साथ चौराहों व डिवाइडरों को साफ-सुथरा करने की कार्रवाई भी की जा रही है। इसके साथ ही सड़कों पर लम्बे समय से खड़े वाहनों को भी निगम हटाने की कार्रवाई शीघ्र प्रारंभ करेगा। ऐसे लोगों के विरूद्ध अर्थदण्ड की भी कार्रवाई की जायेगी।

बदमाशों ने बीमा कंपनी के ब्रांच मैनेजर का अपहरण करने की कोशिश की,पुलिस को देख गाडी छोड भागे बदमाश

ग्वालियर। ग्वालियर जिले में बदमाशों ने लिफ्ट मांगने के बहाने बीमा कंपनी के ब्रांच मैनेजर को रोक कर अपहरण कर लिया. अपहरण करने वालो में एक युवती भी शामिल थी. बीच सड़क पर अपहरण को देख राहगीरों ने पुलिस को कॉल कर दिया. सूचना मिलते ही पुलिस ने कार का पीछा किया तो बदमाश घबरा गए और हाईवे पर उनकी गाड़ी दूसरी गाड़ी से टकरा गई. जिसके बाद अपहरणकर्ता गाड़ी और मैनेजर को छोड़कर भाग निकले. पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गई है.

जिले के निम्माजी खोह निवासी हरीकिशन रावत अपनी कार से रात के समय दोस्त से मिलने दीनदयाल नगर जा रहे थे. तभी महाराज गेट के पास उन्हें एक अनजान युवती ने इशारा कर लिफ्ट मांगी. उसे बैठाने के लिए कार रोकी तो युवती के 3 साथी भी कार में घुस गए. एक बदमाश ने बंदूक निकालकर कनपटी लगा दिया, बाकि दो ने मैनेजर के गले में मफलर डालकर ड्राइविंग सीट से पीछे खींच लिया और बदमाश ड्राइविंग सीट पर बैठ गया. बीच सड़क पर किसी राहगीर ने अपहरण की घटना को देख लिया और तत्काल पुलिस को कॉल कर इसकी सूचना दी.

सूचना मिलते ही पुलिस की डायल हंड्रेड ने कार का पीछा करना शुरू कर दिया. बचने के लिए बदमाशों ने गाड़ी हाईवे पर भगाई तो कार को कंट्रोल नहीं कर पाए और सामने से आ रही एक कार ने टक्कर मार दी. एक्सीडेंट के बाद अपहरणकर्ता कार और मैनेजर कार को वहीं छोड़कर भाग गए. जिसके बाद तब मैनेजर ने दौड़ लगाकर थाने पहुंचा और पूरी घटना पुलिस को बताई. पुलिस ने उसकी शिकायत पर अज्ञात बदमाशों के खिलाफ मामला दर्ज कर तलाश शुरू कर दी है.

झालावाड़ में कौओं की मौत:जहां कौए मरे मिले, वहां 1 किमी क्षेत्र में कर्फ्यू; बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद राजस्थान में हड़कंप

राजस्थान में जोधपुर के बाद झालवाड़ में भी बड़ी संख्या में कौओं की मौत का मामला सामने आया है। झालावाड़ में एवियन इन्फ्लूएंजा (एक तरह का बर्ड फ्लू) से कौओं की मौत की पुष्टि के बाद राज्य में पोल्ट्री फार्म का बिजनेस करने वालों में हड़कंप मचा है। झालावाड़ जिला प्रशासन ने राड़ी के बालाजी क्षेत्र में बुधवार देर रात एक किलोमीटर क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया है।

बालाजी क्षेत्र में ही 25 दिसंबर से लगातार कौओं की मौत हो रही है। यहां 100 से ज्यादा कौओं की मौत हो चुकी है। जबकि बड़ी संख्या में कौए बीमार हैं। फिलहाल, प्रशासन ने यह नहीं बताया कि कितने कौओं की अब तक मौत हुई है। कौओं के सैंपल जांच के लिए भोपाल भी भेजे गए हैं।

झालावाड़ में यह पहला मामला है जब पक्षियों में इस तरह की बीमारी सामने आई है। इधर, गुरुवार को कोटा से विशेषज्ञों की टीम झालावाड़ पहुंच गई है। यह टीम कौओं की जांच करेगी। फिलहाल, कौओं में एवियन इन्फ्लूएंजा की पुष्टि होने के बाद शहर के सभी पोल्ट्री फार्म और इनसे जुड़ी दुकानों पर सैंपलिंग करवाई जा रही है। वहीं, बालाजी क्षेत्र में स्थित पोल्ट्री और अंडों की दुकानों से बिक्री बंद करवा दी गई है।

बालाजी क्षेत्र में रहने वाले लोगों को फिलहाल बाहर निकलने की मनाही है। प्रशासन ने इस क्षेत्र में राशन समेत अन्य सामग्री पहुंचाने की व्यवस्था की है। इसके लिए टीम बना दी गई है। कर्फ्यू कब हटाया जाएगा, इसको लेकर प्रशासन ने कोई जानकारी नहीं दी है।

जोधपुर के बाद अब झालावाड़
राज्य में सबसे पहले जोधपुर में कौओं की मौत का मामला सामने आया था। शहर में राजीव गांधी पुलिस थाने के पास स्थित भोमिया की थान पर करीब एक हफ्ते से रोज कौए मृत मिल रहे हैं। मंगलवार को 32 और बुधवार को 15 कौए मृत पाए गए। मामला सुर्खियो में आने के बाद पशुपालन विभाग ने कौओं के सैंपल भोपाल भेजे, लेकिन अभी इनकी रिपोर्ट नहीं आई। जोधपुर के कुछ विशेषज्ञों ने शुरुआत में आशंका जताई की थी कि रानीखेत नाम की बीमारी से कौओं की मौत हो रही है। अब झालावाड़ में एवियन इन्फ्लूएंजा की पुष्टि के बाद चिंता बढ़ गई है।

विधायक सीताराम आदिवासी का स्वास्थ्य खराब ,सीएम नेफोन पर की बात, हैलीकाॅप्टर से भोपाल भेजने की तैयारी

श्योपुर। विजयपुरविधानसभा क्षेत्र के विधायक सीताराम आदिवासी का स्वास्थ्य बिगड गया है उन्हें सांस लेनेमें तकलीफ, बुखार की शिकायत है जिसपर सुबह चिकित्सकों की टीम उनके गांव ककरधा पहंुचीऔर उनके स्वास्थ्य की निगरानी की जा रही है इस बीच  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने फोन पर उनकाहाल जाना है और विधायक सीताराम को हेलीकॉप्टर से भोपाल भेजने की तैयारी कीजा रही है। आपको बता दें कि छह महीने में दूसरी बार विधायक सीताराम का स्वास्थ्यखराब हुआ है उनका मार्च से अब तक तीन बार कोरोना टेस्ट भी हो चुका है।

राजकोट AIIMS का शिलान्यास:मोदी बोले- स्वास्थ्य ही संपदा है, यह 2020 ने सिखाया; पूरा साल चुनौती भरा रहा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजकोट में ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) की आधारशिला वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए रखी। मोदी ने कहा कि 2020 ने हमें सिखाया कि स्वास्थ्य ही संपदा है। यह पूरा साल चुनौतियों भरा रहा।

हेल्थ वर्कर्स को याद करने का दिन
मोदी ने कहा कि 2020 को नई हेल्थ फैसिलिटी के साथ विदाई देना चुनौतियों को दर्शाता रहा है। ये साल दुनिया में अभूतपूर्व चुनौतियों को दिखाता है। इस साल साबित हुआ कि स्वास्थ्य से बड़ा कुछ भी नहीं। स्वास्थ्य पर जब चोट होती है तो जीवन ही नहीं, पूरा सामाजिक दायरा उसकी लपेट में आ जाता है। साल का अंतिम दिन डॉक्टर, दवा दुकानों में काम करने वाले, स्वास्थ्यकर्मियों को याद करने का है, जो अपने जीवन को लगातार दांव पर लगातार दूसरों के लिए काम कर रहे हैं।

750 बेड वाले AIIMS पर 1195 करोड़ खर्च होंगे
राजकोट AIIMS के लिए सरकार ने 201 एकड़ जमीन की मंजूरी दी है। इसे बनाने में 1195 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है। 2022 के मध्य तक इसके पूरे होने की उम्मीद है। 750 बेड वाले AIIMS में 30 बेड वाला आयुष ब्लॉक भी होगा। इसमें 125 MBBS की सीटें और 60 नर्सिंग सीटें होंगी।

कलेक्टर से शिकायत के बाद नलों में आया पानी तो खुशी से रोने लगी वृद्धा

ग्वालियर / वार्ड 51 स्थित मामा का बाजार स्थित हैदरगंज निवासी 70 वर्षीय वृद्ध लाजवंती माई ने जैसे ही कलेक्टर की जनसुनवाई में घर पर पानी नहीं आने की व्यथा सुनाई और घर पर नल कनेक्शन लगाने की गुहार लगाई, वैसे ही तत्काल कलेक्टर श्री कौशलेंद्र विक्रम सिंह के निर्देश पर प्रशासनिक अमला हरकत में आया और 1 घंटे के अंदर वृद्ध लाजवंती के घर पर नल कनेक्शन लगा दिया। आज जब वृद्ध लाजवंती के घर पर और लोगों की तरह नल से पानी आया तो वृद्धा की आंखों से अश्रु धारा बह निकली। वृद्धा की आंखों से निकले आंसू और दिल से निकले कलेक्टर के लिए ढेरों आशीष।

सुरक्षाबलों ने 3 आतंकी मार गिराए, 15 घंटे चला एनकाउंटर; सर्च ऑपरेशन जारी

कश्मीर में सुरक्षाबलों ने 3 आतंकी मार गिराए हैं। श्रीनगर के लावापोरा इलाके में मंगलवार को एनकाउंटर शुरू हुआ था जो 15 घंटे से ज्यादा चला। पुलिस ने आतंकियों को सरेंडर करने का मौका दिया, लेकिन उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी। अभी पता नहीं चल पाया है कि मारे गए आतंकी किस संगठन के हैं। सर्च ऑपरेशन अभी भी जारी है।

इस बीच, पुलिस और आर्मी की टीम ने नियंत्रण रेखा (LoC) के पास बालाकोट स्थित मेंढर सेक्टर में 2 पिस्टल, 70 कारतूस और 2 ग्रेनेड बरामद किए हैं। पुंछ के SSP रमेश अग्रवाल ने बताया कि आतंकियों के पाकिस्तानी हैंडलर्स ने हथियार भेजे थे। रविवार को आतंकियों के 3 मददगारों की गिरफ्तारी के बाद हथियारों का पता चला था।

जम्मू-कश्मीर में इस साल 203 आतंकी मारे गए
न्यूज एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक सुरक्षाबलों ने इस साल जम्मू-कश्मीर में 203 आतंकी ढेर किए। इनमें 166 लोकल और 37 पाकिस्तानी थे। इस साल 49 दहशतगर्द गिरफ्तार किए और 9 ने सरेंडर कर दिया। दक्षिण कश्मीर में सबसे ज्यादा आतंकी मारे गए। शोपियां, कुलगाम और पुलवामा में ज्यादा एनकाउंटर हुए। इन्हीं इलाकों में आतंकी संगठनों ने स्थानीय युवाओं को ज्यादा भर्ती किया था।

इस साल 96 आतंकी घटनाएं हुईं
इनमें 43 आम लोग मारे गए और 92 जख्मी हुए। यह संख्या पिछले साल के मुकाबले कम है। 2019 में 47 लोगों की जान गई थी 185 घायल हुए थे। इस साल सिर्फ 14 IED विस्फोटक मिले, पिछले साल यह आंकड़ा 36 था।

ब्रिटेन से लौटे युवक ने अस्पताल में किया हंगामा, पिता भी पॉजिटिव

ग्वालियर। ब्रिटेन से लौटे विनय नगर के 35 वर्षीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने जिला अस्पताल में जमकर हंगामा किया। उसे बी-ब्लॉक के वार्ड में रखा गया था, जहां से भागकर वह सी-ब्लॉक में भर्ती काेविड मरीजों के बीच जा पहुंचा। जिसको लेकर भर्ती कोविड मरीजों में अफरा तफरी मच गई। अस्पताल प्रबंधन को जब पता चला तो इंजीनियर को वापस अपने वार्ड में जाने के लिए कहा गया, मगर उसका कहना था कि मुझे अकेले में डर लगता है इसलिए वह इन मरीजों के बीच ही रहेगा। उधर कोविड मरीज उसके साथ नहीं रहना चाहते थे तथा अस्पताल में वेस्टर्न पॉट की सुविधा भी नहीं है।

इंजीनियर अकेले रहने के लिए राजी नहीं था, उसका कहना था कि बी-ब्लॉक के बगल से ही पोस्टमार्टम हाउस बना है इसलिए वह उस वार्ड में नहीं रहेगा। तब सी-ब्लॉक में भर्ती कोविड मरीजों का बी-ब्लॉक में शिफ्ट करना पड़ा और इंजीनियर को सी-ब्लॉक में रख दिया गया। खास बात यह है कि इंजीनियर के 73 वर्षीय पिता की रिपोर्ट भी कोविड पॉजिटिव आ चुकी है। हालांकि पिता का सैंपल दिल्ली जांच के लिए अभी नहीं भेजा गया है। अब इंजीनियर के साथ में उसके पिता को भी जिला अस्पताल में रखा जाएगा।

इंजीनियर के संपर्क हिस्ट्री में से 22 लोगों के सैंपल लिए गए थे। जिनकी जांच रिपोर्ट आ चुकी है। इनमें केवल इंजीनियर के पिता की रिपोर्ट ही पॉजिटिव आई है। इंजीनियर के पिता मधुमेह रोग से पीड़ित बताए गए हैं। ऐसा भी माना जा रहा है कि पिता के संपर्क में आने से इंजीनियर कोविड पॉजिटिव हुआ हो। हांलाकि दिल्ली से रिपोर्ट मिलने पर ही पता चलेगा कि इंजीनियर में स्ट्रेन वायरस है या नहीं।

मांझी की बीजेपी को धमकी, दोबारा नहीं करें गलती, नीतीश को न समझें कमजोर 


अरुणाचल प्रदेश में हुई राजनीतिक घटना का असर बिहार की राजनीति पर स्पष्ट दिखाई दे रहा है। अब पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने भी इस पर टिप्पणी की है। मांझी ने कहा है कि अरुणाचल में जो हुआ वह स्वच्छ राजनीति नहीं है। साथ ही उन्होंने भाजपा से ऐसी गलती फिर न दोहराने की बात भी कही है।

हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष मांझी ने ट्वीट कर कहा, ‘अरुणाचल प्रदेश में जो हुआ वह स्वच्छ राजनीति का तकाजा नहीं है। भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व से अनुरोध है कि ऐसी गलती दोबारा न हो पाए, इसका ख्याल रखें। नीतीश कुमार को कमजोर समझने वालों को शायद नहीं पता है कि हम मजबूती से उनके साथ है।’

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही अरुणाचल प्रदेश में बीजेपी ने जेडीयू के 7 में से 6 विधायकों को अपनी पार्टी में शामिल कर लिया था। इस घटना से पहले जदयू राज्य की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी थी। भाजपा के इस राजनीतिक दांव को बिहार में नीतीश कुमार और उनकी पार्टी के लिए संदेश के तौर पर देखा गया। इस घटना के बाद हुई जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में भी यह मुद्दा गरम रहा। इसके विरुद्ध पार्टी ने निंदा प्रस्ताव भी पारित किया।

बता दें कि अरुणाचल प्रदेश के इस सियासी घटनाक्रम के बाद बिहार की राजनीति में हलचल बढ़ गई। आरजेडी नेता श्याम रजक ने यहाँ तक दावा किया कि मौजूदा गठबंधन में सभी को घुटन महसूस हो रही है और नीतीश कुमार मजबूर नजर आ रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि जेडीयू के 17 विधायक आरजेडी के संपर्क में हैं और कभी भी पार्टी में शामिल हो सकते हैं। हालांकि रजक के इस दावे को बुधवार को खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खारिज कर दिया और कहा कि यह बेबुनियाद है।