अमित शाह के तमिलनाडु दौरे से पहले AIADMK ने की बैठक, EPS को सीएम मानने पर जोर

चेन्नई. भारतीय जनता पार्टी (BJP) के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) की तमिनलाडु यात्रा से पहले ऑल इंडिया द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIADMK)  ने बैठक की. इस बैठक में कई वरिष्ठ अन्नाद्रमुक नेताओं ने शुक्रवार को पार्टी की सलाहकार बैठक के दौरान असंतोष व्यक्त किया कि उनकी सहयोगी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) आगामी 2021 में होने वाले चुनाव के लिए मुख्यमंत्री एडापडी पलानीस्वामी (ईपीएस) को उम्मीदवार के रूप में स्वीकार नहीं कर रही है.

सीएम पलानीस्वामी, उनके डिप्टी ओ पनीरसेल्वम (OPS), वरिष्ठ मंत्रियों, जिला सचिवों और जोनल-प्रभारी के साथ पार्टी मुख्यालय में AIADMK की बैठक इसलिए भी अहम है, क्योंकि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की चेन्नई यात्रा पर आने से एक दिन पहले बैठक हुई. बता दें गृह मंत्री यहां सरकारी कार्यक्रमों में भाग लेने और भाजपा की तमिलनाडु इकाई के साथ आंतरिक बैठक करने के लिए आ रहे हैं.

बैठक में शामिल एक वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘जो ईपीएस को मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में स्वीकार करते हैं, वे हमारे साथ बने रह सकते हैं.’ पार्टी के एक अधिकारी ने कहा कि इस बीच पलानीस्वामी ने स्थिति को शांत किया. उन्होंने कहा कि भाजपा के राज्य और केंद्रीय नेतृत्व ने उनके समक्ष कोई परेशानी नहीं पैदा की.

रोक लगाए जाने के बावजूद भाजपा की ‘वेल यात्रा’

बता दें तमिलनाडु सरकार द्वारा रोक लगाए जाने के बावजूद भाजपा की ‘वेल यात्रा’ को मजबूत करने के साथ विभिन्न विषयों पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं और शाह के बीच चर्चा होगी. पार्टी सूत्रों ने इस बारे में बताया. ऐसी भी संभावना है कि राज्य के अपने दौरे के दौरान शाह अभिनेता रजनीकांत से भी मुलाकात कर सकते हैं. शाह एक साल से ज्यादा समय बाद 21 नवंबर को राज्य का दौरा करने वाले हैं. इस दौरान वह प्रदेश इकाई के पदाधिकारियों और कोर कमेटी को भी संबोधित करेंगे.

पदाधिकारियों के साथ मुलाकात के एजेंडा के बारे में पार्टी सूत्रों ने बताया कि वेतरीवेल यात्रा, आगामी विधानसभा चुनाव के पहले पार्टी के संगठन को मजबूत करने और अन्नाद्रमुक के साथ गठबंधन करने जैसे विषयों पर भी चर्चा होगी. रजनीकांत जैसी शख्सियतों से मुलाकात की संभावना के बारे में पूछे जाने पर प्रदेश भाजपा के महासचिव के टी राघवन ने कहा, ‘मैं यह नहीं कहूंगा कि वह रजनीकांत से नहीं मिलेंगे.’

प्रदेश इकाई के अध्यक्ष एल मुरुगन के नेतृत्व में पार्टी ने छह नवंबर से राज्यस्तर पर वेल यात्रा निकालने की कोशिश की लेकिन राज्य सरकार ने कोरोना वायरस महामारी का हवाला देते हुए इस पर रोक लगा दी. हालांकि पार्टी ने जन सभाओं के जरिए वेल यात्रा आयोजित कर कई जगहों पर गिरफ्तारियां दी है. वेल यात्रा के जरिए भगवा पार्टी संगठन को मजबूत करना चाहती है और लोगों का ध्यान खींचना चाहती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!