राज्यपाल के बयान पर भड़कीं ममता, बोलीं- शांतिभंग करने के लिए बंगाल में आए बाहरी गुंडे

कोलकाता
पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्यपाल जगदीप धनखड़ के बीच फिर जुबानी जंग तेज हो गई है। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने ममता पर हमला बोलते हुए कहा है कि राज्य में सियासी हिंसा बर्दाश्त नहीं करूंगा। वहीं ममता बनर्जी ने किसी का नाम लिए बगैर बीजेपी और राज्यपाल पर तंज कसा है। ममता ने कहा कि कुछ लोग दूसरे राज्यों से गुंडे लेकर आ रहे हैं ताकि 2021 के विधानसभा चुनावों से पहले राज्य की शांति भंग की जा सके।

दरअसल कूच बिहार जिले में बीजेपी कार्यकर्ता का शव मिलने के बाद राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा कि मैं राज्य सरकार को हमेशा से कहता रहा हूं कि कानून-व्यवस्था को राजनीति से अलग रखा जाए। उन्होंने कहा कि बार-बार चेतावनी के बावजूद कुछ अधिकारी राजनीतिक कार्यकर्ताओं की तरह काम कर रहे हैं। ऐसे में हमें सियासी हिंसा को रोकना चाहिए। राज्यपाल ने कहा कि, मैं यह सुनिश्चित करने के लिए अपनी शक्ति में सब कुछ करूंगा कि पश्चिम बंगाल के लोगों को हिंसा के बिना एक स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव देखने को मिले। मुझे नतीजों से कोई लेना-देना नहीं है, केवल कानून और मतदाता संतुष्टि की प्रक्रिया को कायम रखना है।

ममता ने कहा- ‘गुंडों और बाहरी लोगों’ का करें प्रतिकार

हिन्दी भाषी बहुल क्षेत्र पोस्ता बाजार में जगधात्री पूजा के शुभारंभ के अवसर पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लोगों से कहा कि वे राज्य में अशांति फैलाने वाले ‘गुंडों और बाहरी लोगों’ का प्रतिकार करें। उन्होंने कहा, ‘अगर बाहर से कुछ गुंडे हमारे राज्य में आकर आपको आतंकित करते हैं तो आप सभी को एकजुट होकर उनका प्रतिकार करना चाहिए।’

ममता ने बीजेपी को बताया ‘बाहरी लोगों की पार्टी’
ममता ने आगे कहा, ‘मैं वादा करती हूं कि हम आपके साथ होंगे। हम शांति में विश्वास करते हैं। लेकिन कुछ लोग सिर्फ चुनाव के दौरान दूसरों को आतंकित करने आते हैं। हम उन्हें यहां मनमर्जी नहीं करने देंगे।’ इन बाहरी लोगों को ‘विभाजनकारी ताकत’ बताते हुए बनर्जी ने कहा कि उन्हें हराने की आवश्यकता है। ममता बनर्जी ने इससे पहले भी कई मौकों पर बीजेपी को ‘बाहरी लोगों की पार्टी’ बताया है।

बीजेपी की बढ़ती पकड़ से टीएमसी हताश’

बनर्जी के बयान पर बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव और पार्टी के बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि देश के बाकी हिस्सों से आने वाले भारतीयों का तृणमूल कांग्रेस सरकार स्वागत नहीं करती है, लेकिन बांग्लादेशी घुसपैठियों का दिल खोलकर स्वागत किया जाता है। उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस प्रमुख का बयान राज्य में बीजेपी की बढ़ती पकड़ पर पार्टी की हताशा व्यक्त कर रहा है। उन्होंने कहा कि ऐसे बयान तृणमूल कांग्रेस और उसके नेतृत्व के गुस्से और हताशा को दर्शाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *