ग्वालियर में कोरोना वायरस की दूसरी लहर: तेजी से बढ़ रहे मरीज, सावधान रहने की सलाह

ग्वालियर। कोरोना वायरस का प्रकोप दुनिया भर में जारी है. वहीं अब भारत देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का असर ग्वालियर शहर में दिखाई देने लगा है. यहां मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा हैं. सबसे ज्यादा सितंबर महीने में मरीजों का आंकड़ा 300 तक पहुंच गया था. जिसमें अक्टूबर महीने में कमी आई और मरीजों का आंकड़ा सिर्फ 50 से 60 तक रह गया था, लेकिन नवंबर में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर आने के बाद एक बार फिर मरीजों की संख्या 150 तक पहुंच गई हैं.
इस मामले में स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि ठंड के साथ निमोनिया का फैलाव भी हो रहा है. जिससे कोरोना संक्रमण को अनुकूल वातावरण मिल रहा है. इसी कारण मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है. ग्वालियर में अभी तक 14 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं. इसमें 11 हजार 500 मरीज ठीक हो चुके हैं, जबकि 238 मरीज मौत के काल में समा चुके हैं. ग्वालियर में रिकवरी रेट 80 फीसदी है. वहीं दिवाली के बाद अब मरीज अस्पताल पहुंचने लगे हैं.रविवार और शनिवार को 2 दिन में 500 मरीजों की जांच की गई है. जिसमें 150 मरीज संक्रमित मिले हैं. जहां तक मरीजों की जांच की बात है तो पहले अक्टूबर में 2 हजार मरीजों की जांच रोजाना की जा रही थी, जो घटकर दिवाली के कारण सिर्फ 400 रह गई थी. विशेषज्ञों का कहना है कि बदलते मौसम में कोरोना संक्रमण को लेकर विशेष सावधानी बरतनी चाहिए. सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क का उपयोग जरूरी है. इधर, जिला प्रशासन ने मरीजों की संख्या कम होने के चलते 8 निजी एवं सरकारी कोविड-19 सेंटर को बंद करने के भी आदेश दे दिए हैं. आदेश के बाद श्रमोदय एवं आइडिया कॉलेज प्राइवेट सेंटरों सहित आठ केंद्रों को बंद कर दिया गया है.

दीवाली ने कैसे रोशन कर दी कचरे के ढेर में पड़े थानेदार की ज़िंदगी

ग्वालियर । अपने पुराने दोस्तों से मिलने के बाद कभी शार्प शूटर और थानेदार रहे मनीष मिश्रा की ज़िंदगी वापिस पटरी पर लौटने लगी है । मनीष दस नवम्बर की रात कचरे के धार से सामान ढूंढतेऔर ठंड से सिकुड़ते पुलिस अफसरों को दिखा था । उसने उन अफसरों को नाम से पुकारकर चौंकाया था कि वह उनके साथ का ही थानेदार है । इसके बाद वे लोग उसे उपचार कराने ले गए । दीवाली मनाने उसके सारे बैचमेट जब साथ पहुंचे तो उसने सबको पहचान लिया ।

10 साल बाद गुमनामी के अंधेरे से बाहर आए दरोगा मनीष मिश्रा की जिंदगी भी अब पटरी पर लौटने लगी है। स्वर्ग सदन आश्रम में रह रहा है ।मनीष अब अपने पुराने साथियों को पहचानने लगा और बीते दिनों की बातें भी याद कर रहा है।  दीवाली की रात  मनीष मिश्रा से मिलने के लिए उनके बैच  के छह टीआई  स्वर्ग सदन आश्रम पहुंचे। ग्वालियर के थाना प्रभारी आसिफ मिर्जा बेग, EOW  इंस्पेक्टर सतीश चतुर्वेदी, टीआई राम नरेश यादव, सतीश भदोरिया, पंकज द्विवेदी स्वर्ग सदन आश्रम पहुंचे और मनीष मिश्रा से मुलाकात की। मनीष ने एक के बाद एक सभी को पहचान लिया और फिर पुराने दिनों की बातें निकल आई। मनीष ने उस दौर में अपने साथ रहे थाना प्रभारियों से पुलिसिंग को लेकर बातचीत की और अपने पुराने दिन भी याद किए। इस दौरान मनीष मिश्रा को अपने एक और बेच मेट शिव सिंह की याद आई तो उन्होंने आसिफ मिर्जा बेग से शिव सिंह के बारे में पूछा। आसिफ ने मनीष को बताया कि शिव सिंह इन दिनों भिंड जिले के मेहगांव थाने में टीआई है। मनीष की इच्छा पर आसिफ में फोन से  वीडियो कॉल के जरिए शिव सिंह से बात कराई। मनीष ने शिवसिंह से खूब बात की और  बच्चे और परिवार का हाल भी। मनीष से मिलने वाले उसके सभी बैचमेट्स थाना प्रभारियों का कहना है कि उन्हें उम्मीद है कि मनीष जल्द ही पूरी तरह से स्वस्थ होगा उनका इलाज होगा और उसके बाद वह वापस अपनी नौकरी में लौट आएंगे। गौरतलब है कि 10 नवंबर की रात मनीष कचरे में खाना तलाश  रहा था उसी दौरान उनके बैचमेट   रहे डीएसपी रत्नेश तोमर और विजय सिंह भदोरिया वहां से गुजरे। उन्होंने मनीष को ठंड से कांपते देख अपनी जैकेट दे दी। जब लौटने लगे तो मनीष ने DSP विजय सिंह भदोरिया को उनके नाम से पुकारा, तो साथी CSP रत्नेश तोमर हैरान रह गए उन्होंने पूछा कि तुम इनका नाम कैसे जानते हो तो मनीष ने रत्नेश तोमर को भी नाम से पुकारा तो उनकी हैरानी बढ़ गई आखिर जब उन्होंने बात की तो खुलासा हुआ कि ये उनका साथी मनीष मिश्रा है।

कोरोना वैक्सीन की उम्मीद में रिकॉर्ड स्तर पर सेंसेक्स, छुआ 43900 का स्तर

कोरोना वायरस की वैक्सीन बनने की उम्मीद में शेयर बाजार में जबरदस्त तेजी है। अमेरिकी शेयर बाजारों के बाद अब भारतीय शेयर बाजार भी रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गए हैं। सेंसेक्स ने प्रीओपनिंग में 44000 का स्तर छू लिया है। वहीं निफ्टी भी 12900 के करीब रहा। प्रीओपनिंग में Sensex 44,115 के स्तर पर रहा। खबर लिखे जाने तक बीएसई में 314 अंकों की तेजी के साथ 43,945.07 पर ट्रेडिंग हो रही थी। वहीं एनएसई 81 अंकों की तेजी के साथ 12,856.55 पर रहा। बता दें, कोरोना महामारी के खिलाफ पूरी दुनिया लड़ाई लड़ रही है। भारत समेत कई देशों में इसकी बैक्सीन बनाने का काम चल रहा है। इस बीच, अमेरिका की एक कंपनी ने कोरोना की कारगर दवा बनाने का दावा किया है। मॉडर्ना कंपनी के इस दावे के बाद वहां के शेयर बाजार में रिकॉर्ड उछाल देखने को मिला। Dow futures में पांच सौ अंकों की तेजी देखी गई। Dow e-minis में 514 अंकों यानी 1.74% की तेजी रही। वहीं S&P 500 e-minis 41.25 अंक यानी 1.15% चढ़ा।

जानिए कोरोना वैक्सीन को लेकर क्या है मॉडर्ना का दावा

अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना का कहना है कि उसके बनाई वैक्सीन कोरोना वैश्विक महामारी के खिलाख 94 फीसदी कारगर है। क्लीनिकल ट्रायल के बाद यह दावा किया गया है। इस पर अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भी अपनी पीठ थपथपाई है और कहा है कि यह काम उनके कार्यकाल में हुआ है। बहरहाल, मॉडर्ना दूसरी अमेरिकी कंपनी है, जिसने कोरोना की कारगर दवा बनाने का दावा किया है। इससे पहलेफाइजर कंपनी ने दावा किया था कि उसकी वैक्सीन 90 फीसदी प्रभावी साबित हुई है। दोनों ही वैक्सीन की सफलता का जो दावा किया जा रहा है वह उम्मीद से कहीं अधिक है। अधिकांश एक्सपर्ट वैक्सीन के 50 से 60 प्रतिशत तक सफल होने की उम्मीद करते रहे हैं।

कोरोना वैक्सीन को लेकर भारत में भी ट्रायल चल रहा है। भारत बायोटेक ने सोमवार को अपनी COVID-19 वैक्सीन, कोवाक्सिन के चरण -3 ​​परीक्षण शुरू किए। भारत बायोटेक के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक कृष्णा एला ने कहा, हमने COVID-19 वैक्सीन के लिए ICMR के साथ साझेदारी की है क्योंकि हम इसे चरण 3 परीक्षणों में शामिल करने जा रहे हैं। कंपनी ने परीक्षण के लिए देश भर में कुल 26,000 मरीजों की पहचान की है।

बिहार के बाद पश्चिम बंगाल पर बीजेपी का पूरा फोकस, गुजरात बनाने के वादे पर संग्राम

बिहार चुनाव और त्योहारों के संपन्न होने के साथ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का पूरा फोकस अब पश्चिम बंगाल पर है। 2021 के विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी ने अभी से ही प्रचार में ताकत झोंक दी है। एक तरफ बीजेपी ने पिछले कुछ सप्ताह में कई संगठनात्मक बदलाव किए हैं तो एक के बाद एक पार्टी के बड़े नेता सूबे में पहुंचकर महासमर की तैयारी को धार दे रहे हैं। इस बीच बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ने वादा किया है कि यदि पार्टी सत्ता में आई तो पश्चिम बंगाल को गुजरात की तरह बनाया जाएगा। वहीं, टीएमसी ने कहा कि वहां एनकाउंटर्स में लोगों की हत्या की जाती है।

भगवा पार्टी के बंगाल यूनिट के नेता भी सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ लगातार आक्रामकता बढ़ा रहे हैं। आने वाले दिनों में प्रचार अभियान और तेज हो सकता है। हाल ही में बीजेपी के सह प्रभारी बनाए गए आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय सोमवार को पश्चिम बंगाल पहुंचे। पार्टी के नेता मालवीय की नियुक्ति को इस बात की ओर इशारा मानते हैं कि विधानसभा चुनाव की जंग सोशल मीडिया पर भी आक्रामक तरीके से लड़ी जाएगी। बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष भी मंगलवार को राज्य में पहुंच रहे हैं। वह कई बैठकें करने वाले हैं। 

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, ”बंगाल में लड़े गए पिछले 2-3 चुनावों में मालवीय ने सोशल मीडिया और आईडी रणनीतियों को मैनेज किया। वह बंगाल के मुद्दों से अवगत हैं। उनका आगमन पार्टी की राज्य ईकाई के आईटी विंग को और मजबूत करेगा। संतोष भी कुछ बैठकें लेने आ रहे हैं।”

इससे पहले नवंबर में ही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पार्टी संगठन की तैयारियों का जायजा लेने के लिए दो दिन के दौरे पर आए थे। शाह ने इस पार्टी कार्यकर्ताओं में जोश भरा और 200 से अधिक सीटें जीतने का दावा किया है। शाह के दौरे के बाद बंगाल में जिला युवा नेताओं की लिस्ट जारी कर दी गई है।

सोमवार को बीजेपी नेता दिलीप घोष ने टीएमसी पर तीखे हमले करते हुए कहा कि बीजेपी का लक्ष्य़ बंगाल को गुजरात बनाने है। घोष ने कहा, ”बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कई बार कहती हैं कि बंगाल को गुजरात बनाने की कोशिश है। मैं कहूंगा कि यह 100 फीसदी सच है। हम बंगाल को गुजरात में बदल देंगे। अभी बंगाल के लोगों को रोजगार के लिए गुजरात जाना पड़ता है। आने वाले सालों में लोगों को गुजरात नहीं जाना होगा। उन्हें बंगाल में ही रोजगार मिलेगा।”

टीएमसी के नेताओं ने भाजपा की यह कहते हुए आलोचना की कि गुजरात और उत्तर प्रदेश में पुलिस मुठभेड़ों की तस्वीरें आती हैं। टीएमसी नेता और ममता बनर्जी सरकार में मंत्री फरीद हकीम ने कहा, ”गुजरात और उत्तर प्रदेश के साथ समस्या पुलिस एनकाउंटर की है। करीब 2000 लोगों की गुजरात में हत्या हुई। इशरत जहां की तरह कई लोगों को एनकाउंटर्स में मार दिया गया। इसलिए हम नहीं चाहते कि बंगाल गुजरात बने। टाटा की नैनो कार फैक्ट्री भी गुजरात में बंद हो चुकी है।”

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के लिए पहले से काम करते आ रहे लोगों और हाल के वर्षों में टीएमसी आदि पार्टी को छोड़कर भाजपा में शामिल हुए नेताओं में मतभेद ना होने देने और सामंजस्य के लिए केंद्रीय नेतृत्व नजर बनाए हुए है। 2019 में बीजेपी ने 42 में से 18 लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज की थी। हालांकि, पार्टी नेताओं का कहना है कि विधानसभा चुनाव में जीतना आसान नहीं होगा, खासकर पश्चिम बंगाल के 15 दक्षिणी जिलों में, जहां अधिकतर सीटें हैं। शाह के निर्देश पर पार्टी संगठन को बूथ स्तर तक मजबूत बनाने में जुटी है।

नाकाम हुई दिल्ली को दहलाने की साजिश, स्पेशल सेल ने पकड़े जैश के 2 आतंकी; महत्वपूर्ण ठिकाने और VIP थे निशाने पर

नई दिल्ली  : दिल्ली पुलिस की स्पैशल सेल ने देश की राजधानी को दहलाने की बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने दो आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है। ये दोनों आतंकी, जैश-ए-मोहम्मद से संबंध रखते हैं। बताया जा रहा है कि दोनों दिल्ली में बड़ी साजिश को अंजाम देने की फिराक में थे। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली में बड़ा धमाका करने की साजिश थी। बता दें कि पकड़ गए आतंकियों के कब्जे से 10 जिंदा कारतूस के साथ दो सेमी ऑटोमेटिक (अर्ध-स्वचालित) पिस्तौल बरामद की गई है। 

जानकारी के अनुसार, दिल्ली पुलिस को इन दोनों आतंकियों के बारे में इनपुट मिला था। इसके बाद इन्हें पकड़ने के लिए जाल बिछाया गया। सोमवार रात 10.15 बजे जैश-ए-मोहम्मद के इन दोनों आतंकियों को सराय काले खां के मिलेनियम पार्क के पास से धर दबोचा गया। आतंकियों के पास से हथियार बरामद हुए हैं।

पुलिस के अनुसार, गिरफ्तार हुए आतंकियों की पहचान जम्मू-कश्मीर के बारामुला जिले के सोपोर के रहने वाले अब्दुल लतीफ और कुपवाड़ा जिले के हट मुल्ला गांव के रहने वाले अशरफ खाताना के तौर पर हुई है। बता दें कि इनके निशाने पर राष्ट्रीय राजधानी के महत्वपूर्ण स्थल और VIP थे। दोनों से पूछताछ जारी है। अगस्त में भी दिल्ली पुलिस ने आईएस के एक आतंकी को गिरफ्तार किया था। इसके पास से आईडी बरामद की गई थी। 

नदी में डूब रही थी चीनी लड़की, चारों तरफ मच गई अफरा-तफरी तभी ब्रिटिश राजनयिक ने लगाई छलांग और फिर..

चीन में डूबती छात्रा को बचाने के लिए एक ब्रिटिश राजनयिक ने नदी में छलांग लगा दी और जान की बाजी लगाकर उसने बच्ची को बचा लिया। बीजिंग में ब्रिटेन दूतावास और चीन की सरकारी मीडिया ने कहा कि ब्रिटिश राजनयिक स्टीफन एलिसन ने दक्षिण-पश्चिम चीन में एक नदी में छलांग लगाई और डूब रही छात्रा को बचाया।

चीन की सरकारी समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, चोंगकिंग में 61 वर्षीय ब्रिटिश कॉन्सल-जनरल स्टीफन एलिसन ने शनिवार को नगरपालिका के एक दर्शनीय स्थल पर पानी में कूदकर एक डूबती छात्रा बचाया। बताया जा रहा है कि लड़की गलती से नदी में फिसल गई थी। 

ब्रिटिश दूतावास के ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट की गई घटना का वीडियो जारीर किया गया है, जिसमें पानी में एक लड़की को गिरते हुए दिखाया गया है। नदी में जैसे ही लड़की गिरती है, चारों तरफ अफरा-तफरी मच जाती है। सभी मदद-मदद चिला रहे होते हैं, मगर कोई कूदता नहीं है। ऐसे में राजनयिक स्टीफन अपने जूते उतारते हैं और लड़की को बचाने के लिए तुरंत नदी में छलांग लगा देते हैं। 

इसके बाद नदी के किनारे मौजूद लोग एक लाइफ बेल्ट नदी में फेंक देते हैं और उसके सहारे एलिसन उस छात्रा को बाहर लाते हैं। इसके बाद छात्रा को होश में लाया गया और वह तुरंत सांस लेने लगी। हालांकि, पीड़िता का नाम नहीं बताया गया है, मगर उसने रेस्क्यू के लिए धन्यवाद दिया। ब्रिटिश दूतावास ने कहा कि हर किसी को स्टीफन एलिसन पर गर्व है। 

अयोध्या में राम मंदिर की तर्ज पर कर्नाटक के हंपी में बनेगा हनुमान मंदिर, लगेगी दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति

अयोध्या. राम नगरी अयोध्या में राम मंदिर की तर्ज पर कर्नाटक (Karnataka) के हंपी शहर में हनुमान जी के भव्य मंदिर के निर्माण की तैयारी है. अयोध्या के श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की तर्ज पर ही हनुमत जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट बनाया गया है. यही नहीं जिस तरह अयोध्या में भगवान राम की भव्य और सबसे ऊंची मूर्ति लगाई जाएगी, उसी तरह किष्किंधा यानि कर्नाटक के हंपी शहर में हनुमान जी की 215 फीट की भव्य और विशाल मूर्ति लगाने की तैयारी है. सब कुछ अयोध्या की तर्ज पर किया जा रहा है. हनुमान जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की तरफ से राम मंदिर निर्माण की तरफ से 100 फीट का एक रामलला के मंदिर में स्थापित करने के लिए टीक वुड से तैयार एक रथ दिया जाएगा, जो 2 साल में तैयार होगा. इसके निर्माण की लागत लगभग 2 करोड रुपए की लीागत आएगी.

215 फीट ऊंची दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति लगेगी

किष्किंधा (जिसे आज कर्नाटक का हम्पी शहर कहा जाता है) तुंगभद्रा नदी के किनारे स्थित है. वाल्मीकि रामायण में इसे पहले बालि और उनके पश्चात सुग्रीव का राज्य बताया गया है. श्रीराम के अनन्य भक्त हनुमान का जन्म स्थान इसी क्षेत्र के पंपापुर किष्किंधा को माना जाता है. इसके लिए हनुमान जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का गठन किया गया है. यहीं पर दुनिया की सबसे ऊंची हनुमान जी की मूर्ति (जिसकी ऊंचाई 215 फीट बताई जा रही है) स्थापित की जाएगी.

1200 करोड़ रुपए आएगा खर्च

इस मूर्ति के निर्माण में लगभग 1200 करोड़ रुपए का खर्च आएगा. इसके लिए हनुमान जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट रथ यात्रा निकालकर हनुमान भक्तों से चंदा एकत्र करेगा. यानि अयोध्या के श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की तर्ज पर ही हनुमान जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट बनाया गया और अयोध्या में लगने वाली भव्य और विशाल राममूर्ति की तर्ज पर ही कर्नाटक के हम्पी शहर में हनुमान जी की सबसे बड़ी 215 फीट की मूर्ति लगाने की तैयारी है. हनुमान ट्रस्ट के अध्यक्ष और पदाधिकारी अयोध्या आए हुए हैं.

12 वर्ष के लिए किष्किंधा रथ यात्रा निकल रही

हनुमान जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (पंपा क्षेत्र) के अध्यक्ष स्वामी गोविंद आनंद सरस्वती ने बताया कि हनुमान जी की जन्म स्थली किष्किंधा में दुनिया में सबसे बड़ी 215 फीट की एक प्रतिमा तुंगभद्रा नदी के किनारे और हनुमान जी का 20 एकड़ में 100 करोड़ से भव्य मंदिर बनाया जाएगा. उसका शिलान्यास हो गया है. संपूर्ण भारत देश में 12 वर्ष के लिए किष्किंधा रथ यात्रा निकल रही है. इसमें ठाकुर जी विराजमान होंगे. सीता, राम, लक्ष्मण, हनुमत समेत पंचधातु उत्सव मूर्तियां हैं.

JDU कोटे से शपथ लेने वाले मंत्रियों की पूरी डिटेल्स, लालू के खास की बेटी को हराने वाले मेवालाल भी बने मंत्री

नीतीश कुमार 7वीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बने हैं। बिहार में मंत्रिमंडल का विस्तार दो चरणों में होगा। राजभवन में सीएम नीतीश के साथ 15 मंत्रियों ने मंत्री पद की शपथ ली है। वहीं, बीजेपी के कोटे से दो लोगों ने डेप्युटी सीएम पद की शपथ ली है। नीतीश कुमार की कैबिनेट में इस बार कई नए चेहरे शामिल हैं। 2015 में महागठबंधन की सरकार में विधानसभा अध्यक्ष रहे विजय चौधरी फिर से कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली है। वहीं, जेडीयू की तरफ से अशोक चौधरी को भी नीतीश कैबिनेट में फिर से जगह मिल गई है।

कौन हैं विजय चौधरी

समस्तीपुर जिले के सरायरंजन सीट से विजय चौधरी तीसरी बार विधायक बने हैं। नीतीश कुमार के करीबी माने जाते हैं। नीतीश सरकार में विजय चौधरी जल संसाधन मंत्री भी रहे हैं। 2015 में महागठबंधन की सरकार के दौरान वह विधानसभा अध्यक्ष बने थे। इस बार विधानसभा अध्यक्ष की कुर्सी बीजेपी के खाते में चला गया है। ऐसे में विजय चौधरी को फिर से नीतीश कैबिनेट में जगह मिली है। विजय चौधरी ने राजभवन में आज पद और गोपनीयता की शपथ ली है।

8वीं बार विधायक बने हैं विजेंद्र प्रसाद यादव

नीतीश कुमार के साथ ही सुपौल से 8वीं बार विधायक बने विजेंद्र प्रसाद यादव भी मंत्री पद की शपथ ले रहे हैं। विजेंद्र प्रसाद यादव नीतीश कुमार के साथ 3 दशक से राजनीति कर रहे हैं। वह सुपौल विधानसभा सीट से 1990 के बाद से लगातार चुनाव जीत रहे हैं। वह जनता दल के समय से नीतीश के साथ हैं। नीतीश कैबिनेट में वह हर बार मंत्री रहे हैं। अभी वह राज्य में उर्जा मंत्री हैं। विजेंद्र प्रसाद यादव की छवि बिलकुल साफ सुथरी है। साथ ही क्षेत्र में भी उन्होंने काफी विकास के काम किए हैं। इसके साथ ही नीतीश कुमार के सबसे भरोसेमंद लोगों में से एक हैं।

जेडीयू के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष हैं अशोक चौधरी

अशोक चौधरी अभी किसी भी सदन के सदस्य हैं। बिहार चुनाव के दौरान ही उनका कार्यकाल खत्म हो गया था। उसके बाद मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। अशोक चौधरी ने पूरी राजनीति कांग्रेस की है। उनके पिता महावीर चौधरी भी आरजेडी की सरकार में मंत्री रहे हैं। लेकिन नीतीश कुमार के साथ अशोक चौधरी भी 2017 में महागठबंधन से अलग हो गए थे। फिर अपने लोगों के साथ अशोक चौधरी में शामिल हो गए थे। अशोक चौधरी बिहार में विभिन्न मंत्रालयों को संभालते रहे हैं। अभी वह जेडीयू के कार्यकारी अध्यक्ष भी हैं। सरकार के साथ-साथ अशोक चौधरी संगठन में भी काफी एक्टिव रहते हैं।

लालू के चहेते की बेटी को हरा कर आए हैं मेवालाल चौधरी

इस बार नीतीश कुमार ने तारापुर से विधायक मेवालाल चौधरी को भी बड़ा इनाम दिया है। तारापुर विधानसभा सीट से 2010 से जेडीयू का कब्जा है। मेवालाल चौधरी की पत्नी नीता चौधरी भी यहां से विधायक रही हैं। मेवालाल चौधरी ने इस बार लालू यादव के करीबी जयप्रकाश नारायण यादव की बेटी दिव्या प्रकाश को चुनाव हराया है। शायद मेवालाल चौधरी को उसी का इनाम मिला है। नीतीश की कैबिनेट में पहली बार मेवालाल चौधरी शामिल होने जा रहे हैं।

पहली बार विधायक बनीं शीला मंडल को मौका

नीतीश कुमार ने मधुबनी जिले के फुलपरास सीट पर 2 बार की सीटिंग विधायक गुलजार देवी का टिकट काट कर शीला मंडल को दिया था। शीला मंडल ने फुलपरास सीट पर जेडीयू का कब्जा बरकरार है। शीला कुमारी को जीत का इनाम भी मिला है। नीतीश कुमार ने अपनी कैबिनेट में पहली बार चुनाव जीत कर आए शीला कुमारी को मौका दिया है। शीला के खिलाफ चुनावी मैदान में जेडीयू विधायक भी निर्दलीय थीं। इसके साथ ही शीला कुमारी अतिपिछड़ी जाति से आती हैं।

सभी जातियों का रखा है ख्याल

नीतीश कुमार के कोटे से जिन लोगों ने आज मंत्री पद की शपथ ली है। उसमें सभी जातियों को साधने की कोशिश की गई है। नीतीश खेमे से शपथ लेने वाले लोगों में सवर्ण, दलित, अतिपिछड़ा और महिला हैं। यानी की उनकी कोशिश है कि हर तबके के लोगों का प्रतिनिधित्व हो।

सपनों से धन लाभ होने की है मान्यता, जानें स्वपन शास्त्र की धारणा 

स्वप्न शास्त्र में ऐसे सपनों का उल्लेख किया गया है जिनके माध्यम से धन लाभ के योग (Dhan Labh Ke Yog) बन सकते हैं। कहते हैं कि ऐसे सपने धन-धान्य में वृद्धि करने वाले साबित होते हैं।

Dream Interpretation for Dreams: स्वप्न शास्त्र यह मानता है कि सपनों से जीवन प्रभावित होता है। बताया जाता है कि सपने हमारे भविष्य परिस्थितियों पर असर (Swapan Shastra Prediction In Hindi) डालने में सक्षम हैं इसलिए लोग स्वप्न शास्त्र में बताए गए तर्कों यकीन करते हैं। स्वप्न शास्त्र में ऐसे सपनों का उल्लेख किया गया है जिनके माध्यम से धन लाभ के योग (Dhan Labh Ke Yog) बन सकते हैं। कहते हैं कि ऐसे सपने धन-धान्य में वृद्धि करने वाले साबित होते हैं।

सपने में चांदी के सिक्के देखना – बताया जाता है कि सपने में चांदी के सिक्के देखना शुभ होता है। कहते हैं कि सपने में चांदी के सिक्कों को देखने से धन आगमन के योग बन सकते हैं। स्वप्न शास्त्र (Swapan Shastra) के जानकार बताते हैं कि यह सपना घर परिवार में शुभता भी लेकर आता है। इसलिए इस सपने को हर ओर से अच्छा मानते हैं।

सपने में लाल रंग के फूल देखना – यह शास्त्र यह मानता है कि सपने में लाल रंग के फूल देखना शुभ सपना है। बताया जाता है कि लाल रंग के फूल देखने का अर्थ यह है कि माता महालक्ष्मी आपसे प्रसन्न हैं और आपके ऊपर जल्द ही उनकी कृपा बरसने वाली है। कहते हैं कि इस सपने धन प्राप्ति के योग (Dhan Prapti Ke Yog) बन सकते हैं।


सपने में पानी से भरा मटका देखना – ऐसी मान्यता है कि अगर कोई व्यक्ति सपने में पानी से भरा मटका देखता है तो इस सपने के प्रभाव से धन आगमन (Dhan Aagman) के योग बन सकते हैं। कहते हैं कि इस सपने का असर बहुत जल्द होता है लेकिन कई बार सपने के बारे में सबको बता देने से इस सपने का प्रभाव ना के बराबर हो जाता है।

सपने में हरे रंग की चुनरी लिए स्त्री देखना – अगर कोई व्यक्ति सपने में हरे रंग चुनरी लिए हुए स्त्री देखता है तो इस सपने के प्रभाव से बहुत जल्द धन प्राप्ति के संकेत मिलने लगते हैं और ऐसी परिस्थितियां बनने लगती हैं। अगर आप चाहते हैं कि यह सपना (Dreams) जल्द सच हो जाए तो आपको लक्ष्मी माता को लाल सिंदूर अर्पित करना चाहिए।